Click to Download this video!
Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
06-09-2018, 01:10 PM,
#1
Big Grin Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--1



मैं जयपुर में एक सॉफ्रटवेयर कम वेब डवलपमेन्ट कम्पनी में काम करता हूं। यह कम्पनी जयपुर की सी-स्कीम में स्थित हैं। मैंने ये कम्पनी 2008 में ज्वाइन की थी, तब इस कम्पनी की शुरूआत ही हुई थी, और तब हम केवल 3 एम्पलोई ही इसमें काम करते थे, मैं (समीर - नेम चेंजेड) और एक लड़की अपूर्वा (नेम चेंजेड) और एक लड़का सुमित (नाम चेंजेड)।
बाद में किन्हीं पर्सनल कारणों से मैंने 2009 के आखिर में कम्पनी को छोड़ दिया और जब पर्सनल प्रोब्लम्स सॉल्व हो गई तो मैंने वापिस मई 2011 में वापिस इसी कम्पनी में ज्वॉइन कर लिया। इस वक्त भी कम्पनी ज्यादा बड़ी नहीं बनी थी, परन्तु हां अब इस कम्पनी में 5 एम्पलोई काम करते थे। चूंकि मैं कम्पनी के साथ शुरूआत से ही जुड़ा हुआ हूं तो यहां पर बॉस के बाद मैं ही सबसे सीनियर हूं।
बात 2011 की दिवाली के आसपास की है, एक दिन ऑफिस में बैंक के दो कर्मचारी आये और बॉस के बारे में पूछने लगे। बॉस उस दिन किसी काम से बाहर गये हुये थे। मैं कम्पनी में सबसे सीनियर हूं, तो पियोन ने उन्हें मेरे पास भेज दिया। उन्होंने मुझसे कम्पनी की हालात के बारे में पूछा और काम कैसा चल रहा है, उसके बारे में पूछताछ करने लगे। तो मैंने उनसे इसका कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि 2010 में बॉस ने बैंक से 10 लाख रूपये का लोन लिया था, जिसकी 3 किस्तें जमा करवाने के बाद उन्होंने बाकी कि किस्तें जमा करवानी बंद कर दी। बैंक से कई बार नोटिस मिलने के बाद भी उन्होंने कोई पैसा जमा नहीं करवाया। मैंने उन्हें अगले दिन आने के लिए कह दिया।
शाम को बॉस को फोन करके मैंने यह बात बता दी। अगले दिन बॉस ने मुझसे कहा कि हो सकता है, कुछ दिन के लिए ऑफिस बंद करना पड़े क्योंकि बैंक वाले उसे सील कर सकते हैं, उस टाइम में कहीं और ऑफिस शिफ्रट कर लेंगे।
और पूरी बात कुछ इस तरह थी कि मेरे दोबारा ऑफिस ज्वाइन करने से पहले बॉस ने ऑफिस के नाम पर 10 लाख का लोन लिया था जो फिर वापिस नहीं किया। बैंक वालों को ऐसे ही टकराते रहते थे। तो अब बैंक पैसे वापिस न मिलने के कारण सम्पति को कुर्क करने की कार्यवाही के लैटर भेज रहा था।
कुछ दिन बाद बैंक से एक लैटर आया जिसमें 3 दिन बाद ऑफिस को सील करने की कार्यवाही करने के बारे में लिखा था।
उस लैटर को पढ़कर बॉस की हालत पतली हो गई, क्योंकि ऑफिस सील हो जाने से सारा काम ठप पड़ जाना था, जिससे वजह से जो प्रोजेक्ट चल रहे थे उन पर कोई प्रॉडक्शन नहीं हो पाती, इसलिए बॉस ने डिसीजन लिया कि आज रात को ही 3 सिस्टम (कम्प्यूटर) अपने घर पर शिफ्रट कर लेंगे, और मैं (समीर) और अपूर्वा उनके घर पर काम करेंगे, जब तक कि ये बैंक का पंगा खत्म नहीं हो जाता। क्योंकि घर पर बॉस की वाईफ व बच्चे भी होते हैं तो अपूर्वा ने कोई ना-नुकूर नहीं की, और भाइयों मैं तो हूं ही बंजारा, कहीं भी सैट कर लो वहीं सैट हो जाता हूं।
तो उसी शाम को तीन सिस्टम बॉस के घर जोकि बापू नगर जयपुर में है, पर शिफ्रट कर दिए गये।
अगले दिन कम्पनी में बाकी एम्पलोई को 20 दिन की छुट्टी दे दी गई। 2 एम्पलोई तो छुट्टी मिलने से काफी खुश थे, परन्तु 2 एम्पलोई परेशान थे कि कहीं नौकरी से तो नहीं निकाला जा रहा, इसलिए उन्होंने सैलरी देने की बात कही और कहा कि हमने कहीं और नौकरी देख ली है, इसलिए हम नौकरी छोड़ रहे हैं।
उसके बाद ऑफिस को लॉक करके मैं, बॉस और अपूर्वा बॉस के घर आ गये।
दोबारा कम्पनी ज्वॉइन करने के बाद मैं पहली बार बॉस के घर पर जा रहा था।
जब 2008 में मैंने कम्पनी ज्वॉइन की थी तो बॉस के घर जाना हो ही जाता था। बॉस के घर पर उनकी वाइफ नीलम शर्मा व उनके दो बच्चे हैं। उनकी वाइफ की उम्र 35 साल के आसपास है। बॉस की वाइफ कोई ज्यादा सैक्सी नहीं है, चेहरा तो उनका बहुत ज्यादा सुन्दर है, परन्तु वो काफी मोटी थी और कपड़े भी ढंग के नहीं पहनती थी, जिससे बिल्कुल भी आकर्षक नहीं लगती थी, इसलिए पहले मेरे मन में उसके प्रति कोई ऐसे वेसे विचार नहीं थे।
जब हम बॉस के घर पहुंचे तो वहां पर एक बहुत ही सैक्सी महिला को देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया। उसने मुझे और अपूर्वा को हाय कहा, तो मुझे आश्चर्य हुआ कि मैं तो इसे जानता भी नहीं हूं, फिर मुझे क्यों हाय-हैल्लो कर रही है, परन्तु मैंने भी उन्हें हाय कहा। और हम बाहर आंगन से घर में अन्दर आ गये जहां पर बॉस ने तीनों सिस्टम लगा रखे थे।
वहां आकर मैं और अपूर्वा अपना-अपना काम करने लगे और बॉस अपने रूम में चले गये।
कुछ देर बाद वहीं सैक्सी महिला चाय लेकर आई। उसने हम दोनों को चाय दी और वहीं पर बैठकर अपूर्वा से बातचीत करने लगी। थोड़ी देर बाद उसने कहा कि समीर तुम इतने चुपचाप क्यों बैठे हो, पहले तो ऐसे नहीं थे।
मैं एकदिन चौंक कर आश्चर्य में पड़ गया कि इसे मेरा नाम कैसे पता और मैं कब पहले इससे मिला हूं जो ये कह रही है कि पहले तो ऐसे नहीं थे।
मैंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है, पर मुझे याद नहीं आ रहा कि हम पहले कब मिलें हैं।
मेरा ऐसा कहते ही अपूर्वा का मुंह आश्चर्य से खुला और कहने लगी कि आपकी तबीयत तो ठीक है। बॉस की वाइफ है ये, पहले कितनी बार तो घर पर आये हो।
मैं आश्चर्य से मुंह खुलने की बारी मेरी थी। मेरा मुंह से सीधा निकला कि ‘‘इतनी सैक्सी’’। परन्तु मुझे तुरन्त ही अपनी गलती का एहसास हुआ और मैंने सॉरी कहा।
परन्तु मेरा मुंह वैसे ही आश्चर्य से खुला रहा और मैं उन्हें घूर कर ऊपर से नीचे तक देखने लगा। मेरे एक्सप्रेशन देखकर अपूर्वा समझ गई कि मैंने उन्हें क्यों नहीं पहचाना।
अपूर्वा ने कहा कि अरे, अब जिम में जाती हैं तो इसलिए इतनी फिट हो गई हैं।
दोस्तों मेरा जो हाल उस वक्त हुआ क्या बताउं। वो दोनों मुझ पर हंस रही थी।
मैं झेप कर वापिस अपने मॉनीटर पर नजर गढ़ाकर मंद-मंद मुस्कराने लगा।
मैंने फिर से एक बार बॉस की वाइफ (नाम नीलम शर्मा) की तरफ देखा तो वो मेरी तरफ ही देख कर हंस रही थी। अपूर्वा अपने काम में व्यस्त हो गई थी। बॉस की वाइफ ने जब देखा कि मैं उनकी तरफ देख रहा हूं तो उन्होंने मुझे आंख मार दी। मैंने के मारे अपनी गर्दन नीची कर ली।
तभी बॉस वहां पर आ गए और कहने लगे कि मैं बैंक जा रहा हूं, तब तक तुम काम निपटाओं। मैंने और अपूर्वा ने एक साथ कहा - ‘ओके, बॉस’। और बॉस चले गए। उनके साथ ही बॉस की वाइफ भी चली गई।

उनके जाते ही मैंने अपूर्वा की तरफ देखा, वो अपने काम में मग्न थी। मैंने अपूर्वा से कहा कि यार बहुत सैक्सी हो गई है ये तो!
डसने चौंकते हुए मेरी तरफ देखा और पूछा - क्या?
मैंने फिर से का कि यार बॉस की वाइफ तो बहुत सैक्सी हो गई है, पहले तो बहुत मोटी थी।
हमारे बीच में (मेरे और अपूर्वा के) कभी भी इस तरह की कोई बात नहीं होती थी, तो अपूर्वा थोड़ी-सी हैरान लग रही थी कि मैं क्या कह रहा हूं।
फिर मैंने भी कोई ज्यादा बातचीत नहीं कि और काम में लग गया।
शाम को ऑफिस की छुट्टी होने से कुछ देर पहले फिर बॉस की वाइफ चाय लेकर आई और हम दोनों को दी। कुछ देर वो वही खड़ी रहके हमें काम करते हुए देखने के बाद चली गई।
बॉस अभी नहीं आए थे। 5 बजे हम दोनों ने सिस्टम बंद किए और अपने घर के लिए चल दिए। बॉस की वाइफ और उनके बच्चे बाहर मेन गेट के पास ही थे। बच्चे खेल रहे थे। मुझे देखकर बॉस की वाइफ मुस्कराने लगी तो मैं झेंप गया। बॉस की वाइफ ने मुझसे कहा - बडी जल्दी भूल गए, क्या बात है, पसंद नहीं हूं क्या? मैंने अपूर्वा की तरफ देखा तो वो बच्चों के साथ चहुल कर रही थी। मैंने कहा, नहीं ऐसी बात नहीं है, पर पहले आप काफी मोटी थी, तो मैंने आपकी तरफ क्या ज्यादा ध्यान से देखा नहीं था, और अब तो आप बिल्कुल मॉडल से भी ज्यादा सैक्सी लग रही हैं तो मैं पहचान नहीं पाया।
तो उन्होंने मुझसे पूछा, अच्छा इतनी ज्यादा खुबसूरत लग रही हूं, मैं।
मैंने कहा कि हां आप बहुत ज्यादा खुबसूतर और सैक्सी लग रही हैं। तभी अपूर्वा भी आ गई और मुझसे कहा कि चलें। तो हम दोनों बॉस की वाइफ को गुड इवनिंग कहकर घर से बाहर आ गये। अपूर्वा अपनी स्कूटी पर और मैं अपनी बाइक पर घर के लिए चल दिए। अपूर्वा राजापार्क में रहती है और मैं मालवीया नगर में।
घर आकर मैं बॉस की वाइफ के बारे में सोचने लगा कि वो कितनी बदल गई है। अब तो उन्हें देखकर बुड्ढ़ों में भी जवानी आ जाये।

शाम को सुमित का फोन आया मेरे सैल पर तो मैंने उठाया और हैलो कहा। उसने हाय-हैल्लो किया और फिर 20 दिन की छुट्टी के बारे में पूछने लगा। उसने कहा कि क्या कम्पनी बंद हो रही है या कुछ और बात है। तो मैंने उसे कहा कि यार तुम 20 दिन की छुट्टी के मजे लो, कुछ खास नहीं बस वो थोड़ा बैंक का लफड़ा है। बैंक से लोन लेकर बॉस ने वापिस नहीं किया तो बैंक ऑफिस को सील कर रहा है। पैसे देने के बाद सील तोड देगा। तो सुमित रिलेक्स हो गया और कहने लगा अब तो गोवा घूम कर आउंगा दीवाली के बाद। मैंने कहा मजे कर बच्चू, मुझे तो घर पर ही जाना पड़ता है, काम करने के लिए। पर तू ऐश कर और फिर मैने फोन काट दिया। फिर मैंने शाम के लिए खाने की तैयारी की और खाना बनाया और खाकर पार्क में टहलने चला गया। वैसे तो मेरा पार्क में टहलने का ज्यादा मन नहीं होता है, पर आजकल वहां पर एक बला की खूबसूरत हसीना को देखने के लिए मैं चला जाता हूं। वो हर रोज शाम को अपने डॉगी के साथ टहलने आती है। वैसे उसका डॉगी, डॉगी कम सर्कस का कॉटून ज्यादा लगता है। यॉर्कशायर टेरियर नस्ल का डॉगी, चेहरे और गर्दन पर रेड और गॉल्डन कलर के लम्बे बाल और बाकी के शरीर पर काले लम्बे बाल। एक दम कॉर्टून, पर पता नहीं मुझे देखकर भोंकने लग जाता है और उसे भौंकता देख वो हसीना मुस्कराने लग जाती है। उसकी वो कातिल मुस्कान मेरे दिल पर छुरी की तरह चलती है। एकदम मस्त फिगर और हसीन चेहरे की मालकिन वा लड़कि एकदम कातिल अदा के साथ अपनी मस्त गांड को मटकाती हुई मेरे सामने से गुजर जाती है और मैं उसकी गांड मटकाती हुई कातिल चाल को देखता रह जाता हूं। आज भी वैसा ही हुआ। लगभग आधे घण्टे बाद मैं वापिस घर आ गया और टीवी पर मूवी देखने लगा और पता नहीं कब नींद आ गई। सुबह उठा तो टीवी पर भजन आए हुए थे। मैंने टीवी बंद किया और घड़ी में टाइम देखा। 7 बजे हुए थे। मैं उठकर बाथरूम में गया और फ्रेस होकर नाश्ता बनाया और खा पीकर ऑफिस के लिए तैयार हो गया। पौने नौ बजे मैं ऑफिस के लिए निकल गया और 10 मिनट में ही ऑफिस पहुंच गया। बैल बजायी तो बॉस ने दरवाजा खोला। मैंने उन्हें गुड मॉरनिंग की और अंदर आ गया। अपूर्वा अभी नहीं आई थी। मैं आकर ऑफिस में बैठ गया (जो अब घर पर बन गया था) और कम्प्यूटर ऑन करके फेसबुक पर न्यूजफीड देखने लग गया। कुछ देर बाद अपूर्वा भी आ गई। बॉस ने हमें कुछ इम्पोटेंट प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए कहा और बैंक के लिए निकल गये। हम अभी आपस में बातचीत ही कर रहे थे कि तभी बॉस की वाइफ कुछ खाने का सामान लेकर आई और कहने लगी आज खीर और हलवा पूरी बनाई है। मैंने कहा कि मैं तो नाश्ता करके आया हूं। अपूर्वा ने भी यही कहा। हमारे मना करने के बावजूद बॉस की वाइफ ने थोड़ी थोड़ी खीर दोनों को खाने के लिए दे दी। मैंने ना-नूकुर करने के बाद खीर खाने के लिए ले ली और मेरे लेने के बाद अपूर्वा ने भी ले ली। बॉस की वाइफ वहीं बैठ गई और हमसे बातचीत करने लग गई।

एकबार तो मेरे मन में आया कि इनसे बेंक के लॉन के बारे में पूछू, फिर कहीं बुरा ना मान जाये ये सोचकर मैंने नहीं पूछा। परन्तु अपूर्वा ने बात ही बात में कहा कि बॉस के पास पैसे तो हें ना वापिस लोटाने के लिए। तो बॉस की वाइफ ने कहा अरे एक दो दिन में ही सुलझारा हो जायेगा, कोई ज्यादा टेंशन की बात नहीं है।

मैं अपूर्वा की तरफ देखकर मुस्करा दिया, वो भी मेरे मुस्कराने का मतलब समझ गई और मेरी तरफ क्यूट सी स्माइल पास कर दी। कुछ देर बाद बॉस की वाइफ मेरे पास आकर खड़ी हो गई और मेरी चेयर पे पीछे की तरफ हाथ रखकर चेयर से सटकर खड़ी हो गई। मैंने मेरी चेयर हिलने के कारण मैंने मुड़कर देखा तो मेरा चेहरा उनके पेट से टकरा गया उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी और उनका पेट एकदम नंगा था। मेरे शरीर में एक करंट सा लगा और साथ ही मैम के शरीर ने भी एक झटका खाया। मैंने एकदम से चेहरे को पीछे हटाते हुए सॉरी कहा, परन्तु वो वहीं खड़ी रही और मुस्कराने लगी। मेरे मन में अभी भी उनके प्रति कोई ज्यादा ऐसे वैसे विचार नहीं थे, बस इतना था कि अब वो काफी सैक्सी लगती थी, पहले की बजाय।

उनके इस तरह वहीं खड़े रहकर मुस्कराने से मुझे थोड़ा असहज फील हो रहा था। मैंने दोबारा से उनके चेहरे की तरफ देखा तो वो मुस्करा रही थी और उन्होंने मेरी आंखों में देखते हुए मेरे कंधे पर अपनी उंगलियां टच कर दी। मैं उनकी उंगलियों को अपने कंधे पर टच होने से थोड़ा साइड में हो गया और उनके चेहरे की तरफ देखने लग गया। उनका चेहरा एकदम लाल लग रहा था। और जब मैंने उनके चेहरे पर से नजर हटाकर वापिस अपने काम में धयान देने के लिए नजरे नीची की तो मेरी नजर उनकी तेजी से उपर नीचे होती छाती पर पडी, कुछ सैकंड के लिए मेरी नजर वहीं जम गई। उनके बूब्स उनकी तेज चलती सांस के साथ तेजी से उपर नीचे हो रहे थे। मैम मेरी तरफ ही देख रही थी तो मैंने अपनी नजर वहां से हटा ली।



तभी अपूर्वा की जोर की जोख निकली और मैंने तुरंत उसकी तरफ देखा और पूछा कि क्या हुआ, तभी मैम ने मेरे गालों पर चिकोटी काटी और जल्दी से अपूर्वा की तरफ जाकर उससे पूछने लगी कि क्या हुआ।। मैंने बॉस की वाइफ के चिकोटी काटने पर ज्यादा धयान नहीं दिया क्योंकि सारा धयान अपूर्वा के चीखने पर था।

अपूर्वा ने कहा कि मेरे पैरों पर किसी चीज ने काटा शायद सांप था। सांप का नाम सुनते ही बॉस की वाइफ की भी घीघी बंद गई। वो तुरंत चेयर पर उपर पैर करके बैठ गई। सांप का नाम सुनकर मेरे भी होश उड़ गई पर फिर भी मैंने सम्भलते हुए कहा कि यहां पर कहां से सांप आयेगा, और अपूर्वा की चेयर को अपनी तरफ किया और उसके पैर को पकड़कर उपर की तरफ करके देखा तो उसके पैर के अंगूठे में से हल्का खून निकला हुआ था। मैंने खून को साफ किया और कहा कि सांप ने नहीं किसी ओर चीज ने काटा है, शायद चूहे ने काटा है। तभी एक चूहा टेबल के नीचे से निकल कर दूसरी तरफ भागा। चूहे को देखकर सबकी जान में जान आयी। बॉस की वाइफ ने पूछा की तुम्हें कैसे पता चला कि सांप ने नहीं चूहे ने काटा है।

