Click to Download this video!
Bahu ki Chudai बहू की चूत ससुर का लौडा
06-12-2017, 10:25 AM,
#11
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
हम दोनों हँसने लगे। फिर मैं उसको अलग किया और अपने कपड़े खोलते हुए बोला: तुम भी उतार दो वरना घर जाने में देर हो जाएगी।

वह चुपचाप कुर्ता निकाल दी और ब्रा में उसके कसे हुए उभार देख कर मैं मस्ती में आने लगा। अब तक मैं चड्डी में आ चुका था और मेरा फूला हुआ लौड़ा चड्डी में समा ही नहीं रहा था और साइड से बाहर झाँक रहा था। अपनी सलवार खोलते हुए उसकी नज़र जैसे मेरी चड्डी से जा चिपकी थी और मैं भी पैंटी से उसकी फूलि हुई बुर और उसकी फाँकें देखकर जैसे मंत्रमुग्ध हो गया था।

वह बड़े ही शालीनता से बिस्तर पर पीठ के
बल लेट गयी। मैं भी उसके ऊपर आकर उसके माथे को चूमा । फिर उसकी आँखें, नाक, कान, गाल और आख़िर में उसके होंठ चूमने लगा। थोड़ी देर तो वह चुपचाप होंठ चूसवाती रही। पर जल्दी ही वह गरम होकर अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी। मैं उसकी जीभ चूसने लगा। अब मैं उसकी चूची दबाने लगा।वह भी मस्त होकर मेरे पीठ पर हाथ फेरने लगी।

मैंने उसको उठाया और उसकी ब्रा के स्ट्रैप को खोलकर उसकी ब्रा को उतार दिया: गोरे बहुत बड़े नरम से उसके चूचे मेरे सामने थे जिसपर बहुत बड़े काले रंग का निपल पूरा तना हुआ था। मैंने चूचियाँ दबायीं और अपने चड्डी में फँसे लौड़े को उसकी पैंटी पर रगड़ने लगा। वह भी गरम होकर अपनी कमर हिलाकर रगड़ाई का मज़ा लेने लगी।

अब मैं उसकी चूचियाँ चूसने लगा और वह हाय हाय करने लगी। मैं नीचे को खिसक कर उसके गोरे थोड़े मोटे पेट को चूमते हुए उसकी नाभि को चाटते हुए उसकी जाँघों के बीच आया और उसकी पैंटी को नीचे करके उतार दिया । उसने कमर उठाकर मेरी मदद की पैंटी में उतारने में। अब उसकी थोड़े से बालों वाली बुर पूरी फूली हुई मेरे सामने थी। उसकी फाँकें खुली हुई थी और उसकी भारी जाँघों के बीच वह बहुत सुंदर लग रही थी। मैंने उसकी जाँघों को पकड़कर ऊपर उठाया और घुटनो से मोड़कर उसकी छाती पर रख दिया। अब उसकी बुर और उसकी भूरि गाँड़ मेरे सामने थी।

मैंने अपने होंठ उसकी बुर पर रखे और वह हाऽऽऽय्य कर उठी । अब मेरी जीभ उसकी बुर को चोद रही थी और वह अपनी कमर उछाल रही थी। बिलकुल गीली होकर उसकी बुर ने अपनी प्यास दिखाई और मैं अपनी चड्डी उतारकर अपने लौड़े को उसके मुँह के पास लाया और वह बड़े प्यार से उसे चूसने लगी। अब मै भी बहुत गरम हो चुका था । मैंने अपने लौड़े को उसकी बुर में सेट किया और उसकी बुर में पूरा लौड़ा एक झटके में ही पेल दिया। वह आऽऽऽह करके अपनी मस्ती का इजहार करते हुए मेरे चूतरों पर अपनी टाँगे कैंची की तरह रख कर मुझसे चिपक गयी। और किसी रँडी की तरह अपनी गाँड़ उछालकर चुदवाने लगी।

उसकी बुर से फ़च फ़च की आवाज़ आ रही थी। उसकी बुर मेरी बीवी की बुर से ज़्यादा टाइट थी। वह भी बहुत मज़े ले ले कर चुदवा रही थी। मैंने उसकी चूचियाँ दबाते हुए पूछा: क्यों जान मज़ा आ रहा है?