मैंः क्योंकि सांप के काटने पर दो दांतों के निशान होते हैं पर इसके पैर में अंगूठे की थोडी सी चमड़ी उखड़ी हुई थी। जिसका मतलब है कि सांप ने नहीं किसी और चीज ने काटा है।
अपूर्वा: थेंक गॉड! मेरी तो जान ही निकल गई थी ये सोचकर की सांप ने काट लिया है और अब मैं बचने वाली नहीं हूं।
बॉस की वाइफः कई बार इन चूहों की दवाई रख चुकी हूं पर साले मरते ही नहीं है।
बॉस की वाइफ के मुंह से ‘साले’ शब्द सुनते ही हम दोनों का मुंह आश्चर्य से खुल गया। बॉस की वाइफ समझ गई की उसने गलत कह दिया। पर फिर भी कोई धयान नहीं दिया।
बॉस की वाइफ: आने दो आज ही तुम्हारे सर को, कान खिचूंगी कि चूहे की बढ़िया दवाई लेकर आये।
उनकी ये बात सुनकर हम दोनों ही हंस दिये और बॉस की वाइफ बर्तन लेकर चली गई। उनके जाने के बाद अपूर्वा ने अपने सैंडल पहनते हुए कहा
अपूर्वा: आज के बाद कभी भी सैंडल उतार कर नहीं बैठूंगी, बहुत जलन हो रही है वहां पर।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:10 PM,
#2
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--2
गतांक से आगे ...........
मैंने कहा कि कोई बात नहीं है, अपने आप ठीक हो जायेगा। बेचारा तुम्हें प्यार करने आया था, पर तुमने तो उसे डरा ही दिया। ज्यादा नहीं काटा बस थोउ़ा सा ही काटा है।
अपूर्वाः बकवास मत करो।
मैंने टाइम देखा तो 12 बजने को हो गए थे, तभी बाहर से बॉस की आवाज सुनाई दी। बॉस अंदर ऑफिस में आ गये।
बॉस: ऑफिस पर आज सील लगा दी है बैंक वालों ने। लगता है अब पैसे देने ही पडेंगे।
मैंः बॉस दे दाकर खत्म करो पंगा, खामखां में काम का भी नुकसान हो रहा है।
बॉस: हां, ठीक ही है। पर अब एक दो दिन तो लगेंगे ही पैसों का इंतजाम करने में।
तभी बीच में अपूर्वा बोल पड़ी।
अपूर्वा: बॉस! जितनी जल्दी हो सके सुलझा लो, यहां पर ज्यादा दिन रहे तो रेबीज हो जायेगी।
उसकी ये बात सुनते ही मेरी हंसी दूट गई।
बॉस: क्यों ऐसो क्यों कह रही हो?
अपूर्वाः और क्या वो चूहे ने आज पैर में इतनी जोर से काटा कि अभी भी जलन हो रही है। एक बार तो मुझे लगा कि सांप है।
बॉस: अरे हां वो दवाई लानी थी चूहों की, वो याद ही नही रही।
बॉस की वाइफ चाय लेकर आई और तीनों को दी तथा खुद भी एक कप लेकर वहीं बैठकर पीने लगी।
हम तीनों भी चाय पीने लगे। बॉस ने चाय खत्म की और ये कहकर चले गये कि फ्रेश होकर थोडा आराम करता हूं।
हम तीनों ने भी चाय खत्म की और बॉस की वाइफ खाली कप टरे में रखकर किचन में चली गई।
मैंने अपूर्वा की तरफ देखकर स्माइल पास की और अचानक से कहा चूहा। अपूर्वा एकदम उछल कर अपनी चैर पर चढ़ गई।
मेरी हंसी छूट गई। मुझे हंसते हुए देखकर अपूर्वा समझ गई की मैंने मजाक किया है और वो झेंप गई।
थोड़ी देर बाद बॉस की वाइफ वापिस हमारे पास आई और चेयर को मेरी चेयर के पास करते हुए बोली, चलो आज देखती हूं कि तुम कुछ काम भी करते हो या वैसे ही बैठे रहते हो सारा दिन।
बॉस की वाइफ की ये बात सुनते ही अपूर्वा तुरन्त अपने सिस्टम में नजरे गडाकर काम में लग गई।
मैं भी अपना काम करने लग गया। और बॉस की वाइफ चेयर को मेरे बिल्कुल पास करके उसपर बैठ गई और अपना दायां हाथ मेरे कंधे पर रख दिया। मैंने एकबार उनकी तरफ देखा और फिर वापिस अपने काम में लग गया।

धीरे-धीरे उनका हाथ हरकत करने लग गया और मेरे कंधे से होता हुआ मेरे बालों में पहुंच गया। बॉस की वाइफ ने मेरे बालों को हल्के से सहलाना शुरू कर दिया। मैंने इनका नॉर्मल प्यार समझ कर कुछ जयादा धयान नहीं दिया और अपने काम में लगा रहा।

दोस्तों अब मैं बॉस की वाइफ के फिगर के बारे में आप लोगों को बताता हूं। पहले वो एकदम मोटी थी कोई 100 किलो से ज्यादा वजन तो होगा ही उनमें। परन्तु अब वो एकदम छरहरी हो गई थी बिल्कुल दीपीका पादुकोण के जैसी। मैंने अभी तक उनके फिगर की तरफ ज्यादा धयान तो दिया नहीं था पर फिर भी उनके बूब्स न तो ज्यादा बड़े थे और न ही ज्यादा छोटे एकदम सही आकार के होंगे। हां उनकी मस्त गांड को एकबार मैं थोड़ा धयान देकर देख चुका था इसलिए बताता चलूं कि वो एकदम शानदार गांड की मालिक थी। वो हुआ कुछ यूं था कि जब पहले दिन हम ऑफिस से घर (बॉस के घर) पर आये थे तो मैंने उन्हें पहचाना नहीं था, उस दिन वो हमारे आगे-आगे गई थी हमें नये ऑफिस वाले रूम में लेकर तो उस दिन मैंने पीछे आते हुए उनकी गांड पर थोड़ा धयान दिया था तो उस दिन मुझे उनकी गांड एकदम मस्त लगी थी।

मैम मेरे बालों में हाथ फिरा रही थी और मैं अपने काम में मग्न था। तभी उन्होंने हाथ बालों में से ले जाते हुए मेरे गर्दन से होते हुए मेरे गालों पर ले आई और गालों को सहलाने लगी। मेरे शरीर में एकदम करंट सा लगा और मैं सिहर उठा। वो थोड़ा सा और मेरी तरफ सरक गई जिससे अब उनके दायां बूब मेरी बायीं बाजू से टच हो रहा था। उनकी इस हरकत से मैं गरम होने लगा था। पर मैं अभी भी यही सोच रहा था कि वो ये सब नॉर्मल प्यार से कर रही है। तभी अपूर्वा की चेयर के हिलने की आवाज हुई और बॉस की वाइफ ने अपना हाथ हटा दिया और थोड़ा दूर होते हुए अपूर्वा की तरफ देखा। अपूर्वा हमारी तरफ घूमी और बॉस की वाइफ को वहीं बैठा देखकर थोड़ी हिचकिचाई और फिर मुझसे एक प्रोग्रामिंग कोड के बारे में पूछने लगी। मैंने अपनी चेयर को उसकी तरफ ले गया और उसकी स्क्रीन पर देखते हुए उसके कोड को देखने लगा। कोड को देखने पर मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं दिखाई दी तो मैंने उसकी तरफ देखा। उसने मेरी तरफ आंख मारी, पर मैं कुछ न समझ सका तो उसने मेरी जांघों पर हाथ रखकर दबा दिया। मैं समझ गया कि ये मुझसे कुछ और पूछने वाली थी पर बॉस की वाइफ को वहीं बैठा देखकर प्रोग्राम के बारे में पूछने लगी।
मैंने उससे कहा कि यहां पर ऐसे कर लो और यहां पर ये लगा दो तो हो जायेगा। उसने कहा कि ठीक है और मैं वापिस अपने सिस्टम पर आ गया। अपूर्वा ने जब मेरी जांघों पर हाथ रखकर दबाया तो मैं एकदम गरम हो गया था, जिससे मेरा गला सूख गया और मैंने मैम से कहा कि क्या एक गिलास पानी मिलेगा मैम।
मैम: क्यों नहीं अभी लाती हूं।
और मेरी जांघों पर हाथ रखते हुए वो खड़ी हो गई और किचन से पानी लेने चली गई।
मैं पहले से ही गरम था अपूर्वा के कारण अब मैम की इस हरकत से मैं और भी ज्यादा गरम हो गया।

बॉस के घर में कुल चार कमरे नीचे हैं और दो कमरे उपर बने हुए हैं। बॉस और उनका परिवार नीचे ही रहता है। उनका घर कुछ इस तरह से बना हुआ है कि मेन गेट से आते ही दायीं साइड में छोटा सा लॉन है और बायीं साइड को घर के आखिर तक एक गैलरी जाती है। लॉन के बाद एक कमरा बना हुआ है और वहीं पर रसोई भी है उसी कमरे से अटैच, उसके बाद एक कमरा है जिसमें से एक दरवाजा पहले वाले कमरे से है और एक दरवाजा गैलरी में है उसके बाद एक छोटा कमरा और बाथरूम है और सबसे आखिर में एक कमरा है जिसका दरवाजा गैलरी में और पीछे की तरफ हे जहां पर एक और बाथरूम और टॉयलेट है। इसी सबसे बाद वाले कमरे में अब सिस्टम सैट कर रखे हैं। तो ऑफिस में आने के लिए गैलरी में से आना जाना पड़ता हैं।

कुछ ही देर में बॉस की वाइफ एक बोतल में पानी के साथ दो गिलास लेकर आ गई और मेरी टेबल पर रखकर एक गिलास में पानी डालकर मुझे दे दिया और यह कहकर वापिस चली गई कि बच्चे आ गये हैं स्कूल से, उनको खाना वगैरह देती हूं। मैंने पानी पिया और अपूर्वा से पानी के लिए पूछा तो उसने भी पानी पिया।

अपूर्वा: मैंने तो सोचा कि मैम चली गई होंगी, और तुमसे बात करने के लिए मुडी, पर वो तो यहीं पर बैठी थी। क्या कर रही थी। तुम्हें तो परेशानी हो गई होगी, बस काम में ही लगा रहना पड़ा होगा।
मैंः अरे नहीं यार, वो तो कह रही थी कि ज्यादा काम मत किया करो, कुछ आराम भी कर लिया करो।
अपूर्वा: हां, बड़ी आई आराम करवाने वाली। मैं ही मिली झूठ बोलने के लिए।
मैं मुस्कराने लग गया और मुझे देखकर अपूर्वा भी मुस्कराने लग गई।
अपूर्वा: अरे मैं ये कह रही थी कि वो अगर बॉस से पैसों का इंतजाम नहीं हुआ तो।
मैं: अरे तो क्या हुआ! अपनी नौकरी तो पक्की है ही, यहां घर पर काम करेंगे। अच्छा मैम के हाथ की चाय मिलेगी, बढ़िया वाली।
अपूर्वाः वो तो है, पर यहां पर काम करने में मजा नहीं आ रहा।
मैं: मुझे तो आ रहा है। तुम्हें क्यों नहीं आ रहा।
अपूर्वा: अरे यार! यहां पर थोड़ी पाबंदी सी हो जाती है, जैसे किसी के यहां पर चले जाते हैं दो तीन दिन के लिये वैसा फील हो रहा है। खुलकर काम करने का मजा नहीं आ रहा। और उपर से मैम यहां पर आकर बैठ जाती है।
मैं: अरे यार! अच्छी तो सुबह खीर खाने को मिली और तुम कह रही हो मजा नहीं आ रहा। मुझे तो खूब मजा आ रहा है भई यहां पर।
अपूर्वा बुरा सा मुंह बनाते हुए: हूं! मजा आ रहा है। क्या खाक मजा आ रहा है। अगर तीन चार दिन और बैंक का लफड़ा खत्म नहीं हुआ तो मैं तो कह दूंगी की मुझसे यहां पर काम नहीं होगा। जब ऑफिस खुल जायेगा तो मैं वहीं पर आ जाउंगी काम करने के लिए। तब तक के लिए छुट्टी।
मैं: ओहो! आई बड़ी दुटटी करने वाली। तेरी मम्मी तुझे उंडे मारकर भगा देगी, चल ऑफिस भाग जा।
मेरे इतना कहते ही अपूर्वा मुस्से से आंखे निकलती हुई मेरी तरफ देखकर बोली!
अपूर्वा: रहने दो! मेरी मम्मी तो कहती है कि तुझे काम करने की क्या पड़ी है, वो तो मैं ही हूं जो मानती नहीं हू। वरना मम्मी तो काम करने से मना करती है।
मैंः अच्छा जी! मुझे तो कोई मना नहीं करता, उलटे अगर दो तीन दिन से जयादा की छुट्टी कर लूं तो कहना शुरू कर देते हैं कि ऑफिस नहीं जाना क्या, यहां पड़ा है घर पे। ये भी नहीं देखते कि इतने दिनों में तो घर पर आया है बेटा।
अपूर्वा हंसते हुए: हम लड़कियों के तो यहीं मजे हैं जी। मन में आया तो काम करो नहीं तो घर पर रहो मजे से।

तभी मैम चाय लेकर आ गई, मैंने टाइम देखा तो 4ः15 हो चुके थे। मैंम चाय के साथ गाजर का हलवा भी लेकर आई थी। मैंने हलवे की तरफ इशारा करके अपूर्वा को आंख मार दी। वा मुस्कराने लगी। मैं ने दो प्लेटों में हलवा हमें दिया और फिर चाय डालकर दी और ये कहकर चली गई कि अगर गाजर का हलवा और चाहिए तो आकर ले लेना, शरमाना मत। और फिर मेरे पास आकर कहने लगी
मैम: ठीक है ना! शरमाने की जरूरत नहीं है तुझे, और मेरे गाल पर चिकोटी काट दी।
मेरे मुंह से आह निकल गई। मैंम बाहर चली गई और मैं और अपूर्वा चाय के साथ गाजर का हलवा खाने लगे।
पांच बजे हमने सिस्टम बंद किये और घर चलने की तैयारी करने लगे। मैंने पहले रूम में जाकर बॉस को बोल दिया कि हम जा रहे हैं।
बॉस: ठीक है! वो दो तीन दिन में बैंक का काम हो जायेगा, फिर वापिस से ऑफिस में शिफ़ट कर लेंगै।
मैंने कहा ओके बॉस! और बाहर आ गया और मैं और अपूर्वा अपने अपने घर के लिए निकल पडे।

अभी हम कोई 100-200 मीटर ही चले था कि मेरी बाईक में पंक्चर हो गया, अपूर्वा भी मेरे साथ ही चल रही थी, क्योंकि अभी हम मेन रोड पर नहीं पहुंचे थे। मैंने जब बाइक रोकी तो अपूर्वा ने पूछा क्या हुआ तो मैंने उसे बताया कि बाइक में पंक्चर हो गया। वो जोर जोर से हंसने लग गई।
मैंने कहा कि तुझे हंसी आ रही है, तो चल अब तू ही मुझे घर छोड़कर आयेगी।
अपूर्वा: क्यों पंक्चर नहीं लगवाना, अभी तो मैं छोड़ आउंगी, कल सुबह कैसे आओगे।
मैं: अरे सुबह की सुबह देखी जायेगी, मैं अभी वापिस बॉस के घर खड़ी करके आता हूं, अब पंक्चर की दुकान कहां पर है, ये भी नहीं पता, पता नहीं कितनी दूर होगी। कौन पंक्चर की दुकान तक इसको पैदल खीचेंगा।
यह कहकर मैं बाईक को वापिस बॉस के घर खड़ी करने के लिए चल दिया। आज मुझे पता चला कि 100-200 मीटर बाइक को पैदल चलाना कितना भारी-भरकम काम होता है।
घर पर जाकर मैंने बैल बजाई और मेन गेट खोलकर बाईक को अंदर लेजाकर खड़ा कर दिया। बैल बजाने से बॉस का छोटा लड़का बाहर आया और बॉस को आवाज लगाई कि पापा, समीर भैया हैं! बॉस बाहर आये।
बॉस: क्या हुआ?
मैं: कुछ नहीं वो बाइक में पंक्चर हो गया, पंक्चर वाले की दुकान भी पता नहीं है, कहां पर है?
बॉस: अरे इधर पास में ही पंक्चर वाले की दुकान!
मैं: सुस्ताते हुए ! अब तो कल ही लगवाउंगा, यहां पर वापिस लाने में ही थक गया।
बॉस: तो अब कैसे जाओगे। ऐसा करो, ये तुम्हारी मैम की स्कूटी ले जाओ।
मैं: अरे नहीं बॉस! मैं बस में चला जाउंगा।
बॉस: बस में कहां परेशान होता फिरेगा।
मैंः कोई बात नहीं, इस बहाने पता भी चल जायेगा, मेरे घर तक कौन-सी बस जाती है।
(वैसे तो मुझे पता था कि कौनसी बस जाती है क्योंकि बाइक लेने से पहले बस से ही तो आता जाता था)
बॉस: जैसी तेरी मर्जी। पर परेशान हो जायेगा बस में।
मैं: कोई बात नहीं है, आज थोउ़ा बस का मजा ले लेते हैं।
(अगर मैंने अपूर्वा को नहीं कहा होता तो मैं मैंम की स्कूटी ले जाता पर अपूर्वा के पीछे बैठके उसे छेड़ने का लालच था इसलिए मैंने मना कर दिया)
मैं बाय बोलकर बाहर आ गया, अपूर्वा मेरा वहीं पर खड़ी इंतजार कर रही थी। मेरे आते ही वो उतर गई।
मैं (अपूर्वा को उतरते देख कर)ः अरे तुम उतर क्यों गई, ड्राइव करो, मैं पीछे बैठता हूं।
अपूर्वा: ना जी! मैं तो पीछे बैठूंगी। मुझे इतनी ही चलानी आती है कि मैं अकेली चला सकूं। खामखां में किसी में ठोक दूंगी।
मैं मन ही मन सोचते हुए - अच्छा बहाना बनाया अपूर्वा की बच्ची ने। मेरे सारे अरमानों पर पानी फेर दिया। मजबूरन मुझे ड्राइव करनी पड़ी और अपूर्वा पीछे बैठ गई।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:10 PM,
#3
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--3
गतांक से आगे ...........
अभी मैं थोड़ी दूर ही चला था कि एक गली में से फास्ट ड्राइव करते हुए दो लड़के बाईक पर हमारे सामने से निकले, मैंने टक्कर होने से बचाने के लिए तेज ब्रेक लगा दिये, जिससे अपूर्वा सीधी मेरे से आकर चिपक गई। उसके प्यारे-प्यारे बूब्स मेरी कमर में दब गये। उसके बूब्स का स्पर्श एकदम इतना नर्म था कि मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया। बूब्स के दबने से अपूर्वा के मुंह से आह निकल गई, अब पता नहीं वो आह मजे की थी या उसे बूब्स दबने से दर्द हुआ था। पर मुझे तो बहुत मजा आया।
अपूर्वा: देखकर नहीं चला सकते! ठतनी तेज ब्रेक लगाते हैं।
मैं: अरे यार तो मैं क्या करूूं वो एकदम से गली से निकल आये।
अपूर्वा वापिस पीछे हटकर आराम से बैठ गई और मैं ड्राइव करने लगा।
हम एक लो-फ्रलोर बस के पीछे-पीछे चल रहे थे, क्योंकि रोड़ पर बहुत रस था, सभी ऑफिस से घर जा रहे थे। अचानक बस ने ब्रेक लगाये। मेरा धयान बस की तरफ नहीं था, तो मुझे भी एकदम से ब्रेक लगाने पड़े। ब्रेक ज्यादा हैवी तो नहीं लगाए थे, पर अपूर्वा निश्चिंत होकर बैठी थी तो इतने से ब्रेक से ही वो वापिस मेरी पीठ से आकर चिपक गई और फिर से उसके बूब्स मेरी पीठ में दब गये। मुझे वापिस काफी मजा आया और फिर से अपूर्वा के मुंह से आंह निकली। पर वह बोली कुछ नहीं। और मेरे कंधे पर हाथ रखकर वैसे ही बैठी रही।
बस अपने स्टैंड पर खड़ी होकर स्वारियां उतार रही थी।
मैं: अरे यार वो धयान नहीं था और बस ने एकदम से ब्रेक लगा दिये तो इसलिए।
अपूर्वा: तो मैंने क्या कहा है? (अपूर्वा की आवाज मुझे थोड़ी भारी व थरथराती हुई लगी)
मैंने स्कूटी को बस के साइड से निकाल लिया और हम चल पड़े। अपूर्वा वैसे ही मेरे कंधे पर हाथ रखकर मुझसे सटकर बैठी थी। थोड़ी दूर चलने पर अपूर्वा वापिस कुछ पीछे हो गई, पर उसके हाथ अभी भी मेरे कंधे पर थे। मुझे उसकी गरम सांसे अपने गले में पीछे महसूस हो रही थी, जिसका मतलब वो मुझसे ज्यादा दूर नहीं बैठी थी। मुझे बैक मिरर में देखा तो अपूर्वा का चेहरा लाल लग रहा था और वो काफी खुश लग रही थी। मैंने वापिस ड्राइव पर धयान देते हुए आगे देखने लगा। थोड़ी दूर चलने पर अपूर्वा ने अपना सिर मेरी पीछ पर रख दिया।
मैं: क्या हुआ नींद आ रही है?
अपूर्वा: नहीं! बस थोड़ा रिलेक्स कर रही हूं, ऑफिस में इतना काम होता है तो थक गई हूं।
मैं: ओके! (और मैंने स्कूटी को धीरे कर लिया ताकि अपूर्वा चैन से रिलेक्स कर सके।
उसने अपने दोनों हाथों को मेरे पेट पर रखकर बांध लिया और मुझसे सटकर बैठ गई और सिर को मेरे कंधे पर रख लिया।
अपने पेट पर लड़की के नर्म हाथों को महसूस करके मेरे पप्पू ने अपनी गर्दन उठानी शुरू कर दी। मेरे शरीर में रह रह कर आनंद की तरंगे उठ रही थी। अपूर्वा के इस तरह चिपक कर बैठने से मुझे आश्चर्य भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था। मैं इस पल का भरपूर मजा लेना चाहता था, इसलिए मैंने स्कूटी की स्पीड और कम कर दी और धीरे धीरे चलाने लगा। अपूर्वा के बूब्स मेरी कमर में दबे हुए थे और मुझे अपनी कमर में चुभते हुए महसूस हो रहे थे। मतलब कि वह गर्म हो चुकी थी। 15 मिनट में हम मेरे घर पहुंच गये। आंटी (मकान मालकिन) बाहर मेन गेट पर खड़ी पड़ोस वाली आंटी से बात कर रही थी। मुझे देखकर वो मुस्कराई और साइड में हो गई। मैंने स्कूटी गेट के अंदर लाकर रोकी। अपूर्वा अभी भी वैसे ही मुझे कसके पकड़कर चिपक कर बैठी हुई थी। शायद वो सो चुकी थी। मैंने उसे हल्की आवाज लगाई, पर उसने कोई हलचल नहीं कि तो मैंने धीरे से अपने हाथ को उसके सिर पर रखकर उसके थोड़ा सा हिलाया तो वो जाग गई।
अपने आप को इस तरह मुझसे चिपका हुआ देखकर उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया।
अपूर्वा: प---प----पहुं----पहुंच ----पहुंच गये। ये हम कहां हैं?
मैं: मेरे घर पर हैं, तुम सो रही थी। बड़ी जल्दी नींद आ गई।
अपूर्वा (नजरे चुराते हुए): हां! पता ही नहीं चला कब आंख लग गई। ओके मैं चलती हूं।
मैं: अरे! चाय पीके जाना, नींद खुल जायेगी।
अपूर्वा: नहीं! मेरी नींद खुल गई, लेट हो जाउंगी तो मम्मी डाटेगी।
मैं: चुपचाप उपर चल, चाय पीके जाना, नहीं तो फिर सोच लियो।
अपूर्वा: ओके! पर जल्दी से।

मैं और अपूर्वा उपर आ गये। (मेरा रूम दूसरी मंजिल पर है) ग्राउंड फलोर पर पार्किंग है, फर्स्ट फलोर पर मकान मालिक रहते हैं, और दूसरी मंजिल पर मैं रहता हूं।
उपर आकर मैंने लॉक खोला और अंदर आ गया। मैंने पीछे देखा तो अपूर्वा नहीं थी। मैं वापिस बाहर आया तो अपूर्वा मुंडेर के पास खड़ी होकर आसपास के घरों को देख रही थी। मौसम बहुत ही सुहावना हो रखा था। मंद मंद शीतल हवा चल रही थी।
मैं: अरे अंदर आओ ना, वहीं क्यों रूक गई।
अपूर्वाः हां, वो देख रही थी कि कैसी कॉलोनी में रहते हो। यहां तो चारों तरफ लड़किया ही दिखाई दे रही हैं छतों पर, लड़के तो कम ही हैं।
मैं: क्यों किसी के साथ सैटिंग करनी है क्या, साइड वाले घर में ही दो लड़के रहते हैं। शायद अभी गांव गये हुए होंगे।
अपूर्वा: बकवास ना करो। मैं तो बस ऐसे ही कह रही थी।
मैं वापिस अंदर आ गया और चाय बनाने लगा। अपूर्वा भी मेरे पीछे-पीछे अंदर आ गई और रसोई में मेरे पास आकर खड़ी हो गई।
मैंने चाय में दूध डाला तो चाय फट गई। शायद दूध खराब हो गया था, सुबह गर्म करना भूल गया था।
अपूर्वा (मेरी तरफ देखते हुए): मुझे नींद आ रही है, चाय पिलाओ।
मैं: हूं, मजाक बना रही हो, अभी आंटी से दूध लेकर आता हूं। और मैं नीचे आंटी से दूध लेने चल दिया।
आंटी अभी भी नीचे खड़ी पड़ोस वाली आंटी से बात कर रही थी तो मैंने फर्स्ट फलोर से ही उनको आवाज लगाई और दूध के लिए कहा।
आंटी: अभी आती हूं बेटा। और पड़ोस वाली आंटी को 2 मिनट में आने के लिए कहकर उपर आ गई।
मैं आंटी से दूध लेकर वापस उपर आ गया।
(आंटी के घर में आंटी और उनकी दो बेटियां ही हैं अंकल 5 साल पहले एक्सिडेंट में गुजर गये थे। दोनों बेटियां बड़े वाली बेटी जिसका नाम रीत है अमेरिका में अपनी पढ़ाई कर रही है। मैंने वो कभी नहीं देखी है, बस फोटो ही देखी है, फोटो में तो बहुत खूबसूरत दिखती है और दूसरी बेटी सोनल आंटी के साथ ही रहती है, वो एमटेक कर रही है। सुबह 8 बजे निकलती है तो शाम को 7 बजे ही घर आती है। पता नहीं पूरे दिन बाहर क्या करती रहती है। वैसे वो भी बला की खूबसूरत है, पर मेरी और उसकी मुलाकात कभी-कभी ही होती है)
अपूर्वा: वाह जी! आपकी आंटी तो बहुत अच्छी है। तुरंत दूध दे दिया।
मैं: और क्या! मैं तो जब कभी खाना बनाने का मूड नहीं होता तो खाना भी आंटी के यहीं पर खा लेता हूं।
अपूर्वा: इम्प्रैस होते हुए, वाह जी। आजकल ऐसे मकान मालिक मुश्किल से ही मिलते हैं।
मैंने चाय बनाई और दो प्यालियों में डालकर एक अपूर्वा को दी और दूसरी खुद ले ली। एक कटोरी में मां के बनाये हुए लड्डू डाल कर अपूर्वा को खाने के लिए।
अपूर्वा: ये क्या है?
मैं: लड्डू।
अपूर्वा: मैं नहीं खाती, बहुत ज्यादा घी होता है इनमें।
मैं: अरे खा ले खा ले शरमा मत। मम्मी ने बनाये हुए हैं, बहुत स्वादिष्ट हैं।
और एक लड्डू मैंने उठा लिया और अपूर्वा ने भी एक लड्उू ले लिया।
चाय पीकर अपूर्वा कहने लगी, अब मैं चलती हूं नहीं तो देर हो जायेगी, और मम्मी की डांट खानी पड़ेगी।
मैं: ओके, चलो मैं तुम्हें छोड़ देता हूं।
अपूर्वा: हां! और फिर मैं तुम्हें छोड़ने आ जाउंगी, फिर तुम मुझे छोड़ने चलना। ऐसे ही सुबह हो जायेगी और फिर साथ में ही ऑफिस के लिए निकल पडेंगे।
उसकी बात सुनकर मैं मुस्कराने लगा।
अपूर्वा: ठीक है, अब चलती हूं। ओह माई गोड साढे छः हो गए। आज तो जरूरी मम्मी की डांट खानी पड़ेगी।
मैं अपूर्वा को नीचे तक छोड़ने के लिए आया। अपूर्वा ने अपनी स्कूटी निकाली और बायें बोलकर चली गई। आंटी अभी भी बाहर ही खड़ी हुई थी। पड़ोस वाली आंटी चली गई थी।
आंटी: कौन थी ये बेटा?
मैं: आंटी वो अपूर्वा है, मेरे साथ ही काम करती है, कम्पनी में, वो आज जब ऑफिस से निकले तो मेरी बाईक में पंक्चर हो गया, तो मुझे छोड़ने के लिए आई थी।
आंटीः बेटा! अच्छी लड़की है, नहीं तो आजकल कौन किसकी परवाह करता है, और वो भी लड़की। लगता है वो तुझे पसंद करती है।
मैं: अरे नहीं आंटी ऐसी कोई बात नहीं है, बस हम अच्छे दोस्त हैं तो, इसीलिए।
आंटी: अच्छे दोस्त। हां वो तो पता चल रहा था जिस तरह से वो बैठी थी तेरे पीछे।
आंटी की बात सुनकर मैं शरमा गया और अपना चेहरा नीचे कर लिया।
तभी सोनल अपनी स्कूटी को फरफराती हुई आ गई और गेट के पास आकर हॉर्न देने लगी।
आंटी: कितनी बार कहा है तुझसे, आराम से चला लिया कर। कभी कुछ हो गया ना।
सोनल: मॉम, दरवाजा तो खोलो। आते ही शुरू हो गये।
आंटी: हां खोलती हूं। कुछ कहो भी नहीं इनको तो। एक तो इतनी तेज स्कूटी चलाती है।
सोनल: हाय, समीर कैसे हो?
मैं: झक्कास, आज इतनी जल्दी कैसे आना हो गया?
सोनल: बस, ऐसे ही सोचा आज समीर जी से थोड़े गप्पे लड़ा लूंगी तो जल्दी आ गई।
मैं: अच्छा जी! ते चलो जल्दी से उपर आ जाओ।
आंटी: अब इस फटफटी को अंदर भी करेगी या बाहर ही फर फर करती रहेगी।
सोनल: करती हूं ना! बिगड़ती क्यो हों।
और सोनल ने अपनी स्कूटी अंदर खड़ी कर दी।
बाहर गली में सब्जी वाला आया था, तो मैं जाकर उससे सब्जी लेने लग गया।
सब्जी लेकर मैं उपर आ गया, सोनल पहले से ही उपर पहुंची हुई थी और मुंडेर के पास खड़ी होकर पड़ोस वाले घर में छत पर खड़ी अपनी सहेली से बात कर रही थी।
मैं भी सब्जी अंदर रसोई में रखकर बाहर आ गया।
मैं: क्या बात हो रही, लड़कियों में।
सोनल: आपके लिए नहीं है, हमारी आपस की बात है।
मैं: ओह! गर्ल्स टू गर्ल्स। लगता है बॉयफ्रेंड के बारे में बातें हो रही हैं।
सोनल: बकवास नहीं। मैं बॉयफ्रेंड वगैरह के चक्कर में नहीं पड़ती।

मैं: ओके बाबा! तभी मेरा फोन बज उठा, जो अंदर रूम में रखा था।
मैंने अंदर आकर फोन उठाकर देखा तो नया लेंडलाइन का नम्बर था।
मैंने उठाकर हैल्लो कहा तो दूसरी तरफ से किसी लड़की की आवाज आई - हैल्लो।
मैं: हैल्लो जी! कौन बोल रहे हैं आप।
फोन वाली लड़की: वाह जी! क्या बात है, आप तो लगता है भूल गये हमें।
मैं: जी नहीं ऐसी बात नहीं है, आवाज जानी पहचानी तो लग रही है, पर ये नम्बर सेव नहीं है तो इसलिए पता नहीं चल रहा कि कौन हो आप।
फोन वाली लड़की (मेरे मजे लेते हुए): लगता है कोई और मिल गई जो मुझे भूल गये।
मैं (भी मजे लेते हुए): अब वो तो जी ये पता चले कि कौन बोल रहे हैं आप तभी कुछ डिसीजन हो कि कोई और मिल गई या वो कोई और आप ही हो।
फोन वाली लड़की: मैं तो बता नहीं रही कि कौन हो, पहचान सकते हो तो पहचान लो।
मैं: जी वो मैं अनजान लड़कियों से ज्यादा बातचीत नहीं करता तो इसलिए फोन रख रहा हूं।
तभी मुझे फोन में से पीछे से किसी लेडीज की आवाज सुनाई दी - अपूर्वा बेटी, तेरे पापा बुला रहे हैं।
मैं: आप बड़ी जल्दी पहुंच गये घर पर।
अपूर्वा: हां, मम्मी बोल पड़ी नही ंतो खूब मजे लेती आपके।
मैं: मेरे मजे लेना इतना आसान नहीं है।
अपूर्वा: हां, वो तो पता चल जाता, अगर मम्मी ना बोलती तो।
मैं: अच्छा ये नम्बर किसका है।
अपूर्वा: घर का नम्बर है।
मैं ठीक ही सेव कर लेता हूं, नही ंतो अबकी बार तो कोई और मिल गई का ताना मारा है, अगली बार पता नही क्या ताना मारा जायेगा। वैसे आपको बता दूं कि मुझे अभी कोई और नहीं मिली है। आपका चांस है, मार लो बाजी।
अपूर्वा: बकवास मत करो। वो तो मैं मजे लेने के लिए कह रही थी।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:10 PM,
#4
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--4
गतांक से आगे ...........
तभी बाहर से सोनल अंदर आते हुए, किससे बात हो रही है छुप छुपके।
अपूर्वा: ये कौन है? तुम्हारी गर्लफ्रेंड है क्या?
मैं: नहीं यार! अपनी ऐसी किस्तम कहां, वो तो मकान मालिक की बेटी है सोनल।
अपूर्वा: फिर तेरे रूम में कया कर रही है?
मैं: बस ऐसे ही आ गई, देखने के लिए कि मैं क्या कर रहा हूं, कोई उलटा सीधा काम तो नहीं कर रहा हूं।
सोनल: कौन है फोन पर जो इतनी पूछताछ हो रही है।
मैं: लो खुद ही बात कर लो। और ये कहकर मैंने फोन सोनल को दे दिया।
सोनल: हैल्लो!
अपूर्वा: हैल्लो! जी मैं अपूर्वा बोल रही हूं।
सोनल: मैं सोनल बोल रही हूं। तुम क्या समीर की गर्लफ्रेंड हो। (चटकारा लेते हुए)
अपूर्वा (शरमाते हुए): नहीं, नहीं, वो हम साथ में काम करते हैं।
सोनल: तो गर्लफ्रेंड साथ में काम नहीं कर सकती क्या?
अपूर्वा: आप भी ना। और सुनाओं आप क्या करती हो।
सोनल: मैं तो एमटेक कर रही हूं, आप क्या काम करती हों।
अपूर्वा: मैं सॉफटवेयर इंजीनियर हूं।
सोनल: वाह! तब तो एक सॉफटवेयर मेरे लिये भी बनाना।
तभी अपूर्वा की मॉम की दोबारा आवाज आई,
अपूर्वा की मॉम: बेटा, तेरे पापा बुला रहे हैं, जल्दी आजा। कितनी देर से इंतजार कर रहे हैं।
अपूर्वाः ओके! मैं बाद में बात करती हूं, पापा बुला रहे हैं।
सोनल: ओके! बाय।
अपूर्वा: बाये।
सोनल (मेरी तरफ देखते हुए): अरे आपके दर पर आई हूं, चाय वगैरह कुछ पूछेंगे या नहीं।
मैं: चाय! मैं तो सोच रहा था कि आप ही बना कर पिलाओगी, मेरे पास तो दूध है नहीं।
सोनल: तो मैंने कौनसा दूध की फेक्ट्री लगा रखी है।
मैं: लगा तो रखी है, अब प्रॉडक्शन नहीं होता तो वो अलग बात है।
सोनल: क्या मतलब है आपका! मैंने कहा फैक्टरी लगा रखी है?
मैं: लो जी, दो दो फैक्टरियां है, मेमसाब की और इन्हें पता ही नहीं।
सोनल (मेरी कमर में मुक्का मारते हुए): बकवास ना करो! नहीं तो मैं आगे से नहीं आउंगी। ऐसी गंदी गंदी बातें करोगे तो।
मैं: अरे यार, मैंने अब कौनसी गंदी बातें कर दी। अच्छा ठीक है तुम बैठो मैं दूध लेकर आ रहा हूं।
यह कहकर मैं डेयरी पर दूध लेने के लिए आ गया। डेयरी पर जाकर मैंने एक किलो दूध लिया और पैसे देकर आ गया। जब मैं रूम पर पहुंचा तो सोनल बैड पर बैठी थी और उसकी सांसे बहुत तेज चल रही थी और चेहरा एकदम लाल हो रखा था।
मैं: क्या हुआ, परेशान लग रही हो।
सोनल (गहरी सांस लेते हुए): क--- क--- कुछ नहीं, बस थोड़ी गर्मी लग रही है।
मैं: अरे याार मौसम इतना अच्छा हो रखा है, पंखा चल रहा है, तो भी गर्मी लग रही है। मुझे तो नहीं लग रही है।
सोनल (थोड़ा गुस्सा होते हुए)ः तो इसमें भी मेरी गलती है, अब मुझे लग रही है तो लग रही है।
मैं: अब गलती तो तुम्हारी ही है। (मेरी बात सुनकर वो कुछ चौंक सी गई)
सोनल: म---- मेरी क्-- क्या गलती है।
मैं: अब अंदर की गर्मी नहीं निकलेगी तो गर्मी तो लगेगी ही। (मैंने चाय बनने के लिए गैस पर रख दी।)
सोनल: क-- कैसी गर्मी? क्या कहना चाहते हो?
मैं: अरे अब कोई बॉयफ्रेंड वगैरह होता तो तुम्हारी गर्मी भी निकल जाती, और बेचारे उसकी भी।
सोनल (एकदम से चिल्लाते हुए): ज्यादा बकवास करने की जरूरत नहीं है। समझ गए ना। समझते क्या हो अपने आप को। तुम्हारे रूम में बैठी हूं तो इसका मतलब ये नहीं है कि कुछ भी बकते रहोगे। और उठकर जाने लगी। (उसके ऐसे चिल्लाने से मैं थोड़ा घबरा-सा गया कि कुछ ज्यादा ही कह दिया मैंने)
मैं: अरे सॉरी यार, तुम तो ऐसे गुस्सा हो रही हो, जैसे मैं तुम्हारा रेप करने की कोशिश कर रहा हों।
सोनल (वैसे ही चिल्लाते हुए): अपनी हद में रहो। नहीं तो अभी के अभी रूम खाली करवा दूंगी। ये इतनी गंदी गंदी फिल्में रखते हो लैप्पी में, इन्हें देखकर ही इतना दिमाग खराब हो रखा है तेरा।
उसकी ये बात सुनकर मैंने अपने लेपटॉप की तरफ देखा, वा बेड पर ही रखा था और लगता रहा था जैसे वैसे ही उसको फोल्ड किया हुआ था, शटडाउन नहीं था, क्योंकि लाइटें जल रही थी। (मैं समझ गया कि इसने मेरे लैप्पी में पोर्न देखी हैं, वैसे तो मैं ज्यादा पोर्न नहीं देखता, पर ये एक दोस्त ने ई-मेल की थी दिल्ली से, कि बिल्कुल नई आईटम है, कॉलेज की, देखके मजा आ जायेगा। तो वो मैंने डाउनलोड करके डेस्कटॉप पर ही डाल रखी थी, क्योंकि नॉर्मली मेरे लैप्पी को मैं ही यूज करता हूं और कोई नहीं। मेरे लैप्पी में बस वही एक ही पोर्न पड़ी थी, और लगता है, वहीं इसने देखी है)
मैं: ओह! तो इसलिए मैडम को इतनी गर्मी लग रही थी।
सोनल: मैं बता देती हूं, मुझसे पंगा नहीं लेना, नहीं तो अंजाम बहुत बुरा होगा।
मैं: ओके मैडम जी! सॉरी, कान पकड़ता हूं। गलती हो गई, आगे से कुछ नहीं कहूंगा (और अपने मुंह पर उंगली रख ली)।
उसकी इतनी तेज आवाज सुनकर आंटी भी उपर आ गई और पूछने लगी कि क्या हुआ। मैंने अपनी आंखों के इशारे से कहा कि इसी से पूछ लो। सोनल को चुपचाप खड़े देखकर मैंने कहा।
मैं (सोनल से): अब बताओ आंटी को चुप क्यों खड़ी हो। (मुझे बाकी किसी चीज की टेंशन नहीं थी) बस इसी बात का डर था कि कहीं ये पोर्न वाली बात ना बता दे, क्योंकि वो पोर्न एक कॉलेज की लड़की की थी, जो चुपके से लड़की की नॉलेज के बिना क्लास में बनाई गई थी। नॉर्मल पॉर्न होती तो कोई दिक्कत वाली बात नहीं थी, क्योंकि आजकल तो पार्लियामेंट में भी पोर्न देखी जाती है, फिर मैं तो अपने घर पर ही देखता हूं।)
आंटी (सोनल से): क्या हुआ बेटा! ऐसे क्यों चिल्ला चिल्ला कर बातें कर रही थी।
सोनल: कुछ नहीं मॉम! वो बस मजाक कर रहे थे।
आंटी: अरे तो मजाक में ऐसे चिल्लाते हैं क्या।
सोनल: मॉम!
आंटीः मॉम की बच्ची! तू नहीं सुधरेगी, मैं तो पता नहीं कि क्या हो गया जो इतनी चिल्ला कर बातें कर रही हैं।
कहकर आंटी अंदर आई। चाय बन गई थी, बनाई तो दो कप ही थी, पर तीन कप में डालकर मैंने एक कप आंटी को दिया और दूसरा सोनल को और खुद लेकर पीने लगा।
आंटी अंदर आकर बैड पर बैठ गई। सोनल पास में रखी चेयर पर बैठ गई और आंटी के साथ बैड पर ही बैठ गया।
आंटी (चाय पीते हुए): बेटा तू ज्यादा परेशान न किया कर समीर को।
सोनल: मॉम! कभी कभी तो हम मिलते हैं।, तब भी परेशान ना करूं तो फिर मिलने का क्या फायदा।
आंटी: तो क्या परेशान करने के लिए ही मिला जाता है किसी से।
सोनल: कहीं नहीं इनको काट लिया मैंने कहीं से, बस मजाक ही तो कर रही थी।
आंटी (चाय खत्म करते हुए): ओके बेटा! मैं चलती हूं, सब्जी बननी रख रखी है, कहीं जल ना जाये। और ये कहकर आंटी चली गई।
मैंने भी चाय खत्म की और मेरे और आंटी के कप को रसोई में रख दिया। सोनल अभी भी चाय को हाथ में पकड़े बैठी थी और मेरी तरफ घूर रही थी।
मैं: अब क्या कच्चा खाने का मन है, कैसे घूर रही है। जंगली बिलाई।
सोनल: नहीं सोच रही हूं पका कर खा लूं। और हंसने लगी।
सोनल ने भी चाय खत्म की और कप को रसोई में रख कर मेरे पास खड़ी होकर मुझे घूरने लगी। मैं बैड पर बैठा था।
मैं: क्या हुआ! मैंने सॉरी बोला ना यार। अब बच्चे की जान लोगी क्या।
सोनल: चेहरे से तो बड़े सीधे-साधे, भोले-भाले दिखते हो, पर हो नहीं।
मैं: चेहरे से तो तू भी एकदम गुंडी टाइप की दिखती है। पर सच्चाई क्या है पता नहीं।
सोनल: अच्छा मैं तेरे को गुंडी दिखती हूं।
मैं: अरे मैंने कब कहा कि गुंडी दिखती हो, मैंने कहा कि चेहरे से दिखती हो।
सोनल: हां मतलब तो वही हुआ ना, अब मैं दिखाती हूं तेरे को मैं कितनी बड़ी गुंडी हूं।
मैं: जरूरत ही नहीं है। चेहरे से दिख रहा है।
सोनल (थोड़ी गुस्से वाली और रोनी सूरत बनाते हुए): मैं है ना आपकी बढ़िया वाली धुलाई कर दूंगी, नहीं तो बाज आ जाओ अपनी हरकतो से।
मैं: ओके सॉरी बाबा! अब कुछ नहीं।
सोनल: अच्छे बच्चे की तरह कान पकड़ो।
मैं: ओके लो पकड़ लिए। अब खुश।
सोनल: हां खुश।
मैं: चलो, मैंने तो सोचा था कि मैं तो गया आज। पता नहीं ऐसा क्या कह दिया मैंने जो इतनी भड़क गई।
सोनल: बकवास ना करो। वो तो बस मैं आपको अच्छा आदमी मानती हूं, इसलिए मॉम से कुछ नहीं कहा, नहीं तो और कोई होता तो अब तक तो सामान के साथ घर से फाहर फेंक देती।
मैं: हां जी, अब घर तुम्हारा है तो कुछ भी कर सकती हो।
सोनल: सॉरी!
मैं: किसलिए।
सोनल: सॉरी! आजतक किसी ने मुझसे ऐसी बाते नहीं की थी तो मैं एकदम गुस्सा हो गई और इतना भल्ला-बुरा कह दिया। वो आपके लैप्पी में वो विडियो देखकर पहले ही दिमाग खराब हो गया था और फिर आपने ऐसी बाते कहीं तो, एक दम बहुत गुस्सा आ गया।
मैं: ओके! सॉरी तो मैं बोलता हूं जो तुम्हें गुस्सा दिलाया।
सोनल: ओके! सेक हैंड।
मैं: ओके (और मैंने अपना हाथ आगे बढ़ा दिया सोनल ने भी अपना हाथ आगे बढ़ाया और हमने हाथ मिलाया)।
सोनल को हाथ को टच करते ही मेरे शरीर में गुदगुदी सी हुई। उसका हाथ एकदम फूल की तरह कोमल था। हाथ मिलाते हुए सोनल थोड़ा आगे आ गई और फिर वैसे ही हाथ मिलाते हुए मेरे गले लग गई। गले लगने से मेरा हाथ जो उससे मिलाया हुआ था, उसके नाथि के नीचे स्पर्श होने लगा। सोनल ने अपना दूसरा हाथ मेरी पीथ पर रख दिया और मुझे पूरी तरह से सटकर गले लग गई। उसके एकदम गले लगने से मैं हैरान रह गया। कहां तो अभी छोटी सी बात पर इतना गुस्सा हो रही थी, और कहां अब गले लग गई है। परन्तु उससे गले लगकर मुझे मजा बहुत आ रहा था। उसका बायां बूब मेरे दायें हाथ से दबा हुआ था। मैंने उसका हाथ छोड़ दिया और उसने भी मेरा हाथ छोड़कर दूसरे हाथ को भी मेरी गर्दन में लपेट दिया। मेरे शरीर में हलकी हलकी चिंटिंया रेंग रही थी। सच में बहुत मजा आ रहा था। मैंने अपना दायां हाथ जो अभी भी उसके मेरे बीच में था को धीरे-धीरे उपर किया और उसके बूब्स को टच करते हुए बाहर निकालकर उसके कंधे को पकड़ा। सोनल अभी भी ऐसे ही मुझसे लिपटी हुई थी। उसकी सांसे काफी तेजी से चल रही थी। मैंने अपने दोनों हाथों को उसके कंधे पर रख दिया। मैं उसे अपनी बांहों में लेने में थोड़ा घबरा रहा था कि कहीं फिर से गुस्सा ना हो जाए।
जब काफी देर तक भी सोनल मेरे गले लगी रही तो मैंने अपने हाथों को उसकी कमर में डाल दिया और उसे थोड़ा टाइट पकड़ कर अपने साथ चिपका कर उसकी बॉडी को फिल करने लगा। सोनल ने मेरे कंधे पर अपने चेहरे को थोड़ा रगड़ा और वापिस कंधे पर सिर रख दिया। मैंने अपने हाथों से धीरे धीरे सोनल की कमर को सहलाना चालू कर दिया। मैं अपने हाथ उसकी कमर में बहुत ही धीरे से चला रहा था, ताकि अगर उसके मन में ऐसा कुछ ना हो तो वो ये ना समझे कि मैं उसके साथ मजे कर रहा हूं।
धीरे धीरे सोनल का शरीर गरम होने लगा। मुझे मेरे कंधे पर उसका गरम चेहरा महसूस हो रहा था। सोनल को गरम होते देख मेरे पप्पू ने भी शॉर्ट के अंदर हलचल मचानी शुरू कर दी। और कुछ ही सेकंड में एकदम तन कर खड़ा हो गया। सोनल की जांघें और मेरी जांधे एकदम एक दूसरे से सटी हुई थी, तो शायद मेरे पप्पू के हलचल करने से उसे वो अपनी जांघों पर महसूस हो रहा होगा। सोनल ने अपने हाथों को थोड़ा ढीला किया और अपना चेहरा मेरे सामने करते हुए मेरी आंखों में देखने लगी। मैंने भी अपने हाथों को 
वापिस उसके कंधे पर रख दिया।