वो: आऽऽह मत पूछिए कितना अच्छा लग रहा है। बहुत प्यासी हूँ मैं। हाऽऽऽऽऽय्यय और चोओओओओओओओदो ।

मैं: ह्म्म्म्म्म्म मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा है जान। हाय क्या टाइट बुर है तुम्हारी। आऽऽहहह क्या मस्त चूचे हैं। यह कहकर मैं चूचियाँ चूसने लगा।

वह: आऽऽहहहह मैं गईइइइइइइइइइइ उइइइइइइइइइ कहकर जल्दी जल्दी कमर उछालने लगी।

मैं भी अब जल्दी जल्दी धक्के मारने लगा और उसकी बुर में अपना वीर्य डालने लगा। वह भी हाय्यय कहकर झड़ गई और हाँफने लगी।

अब हम दोनों अग़ल बग़ल लेट गए। वो बोली: आपको एक बात बोलूँगी कि आज जो मज़ा आपने दिया वो मुझे आजतक कभी नहीं मिला। सच में आप पूरे मर्द हो।

मैं: हमने कोई प्रटेक्शन नहीं उपयोग किया कहीं तुम माँ ना बन जाओ।

वह: हा हा वो फ़िकर तो है ही नहीं क्योंकि मैं दूसरे बच्चे के जन्म के बाद ही अपना ऑपरेशन करवा ली थी।

मैं: चलो ये ठीक है फिर कोई ख़तरा नहीं है।अच्छा ये तो बताओ कि तुम्हारी डिलिव्री नोर्मल थी या सिजेरीयन थी।

वह: दोनों सिजेरीयन थीं।

मैं : तभी तुम्हारी बुर अभी भी मस्त है। सरिता की तो ढीली हो चली है क्योंकि उसकी बुर से ही बच्चे निकले थे।

यह कहते हुए मैंने दिर से उसकी बुर पर हाथ फेरा और बोला: जान सच में तुम इस उम्र में भी मस्त माल हो। फिर मैंने उसको करवट लिटाया और उसके मोटे चूतरों को दबाने लगा और उसकी गाँड़ में एक ऊँगली डाला और बोला: जान अब तो इसमें भी डालने का मन कर रहा है। लगता है कि तुम यहाँ भी चुदवाती हो।

अब तक मेरी दो ऊँगलियाँ आराम से घुस गयीं थीं। वह बोली: आऽऽह हाँ वो पहले तो हमेशा गाँड़ भी मारते थे। पर अब पिछले तीन महीने से ये भी प्यासी है।

मैं ख़ुश होकर बोला: आऽऽह क्या मस्त गाँड़ है अभी डालता हूँ मेरी जान अपना लौड़ा ।

फिर मैंने क्रीम लेकर उसकी गाँड़ और अपने लौड़े पर लगाया और उसकी गाँड़ के पीछे आकार उसके चूतरोंको दबाते हुए फैलाया और उसकी गाँड़ की सुराख़ में अपना लौड़ा धीरे से दबाने लगा। मूसल उसकी टाइट गाँड़ में धँसता ही चला गया । अब मैंने उसकी गाँड़ की ठुकाई चालू की। वह भी अपनी गाँड़ को मेरे लौड़े पर दबा दबा के चुदवाने लगी। सामने हाथ लाकर मैं उसकी चूचियाँ भी मसल रहा था।

हम दोनों मज़े से भरकर चुदाई के आनंद में डूबे जा रहे थे। फिर मैंने ज़ोरों की चुदाई चालू की और वह भी हाऽऽऽय्य चिल्लाने लगी। अब मैंने उसकी बुर की clit को मसलना शुरू किया और वह उओइइइइइइइ कहकर झड़ने लगी और मैंने भी अपना गरम माल उसकी गाँड़ में छोड़ दिया।