क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:10 PM,
#5
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--5
गतांक से आगे ...........
सोनल की आंखें एकदम लाल हो गई थी, वो पूरी तरह से हवस में डूब चुकी थी। उसके हाथ अब भी मेरी गर्दन पर हल्के हल्के सहला रहे थे। उसने अपने एक हाथ को मेरे बालों में लाते हुए मेरे बालों को सहलाने लगी और ऐसे ही मेरी आंखों में आंखें डालकर देखती रही। मैंने धीरे से अपना चेहरा उसके चेहरे के करीब किया और थोड़ा रूककर उसका एक्सप्रेशन देखने लगा। उसने अपनी आंखें नीचे कर ली और उसके गुलाबी होंठ फडकने लगे। उसकी सांसे बहुत ही तेज चल रही थी। मैंने अपनी नजरों को थोड़ा झुकाया, उसके बूब्त तेजी से उपर नीचे हो रहे थे और उसके पैर थोड़े थोड़े कांप रहे थे। मैंने वापिस उसके चेहरे की तरफ देखा तो वो अभी भी नीचे ही देख रही थी। सोनल का चेहरा एकदम गुलाबी हो गया था। मैंने अपने चेहरे को थोड़ा और आगे करके उसके गालों पर अपने होंठ रख दिए। सोनल के मुंह से एक सिसकारी निकली और वो वापिस मुझसे चिपक गई। उसके चिपकने से मेरा लंड फिर से उसकी जांघों पर टक्कर मारने लगा।
तभी सीढ़ियों में से किसी के आने की आवाज सुनाई दी। मैंने उसे जल्दी से खुद से अलग किया और बैड पर बैठा दिया। उसकी कुछ समझ में नहीं आया कि क्या हुआ और वो हैरान होकर मेरी तरफ देखने लगी। मैंने एक गिलास में पानी लेकर उसे पीने को दिया और खुद किचन में आकर पानी पीने लगा। तभी बाहर से आंटी की आवाज आई। तब उसकी समझ में आया कि मैंने उससे अलग क्यों किया।
आंटी (अंदर आते हुए): सोनल बेटा! रीत का फोन आया हुआ है, तेरे से बात करने की कह रही है।
सोनल (पानी पीते हुए): ओके मोम, अभी आ रही हूं, आप चलो।
आंटी वापिस नीचे जाने लगी। सोनल जल्दी से मेरे पास आई और पहले मेरे गाल पर किस की और फिर मेरे माथे को चूमकर जल्दी से बाहर निकल गई।
मैं आकर बैड पर बैठ गया और हमारे बीच अभी अभी जो कुछ हुआ उसके बारे में सोचने लगा। आज से पहले हमारी कोई ज्यादा बातचीत भी नहीं होती थी, और कोई ज्यादा मिलना भी नहीं होता था, पर आज जो कुछ हुआ वो मुझे बहुत हैरान कर रहा था। यही सब सोचते सोचते मैं बैड पर लेट गया और मुझे कब नींद आई पता ही नहीं चला।
सुबह 5 बजे का अलार्म बजा तो मेरी आंख खुली। उठते ही मुझे बहुत जोरो की भूख लगी हुई थी। मैं रसोई में गया और चाय बनाई, और उसके साथ कुछ बिस्किट और नमकीन लेकर वापिस बैड पर आकर बैठ गया। मुझे सिर में हल्का हल्का दर्द महसूस हो रहा था। जब मुझे शाम की बातें फिर से याद आई तो मेरे होठों पर प्यारी सी मुस्कान आ गई। चाय पीकर मैं कमरे से बाहर आ गया। अभी एक दो बंदा ही बाहर गली में दिख रहा था। आज मैं जल्दी उठा गया था। बाकि के दिनों तो तैं अलार्म को सनूज ही करता रहता था और कोई 7 बजे जाकर उठता था। आज जल्दी उठने के कारण टाइम पास नहीं हो रहा था तो मैं पार्क में टहलने के लिए चल पडा।

पार्क में ज्यादा लोग नहीं थे, बस कुछेक अंकल और आंटी जॉगिंग कर रहे थे। मैं जाकर एक बेंच पर बैठ गया। एक अंकल काफी तेजी से दौड़ रहे थे। मैं बैठा-बैठा उन्हें दौड़ते हुए देखने लगा। शायद अंकल ने मुझे उन्हें देखते हुए देख लिया था, जब वो तीसरी बार मेरे पास से गुजरे तो हाथ से मेरी तरफ हाथ से साथ में दौड़ने का इशारा किया, तो मैं भी उनके साथ दौड़ने लग गया।
अंकल: क्या बेटा! पार्क में आकर बैठ गये ऐसे ही। अभी तो जवानी आई ही है, सुबह सुबह थोड़े जॉगिंग वगैरह करनी चाहिए, शरीर भी फिट रहेगा।
तभी पिछे से किसी औरत की आवाज आयी: हां, तुमने तो बड़ी जॉगिंग की है ना अपनी जवानी में।
मैंने पीछे मुड़कर देखा तो एक आंटी पीछे जॉगिंग करते हुए आ रही थी, वो थोड़ा धीरे दौड़ रही थी, इसलिए थोउ़ी पीछे ही थी, पर ज्यादा पीछे भी नहीं थी।
अंकल: मेरी वाइफ है!
मैंने दोबारा पीछे देखते हुए आंटी को हाय कहा तो आंटी ने भी हाय बेटा कहा।
अंकल: कहा रहते हो बेटा!
मैंने अंकल को अपने घर का पता समझाया।
अंकल: क्या करते हो।
मैं: जॉब करता हूं अंकल।
अंकल: कौनसी कम्पनी में बेटा।
मैंने अंकल को कम्पनी का नाम बताया।
अंकल: हम्मम! कम्पनी तो अच्छी है।
अंकल: शादी हो गई बेटा तुम्हारी।
मैं: नहीं अंकल, अभी कुंवारा ही हूं।
अंकल: हम, इधर उस सामने वाले मकान में ही रहते हैं।
अंकल: रोज आते हो बेटा पार्क में टहलने।
अंकल ने इशारे से बताते हुए कहा, और मैंने उनके बताये हुए मकान की तरफ देखा तो बहुत ही शानदार मकान था।
मैं: नहीं अंकल, वो सुबह जल्दी उठा नहीं जाता तो, इसलिए रोज तो नहीं आ पाता। आज जल्दी आंख खुल गई थी तो आ गया था।
हम दौड़ते हुए पार्क के दूसरी साइड में पहुंच गये थे तभी पार्क के बाहर से आवाज से किसी लड़की की गधुर आवाज थोड़ी तेजी से आती हुई सुनाई पड़ी।
लड़की: पापा! शर्मा अंकल आये हुए हैं, आपको बुला रहे हैं।
मैंने जब आवाज की तरफ देखा तो वोही लड़की थी जो अक्सर शाम के वक्त अपने कॉर्टून टाइप डॉगी के साथ घूमने आती है, वो पार्क की दीवार के साथ बाहर की तरफ खड़ी थी और हमारी ही तरफ देख रही थी। उसकी आवाज सुनकर मैंने थोड़ा इधर उधर देखा कि किसे बुला रही है, तभी अंकल बोले।
अंकल: आ रहा हूं बेटा।
ये जानकर कि तो ये इनकी लड़की है, मुझे थोड़ी खुशी हुई, क्योंकि अब तो अंकल के साथ थोड़ी जान-पहचान हो गई है।
अंकल ने मुझसे कहा, ओके बेटा, चलता हूं, आया करो पार्क में डेली, शरीर स्वस्थ रहेगा। और अंकल बाहर की तरफ चल दिये।
अपने पापा को मुझसे बातें करते हुए देखकर वो लड़की मुझे देखने लगी, मैंने उसकी तरफ देखा तो वो मुझे ही देख रही थी।
तभी पीछे से आंटी की आवाज आई, ओके बेटा बाये,
मैंने आंटी की तरफ देखते हुए, बाये आंटी। और मैं फिर से उसी लड़की की तरफ देखने लगा, वो अब अपने पापा के पीछे पीछे जा रही थी, और पिछे मुड मुडकर मेरी तरफ देख रही थी।
उसने व्हाइट पजामी और ब्लू टी-शर्ट पहन रखी थी।
उस पजामी में उसके कुल्हे एकदम जबरदस्त लग रहे थे। ज्यादा मोटे भी नहीं थे और छोटे भी नहीं थे, एकदम परफेक्ट साइज के थे। पजामी में से उसके दोनों कुल्हों की शेप एकदम शानदार तरीके से दिखाई दे रही थी। मेरे पप्पू ने धीरे से अंगडाई ली तो मैंने उसे समझाया कि सो जा बेटा, अभी टाइम नहीं आया है।
मेरे देखते देखते अंकल और वो लड़की अपने घर में घुस गये और उनके पीछे पीछे आंटी भी घर के अंदर चली गई।
मैं एक राउंड और लगाता हुआ अपने घर की तरफ आ गया।
उपर आकर मैंने टाइम देखा तो साढे छह होने वाले थे। मैं आकर अपने बैड पर बैठ गया और अपने लैपटॉप को ऑन करके गाने लगा दिये और खुद बाहर छत पर आकर मुंडेर के पास खड़ा हो गया।
तभी किसी लड़की की आवाज मेरे कानों में पड़ी - हाय! मैंने पीछे देखा, तो कोई नहीं था, तभी फिर से आवाज आई इधर साथ वाली छत पे।
मैंने घुमकर देखा तो शाम को जो लड़की सोनल से बात कर रही थी साथ वाली छत पर वो खड़ी थी और मेरी तरफ देखकर मुस्करा रही थी। मैंने भी उसे हाय कहा।
उसने कहा मेरा नाम पूनम है।
मैं: नाइस नेम। मेरा नाम समीर है।
पूनम: समीर, ठंडी हवा का झोंका।
और हम दोनों हंस दिये। वो अपनी छत की मुंडेर के पास आकर खड़ी हो गई और मैं उसकी तरफ मुंह करके वहीं पर खड़ा खडा हुआ मुंडेर के साथ लग गया।
पूनम: मैं रोज सुबह छत पर टहलती हूं, पहले तो कभी आप बाहर नहीं दिखे।
मैं: हंसते हुए! मैं दिनचर हूं, रात को बाहर नहीं घूमता।
पूनम: अरे तो अब कोई रात थोड़े ही है।
मैं: हां, पर मुझे उठते उठते 7 तो बज ही जाते हे।
पूनम: ओह माई गोड! 7 बजे उठते हो। कितने लेजी हो।
मैं: अब कुछ भी कहो। जल्दी उठकर करना क्या है?
पूनम: हम जैसो से बातचीत कर लिया करो। मैं 6 बजे ही उपर आ जाती हूं टहलने के लिए।
मैं: ओके जी अब आपने कहा है, आगे से आपको इधर ही मिलेंगे।
पूनम: अपना दायां हाथ मेरी तरफ बढ़ाते हुए, फ्रेंड्स!
पूनम के ऐसा कहते ही मेरे मन में लड्डू फूटने लगे। और मैं अपनी जगह से चलते हुए उसके पास गया और अपना हाथ आगे बढ़ाकर उसके हाथ को थाम लिया कहा ‘फ्रेंड्स’।
पूनम: हाव स्वीट!
पूनम: अकेले ही रहते हो।
मैं: हां जी, अब किस्मत ही ऐसी है कि अकेले ही रहना पड़ता है।
पूनम: बड़ी अच्छी किस्मत है। मैं कितना अकेला रहना चाहती हूं, पर घरवाले रहने ही नहीं देते।
मैं: अरे कुछ नहीं है अकेले रहने में। बोर होते रहो हमेशा।
पूनम: क्यों, बोर क्यों होना है, फ्रेंड्स है ना, बोरियत दूर करने के लिए।
मैं: मेरे पास तो कोई नहीं आता मेरी बोरियत भगाने के लिए।
पूनम: अब तक मैं आपकी फ्रेंड नहीं थी ना, अब देखना कैसे आपकी बोरियत दूर हो जायेगी।
मैं: अच्छा जी, देखते हैं।
तभी सोनल उपर आते हुए, गुड मॉर्निग समीर जी।
मैं: गुड मॉर्निग सोनल जी, क्या बात है, आज सुबह सुबह हमारे दर पे।
पूनम को वहां खडे देखकर सोनल ने उसे भी गुड मॉर्निग कहा और हमारे पास आ गई। सोनल बिल्कुल मुझसे सटकर खडी हो गई और पूनम से हैंड सेक किया।

सोनल: क्या बातें चल रही थी सुबह सुबह पड़ोसियों में।
पूनम: बस यार ऐसे ही नॉर्मल।
सोनल: ओके यार नहीं बतानी तो कोई बात नहीं।
तभी नीचे से आंटी की आवाज आई, सोनल बेटा!
सोनल: आई मम्मी जी। और बायें कहते हुए नीचे चली गई।
मेरे मोबाईल में 7 बजे का अलार्म बज गया।
मैं: आके बाये पूनम जी! ऑफिस के लिए तैयार हो जाता हूं,
पूनम: ओके बाये समीर जी। फिर मिलते हैं।
मैं: स्योर।
मैं अंदर आकर खाने की तैयारी करने लगा और खाने बनाने के बाद नहाने के लिए बाथरूम में घुस गया। नहा धोकर टाइम देखा तो सवा आठ हो गये थे। ज्यादा भूख तो नहीं थी, फिर भी खाना तो खाना ही था, तो थोड़ा बहुत खाना खाया और बाकी के खाने को फ्रिज में रख दिया।
बाइक की चाबी उठाकर मैं रूम को लॉक लगाकर नीचे आ गया। नीचे सोनल अपनी स्कूटी निकाल रही थी। अपनी बाईक को वहां खड़ी ना पाकर एकबार तो मुझे आश्चर्य हुआ और मेरे मुंह से निकला मेरी बाइक कहां गई।
सोनल: मैंने तो शाम को भी नहीं देखी इधर।
तभी मुझे याद आया कि अरे हां, बाइक तो बॉस के घर पर ही क्षड़ी है।
मैं: अरे, यार! बइक तो बॉस के घर पर है। बस में ही जाना पड़ेगा।
सोनल: क्यों, उधर क्यों हैं।
मैं: वो कल आते वक्त पंक्चर हो गई थी, तो मैं वहीं खड़ी करके आ गया था।
सोनल: तो कल भी बस में आये थे।
मैं: नहीं, वो अपूर्वा छोड़कर गई थी।
सोनल: वाह जी, बहुत अच्छी दोस्त है आपकी।
मैं: अब वो तो है ही जी।
सोनल: सिर्फ दोस्त ही है या उसके आगे कुछ।
मैं (मजे लेते हुए): अब दोस्त से तो ज्यादा ही है।
सोनल: तो गर्ल फ्रेंड है। कल तो बडे कह रहे थे कि बस दोस्त ही है।
मैं: मैंने कब कहा कि गर्लगफ़्रेंड है। दोस्त से ज्यादा बेस्ड फ्रेंड होता है न कि गर्ल फ्रेंड।
सोनल: ओह! आई सी, तो बेस्ट फ्रेंड है।
सोनल: चलो मैं आपको छोउ़ देती हूं, आपके ऑफिस। सी-स्कीम में ही है ना।
मैं: अरे नहीं वो बॉस के घर जाना है।
सोनल: कहां पर है बॉस का घर, और घर पे क्या करोगे।
मैं (मैंने सारी बात बतानी सही नहीं समझी): वो ऑफिस में थोड़ा काम चल रहा है तो इसलिए कुछ दिन के लिए घर पे शिफ्रट कर लिया है ऑफिस।
सोनल: तो ये बात है।
मैं: बापू नगर में है घर।
सोनल: वॉव! मैं यूनिवर्सिटी ही जा रही हूं।
मैं: यूनिवर्सिटी क्या करोगी, तुम तो महारानी कॉलेज में पढती हो ना।
सोनल: वो बुक वर्ल्ड से कुछ किताबे लेनी हैं, तो इसलिए पहले यूनिवर्सिटी से किताबें लूंगी। फिर वहां से कॉलेज जाउंगी।
(राजस्थान यूनिवर्सिटी बापू नगर के सामने ही है और यूनिवर्सिटी वाला रोड सीधा महारानी कॉलेज ही जाता है)
मैं: ओके! चलो।
सोनल ने अपनी स्कूटी को बाहर निकाला और स्टार्ट करके कहा आ जाओ।
मैं जाकर स्कूटी पर पीछे बैठ गया। सोनल ने स्कूटी दौड़ा दी। मैं थोड़ा पीछे होकर बैठा था, तभी सोनल ने जोर से ब्रेक लगा दिये। उसके ब्रेक लगाने से मैं एकदम से सोनल की पीठ से जा टकराया।
मैं: क्या हुआ?
सोनल: आप चलाओ ना, मैं पीछे बैठती हूं।
सोनल के ऐसा कहने पर मुझे अपूर्वा के साथ की गई कल की ड्राइव याद आ गई।
मैं: ओके! उतरो।
सोनल स्कूटी से उतर गई और मैं आगे होकर बैठ गया और सोनल स्कूटी पर पीछे बैठ गई।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:11 PM,
#6
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--6
गतांक से आगे ...........
सोनल ने अपने हाथ मेरे कंधो पर रख दिये और अपने बूब्स मेरी पीछ में दबा दिये। मैंने ड्राइविंग शुरू कर दी। जैसे ही हम मेन रोड पर आये तो सोनल चिल्लाई, रोको, रोको। मैंने स्कूटी साइड में रोक कर पूछा।
मैं: क्या हुआ!
सोनल: वो देखो सामने मामा जी खड़े हैं।
मैंने देखा सामने ट्रेफिक पुलिस वाले खड़े थे और जबरदस्त वाली चैकिंग चल रही थी।
मैं: यार! इनको भी सुबह सुबह भी चैन नही है।
सोनल स्कूटी से नीचे उतर गई और मैं भी स्कूटी को खडी करके नीचे उतर गया। सोनल ने स्कूटी की सीट को उठाया और उसमें से एक छोटा सा हेलमेट निकाला और मेरी तरफ बढ़ाते हुए।
सोनल: लो इसे पहन लो। मैं आपके पीछे दुबक जाउंगी तो पता ही नहीं चलेगा कि पीछे भी कोई बैठा है।
मैंने हेलमेट पहना और वापिस से ड्राइव शुरू कर दी। मैंने साइड मिरर से देखा तो सोनल पूरी तरह से मेरे पीछे दुबक गई थी। सामने से तो वो दिखाई ही नहीं दे रही थी। ऐसा लग रहा था कि पीछे कोई नहीं बैठा है।
सोनल ने अपना चेहरा मेरी कमर पर टिका रखा था और अपने हाथ मेरी कमर पर पीछे की तरफ टिका रखे थे। मुझे उसकी सांसे अपनी पीठ पर महसूस हो रही थी। जैसे ही हम पुलिस वालों के पास से गुजरने लगे तो एक पुलिस वाला भागकर हमारे सामने आ गया।
पुलिस वाला: चलो साइड में लगाओ।
मैं: क्या हुआ सर जी!
प्ुलिस वाला: चलो साइड में लगाओ और लाइसेंस दिखाओ।
मैंने स्कूटी साइड में खडी कर दी और सोनल उतरकर मुझसे दूर जाकर खड़ी हो गई।
एक दूसरा पुलिस वाला मेरे पास आया और लाइसेंस दिखाने को कहा, मैंने लाइसेंस दिखा दिया।
पुलिस वाला: कागज पूरे हैं।
मैं: जी सर जी, एकदम पूरे हैं। (वैसे मुझे पता नहीं था कि कागज है भी या नहीं।)
पुलिस वाला: हेलमेट कहां है?
मैंने हेलमेट दिखाते हुए (जो कि मेरे हाथ में था) ये रहा सर जी।
पुलिसवाला: ठीक है जाओ। (और वो पुलिसवाला दूसरे बाइक वाले के पास चला गया।
मैंने सोनल की तरफ देखा और आंख मार दी। सोनल समझ गई कि मामला सुलझ गया है। और हम दोनों मुस्करा दिये।
सोनल कुछ और आगे जाकर खडी हो गई और स्कूटी को स्टार्ट करके मैं उसके पास जाकर रोक दी। सोनल पीछे आकर बैठ गई।
सोनल: बच गये आज तो, नहीं तो पक्का चालान होना था।
मैं: अरे, वो तो दूर आकर खडी हो गई, नहीं तो हेलमेट का तो होना ही था।
तभी मेरा फोन बजने लगा, मैंने फोन जेब से निकाला तो अपूर्वा का फोन था। मैंने कॉल रिसीव करके हैल्लो किया।
अपूर्वा: हैल्लो! तैयार हो गये, मैं आ रही हूं लेने के लिए।
मैं: हाव स्वीट! तुम्हें याद था।
अपूर्वा: क्यों याद क्यों नहीं रहेगा।
मैं: अरे नहीं यार, वो सुबह मैं तो भूल ही गया था बाइक बॉस के घर पर ही। जब नीचे आया तो याद आया कि बाइक तो आज है ही नहीं।
अपूर्वा: मुझे तो याद है जी। ठीक है मैं आ रही हूं। तैयार रहना।
मैं: अरे नहीं, मैं वो सोनल के साथ आ रहा हूं। वो भी उधर ही तो जाती है महारानी कॉलेज।
अपूर्वा (अबकी बार अपूर्वा की आवाज कुछ धीमी थी): ठीक है! मैंने तो घर पर मम्मी को बोलकर जल्दी नाश्ता तैयार करवाया, जल्दी तैयार हुई, कि समीर को भी लेने जाना है। पर मुझे क्या पता था कि जनाब के लिए और भी लड़कियां तैयार बैठी है, ड्रॉप करने के लिए। ओके! आ जाओ, ऑफिस में मिलते हैं।
मैं कुछ कहता उससे पहले ही फोन कट हो गया था। अपूर्वा की बाद वाली बातों से कुछ उदासी झलक रही थी। जिससे मेरा मन भी थोड़ा उदास हो गया।
मैंने मोबाइल को जेब में रखा, और सोनल से कहा चलें।
सोनल: किसका फोन था।
मैं: अपूर्वा का था, वो कह रही थी कि लेने आना है क्या। (मैंने स्कुूटी चला दी)
सोनल: हाव स्वीट! बहुत धयान रखती है तुम्हारा। मुझे तो लगता है कि उसके और तुम्हारे बीच में कुछ चल रहा है, पर तुम बता नहीं रहे हो।
मैं: हम बहत अच्छे दोस्त हैं, उससे ज्यादा कुछ नहीं है।
सोनल: अच्छा जी, फिर ठीक है। (और मुझसे सटकर बैठ गई)
उसके बूब्स को अपनी कमर में दबते महसूस करके मेरे शरीर में सिहरन सी दौड़ गई। मैं भी मजे लेने के लिए थोड़ा पीछे हो गया। सोनल ने अपने हाथ मेरे पेट पर रख दिये और मेरे कंधे पर सिर रखकर बैठ गई। तभी मुझे उसके हाथों में कुछ हरकत महसूस हुई। धीरे धीरे उसके हाथ मेरे पेट पर हरकत करने लगे थे। उसकी उंगलिया मेरी शर्ट के उपर से ही मेरे पेट पर थिरक रही थी। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था। उसने अपनी एक अंगली को मेरे पेट पर सहलाते हुए थोड़ा नीचे की तरफ कर दिया जो मेरी नाभि से नीचे आ गई। उसकी वो उंगली मेरी बेल्ट को टच हो रही थी। मैंने शॉर्ट शर्ट पहनी हुई थी। उसने अपनी उस उंगली से मेरी शर्ट को थोडा सा उपर उठाया और मेरी जींस के किनारों के साथ मेरे पेट पर अपनी उंगली घुमाने लगी। मेरे शरीर में बहुत ज्यादा सिहरन हो रही थी और मेरा पप्पू तो पहले से ही अंडरवियर के अंदर धमाचौकड़ी मचा रहा था।
तभी अचानक सोनल ने अपनी एक उंगली मेरी जींस के थोड़ा सा अंदर कर दी और मेरी बनियान को खींच कर जींस से बाहर निकाल दिया और अपनी उंगली वापिस जींस के किनारों के साथ साथ मेरे पेट पर फिराने लगी। उसकी उंगली को अपने नंगे पेट पर महसूस करके मेरे शरीर ने एक झटका लिया और मेरे पूरे शरीर में करंट सा दौड़ गया।
मेरा दांया हाथ अपने आप उसके हाथ के उपर आया और उसके हाथ को पकड़ लिया। मुझपर हल्की हल्की मदहोशी छाने लगी थी। मैंने उसका हाथ पकड़ कर वहां से हटाकर वापिस अपने पेट पर रख दिया और अपना हाथ वापिस हैंडल पर ले गया क्योंकि स्कूटी की स्पीड कम हो गई थी।
मैं: सोनल यार! आराम से बैठों ना, खामखां एक्सीडेंट हो जायेगा।
सोनल: एक्सीडेंट क्यों हो जायेगा, अपना धयान सामने रखों।
मैं: अब इस तरह की हरकत करोगी तो सामने धयान कैसे रहेगा।
सोनल: क्यों मैंने क्या किया। मैं तो बस थोड़ी छेडछाड कर रही हूं।
मैं: तुम थोड़ी छेडछाड कर रही हो, पर मुझे प्रॉब्लम तो ज्यादा हो रही है।
सोनल: अच्छा तो जी जनाब को थोड़ी सी छेडछाड में ज्यादा प्रॉब्लम हो रही है।
सोनल: वैसे मुझे तो बहुत मजा आ रहा है तुम्हें छेडते हुए।
मैं: मैं कोई लड़की थोडे ही हूं जो मुझे छेडने में तुम्हें मजा आ रहा है।
सोनल: तो मैंने कब कहा कि लड़की हो।
सोनल: अब लड़कियों को छेडने में तो लड़को को मजा आता है। लड़किया कों तो लड़कों को छेडने में मजा आयेगा ना।
मैं: हे भगवान! कैसा कलयुग आ गया है, अब तो लड़कियां लड़कों को छेडती हैं। लड़कों की इज्जत सलामत ही नहीं रही अब तो।
सोनल: हा हा हा, बहुत छेड लिया लडको नें लडकियों को, अब हम लडकों से सारा बदला लेकर रहेंगी।
मैं: एक कहावत है कि चाहे आलू चाकू पर गिरे या चाकू आलू पर गिरे, कटना तो आलू को ही है।
सोनल: अच्छा! तो इसका इस बात से क्या मतलब हुआ।
मैं: मैं तो तुम्हें इंटेलीजेंट समझता था, तुम्हें इतना भी समझ में नहीं आया।
सोनल: अब ज्यादा पतलून मत उतारो, समझाओं मुझे।
मैं: अब लडके लडकियों को छेडे या लडकिया लडकों को छेडे, मजा तो लडकों को ही आना है।
सोनल: ऐसा नहीं है, लडकियों को भी मजा आता है छेडने में।
मैं: वो तो छिडवाने में भी आता होगा।
सोनल: नहीं आता।
और सोनल ने अपना हाथ फिर से मेरी शर्ट और बनियान को हटाकर मेरे पेट पर रख दिया और अपनी एक उंगली मेरी नाथि में डालकर मसाज देने लगी।
सोनल की उंगली ने जैसे ही मेरी नाभि में टच किया, मेरे मुंह से आह निकल गई।
सोनल: बड़ा मजा आ रहा है छिडवाने में।
मैं: बस पूछो मत, मन तो कर रहा है कि यहीं कहीं साइड में स्कूटी खडी कर दूं और तुम ऐसे ही छेडती रहो।
सोनल: चुपचाप ड्राइव करते रहो।
थोड़ी ही देर में हम बापू नगर पहुंच गये और मैंने स्कूटी को अपने बॉस के घर की तरफ घुमा दिया और घर के बाहर जाकर स्कूटी रोक दी। सोनल नीचे उतरी और मैं भी स्टैंड लगाकर नीचे उतर गया।
मैं: ओके मेरा डेस्टिनेशन आ गया, सफर को इतना मजेदार बनाने के लिए थेंक्स।
मेरी बात सुनकर सोनल थोडा शरमा गई और अपनी नजरे नीचे झुका ली। तभी मुझे पीछे से अपूर्वा भी अपनी स्कूटी पर आती हुई दिखाई दी।
मैं (सोनल की तरफ देखते हुए): लो, अपूर्वा भी आ गई।
मेरी बात सुनकर सोनल ने पीछे देखा।
सोनल: ये है अपूर्वा, ओह माई गोड ये तो बहुत सुंदर है। मुझे नहीं लगता कि तुम्हारे बीच कुछ नहीं होगा। जरूर तुम्हारे बीच में कुछ तो होगा ही।
इतने में अपूर्वा भी हमारे पास पहुंच गई। अपूर्वा ने अपना हेलमेट उतारा और स्कूटी की सीट के नीचे रख दिया और हमारे पास आकर खड़ी हो गई।
सोनल: हाय अपूर्वा!
अपूर्वा (थोड़ी असमंझस के भाव अपने चेहरे पर लोते हुए): हाय!
अपूर्वा के चेहरे पर थोड़ी असमंझस देखते हुए मैंने कहा: अपूर्वा, ये हैं सोनल।
अपूर्वा: ओह, तो ये हैं सोनल जी, वाव आप तो बहुत खूबसूरत हैं।
सोनल: पर आपसे ज्यादा नहीं। आप तो सच में एक दम परी लग रही हैं।
अपूर्वा ने व्हाइट कमीजऔर चूडीदार सलवार पहन रखी थी। वाकई में अपूर्वा इस ड्रेस में एकदम परी की तरह बहुत ही प्यारी लग रही थी।
अपूर्वा: अरे ये तो आपका बडपन है, नहीं तो आप मुझसे ज्यादा खूबसूरत हैं।
मैं: सच अपूर्वा, तुम एकदम परी की तरह बहुत ही प्यारी लग रही हो।
मेरी बात सुनकर अपूर्वा का चेहरा एकदम लाल हो गया और उसने अपना चेहरा नीचे झुका लिया।
सोनल अपूर्वा की तरफ ही देखे जा रही थी। उसकी नजरे अपूर्वा पर से ही हट ही नहीं रही थी।
मैंने सोनल को छेड़ते हुए कहा: क्या हुआ, लगता है पसंद आ गई अपूर्वा जी आपको। कहीं शादी करने का मूड तो नहीं बन गया है, अपूर्वा के साथ।
सोनल: बकवास मत करो! मैं कोई लेस्बो नहीं हूं, जो किसी लड़की से शादी करूंगी, पर हां अगर मैं लड़का होती तो तुरंत अपूर्वा से शादी कर लेती। सच में बहुत ही प्यारी है, एकदम गुड़िया के जैसी। (और सोनल ने अपूर्वा के गालों को हाथों से सहलाते हुए उसके गालों पर एक चुटकी काट ली।)
अपूर्वा के मुंह से हल्की चीख निकल गई।
मैं: अरे यार! गुडिया भी कह रही हो और उपर से काट भी रही हो। थोडा तो रहम करो।
सोनल: अच्छा जी! ब्हुत दया आ रही है।
मैं: आये क्यों, ना देखों, मेरी प्यारी सी दोस्त के गाल पे कैसा लाल निशान कर दिया।
सोनल: हां, हां, प्यारी सी दोस्त। मैं सब समझती हूं, प्यारी सी दोस्त का मतलब।
सोनल की बात सुनकर अपूर्वा का चेहरा फिर से लाल हो गया, और उसने अपने नजरे वापिस से नीचे झुका ली।
मैं: ओके, अब चलो नहीं तो कॉलेज के लिए लेट हो जाओगी।
सोनल: अच्छा मुझे भगाना चाहते हो, यहां से। मैं कभी कॉलेज लेट नहीं होती। अभी कॉलेज के लिये टाइम ही टाइम है। मैं तो प्यारी सी परी से बढिया तरह से मिलकर जाउंगी।
सोनल: हाय मेरी प्यारी सी गुडिया, चल ना कहीं रेस्टोरेंंट में चलते हैं थोड़ी देर के लिए, वहां खूब गप्पे लड़ायेंगे।
तभी बॉस की गाड़ी हमारे पास आकर रूकी।
अपूर्वा: लो, हो गई छूट्टी, अब तो सीधा ऑफिस में ही घुसना पड़ेगा।
अपूर्वा की बात सुनकर मैं हंस दिया।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:11 PM,
#7
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--7
गतांक से आगे ...........
सोनल: हंस लो, हंस लो, शाम को देखूंगी घर आकर।
मैं (सोनल की चिड़ाते हुए): क्यों अभी क्या आंखों पर पट्टी बंधी हैं।
तभी बॉस गाड़ी से बाहर आ गये।
मैंने और अपूर्वा ने बॉस को गुड मॉर्निग की और सोनल ने भी गुड मॉर्निग सर कहा।
बॉस: गुड मॉर्निग। ये कौन अपूर्वा की सिस्टर है क्या।
अपूर्वा: नहीं बॉस, वो समीर की फ्रेंड है।
बॉस: ओह! मैंने सोचा कि अपूर्वा की सिस्टम होगी।
सोनल (बहुत धीरे से ताकि बॉस का ना सुनाई दे): काश! होती तो मजा आ जाता।
बॉस: ओके, आओ अब बाहर ही खड़े रहोगे।
मैं: ओके बॉस, अभी आते हैं।
मैं: बाये सोनू जानू, अब तो यहां से भागना ही पडेगा।
सोनल: हां, अब तो यहां से फूट लेती हूं, (और वो अपूर्वा के पास आई और उसके गले लग गई)।
अपूर्वा ने भी उसे अच्छी तरह से हग किया और फिर सोनल मुझे बाय बोलकर अपनी स्कूटी स्टार्ट करके चल दी।
मैं और अपूर्वा अंदर आ गये, बॉस पहले ही अंदर आ चुके थे। हम अंदर आकर सीधे ऑफिस में आ गये और अपने-अपने सिस्टम ऑन कर लिये।
मैं (अपूर्वा की तरफ देखते हुए): सॉरी!
अपूर्वा: किसलिए!
मैं: वो मेरे लिए तुम्हें सुबह सब काम जल्दी जल्दी करने पड़े, और फिर भी मैं किसी और के साथ ही आ गया।
अपूर्वा: अब ज्यादा सेंटी होने की जरूरत नहीं है। पर मुझे गुस्सा तो बहुत आया, कि मैं तो सुबह से परेशान हो रही हूं और जनाब हैं कि एक फोन भी नहीं किया।
मैं (कान पकड़ते हुए): सॉरी यार!
अपूर्वा मेरे पास आई और मेरे हाथों को मेरे कानों पर से हटाकर दोनों हाथों पर एक एक चूमी ली और कहा -
अपूर्वा: इट्स ओके यार! चलता है।
मैं: वैसे आज तुम एकदम कमाल की लग रही है। मन कर रहा है तुम्हें बाहों में भरकर चूम लूं।
मेरी बात सुनकर अपूर्वा शरमा गई और अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमाकर मंद मंद मुस्कराने लगी।
मैंने अपूर्वा के चेहरे को अपने हाथों में थामा और उसके फोरहेड (माथे) पर अपेन होठों की एक प्यारी सी चूमी दी। अपूर्वा की आंखे बंद थी और वो मंद मंद मुस्करा रही थी।
तभी बॉस बाहर से फोन पर बाते करते हुए आते हुए सुनाई दिए, मैं अपनी चेयर पर आकर बैठ गया और अपूर्वा अपनी चेयर पर जाकर बैठ गई।
बॉस अंदर आते हुए: समीर! वो जो यूनिवर्सिटी का प्रोजेक्ट चल रहा है, उसके लिए वो सोनिया जी आयेंगी, वो यूनिवर्सिटी में मैंनेजमेंट में हैं, वो उस प्रोजेक्ट के बारे में कुछ समझायेंगी, वो समझ लेना उनसे। मैं बैंक जा रहा हूं, आज पैसे जमा करवा हीं दूंगा अगर कुछ समझौता हुआ तो।
और अपूर्वा तुम वो (ये कहते हुए बॉस अपूर्वा की तरफ घूम गये) मिश्रा एंड संस का जो बिलिंग सॉफ्रटवेयर तैयार करना है, उसकी रूपरेखा तैयार कर लेना, फिर ऑफिस चलते ही, अपनी टीम के साथ उस पर जुट जाना, वो जल्दी ही पूरा करके देना है।
अपूर्वा: ओके बॉस!
बॉस: खूबसूरत लग रही है ये ड्रेस तुम पर, एकदम परी के जैसी लग रही हो।
अपूर्वा: थेंक्स बॉस!
बॉस ये कहकर बाहर चले गए और हम अपने-अपने कामों में लग गए।
मैं बार बार अपूर्वा को देख रहा था, पर वो तो अपने काम में इतनी मग्न हो गई थी कि जैसे यहां पर और कोई है ही नहीं।
मुझे बाहर से किसी के कदमों की आहट सुनाई दी तो मैं भी अपने काम में लग गया। तभी मैंम अंदर दाखिल हुई और हमें गुड मॉर्निग कहा।
गुड मॉनिंग मैम, मैंने और अपूर्वा ने एक साथ कहा।
मैम की नजर मुझपर ही थी और वो मेरे पास आकर खड़ी हो गई। उन्होंने अपनी जांघों को मेरे कंधे से सटा दिया और मेरे बालों में हाथ फिराने लगी।
अब धीरे धीरे मुझे भी समझ में आने लगा था कि मैम मुझसे कुछ चाहती है, पर फिर भी मैं अपना काम करता रहा और मैंने मैम की तरफ ज्यादा धयान नहीं दिया। थोडी देर बाद मैम अपूर्वा की तरफ गई और अपूर्वा को देखकर बोली:
मैम: वॉव अपूर्वा ! आज तो तुम एकदम परी लग रही हो।
मैम की बात सुनकर अपूर्वा शरमा गई।
मैम (अपूर्वा को शरमाते देखकर): सच कह रही हूं। बहुत ही खूबसूरत लग रही हो।
अपूर्वा: मैं आज सुबह से ही जो भी मुझे देख रहा है, वो ही सीधा यही कहता है कि एकदम परी लग रही हो। अब मैं इतनी भी सुंदर नहीं हूं।
मैम: किसने कह दिया तुम्हें कि तुम सुंदर नहीं हो।
मैम: समीर, क्या अपूर्वा सुंदर नहीं है।
मैं: मैम, अब इसको इतनी बार तो बता चुका हूं कि तुम बहुत ही ज्यादा सुंदर हो, पर ये मानती ही नहीं है। और मैम इसे पता तो है कि ये बहुत सुंदर है, पर ये हमारे मजे लेने के लिये कह रही है।
मेरी बात सुनकर हम तीनों हंस दिये।
मैम: ठीक है, मैं चाय लेकर आती हूं। (ये कहकर मैम बाहर चली गई)।
थोड़ी देर बाद मैम चाय लेकर आ गई और दो कप में मुझे और अपूर्वा को दी और एक कप खुद लेकर वहीं चेयर पर बैठ गई।
मैं और अपूर्वा मैम की तरफ ही मुंह करके बैठे थे।
मैम: समीर, घर पे कौन कौन है, तुम्हारे।
मैं: मैम यहां पर तो अकेला ही रहता हूं।
मैम: क्या। फिर घरवाले कहां रहते हैं।
मैं: गांव में।
मैम: तुम यहा के रहने वाले नहीं हो क्या?
मैं: नहीं मैम, मैं हरियाणा का रहने वाला हूं, रोहतक से।
मैम: ओह, तो ये बात है (और मैम कुछ सोचने लगी)।
मैम: यहां पर कहां रहते हो।
मैं: मालवीय नगर में।
मैम: हूं, बढ़िया एरिया है, एकदम शांत, साफ-सुथरा। तुम्हारे सर को कहती रहती हूं कि उधर ही ले लो एक घर, पर सुनते ही नहीं हैं।
अपूर्वा: मैम बापू नगर भी बढ़िया एरिया ही है, एकदम साथ सुथरा, और शहर की सभी लोकेशन पे फिट बैठता है।
मैम: वो तो है, पर यहां पर शोर बहुत ज्यादा रहता है।
अपूर्वा ने चाय खत्म की और बाथरूम चली गई।
अपूर्वा के जाते ही मैम ने अपनी चेयर मेरे पास की और मेरे हाथ को पकड़ कर अपनी जांघों पर रखकर उपर से अपना हाथ रख दिया। मैम की इस हरकत से मैं बैचेन हो गया। अपूर्वा किसी भी वक्त वापिस आ सकती थी।
मैम: समीर, मैं तुम्हें कैसे लगती हूं।
मैं: मैम आप बहुत अच्छी हैं।
मैम: मेरा मतलब सुंदर लगती हूं या नहीं।
मैं: हां, मैम आप बहुत सुंदर हो। (मैंने अपने हाथ को वापिस खींचना चाहा, पर मैम ने मेरे हाथ को अपने हाथ से कसकर पकड़ लिया)।
मैम: जब मैं तुम्हें सुंदर लगती हूं तो फिर हाथ क्यों छुड़ा रहे हो।
मैं: नहीं मैम, मेरे कहने का मतलब वो नहीं था, आप सुंदर हो, पर आप मेरी मैम हो।
मैम: तो क्या हुआ, मैम ही तो हूं, कोई मां थोड़े ही हूं।
मैं: मैम, प्लीज हाथ छोडों, अपूर्वा ने देख लिया तो प्रोब्लम हो जायेगी।
मैम: ओह! तो बच्चू अपूर्वा से चक्कर चल रहा है तेरा। (और मैम ने अपना दूसरा हाथ मेरे गालों पर रख दिया।