अब हम दोनों शांत हो चुके थे। फिर हम तैयार हुए और फ़्लैट से बाहर आए और उसकी कार के पास उसको अपनी कार से उतारकर मैं दुकान में वापस आ गया।

रात को जब पायल बाथरूम गयी, मैंने उसको SMS किया : कैसी हो?
वो: ठीक हूँ, थैंक्स, बहुत मज़ा आया। दोनों शांत हैं।

मैं: दोनों कौन? मैंने तो सिर्फ़ तुमको शांत किया है।

वो: मेरा मतलब है दोनों छेद।

मैं:हा हा ।गुड नाइट।

वो: आज बीवी को करेंगे क्या?

मैं : नहीं। ताक़त ही नहीं है।

वो: अगर वो माँगेगी तो?

मैं: आह फिर तो करना ही पड़ेगा।

वो: बहुत लकी है वो जिसको आपके जैसा मर्द मिला है। चलो गुड नाइट।

मैं: गुड नाइट, कल मिलोगी?

वो: पूरी कोशिश करूँगी। बाई ।

फिर मैं भी सो गया। पायल भी आइ और सो गयी।
मैंने शशी को अपने से चिपटा कर कहा: आगे भी सुनना है क्या?

शशी: हाँ बुलबुल की तो अभी बात ही नहीं हुई।

मैं: हाँ बुलबुल की भी कहानी आगे बताता हूँ, पर कुछ मज़ा तो दे अभी। ये कहते हुए मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और उसको चूसने का इशारा किया। वह बड़े प्यार से मेरे लौड़े के सुपाडे को चूसने लगी और बोली: अच्छा मैं धीरे धीरे आपका चूसती हूँ आप आगे क्या हुआ बताते जाओ।

मैंने मुस्कुराकर उसकी बात मान ली और बताने लगा: ————
अगले दिन सुबह साधना का गुड मोर्निंग आया हुआ था और वह कई स्माइली भी भेजी थी। मैंने भी उसका जवाब दिया।फिर मैं दुकान चला गया। वहाँ भी उसके SMS आते रहे। जल्दी ही हम सेक्स की बातें करने लगे और दोपहर होते तक वह और मैं बहुत गरम हो गए। अब मैंने उसको लिखा कि चलो आओ ना फ़्लैट में चुदाई के लिए। वह लिखी:: मैं तो अभी आ जाऊँ पर क्या आपको फ़ुर्सत है?

मैं : हाँ आज मेरे बेटे की छुट्टी है तो वो अभी आएगा, तुम बोलो तो हम एक घंटे में मिलते हैं।

वो: ठीक है मैं आती हूँ।

फिर हम दोनों उस दिन भी फ़्लैट में मिले और इस बार तो वह पहले से भी ज़्यादा फ़्री थी। उसने खुलकर मेरा साथ दिया और हमने कई आसनों में चुदाई का मज़ा लिया। अब वह चुदाई में मेरा वैसे ही साथ दे रही थी जैसी मेरी बीवी देती थी।

हमारा ये सिलसिला क़रीब एक महीने तक चला। फिर शायद हम दोनों ही थोड़े एक दूसरे से बोर होने लगे। फिर हमारी मुलाक़ात कम होने लगी, कभी हफ़्ते में एक बार और आख़री में तो एक महीने में एक बार। मुझे भी तबतक एक दूसरी फुलझड़ी मिल चुकी थी। वह २०/२१ साल की एक कॉलेज की लड़की थी और मैंने उसको अपनी दुकान से ही पटाया था और पैसे की ज़रूरत को पूरा करने के लिए वह मुझे मज़ा दे रही थी। उसे कपड़े और cosmetics वग़ैरह ख़रीदने का बहुत शौक़ था और उसका यह शौक़ पूरा करने के लिए वह चुदाई के लिए तैयार थी। मैं भी उसकी यह ज़रूरत पूरी कर रहा था और वह मेरी टाइट बुर की ज़रूरत पूरी कर रही थी। इस आपाधापी में साधना को जैसे भूल ही गया था।

क़रीब एक महीने के बाद वो लड़की मुझे बताई कि उसका महीना नहीं हुआ। मैं थोड़ा परेशान हो गया और उसको उसको अपने एक दोस्त डॉक्टर के पास भेजा। वहाँ पता चला कि वो गर्भ से है। मैंने डॉक्टर को कहकर उसका गर्भपात करा दिया। अब मैंने उस लड़की से भी किनारा कर लिया और क़िस्मत से अगले महीने ही वह लड़की भी अपनी पढ़ाई पूरी करके दूसरे शहर चली गयी । और मैं फिर से अकेला हो गया था। सरिता तो थी पर उसे मैं घर की मुर्ग़ी ही समझता था और उसकी बुर अब ढीली भी हो चुकी थी। इस बीच साधना से एक दो बार मिला उसकी चुदाई की और उसको उस लड़की के गर्भवती और फिर गर्भपात के बारे में भी बताया। इस तरह दिन कट रहे थे।

तभी एक दिन मैं दुकान में आइ हुई एक कमसिंन लड़की की स्कर्ट से झाँकती गदराइहुई जाँघों को देख रहा था और अपना लौड़ा मसल रहा था। जब वह एक नीचे के शेल्फ़ में एक कपड़ा देखने के लिए झुकी तो उसकी गुलाबी पैंटी में फँसी हुई उसकी बुर अचानक मेरी आँखों के सामने थी। क्या मस्त माल है मैंने सोचा कि तभी साधना का फ़ोन आया। मैंने फ़ोन उठाया और हेलो बोला।

साधना: हाय कैसे हो आप?

मैं: मस्त हूँ, तुम सुनाओ क्या हाल है?

साधना की थोड़ी गम्भीर सी आवाज़ आयी, बोली: मिलना है आपसे कब फ़्री हो?

मैं: क्या हुआ आज बहुत दिन बाद खुजली हुई क्या? बहुत दिन बाद मिलने को कह रही हो।

वो: मुझे आपसे कुछ ख़ास बात करनी है। हम कॉफ़ी हाउस में भी मिल सकते हैं।

मैं: नहीं वहाँ नहीं। फ़्लैट ही में मिलते हैं।

फिर हम तय समय पर फ़्लैट में मिले। आज वह सलवार कुर्ते में थी। थोड़ी उदास दिख रही थी।

मैंने उसको अपनी बाहों में लिया और चूमते हुए बोला: क्या बात है कुछ परेशान लग रही हो?

वो: हाँ थोड़ा परेशान हूँ। आप बैठो ना बताती हूँ।
फिर हम सोफ़े पर बैठे और उसने कहना शुरू किया। वो बोली: आपको मैंने बताया था ना की मेरा एक बेटा है और बहु भी है। दरसल कल बहु ने बताया कि मेरे बेटे के स्पर्म में कुछ समस्या है और वह कभी बाप नहीं बन सकता।
लेकिन यह बात वह मेरे बेटे को नहीं बताना चाहती ताकि वह दुखी ना होए।

मैं: अरे इलाज कराओ ना उसका।

वो: डॉक्टर ने कहा है कि ये लाइलाज है। कल बहु रो रही थी और बोली: माँ बताइए ना क्या करूँ? उनको बताती हूँ तो वो दुखी होंगे। मैं उनको बोल दूँगी कि कमी मुझमें है। तब मैं बोली: इतना त्याग मत करो। कुछ और रास्ता खोजते हैं। तब मेरे मन में ये ख़याल आया कि उसको मेरे पति से ही बच्चा करवा दूँ। पर फिर सोचा कि आजकल तो इनका खड़ा ही नहीं होता तो क्या मर्दानगी बची होगी जो कि एक बच्चा ही पैदा कर सकें?