तभी बाथरूम से फलश के चलने की आवाज आई। मैम वापिस मुझसे दूर होकर बैठ गई और अपनी चाय खत्म की। मेरी चाय भी खत्म हो चुकी थी। मैंने खाली कप मैम को पकड़ा दिया। मैम ने मेरा हाथ पकड़ लिया, तभी बाथरूम का दरवाजा खुला तो मैम ने मेरा हाथ छोड़कर कप मुझसे ले लिया। और वापिस वहीं पर आराम से बैठ गई। अपूर्वा वापिस आकर अपनी चेयर पर बैठ गई। मैम थोड़ी देर में कप उठाकर बाहर चली गई। मैं और अपूर्वा अपने काम में बिजी हो गए।
लगभग 2 बजे के आसपास सोनिया मैम आ गई। सोनिया मैम कोई 40-45 साल की औरत थी, उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी। उनका रंग भी थोड़ा सांवला था, पर नयन नक्श काफी तीखे थे। साड़ी में से उनका बाहर को निकला हुआ पेट झलक रहा था। पेट बाहर को निकला होने के कारण उनके बूब्स का सही साइज मालूम नहीं हो पा रहा था। सोनिया मैम आकर चेयर पर बैठ गई। मैम (बॉस की वाइफ) हमारे लिए चाय बना लाई।
सोनिया मैम: सर जी नहीं हैं क्या?
अपूर्वा: वो किसी काम से बैंक गये हुए हैं, समीर जी को प्रोजेक्ट के बारे में समझने को कह गये हैं।
सोनिया मैम (मेरी तरफ मुखातिब होते हुए): आप हैं समीर जी।
मैं: जी सोनिया मैम जी।
सोनिया मैम (चाय पीते हुए): ओके, पहले चाय खत्म करते हैं, फिर काम के बारे में बातें करते हैं।
मैं: ओके मैम।
और फिर हम सभी चाय पीने लग गए। मैम चाय देकर वापिस चली गई थी।
चाय पीने के बाद सोनिया मैम में प्रोजेक्ट के बारे में इंस्टरक्शन दिये और एक घण्टे बाद चली गई।
4 बजे के आसपास बॉस भी बैंक से आ गये।
ळमने बॉस से पूछा कि क्या हुआ तो बॉस ने कहा कि अभी कुछ टाइम लग रहा है, वो नेगोसियेट करने में आना कानी कर रहे हैं, तो हो सकता है 4-5 दिन और लग जाये। बॉस की बात सुनकर अपूर्वा का चेहरा मुरझा गया।
मैं: कोई बात नहीं बॉस, आराम से मामला सुलझाओ। जितने कम में हो सके मामला सैट करना।
बॉस: कोशिश तो यही है कि कम से कम देने पड़े।
बॉस: अच्छा वो सोनिया मैडम आई थी क्या।
मैं: हां बॉस वो अभी एक घण्टा पहले ही गई हैं।
बॉस: सब अच्छी तरह से समझ लिया ना। ये सरकारी आदमी ऐसे ही होते हैं, बाद में कहने लगेगे कि हमने तो आपको समझा दिया था क्या करना है, अब आप ने काम नहीं किया।
बॉस: खामखां में टेंडर कैंसिल कर देंगे।
मैं: नहीं बॉस, बढ़िया तरह समझ लिया। कोई दिक्कत नहीं आयेगी।
बॉस बाहर चले गये। साढ़े चार बजे मैंने अपूर्वा को कहा कि मैं अपनी बाइक में पंक्चर लगवा लेता हूं, तब तक तुम अकेली बैठी काम करो। और मैं बाइक में पंक्चर लगवाने चला गया।
पंक्चर वाला पास में ही था कोई 100-150 मीटर पर। मैंने वहां पर पंक्चर लगवाया, तब तक पांच बज गये थे। पंक्चर लगवाकर मैं वापिस ऑफिस आ गया। अपूर्वा अपनी स्कूटी निकाल ही रही थी। मैं अंदर से अपना हेलमेट उठा कर लाया और बॉस को गुड इवनिंग बोलकर बाहर आ गया।
अपूर्वा बाहर अपनी स्कूटी को स्टैंड लगा कर उस पर बैठी थी।
मैं: चलना नहीं क्या, तुम तो ऐसे बैठ गई जैसे किसी का इंतजार चल रहा हो।
अपूर्वा: हां जी, आपका ही इंतजार हो रहा था।
मैं: ओहो, स्टैंड लगाकर।
अपूर्वा: आज कहीं घूमने चले।
मैं: अब।
अपूर्वा: और क्या, पांच ही तो बजे हैं, कुछ देर पार्क में बैठते हैं ना।
मैं: और तुम्हारी मम्मी की डांट कौन खायेगा फिर।
अपूर्वा: कुछ नहीं, कह दूंगी कि फ्रेंड के साथ घूमने चली गई थी।
मैं: अच्छा जी, चलो तो।
और हम नेहरू गार्डन में आ गये। हमने गाड़ियां गार्डन के बाहर पार्क की और अंदर की तरफ चल दिये। अचानक अपूर्वा ने मेरा हाथ पकड़ लिया।
(अरे मेरा मतलब ये नहीं है कि बांह को पकड़ लिया, जैसे लड़का लड़की हाथ में हाथ डालकर घूमते हैं, वैसे मेरे हाथों की उंगलियों में अपने हाथों की उंगलियां फंसा ली, आप भी कुछ भी सोच लेते हैं)।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:11 PM,
#8
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--8
गतांक से आगे ...........
मैंने अपूर्वा की तरफ देखा, उसका चेहरा नीचे था और वो मंद मंद मुस्करा रही थी।
पार्क में सभी मनचलों की नजरें हमें (मतलब अपूर्वा को) ही घूर रही थी। अपूर्वा ने अपना हाथ मेरे हाथ में पूरी तरह डालते हुए अपना सिर मेरे कंधे पर रख दिया और हम इसी तरह पार्क में टहलने लगे। नेहरू पार्क में बच्चों के मनोरंजन के लिए ट्रेन चलती है, जिसमें 10 रूप्ये की टिकट लगती है।
अपूर्वा: चलो ना ट्रेन में सवारी करते हैं।
मैं: अरे वो बच्चों की ट्रेन है।
अपूर्वा: वो देखो, वो अंकल आंटी भी तो बैठे हैं, चलो ना।
मैं: ओके। (और हम ट्रेन की टिकट लेकर ट्रेन में बैठ गये)
हमारे सामने दो पति-पत्नी बैठे थे (ऐसा मुझे लगा कि वो पति-पत्नी ही होने चाहिए, बाकी तो पता नहीं थे भी या नहीं)।
तभी ट्रेन ने सीटी दी और चल पड़ी। ट्रेन चलते ही, पत्नी ने अपना सिर पति के कंधों पर रख लिया और अपना एक हाथ उसकी कमर के पीछे से पेट पर कस लिया। पति पहले तो थोड़ा झिझका हमारे सामने बैठे होने की वजह से, पर फिर उसने भी अपना एक हाथ पिछे से ले जाकर अपनी पत्नी की जांघों पर रख दिया।
अपूर्वा मेरे हाथ को अपने हाथों में लेकर बैठी थी और हमारे हाथों को अपनी जांघों पर रखा हुआ था और अपने दूसरे हाथ से मेरे हाथ को सहला रही थी। तभी ट्रेन अचानक रूक गई, हमने देखा कि फाटक खुली हुई थी और कुछ बच्चे उसे पार कर रहे थे। बच्चों के फाटक पार करने पर फाटक बंद कर दी गई और ट्रेन वापिस चल पड़ी। अपूर्वा ने भी अपना सर मेरे कंधों पर रख दिया। ट्रेन सीटी बजाते हुए अपना सफर तय कर रही थी।
अपूर्वा के इस तरह बिहेव करने पर मुझे आश्चर्य भी हो रहा था, परन्तु खुशी भी बहुत हो रही थी, क्योंकि वो थी ही इतनी प्यारी की कोई भी उसके साथ को मचल उठे और मुझे तो वो बिन मांगे ही मिल रहा था।
परन्तु कहते हैं ना कि बिन मांगी चीज की ज्यादा कद्र नहीं होती, तो मैं भी अपूर्वा के इस बिहेवियर को केवल अच्छे दोस्त के रूप में ही देख रहा था। मेरे मन में उसके लिए कोई गंदे विचार नहीं थे।
मैंने अपना दूसरा हाथ अपूर्वा के हाथ के उपर रख दिया जो मेरे पहले हाथ को सहला रहा था। अपूर्वा ने एक बार अपना सिर उठाकर मेरी तरफ देखा, पर मैं अपने हाथों की तरफ ही देख रहा था, तो अपूर्वा ने वापिस अपना सिर मेरे कंधे पर रख दिया।
थोड़ी देर में ट्रेन वापिस उसी स्टेशन पर आकर रूक गई, जहां से हम बैठे थे। मैंने धीरे से अपूर्वा के कान में कहा, स्टेशन आ गया, चलो अब उतरना है।
अपूर्वा मेरे हाथ को वैसे ही अपने हाथ में लिए हुए उठ गई और हम ट्रेन से बाहर आ गये ।हम पार्क में टहलते हुए फांउटेन के पास जाकर बैठ गये। फाउंटेन के कारण वहां का वातावरण काफी सुहाना था और भीनी भीनी खूशबू के साथ ठंडा ठंडा महसूस हो रहा था। वहां पर बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। अपूर्वा मेरे हाथ को खींचते हुए वहीं पर बैठ गई और उसके साथ मैं भी वहीं पर घास पर बैठ गया।

बैठते ही अपूर्वा ने अपना सिर वापिस मेरे कंधे पर रख दिया।
अपूर्वा: मैं कल नहीं आ पाउंगी।
मैं: क्यों?
अपूर्वा: वो मम्मी के साथ दौसा जाना है।
मैं: क्यों, लड़का देखने जा रही हैं क्या तेरे लिए।
अपूर्वा: आप भी ना! वो मेरी मौसी जी रहती हैं, वहां पर उनकी लड़की की सगाई है, तो उसमें जा रहे हैं। दो बाद आउंगी।
मैं: तो तुमने बॉस से छुट्टी के लिए तो कहा ही नहीं।
अपूर्वा: कह दिया, जब आप बाइक में पंक्चर लगवाने गए थे, तब कह दिया था।
मैं: ये आप-आप क्या लगा रखा है, मैं तुम्हें तुम कह रहा हूं, और तुम हो कि आप आप लगा रखा है।
अपूर्वा: मुझे आपको तुम कहना अच्छा नहीं लगता, मैं तो आप ही कहूंगी।
तभी अपूर्वा का फोन बजने लगा। अपूर्वा ने कॉल रीसीव की।
अपूर्वा: थोड़ी देर में आ रही मम्मी (और हतना कहकर फोन रख दिया)।
मैं: क्या कह रही थी, आंटी।
अपूर्वा: पूछ रही थी अभी तक आई क्यों नही?
मैं: तो अब हमें चलना चाहिए।
अपूर्वा: क्यों, कोई इंतजार कर रही है घर पर।
मैं: हम तो अलहड़ बंदे हैं, हमारा कोई इंतजार नहीं करता।
अपूर्वा: तो फिर थोड़ी देर और बैठते हैं ना।
अब अपूर्वा का एक हाथ मेरी सातल पर हल्के हल्के घूम रहा था (अरे यार वो मुझे गरम नहीं कर रही थी, वो तो बस ऐसे ही बैठे हुए प्यार से सहला रही थी, आप लोग भी ना कुछ भी सोचने लग जाते है)।
मुझे अपूर्वा की गर्म सांसे अपने गालो पर महसूस हो रही थी क्योंकि उसने अपना सर मेरे कंधे पर जो रखा हुआ था।
मैंने अपने चेहरे को थोड़ा था अपूर्वा की तरफ घुमाया तो उसके होंठ मेरे गालों पर टच होने लगे। मैंने कुछ देर अपने चेहरे को वैसे ही रखा तो अपूर्वा ने मेरे गालों पर हल्के से एक किस कर दी।
तभी मेरा फोन बज उठा, मुझे थोडा सा घूसा आया, पर फिर फोन में से आती हुई आवाज ने बताया कि मोम का फोन है तो मेरा गुस्सा गायब हो गया (मेरे पास नोकिया 5230 है, जिसमें कॉल आने पर नम्बर जिस नाम से सेव होता है, रिंग के साथ वो नाम भी बोलते हैं।)
मैंने फोन उठाया।
मैं: हाय मॉम!
मॉम: मैं अभी मरी नहीं हूं, जो हाय हाय कर रहा है।
मैं: ओह मॉम, आप भी ना।
मॉम: कैसा है मेरा बेटा, कहीं कमजोर तो नहीं हो गया, कितनी मरी मरी आवाज आ रही है, कुछ खाता भी है या नहीं।
मैं: मॉम मैं बिल्कुल ठीक हूं, आप खामखां परेशान होती हैं।
मॉम: हां, मुझे ही पता है, कैसा ठीक है। जब भी आता है, इतना पतला होके आता है।
मॉम: अच्छा, वो तेरे शादी के लिए रिश्ता आया हुआ है, तु 2 दिन के लिए घर आजा। बता कब आ रहा है, ताकि मैं उनको टाइम बता दूं कि कब आना है, तेरे को देखने के लिए।
मॉम: लड़की मैंने देख ली है, एकदम सुशील और खूबसुरत है, तेरे से ज्यादा पढ़ी लिखी भी है। और मुझे पंसद भी है।
(दोस्तों मैं किन्हीं कारणों से केवल आठवीं तक ही पढ़ा हूं।) अब आप सोचोगे कि आठवीं पढा लिखा सॉफ्रटवेयर इंजीनियर कैसे बन गया, अब तक फेंकता आ रहा था कि सॉफ्रटवेयर इंजीनियर हूं, अब खुल गई ना पोल।
पर मैं आपको बता दूं कि आठवीं में मेरे मार्क 92 प्रतिशत थे। वो तो किन्हीं कारणों से आगे पढ़ा नहीं। पर बाद में कम्प्यूटर सीख लिया और फिर तो पीछे मुड़कर नहीं देखा। मैं आठवीं पढा हूं, इसलिए इतनी छोटी सी कम्पनी में काम करता हूं, क्योंकि बडी कम्पनी के लिए कम से कम ग्रेजुएट तो होना ही चाहिए।
मैं: फिर तो हो गई शादी, जब उसे पता चलेगा कि मैं आठवीं पढा हूं तो वो खुद ही मना कर देगी।
मॉम: ऐसे कैसे कर देगी, क्या हुआ आठवीं पढ़ा है तो कम्प्यूटर इंजीनियर है मेरा बेटा।
मेरे मुंह से शादी की बात सुनकर मुझे अपूर्वा के चेहरे पर थोड़ी चिंता के भाव दिखाई दिए। मैंने फोन की तरफ इशारा करते हुए अपूर्वा से कहा कि मॉम है, मेरी शादी की बात कर रही है। अपूर्वा थो़ड़ी फिकी मुस्कान मुस्करा दी और मैं वापिस फोन पर बात करने लगा।
मैं: जब उसे पता चलेगा ना कि लड़का आठवीं ही पढा हुआ है तो फिर आप चाहे इंजीनियर क्या पायलेट भी बताते रहना, वो यकीन ही नहीं करेगी।
मॉम: बस तुम घर आ जाओ मुझे कुछ नहीं मालूम, और जल्दी से बताना कि कब आ रहे हो।
मैं: क्या, फायदा मॉम, खामखां दो दिन के पैसे भी जायेंगे, और उनकी जो आवभगत होगी, वो भी बेकार जायेगी, मैं पहले ही कह रहा हूं।
मॉम: ज्यादा दादा मत बन, और जल्दी से घर आ जा।
मैं: ओके! मॉम मैं ऑफिस में बात करके बताता हूं, कब छृट्टी मिलेगी।
मॉम: जल्दी आना है, कहीं बहाने बनाने शुरू कर दे।
मैं: ओके मॉम! जल्दी ही आ जाउंगा।
मॉम: ओके बाये बेटा, और ठीक से खाना टाइम पे खा लेना, अगर अबकी बार फिर से कमजोर होके आया तो मारूंगी बहुत तुझे।
मैं: ओके मॉम बाये। (ऑर फोन कट हो गया।)
अपूर्वा: क्या हुआ, किसकी शादी हो रही है।
उसके चेहरे और आवाज से लग वो थोड़ा परेशान लग रही थी।
मैं: अरे, किसी की नहीं, वो मॉम कह रही थी कि मेरे लिये रिश्ता आया है। इसलिए घर बुला रही हैं।
अपूर्वा: तो, कब जा रहे हो। आपके मन में तो लड्डू फूट रहे होंगे शादी के।
अपूर्वा की आंखें कुछ नम सी हो गई थी, और आवाज भारी भारी हो गई थी।
मैं: अरे अभी से किसको शादी करनी है, वहां जाकर मना कर दूंगा। मॉम का भी शौक पूरा हो जायेगा, लड़की देखने का, बस।
मेरी बात सुनकर अपूर्वा मुस्करा दी।
अपूर्वा: ओके! तो अब चले, काफी टाइम हो गया।
मेरा मन तो कर रहा था कि ऐसे ही अपूर्वा के साथ बैठा रहूं, पता नहीं क्यों पर मैं उससे दूर नहीं होना चाहता था।
मैं अपमने मन से उठ खड़ा हुआ और मेरे साथ अपूर्वा भी खड़ी हो गई। हम वापिस पार्क से बाहर आ गये।
मैंने अपनी बाइक स्टार्ट की और अपूर्वा को बायें बोला। अपूर्वा मेरे पास आई और अपना हाथ आगे बढ़ा दिया। मैंने उसके हाथ को थामकर हैंड सेक किया और अपूर्वा ने मेरे माथे पर प्यारी सी किस की और बाये कहकर अपनी स्कूटी स्टार्ट की औरएक दूसरे को बाये बोलकर अपने अपने घर के लिए चल दिये।

घर पहुंचकर मैंने बाइक को खड़ा किया और उपर आ गया। हल्का हल्का अंधेरा हो गया था।
उपर आते ही मेरे कानों में, गुस्से भरी आवाज पड़ी, अभी तक कहां थे, कब से वेट कर रही हूं।
मैंने आवाज की तरफ देखा तो सोनल खड़ी थी। उसने अपने दोनों हाथ अपनी कमर पर रखे हुए थे और अपनी बड़ी बड़ी आंखें मेरी तरफ निकालती हुई मुझसे पूछ रही थी।
सोनल: कहां थे अब तक, मैं आधे घण्टे से यहां वेट कर रही हूं। और अपना मोबाइल नम्बर दो। नम्बर होता तो फोन करके ही पूछ लेती।
मैं: अरे तो नम्बर तो आंटी से ले लेती, आंटी के पास तो मेरा नम्बर है ही।
सोनल: (अपने मोबाइल को छेड़ती हुई) चलो अब जल्दी से अपना नम्बर बोलो।
मैने सोनल को अपना नम्बर बताया और उसने एक मिस कॉल मेरे नम्बर पर दी कन्फर्म करने के लिए।
मैंने भी उसका नम्बर अपने मोबाइल में सेव कर लिया।
मैं: कोई खास काम था।
सोनल: (गुस्सा होते हुए) हां, बहुत खास काम है, पहले अंदर चलो तब बताती हूं।
मैं: ओके।
मैं लॉक खोलकर अंदर आ गया। सोनल भी मेरे पीछे पीछे अंदर आ गई। मैंने फ्रिज में से पानी पीया और सोनल को पानी के लिए पूछा।
सोनल: नहीं मुझे पानी नहीं, आज मुझे कुछ और पीना है।
मैं: और क्या पीओगी, बताओ, अभी हाजिर करते हैं।
सोनल: मैं अपने आप ले लूंगी, आप इधर आकर बैठ जाओं।
सोनल के इस तरह के व्यवहार से मैं थोडा विचलित था।
वो मेरे बैठ पर बैठी थी। मैं भी बैठ पर जाकर बैठ गया और अपने शूज उतारकर आराम से बैड पर लेट गया।
सोनल ने मेरी तरफ देखा और फिर वो भी कोहनियों के बल लेट गई। उसके आधे पैर बैड से बाहर थे तो उसने अपने पैरों को गुटनों से मोड कर उपर उठा लिया।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:11 PM,
#9
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--9
गतांक से आगे ...........
उसने पजामी और टी-शर्ट पहन रखी थी। उसके कोहनियों के बल लेटने से मुझे उसके बूब्स के बीच की गहराई साफ दिखाई देने लगी। एक बार तो मेरी नजर उधर ही अटक गई, और मेरे पप्पू ने पेंट के अंदर अंगडाई लेनी शुरू कर दी। परन्तु फिर मैंने अपनी नजर हटाकर उसके चेहरे पर जमा दी। वो मुझे ही देख रही थी।
मैं: अब बोलो क्या जरूरी काम था।
उसके चेहरे पर हल्का हल्का गुलाबीपन झलक रहा था और उसकी आंखों में हल्के हल्के लाल डोरे दिखाई दे रहे थे।
सोनल: समीर, अगर मैं तुमसे कुछ पूछूं तो, तुम बुरा तो नहीं मानोगे।
मैं: अरे, मैं क्यों बुरा मानूंगा, हां अगर ऐसी बात हुई जो मैं नहीं बता सकता तो फिर नहीं बताउंगा। और अगर मैं नहीं बताउंगा तो बुरा तो तुम मनोगी फिर।
मेरी बात सुनकर सोनल ने अपने हाथ जोकि अब तक उसकी थोड़ियों को संभाले हुए थे को मेरी सातलों से सटाते हुए थोड़ा आगे कर दिये। वो इस तरह से लेटी थी कि मेरी और उसकी शेप थोड़े टेढे टी (इंग्लिश अक्षर) के समान थी।
सोनल ने अपना एक हाथ मेरे पेट पर रख दिया और मेरी शर्ट के बटन से खेलने लगी।
उसकी उस हरकत से मुझे सुबह वाली घटना याद आ गई, जब मैं उसकी स्कूटी पर ऑफिस गया था।
सोनल का हाथ मेरी शर्ट के बीच की जगह से मेरी बनियान को उपर खींचने लगा।
मैं: तुम्हें मेरे पेट और बनियान से क्या दुश्मनी है, इसको ठीक से रहने ही नहीं देती, सुबह ऑफिस जाते समय भी ऐसे ही।
सोनल ने अपने दूसरे हाथ की उंगली अपने हाेंठों पर रखते हुए कहा: श श्श्श्शााश्सससससस।
मैं उसकी इस हरकत से हैरान रह गया।
सोनल ने मेरी शर्ट का नीचे का एक बटन खोल दिया और शर्ट को साइड में करके मेरी बनियान को उपर कर दिया और मेरी नाभि पर अपनी उंगली फिराने लगी। (बचपन से कसरत करने के कारण मेरे शरीर पर सिर, चेहरे और जांघो को छोड़कर और कहीं बाल नहीं हैं, एकदम चिकना बदन है)।
सोनल के इस तरह उंगली फिराने से मुझे गुदगुदी महसूस हो रही थी और मैं अपने हाथ से उसके हाथ को हटा रहा था, पर वो बार बार वापिस अपना हाथ मेरे पेट पर रखकर मेरी नाथि पर अपनी उंगली फिराने लग जाती। उसकी इन हरकतों से मेरे शरीर में सिहरन दौड़ रही थी। सोनल की आंखें एकदम से लाल नजर आ रही थी और उसकी गरम सांसे मुझे अपने पेट पर महसूस हो रही थी। फिर उसने अपनी उंगली को थोड़ा नीचे करते हुए मेरे पेट पर नाभि से नीचे वाले भाग पर फिराने लग गई।
मैं: सोनल, क्या कर रही हो, गुदगुदी हो रही है, मान जाओ ना।
पर वो मेरी बात सुन ही नहीं रही थी। अब सोनल अपनी उंगली मेरी जींस के किनारों के साथ साथ फिरा रही थी। उसकी इस हरकत से मेरे पप्पू ने हरकत करनी शुरू कर दी थी। धीरे धीरे मेरा पप्पू अपना सिर उठाने लग गया था।
सोनल धीरे धीरे अपनी उंगली को मेरी जींस के किनारों के साथ साथ मेरे पेट पर घुमा रही थी और मेरे पूरे शरीर में सिहरन दौड़ रही थी। मेरा पेट हल्के हल्के उछल रहा था।
मैंने सोनल की तरफ देखा तो वो मंद मंद मुस्करा रही थी। उसने मेरी तरफ देखा और आंख मार दी। मैं भी मुस्करा दिया।
तभी वो अपनी उंगली को मेरी जींस के थोड़ा सा अंदर करते हुए फिराने लगी, अब उसकी उंगली मेरे सेंसेटिव पार्ट (लिंग के उभर वाला उभरा हुआ भाग) पर टच हो रही थी। उसकी इस हरकत से मेरा पप्पू एक दम से चौक्कना होते हुए तन कर खड़ा हो गया।
मैं घबरा रहा था कि कहीं सोनल को ना पता चल जाये मेरे मन में गंदे ख्याल आ रहे हैं।
मैंने अपना सिर थोड़ा सा उपर उठाकर देखा तो मेरी पेंट में थोड़ा सा उभार बन गया था, जिससे साफ पता चल रहा था कि मेरा पप्पू सतर्क हो चुका है। पेंट के उपर से हलके हलके झटके साफ महसूस हो रहे थे।
तभी अचानक सोनल अपनी जगह से उठी और मेरी टांगो के बीच में आकर उसी तरह से लेट गई। अब फर्क सिर्फ इतना था कि उसके बूब्स मेरी जांघों पर दबे हुए थे, जिन्हें मेरा पप्पू पूरी तरह से महसूस कर रहा था और ज्यादा तेज झटके खाने लगा था, मानों कह रहा हो कि मुझे बाहर निकालो, अंदर मेरा दम घूट रहा है।
सोनल ने अपनी दोनों कोहनियों मेरे पेट के दोनों तरफ रख दी और अपना चेहरा मेरी छाती पर रखकर लेट गई।
उसकी इस हरकत से तो मैं एकदम हैरान हो गया, और थोड़ा घबरा भी गया कि ये क्या कर रही है।
मैं: सोनल ये क्या कर रही हो, उठो। मुझे प्रोब्लम हो रही है।
सोनल ने अपना सिर मेरी छाती पर से उठाते हुए असमझस से भावों के साथ मेरी आंखों में देखने लगी। मैंने चेहरे के इशारे से उससे पूछा क्या चाहती है? तो वो मुस्करा दी और अपना चेहरा वापिस मेरी छाती पर रख लिया।
मेरा लिंग बहुत ज्यादा कठोर हो गया था, परन्तु उसे फेलने के लिए ज्यादा जगह न मिलने के कारण दर्द कर रहा था।
मैं: ओके बाबा! अब उठो, मुझे कपड़े चेंज करने दो। इन कपड़ों में मुझे प्रोब्लम हो रही है।
सोनल: ऊंहूंहूहूहू!
मैं: क्या ऊंहूूहूूहूह।
सोनल ने अपना चेहरा उपर उठाया और मेरी तरफ देखते हुए, मैं अपने आप चेंज कर दूंगी, आप बस लेटे रहो। मुझे आपके उपर लेटकर बहुत सुखद अहसास हो रहा है। ऐसा लग रहा है कि मैं बस हमेशा ऐसे ही आपके साथ लेटी रहूं।
मैं: ये क्या पागल पन है सोनल! आंटी को पता चल गया तो प्रॉब्लम हो जायेगी।
सोनल: नहीं पता चलेगा।
मैं: अरे चलेगा क्यों नहीं।
सोनल: अब जबरदस्ती बताओगे क्या। कह दिया ना कि नहीं पता चलेगा।
और अपने हाथों को मेरे सिर पर रखकर मेरे बालों को सहलाने लगी।
अब वो कुछ उपर हो गई थी जिससे उसके बूब्स मेरे पेट में चुभ रहे थे। उसके निप्पल एकदम तनकर कड़े हो गये थे।
मुझपर भी मदहोशी छोने लगी थी। और मेरी सांसे तेज होने लगी थी। मेरा लिंग जींस को फाडने को आ गया था। मुझे बहुत दर्द हो रहा था।
मैं: एकबार उठो मुझे बहुत प्रॉब्लम हो रही है। (और मैंने उसे पकड़कर साइड में लुढका दिया)।
वो दूसरी तरफ लुढकर आराम से लेट गई और मुझे देखने लगी।
मैं: अपना चेहरा दूसरी तरफ करो।
सोनल: क्यों?
मैं: मैंने कहा ना कि करो।
सोनल: ओके!
और उसने मेरी शर्ट को पकड़ लिया और अपना चेहरा दूसरी तरफ कर लिया। शायद उसे डर था कि कहीं मैं उसका चेहरा दूसरी तरफ करवा कर भाग ना जाउं।
मैंने जल्दी से बैठ कर जींस की जीप खोली और अपने पप्पू को अंडरवियर के अंदर एडजेस्ट किया।
मैं: प्लीज छोड़ो ना, मैं कपड़े चेंज कर लेता हूं।
मेरा इतना कहते ही उसने मुझे दूसरे हाथ से भी पकड़कर वापिस बैड पर गिरा दिया।
मैं (थोड़ा गुस्सा होते हुए): छोड़ो मुझे, क्या बदतमीजी है ये।
मेरी बात सुनते ही सोनल एकदम से उठी और मेरे उपर चढकर बैठ गयी। उसके कुल्हे मेरी जांधों पर जा टिके और उसके हाथ मेरी छाती पर।
उसने अपने कुल्हों के मेरी जांघों पर धीरे धीरे घिसना चालू कर दिया, जिससे मैं पूरी तरह से गर्म हो गया और मेरे मुंह से हल्की आह निकल गई।
सोनल ने मेरी आंखों में देखते हुए अपने नीचले हाेंठ को दांतों के नीचे दबा दिया और अपने कुल्हों को तेजी से मेरी जांघों पर घिसने लगी।
मुझे मेरा लिंग उसके कुल्हों के बीच में महसूस हो रहा था। मैं मदहोश होने लगा। ये मेरे साथ पहली बार था कि कोई लड़की मेरे इतने करीब आ चुकी थी कि वो मेरी जांघों पर बैठी हुई थी। मैं अब तक पूरी तरह वर्जिन था, कभी हैस्तमैथुन भी नहीं किया था। मेरे सभी दोस्तों मुझे उकसाते रहते थे गांव में, पर मैंने हमेशा खुद पर कंट्रोल रखा था।
सोनल ने मेरी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिये। मैंने उसके हाथों को पकड़ा तो उसने मेरे हाथों को एक तरफ झटक दिया। क्योंकि मुझपर भी मदहोशी छा चुकी थी, इसलिए मैं ज्यादा विरोध नहीं कर पा रहा था। धीरे धीरे करके सोनल ने मेरी शर्ट के सभी बटन खोल दिये और शर्ट को साइड में कर दिया। फिर वो हल्का सा उपर को उठी और मेरी बनियान को खींचकर अपने नीचे से निकाला, परन्तु मेरी बनियान थोड़ी सी उपर आकर अठक गई, क्योंकि वो मेरी पीठ के नीचे दबी हुई थी।
सोनल: थोड़ा उपर उठो।
मैं: नहीं, सोनल ये ठीक नहीं है।
मेरी बात सुनक सोनल जोर जोर से हंसने लगी।
उसको इस तरह हंसते देखकर मैं असमंझस में पड गया कि ये इसे क्या हो गया है, अब तक तो मेरी इज्जत उतारने लगी हुई थी और अब पागलों की तरह हंस रही है।
थोडी देर में जब उसकी हंसी कम हुई तो उसने हंसते हुए ही कहा।
सोनल: त--- तुम तो एकदम लड़कियों की तरह बातें कर रहे हो। और ऐसे बिहेव कर रहो है जैसे तुम्हारा बॉयफ्रेंड तुम्हारे साथ जबरदस्ती कर रहा हो।
उसकी बात सुनकर मैं थोड़ा सा झेंप गया।
मैं: तो ---- तो --- तुम तो मेरी गर्लफ्रेंड भी नहीं हो, फिर भी मेरे साथ जबरदस्ती कर रही हो।
सोनल: लगता है, अभी तक कुंवारे हों। आजतक किसी लड़की को नहीं छुआ है आपने। बहुत मजा आने वाला है मुझे तो।
मैं उसकी बात सुनकर थोड़ा घबरा गया, कि ये क्या करने वाली है आज।
सोनल ने थोड़ा उपर होते हुए अपने हाथ मेरी कमर के नीचे डालकर मुझे थोड़ा सा उपर उठाया और मेरी बनियान को उपर की तरफ खींच लिया।
वैसे तो वो कोई पहलवान नहीं थी, जो मेरे साथ जबरदस्ती करती, पर मेरे साथ पहली बार कोई लड़की इतनी आगे तक पहुंची थी तो मुझ पर मदहोशी छाई हुई थी, जिस वजह से मैं ज्यादा विरोध नहीं कर पा रहा था।
मेरी बनियान को उपर करने के बाद सोनल मेरे उपर लेट गई और मेरी आंखों में देखते हुए (जो मदहोशी के कारण थोड़ी सी बंद थी) अपने होंठ मेरे होंठो पर टिका। मैंने हल्का सा विरोध किया, पर उसने मेरे हाथों को अपने हाथों में फंसा कर जकड़ सा लिया और मेरे होठों को चूसने लगी। मैंने आजतक किसी लड़की को किस नहीं की थी, तो मुझे किस के बोर में ज्यादा मालूम नहीं था। बस इतना ही पता था कि होंठो पे किस की जाती थी।
सोनल बुरी तरह से मेरे होंठो को चूस रही थी, मानो उन्हें खा जायेगी। अचानक उसने अपनी जीभ मेरे होंठो पर फिरानी शुरू कर दी। उसकी इन सभी हरकतों से मेरे शरीर में करंट दौड़ने लगा था और मेरा लिंग फटने को हो गया था। मुझे लिंग में बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था।

सोनल मुझे किस करते हुए थोडी नीचे को सरक गई जिससे उसके बूब्स मेरी छाती में धंस गये। उसके निप्पल मुझे छाती में चुभ रहे थे। सोनल की जांघे मेरी जांघों पर सैट हो गई और वो अपनी जांघों को मेरी जांघों पर रगड़ने लगी। अब दर्द मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था। उसने अपने हाथ वापिस से मेरे सिर पर रख दिये थे और मेरे बालों को सहला रही थी। मेरे हाथ फ्री होते ही मैंने उसके गालों पर रख दिये और उन्हें सहलाने लगा।
सोनल मेरे उपर वाले होंठ को चूंस रही थी तो उसका नीचे वाला होंठ मेरे हाेंठो के बीच होने के कारण मैंने उसका रसपान करना शुरू कर दिया।
मेरी इस हरकत से शायद वो ज्यादा उतेजित हो गई जिस कारण और भी ज्यादा वाइल्ड तरीके से मेरे होंठों को चूसने लगी। उसने मेरे होंठों को हलका सा काट भी लिया था, जिससे मेरे होंठों में दर्द होने लगा था। अब मुझे सांस लेनी भी मुश्किल होती जा रही थी। मेरी सांस बुरी तरह से उखड़ चुकी थी।
मैंने अपने हाथों से उसके कंधों को पकड़ा और उसे नीचे बैड पर पटक दिया और जोर जोर से सांसे लेने लगा। वो भी हांफ रही थी। उसने अपना एक पैर मेरे पेट पर रखते हुए अपने एक हाथ को मेरे सीने पर फिराने लगी। मेरी सांसे अभी भी बहुत तेज चल रही थी। जब उसकी सांसे थोड़ी नॉर्मल हुई तो वो फिर से उठ बैठी और मेरी तरफ खा जाने वाली नजरों से देखने लगी। उसके आंखों में लाल डोरे तैर रहे थे और गाल एकदम लाल हो चुके थे। उसके बूब्स उसकी सांसों के साथ तेजी से उपर नीचे हो रहे थे।
क्रमशः.....................
Reply
06-09-2018, 01:11 PM,
#10
RE: Antarvasnasex बैंक की कार्यवाही
बैंक की कार्यवाही मजे लेकर आई--10
गतांक से आगे ...........
मेरी नजर उसके बूब्स पर जाकर अटक गई। जब सोनल ने देखा कि मैं उसके बूब्स को घूर रहा हूं तो उसने एक कातिल मुस्कान मेरी तरफ पास की और अपने निचले होंठ को अपने दांतो तले दबा लिया। अब मेरी सांसे कुछ कुछ नॉर्मल होनी शुरू हो गई थी।
सोनल उठकर मेरी जांघों के बीच आकर बैठ गई और फिर से अपनी उंगली को मेरे पेट पर फिराने लग गई। मेरे पेट में गुदगुदी हो रही थी। तभी उसने जींस के उपर से ही मेरे लिंग को पकड लिया। वो सही तरह से तो उसकी पकड में नहीं आया, परन्तु मेरे शरीर में एकदम करंट दौड़ गया। कुछ देर वैसे ही पकड़े रहने के बाद वो उसे धीरे धीरे सहलाने लगी। मुझे जहां पहले दर्द हो रहा था अब दर्द के साथ साथ मजा भी आने लगा। अचानक उसने मेरी बेल्ट को पकड़ लिया और खोल दिया और उसे खींचकर निकालने लगी पर मेरे नीचे दबी होने के कारण निकाल न सकी।
उसने बेल्ट वो वैसे ही छोड़कर मेरे जींस के किनारों से अपनी उंगली अंदर की तरफ डालकर फिराने लगी। मेरे पेट ने उछलना शुरू कर दिया। वो मंद मंद मुस्करा रही थी। और अपनी उंगली को मेरे पेडू पर फिरा रही थी। तभी अचानक ही उसने अपना मुंह मेरे पेट पर रख दिया। जैसे ही सोनल के होंठ मेरे पेट पर लगे मैं उछल पड़ा, सोनल खिलखिलाकर हंस पड़ी। मेरा शरीर ऐंठने लगा और मेरी कमर उपर उठ गई।
सोनल ने मौके का फायदा उठाकर मेरी बेल्ट निकाल दी। अब वो मेरे पेट को किस कर रही थी और अपना हाथ मेरी जांघो पर फिरा रही थी।
उसने कब मेरी जींस का हुक खोला मुझे पता ही नहीं चला। उसने अपनी जीभ मेरी नाभि में डाल दी, फिर से मेरी कमर उपर उठ गई। और उसने फिर से मौके का फायदा उठाया और मेरी जींस को नीचे सरका दिया। मेरी जींस जांघों से नीचे तक सरक चुकी थी। सिर्फ अंडरवियर ही मेरी इज्जत को ढके हुए था। जींस के नीचे सरकते ही मेरे लिंग ने थोडी चेंन की सांस ली और अंडरवियर के अंदर बंबू बनाकर झटके खाने लगा। अब दर्द कुछ कम हो रहा था।