मैं: ओह फिर क्या सोचा?

वो: फिर आपका ख़याल आया। आपने अभी एक लड़की को एक महीने की चुदाई में गर्भवती कर दिया था तो क्यों नहीं आप मेरी बहु को भी माँ बना सकते?

मैं तो जैसे आसमान से गिरा और बोला: क्या कह रही हो? क्या तुम अपनी बहु को मुझसे चुदवाओगी ?

वो : हाँ यही तो आपसे कहने आयी हूँ।

मैं: और तुम्हारी बहु मान जाएगी? मेरा लौड़ा खड़ा होने लगा २३ साल की मस्त जवानी का सोचके। मैं उसको मसल दिया।

वो: हाँ वह तैयार है तभी तो आयी हूँ। देखो आपका तो सुनकर ही खड़ा हो गया । यह कहकर उसने मेरे खड़े लौड़े को पैंट के ऊपर से पकड़ लिया।

मैं: नाम क्या है बहु का? कोई फ़ोटो है?

वो: बुलबुल नाम है और ये उसकी फ़ोटो देखो मेरे मोबाइल में।

मैंने उसकी फ़ोटो देखा और मस्ती से बोला: यार मस्त माल है बुलबुल। बहुत मज़ा आएगा उसे चोदने में। मैंने फ़ोटो के ऊपर ही उसकी उठी और तनी हुई चूचियों को सहलाया और बोला: आह क्या मस्त चूचियाँ हैं। जब वह माँ बनेगी तो इसका दूध पिलाना होगा।

वो: पक्का पिलवाऊँगी। बस उसको माँ बना दो।

मैं: अरे ज़रूर से बना दूँगा। पर अभी तुम ही चुदवा लो उसकी जगह। यह कहकर मैंने उसकी चूचियाँ दबा दीं।

वो हँसते हुए बोली: मैंने कभी मना किया है क्या? फिर वो भी मेरे लौड़े को पैंट से बाहर निकाली और सुपाडे को नंगा किया और थोड़ा सहलाने के बाद मुँह में ले ली। मैंने मज़े से आँखें बन्द कर ली और उसके मुँह को चोदने लगा। और बोला: कब लाओगी बुलबुल को?

वो: कल ही लाऊँगी। फिर मैंने उसकी ज़बरदस्त चुदाई की और वह अगले दिन बुलबुल के साथ आने का कहकर चली गयी।
राज अपनी बात आगे बढ़ाया:—-
-
Reply
06-12-2017, 10:25 AM,
#12
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
उस दिन साधना के जाने के बाद मैं रात को साधना को SMS किया: कैसी हो? क्या कर रही हो?

वह लिखी: ठीक हूँ अभी खाना खाया है। आप क्या कर रहे हो?

मैं:: अरे अपना लौड़ा दबा रहा हूँ बुलबुल की बुर के बारे में सोच कर।

वो : कल दिलवा तो रही हूँ।

मैं: तुम्हारा हबी क्या कर रहा है?

वो: यहाँ नहीं है, एक हफ़्ते के टूर पर हैं दोनों बाप बेटा।

मैं: ओह तो फिर मैं वहीं आ जाता हूँ और अभी चोद देता हूँ तुम दोनों को।

वो: नहीं हमारे साथ नौकर भी है। और हमारी सास भी रहती है। कल ही मिलेंगे।

मैं: अरे तो फ़ोन पर बात तो कर सकते हैं। बुलबुल और तुम्हारे साथ।

वो: नहीं मेरी सास कभी भी आ जाती है। वो ८२ साल की है पर बहुत तेज़ है। फिर आपकी वाइफ़ भी तो होगी वहाँ ना?