मेरे पेट पर किस करते हुए सोनल धीरे धीरे नीचे की तरफ आने लगी और मेरे पेडू पर किस करने लगी। मेरे मुंह में से आहे निकलनी शुरू हो गई थी। मेरे हाथ उसके सिर में बालों को सहला रहे थे। तभी उसने अंडरवियर के उपर से ही मेरी लिंग पर किस की जिससे मेरे शरीर में एकदम करंट दौड़ गया। फिर उसने मेरे अंडरवियर के किनारों को पकड़ा और उसे धीरे धीरे नीचे सरकाना शुरू कर दिया। अंडरवियर मेरे लिंग पर आकर अटक गया। सोनल ने धीरे से मेरे लिंग को नीचे दबाकर अंडरवियर को भी नीचे सरका दिया। मेरा लिंग एकदम से उछलकर बाहर आ गया और उसके चेहरे के सामने झटकेखाने लगा। मेरे लिंग को देखकर वो सम्मोहित सी हो गई उसने अपना एक हाथ मेरे लिंग की जड़ में रखा और एकटक उसे निहारने लगी। तभी मेरे लिंग ने एक झटका खाया और उसके चेहरे पर टक्कर मार दी मानों उसे नींद से जगा रहा हो। सोनल जैसे नींद से जागी हो, उसने अपना दूसरा हाथ भी मेरे लिंग पर रख दिया। आनंद के मारे मेरी आंखें बंद हो गई। अचानक उसने मेरी लिंग की चमड़ी को पिछे करना चाहा तो मुझे मेरे लिंग में दर्द की एक लहर दौड़ गई और मैंने तुरंत उसके हाथ को पकड़ लिया।
मैं: दर्द होता है, ऐसे मत करो।
सोनल ने फिर से मेरे लिंग की चमड़ी को थोडा सा पीछे करने की कोशिश की पर वो नहीं हुई।
सोनल बहुत ही प्यार से मेरे लिंग को देखने लगी और एक पप्पी मेरे लिंग के सुपाड़े पर दे दी। जैसे ही उसने मेरे लिंग को चुमा मेरा शरीर अकड़ गया और सुपाडे पर कुछ बूंदे चमकने लगी। मैंने जब अपने लिंग की तरफ थोड़ा धयान से देखा तो मैं हैरान रह गया, कयोंकि आज से पहले कभी भी मेरा लिंग इतना ज्यादा मोटा नहीं हुआ था और लम्बा भी कुछ ज्यादा ही लग रहा था।
सोनल: हाउ स्वीट, अभी तक सील भी नहीं टूटी है। कितना प्यारा है, मन करता है कि खा जाउं।
मेरा लिंग ज्यादा गोरा तो नहीं है पर गोरा ही है। उसका सुपाडा एकदम गुलाबी होकर चमक रहा था।
सोनल: मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि तुम एकदम वर्जिन हो, तुमने कभी हस्तमैथुन भी नहीं किया है। मैं तो सोच रही थी कि अब तक एक दो को तो लुढका ही चुके होगे।
मन कर रहा है कि तुम्हें अपनी बाहों में भर लूं। और यह कहकर सोनल आगे को हुई और मेरे गले में अपने हाथ डालकर मुझपर लेट गई। मेरा लिंग उसके जांघो के नीचे दब गया।
सोनल मुझे मेरे चेहरे पर बेतहाशा चुमने लगी। वो मुझे ऐसे चूम रही थी मानों मैं फिर कभी उसे नहीं मिलने वाला और आज भी कितने इंतजार के बाद मिला हों।
उसे इस तरह मुझसे प्यार करते देख, मेरे दिल में भी प्यार उमड़ आया और मैंने उसके चेहरे को अपने हाथों में पकड़ा और अपनी आंखों के सामने करके थाम लिया। वो मुझे देखने लगी और मैं उसको। फिर उसने हरकत की और हमारे होंठ एक दूसरे में समा गए। वो बहुत ही प्यार से मेरे होंठों को चूस रही थी। तभी अचानक उसने अपनी जीभ बाहर निकाली और मेरे होंठो पर फेरने लगी और फिर मेरे होंठो पर अपनी जीभ का दबाव बनाने लगी मानों मेरे मुंह में डालने की कोशिश कर रही हो। मैंने मेरे होंठो को कस के भीच लिया।
सोनल (प्यार भरी नाराजगी दिखाते हुए): खोलो ना होंठो को।
मैंने बगैर होंठों को खोले हूं उूं हूं (नहीं) कहा। सोनल फिर से मेरे होंठो को चूसने लगी। अब मेरे होंठ दर्द करने लगे थे शायद सोनल के भी करने लगे थे। वो मुझपर से उठी और अपनी टी-शर्ट उतार दी।
उसके बूब्ब इतने प्यारे थे कि मैं उन्हें देखता ही रह गया। उसने अंदर ब्रा नहीं पहनी हुई थी।
उसने मेरे हाथ पकड़कर अपने बूब्स पर रख दिये। मैं धीरे धीरे उन्हें दबाने लगा। मैंने पहली बाहर किसी लड़की के बूब्स को छुआ था। वो एकदम रूई की तरह नर्म थे और पूरी तरह से तने हुए थे। मैंने उसके निप्पल को पकड़ कर हलका सा मसल दिया, वो एकदम तड़प उठी और उसके मुंह से आह निकल गई।
मेरा लिंग उसके कुल्हों पर दस्तक दे रहा था। धीरे धीरे वो आहे निकालने लगी। मैंने अपने हाथ उसकी कमर में डाल दिये और उसे बैड पर लिटा दिया।
अब सोनल नीचे और मैं उपर था। मैंने अपनी शर्ट और बनियान निकाल दी और फिर अपनी जींस और अंडरवियर को भी पैरों से अलग कर दिया।
सोनल मुझे देखकर लेटी हुई मुस्करा रही थी। मैं अपने कपड़े उतारकर सोनल के उपर आ गया और उसे अपनी बांहों में भर लिया। मेरा लिंग उसकी जांघों पर गड़ गया और उसकी योनी पर धक्के देने लगा। मेरे लिंग को कुछ गीला गीला महसूस हुआ। मैंने वापिस उठकर देखा तो सोनल की पजामी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और उसकी पेंटी साफ नजर आ रही थी।
सोनल को इतना गीला देखते ही मैं पागल सा हो गया और उसके बूब्स पर टूट पड़ा। मैंने अपना एक हाथ उसके दायें बूब्स पर रखा और बायें बूब्स को अपनी जीभ से सहलाने लगा। मैं उसके दायें बूब्स को अपने हाथ से मसल रहा था और बायें को जीभ से सहला रहा था। मेरी इन हरकतों से सोनल मचलने लगी और मेरे सिर को पकड़कर अपने बूब्स पर दबाने लगी। थोड़ी देर बाद उसने मेरे सिर को उठाया और अपने दूसरे बूब पर रख दिया। उसके हाथ लगातार मेरी कमर और सिर पर फिर रहे थे। मैने उसके निप्पल को मुंह में लेकर चुभला दिया। मेरी इस हरकत से सोनल के मुंह से एक तेज सिसकारी निकल गई और वो अपने पैरों को मेरे पैरों पर रगडने लगी। उसने अपना हाथ नीचे की तरफ किया और मेरी लिंग को पकड़कर अपनी योनी के उपर सैट कर दिया और नीचे से अपने कुल्हे उठा कर हल्के हल्के धक्के लगाने लगी। मैंने उसके निप्पल को अपने तालों में दबाकर हल्का सा काट लिया। सोनल के मुंह से एकदम दर्द भरी कराह निकली, पर उसने मुझे हटाया नहीं, बल्कि मेरी सिर को और तेजी से अपने बूब्स पर दबाने लगी। मैं धीरे धीरे नीचे की तरफ चलने लगा और उसके पेट को चूमने लगा। जैसे ही मेरी जीभ उसकी नाभि वाले स्थान पर लगी तो उसकी कमर हवा में उठ गई और वो मेरे सिर को नीचे धकेलने लगी। मैंने अपने चेहरे को उपर उठाया और उसकी तरफ देखा तो सोनल ने अपनी आंखें जोरों से बंद की हुई थी और उसके चेहरे पर सिकन सी दिखाई दे रही थी। जब मैंने थोडी देर तक कुछ नहीं किया तो सोनल ने अपनी आंखें खोली और मेरी तरफ देखने लगी मानों पूछ रही हो रूक क्यों गये।
मुझे कुछ न करता देखकर उसने मुझे पकड़ा और बैड पर पटक दिया और खुद मेरे उपर आ गई और मेरी जांघों के बीच में जाकर बैठ गई। उसने मेरे लिंग को अपने हाथों में पकड़ा जो लोहे की रोड की तरह सख्त था और अपने जीभ निकालकर मेरे सुपाड़े पर चमक रही बूंदों को चाट कर साफ कर दिया और फिर मेरे सुपाडे पर एक किस की और थोड़ा सा सुपाडा अपने होठों में ले लिया। सोनल ने मेरा आधा सुपाड़ा ही अपने होठों के बीच लिया था। मुझे लग रहा था कि जैसे मैं इस दुनिया में नहीं हूं। मेरी कमर हवा में उठ गई थी, सोनल ने वैसे ही सुपाड़े को होठों के बीच दबाये हुए मेरे चेहरे की तरफ देखा। मेरी आंखें मजे के मारे आधी बंद थी। फिर सोनल ने मेरे पूरे सुपाडे को अपने मुंह में ले लिया और मुंह में लिये लिये ही अपनी जीभ उस पर फिराने लगी। मुझे लगा कि मैं बस आनंद के मारे मर ही जाउंगा।
(अगर मुझे पहले पता होता कि सैक्स में इतना मजा आता है तो मैं अब तक पता नहीं कितनी ही लड़कियों को लुढका चुका होता)
मैंने अपने हाथों को सोनल के सिर पर रख दिया और उसे नीचे की तरफ दबाने लगा। सोनल ने मेरे हाथों को दूर झटक दिया और धीरे धीरे मेरे सुपाड़ों को अपने मुंह में अंदर बाहर करने लगी। अब मुझसे सहन नहीं हो पा रहा था इतना ज्यादा आनंद, आज जिंदगी में पहली बार मैंने जाना था कि सैक्स में इतना ज्यादा मजा आता है। अचानक सोनल ने मेरे आधे लिंग को अपने मुंह में ले लिया। मुझे ऐसा महसूस हुआ कि मेरा लिंग उसके गले में टक्कर मार रहा है। सोनल ने कुछ देर ऐसे ही मेरे िंलंग को अपने मुंह में रखा और फिर मेरे सुपाड़े तक वापिस बाहर निकाल दिया, थोउ़ी देर ऐसे ही रूककर उसने मेरे चेहरे की तरफ देखा, मेरी आंखें मजे के मारे लगभग पूरी तरह बंद हो चुकी थी, बस थोड़ी सी ही खुली हुई थी।
मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था। मेरे हाथ फिर से उसके सिर पर पहुंच गये। मेरी कमर लगातार हवा में ही उठी हुई थी।
सोनल ने फिर से मेरे लिंग को आधा मुंह में ले लिया और वो उसके गले में जाकर टक्कर मारने लगा।
अचानक मुझे लगा कि मैं हवा में उड रहा हूं और मेरे लिंग ने उसके मुंह में पिचकारियां मारनी शुरू कर दी। जैसे ही मेरे लिंग से पहली पिचकारी निकली, सोनल ने मेरे लिंग को थोडा सा बाहर निकाल लिया लगभग सुपाड़े तक और मेरे जूस को पीने लगी। मेरे लिंग में से इतना जूस निकल रहा था कि वो उसके मुंह से बाहर निकल कर मेरी जांघों पर बहने लगा। लगभग 3-4 मिनट तक रूक-रूक कर मेरे लिंग से पिचकारियां छूटती रही और सोनल मेरे लिंग को वैसे ही अपने मुंह में रखकर मेरे जूस को पीती रही।
जब मेरे लिंग ने पिचकारियां मारनी बंद कर दी तो सोनल ने अपना चेहरा उपर उठाया। मेरा जूस उसके होंठो से बहता हुआ उसकी ठोडी से नीचे टपक रहा था। वह अपनी जीभ बाहर निकाल कर उसे चाट गई और चटकारा लेते हुए कहने लगी।
सोनल: वाह, मजा आ गया तुम्हारा कुंवारा जूस पीकर। ऐसा टेस्ट पहली बार पीने को मिला है।
मुझे अपने शरीर में थकावट महसूस होने लगी। मेरी कमर जो अब तक लगातार हवा में उठी हुई थी एकदम से नीचे बैड पर आकर टिक गई और मैं जोर जोर से सांसे लेते हुए हांफने लगा।
सोनल: मेहनत तो सारी मैंने की है और हांफ तुम रहे हो। और यह कहकर खिलखिला पड़ी।
मुझे अपना सिर एकदम से हल्का हल्का महसूस हो रहा था और मेरी आंखें भारी भारी। लग रहा था कि मुझे किसी ने नींद की गोलियां दी हैं।
मेरी आंखें बंद होती देखकर सोनल ने मेरे सिर को अपने हाथों में पकड़कर उठाया।
सोनल: हैल्लो! कहां, अभी बहुत कुछ बाकी है, चलो उठ जाओ, और यह कहकर मेरे माथे पर एक किस कर दी।
मेरा लिंग अभी भी वैसे ही तना हुआ था, बस इतना फर्क था कि अब मुझे उसमें दर्द नहीं हो रहा था।
जब सोनल ने मेरे लिंग की तरफ देखा तो -
सोनल: ये क्या! ये तो अभी भी वैसे ही सिर उठाकर खड़ा हुआ है। इसे कुछ आराम नहीं करना क्या।
मैं: जब सामने तुम्हारे जैसी साइट हो तो फिर आराम कौन करना चाहेगा, सारा काम लग कर निपटाना चाहेगा।
मेरी बात सुनकर सोनल हंसने लगी।
सोनल: अच्छा जी! थोड़ी सी देर में ही बातें बनानी आ गई। अब तक तो बड़े शरमा रहे थे।
सोनल: एक बात पूछूं, सच सच बताना।
मैं: हां पूछो।
सोनल: अभी तक वर्जिन हो, कभी कोई लडकी नहीं मिली क्या।
मैं: मिली तो बहुत और सभी तैयार भी थी सैक्स के लिए, पर मुझे ये थोड़े ही पता था कि सैक्स में इतना मजा आता है, नही ंतो अब तक तो पता नहीं कितनियों को मजा दे चुका होता।
सोनल: चलो, मेरी किस्मत अच्छी थी, जो तुम अभी तक वर्जिन हो। अब तो तुम्हारी वर्जिनिटी तोड़ने का मजा लेना है मुझे बस।
और ये कहते हुमेरे साइड में लेट गई और अपना चेहरा मेरे कंधे पर रख दिया तथा अपना हाथ मेरी छाती में फिराने लगी।
मेरा लिंग अभी भी वैसे ही तनकर झटके खा रहा था।
मैंने सोनल की तरफ करवट ली और उसके गालों को चुमने लगा। फिर अपने होंठ उसके फडकते होंठों पर रख दिए।
मेरे हाथ उसकी कमर में घुमने लगे और उसके हाथ मेरी कमर में। मैं अपने हाथों की उसकी कमर में घुमाते हुए नीचे की तरफ करने शुरू कर दिए और उसके कुल्हों पर लेजाकर उसके कुल्हों को सहलाने लगा। उसके कुल्हे एकदम नर्म थे। मैं अपनी एक उंगली उसकी कुल्हों के बीच की खाई में घुमाने लगा। मेरी इस हरकत से सोनल का शरीर झटके खाने लगा। उसको किस करते हुए ही मैंने उसको सीधा किया और उसके उपर आ गया।
उसके बूब्स मेरी छाती में दब गये। मुझे उसके निप्पल मेरी छाती में चुभ रहे थे, इसलिए मैं अपनी कोहनियों के बल होकर थोड़ा उपर उठ गया और उसके किस करने लगा। मेरा लिंग उपर की तरफ होकर उसकी योनि पर दबा हुआ था।
थोड़ी देर में मैंने किस तोड़ी और उसके बूब्स पर अपने होंठ टिका दिए। सोनल ने अपने हाथ मेरे सिर पर रख दिए और मेरे बालों को सहलाने लगी।
अभी मैं उसके बूब्स को चूस ही रहा था कि सोनल का मोबाइल बजने लगा।
उसने मोबाइल उठाकर नम्बर देखा और फिर उसके स्पीकर फोन पर डालकर बैड पर रख दिया और बात करने लगी।
क्रमशः.....................
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Kamukta Story बिन बुलाया मेहमान sexstories 32 5,844 11 hours ago
Last Post: sexstories
Shocked Indian Sex Story आरती की वासना sexstories 17 2,067 11 hours ago
Last Post: sexstories
Star Chodan Kahani घुड़दौड़ ( कायाकल्प ) sexstories 112 15,718 12-17-2018, 01:27 AM
Last Post: sexstories
Information Hindi Porn Story मेरा रंगीला जेठ और भाई sexstories 20 20,287 12-15-2018, 11:44 PM
Last Post: sexstories
Star Porn Hindi Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 144 22,172 12-15-2018, 12:44 AM
Last Post: sexstories
Star Maa ki Chudai मा बेटा और बहन sexstories 25 23,490 12-13-2018, 12:44 PM
Last Post: sexstories
Question Incest Porn Kahani रिश्तारिश्ते अनजाने sexstories 19 12,951 12-13-2018, 12:39 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Antarvasna kahani माया की कामुकता sexstories 165 31,896 12-13-2018, 01:42 AM
Last Post: sexstories
Star Porn Hindi Kahani रश्मि एक सेक्स मशीन sexstories 122 37,759 12-10-2018, 01:43 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Desi Sex Kahani मुहब्बत और जंग में सब जायज़ है sexstories 28 15,277 12-10-2018, 12:51 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


bahenki laudi chootchudwa rundimausi ki gaihun ke mai choda hindi sex kahaniaxxx हिदी BF ennaipwww. kannadda sexstorycomsaadisuda bahen ki adhuri pyass Hindi sex storiesbaratna deshi scool thichar 2018 sex video ,coBeti Lund chuso gii sexy storesRachna bhabhi krwa chouth sexy storiesसंध्या सेक्स स्टोरीmohbola bhi se chodai hostel meladki ko zhad denevali xxx .comसेकसि तबसुमbahenki laudi chootchudwa rundima bibi chut kela me gaaliya hindiShabnam.ko.chumban.Lesbian.sex.kahaniलडीज सामन बेचने वाले की XXX कहानियाXXX SEX WITH PAD IS NO LADKI HINDIrandi bol ka sexin hinde movieapni boss ki moti gand mililund geetu Sonia gand chut antervasnaकमसिन कलियाँnimbu jaisi chuchi dabai kahaniकामुक सुन कथाpriya gaw wali xxx video hindiholi ie din choda porn video hindilund muh se gala halak ultiya ubkaipapa ki helping betisex kahaniवेलम्मा वेलम्मा आंटी सेक्सी कॉमिक्स हिंदी माई डाउनलोड सभी पार्ट्सWWW.SARDI KI RAT ME CHACHI KE SAATH SOKAR CHUDAI,HINDI.COMma bibi chut kela me gaaliya hindiकरीना कपूर की चुदाई की गंदे आदमी ने चोदा कहानीjawan bhabhi ki jabradast chodiyi bra blue and sarre sexyxxx hot all video khare ho kar gand me lundSex xxx baapkesat betiki ki chudaeसेठाणी अपने बेटे का लंड लेती सेक्स कथाटॉफी देके गान्ड मारीSasur ka beej paungi xossipRadhika Apte sex baba photoSunny chut mein lund aane wala bf dena nanga open lanewala jaldixxx bhikh dene bahane ki chudaiuski kharbuje jaisi chuchi dabane laga rajsharma storysex baba ki chudau khanumaa banne ki chahat me mere samne Didi chudi Baba sewww. khet me meri rep ki bete ne chudai kahani.comhai HD video sex caynijहवेली और माँ बेटी की चुदाईHindi sex stories bahu BNI papa bete ki ekloti patnipanty nahi malish chipak dababperm Xxx sex marathiराजशर्मा सेक्स बाबा हिंदी सेक्स स्टोरीMaa ki phooly kasi gaand me ras daalaMosi ki Pasine baale bra panty ki Hindi kahaani on sexbaba mami gand me lund dal ke pure ghar me ghumaya long sex story in hindiEk haseena ki majboori kahani indian aunty cudat picksahh umm Inka dengudekhegi mera bada lundtelugu sex amma storeis sexbababoudi aunty ne tatti chataya gandi kahaniyapapa mummy beta sexbabalo beta ise muhme lekar chuso or kisiko batana mat sex storiKuwari Ladki Ki Chudai dekhna chahta Hoon suit salwar utarte hueआईला जोरात झवले Sex story in marathimom ko uncle train mejn mile sex storyBnarasi panvala bhag 2 sexy khaniपापा मेरी दूध को निचोड़कर पियोmamy ke kehne pe bhai ko bira utarne diyahrsexbaba.net incest sex katha parivarmirch powder laga chodane ki sexi hindi storiesAntervasnahd.combuar juje chut land khodnaPregnantkarne k lie kaun si chudai kare xxx full hd videolambi hindi sex kahaneyad10 dancer aqsa khan sex photos comWww bahu ke jalwe sexbaba.comRadhika Apte sex baba photodesi goomke babhi chudiamma baba tho deginchukuna sex stories parts telugu loboss ki randi bani job ki khatir storiesMadirakshi mundle TV Actress NudeSexPics -SexBabaBF ekdum nanga sex hota Rahe Lena Dena Dono ja re rebhut big hip aunty aa chudai videokeraidar ne deewar ke ched me ko land nikal kar chudai ke kahani hindi me.combhai behan Ne sex Kiya Pehli Baar ki shuruat Kaise hui ki sex story sunaoveeddu poorutkalamiro chudwane ki chahat ki antarvasnanew kannada sexbaba.netAthiya shetty ke naungi sex photos Ma k jism ne pagal kia incest sex kahani with piceesha rebba fake nude pics