मैं: अरे मैं छत पर जाकर बात कर सकता हूँ।

वो: नहीं हम बात नहीं कर पाएँगे। मैं उसको लेकर कल आ तो रही हूँ।

मैं : चलो अब क्या हो सकता है, कल का इंतज़ार करते हैं। बाय । और फ़ोन काट दिया।
दुसरे दिन साधना बुलबुल को अपने साथ लेकर आई मै घर के अन्दर था और साधना ने दरवाजे के बाहर आकर डोरवेल बजायी और मै आकर दरवाजा खोला अब वो दोनों अंदर आयीं। बुलबुल ने मुझे नमस्ते की और साधना को मैंने अपने से लिपटा लिया। साधना मुझे बता चुकी थी कि बुलबुल हमारे रिश्ते के बारे में जानती है। अब मैं सोफ़े पर बैठा और वो भी सामने वाले सोफ़े पर बैठ गयीं।

साधना: तो ये बुलबुल है मेरी बहू। और आपके बारे में मैं इसे बता ही चुकी हूँ। बुलबुल अपना सिर झुकाए बैठी थी।
उसके गाल शर्म से लाल हो रहे लगे।

मैं: अरे बेटी, इतना क्यों शर्मा रही हो। तुम तो पाँच साल से शादीशुदा हो इन सब बातों को समझती हो। है कि नहीं? कोई कुँवारी बच्ची तो हो नहीं? सही कहा ना मैंने?

उसने हाँ में सिर हिलाकर मेरी बात से सहमती व्यक्त की। अब वो सहज होने लगी थी। मैंने साधना को देखा और कहा: आज तो इस रूप में तुम भी ग़ज़ब ढा रही हो।

साधना: अरे ये सब इस लड़की का किया धरा है। मुझे अपने जैसे कपड़े पहना कर लाई है। भला अब मेरी उम्र क्या इस तरह के कपड़े पहनने की है? सब तरफ़ माँस बाहर आ रहा है। वो अपने पेट को देखकर बोली।
मैं: अरे नहीं जान, इस ड्रेस में तो तुम्हारा मस्त बदन और क़यामत बरसा रहा है। सच में आज मैं अपनी क़िस्मत पर फूला नहीं समा रहा कि क्या माल मिले हैं
आज मुझे वो भी दो दो ।

साधना: मैं यहाँ नहीं रुकूँगी, बस अभी चली जाऊँगी। आप बुलबुल के साथ अपना काम कर लो। मैं दो घंटे के बाद उसे लेने आऊँगी।

मैं हँसते हुए बोला: तुम्हारा आना अपनी इच्छा से हुआ पर जाना मेरी इच्छा से होगा। अच्छा आओ बुलबुल बेटा, आओ हमारी गोद में बैठो। चलो तुमसे दोस्ती करते हैं। ये कहते हुए मैंने अपना आधा खड़ा लौड़ा पैंट में अजस्ट किया और बुलबुल को उसपर बैठने का इशारा किया।

बुलबुल झिझक रही थी तो उसकी सास उसे खड़ा की और मेरे पास लाकर मेरी गोद में बैठा दिया। बुलबुल तो मेरे खड़े हो रहे लौड़े पर बैठकर थोड़ा सा चिंहुकी और अपने चूतरों को हिलाकर बैठ गयी। और इधर मैं: अरे नहीं जान, इस ड्रेस में तो तुम्हारा मस्त बदन और क़यामत बरसा रहा है। सच में आज मैं अपनी क़िस्मत पर फूला नहीं समा रहा कि क्या माल मिले हैं आज मुझे वो भी दो दो ।

अब मैंने साधना के पेट को सहलाना शुरू किया और उसकी टॉप को उठा कर उसके नंगे पेट को चूमने लगा। उसकी नाभि भी जीभ से कुरेदने लगा। फिर मैंने हाथ बढ़ाकर बुलबुल की बाँह सहलाते हुए उसकी चूचि पकड़ ली। आऽऽह क्या सख़्त अनार सी चूचि थी। साथ ही मैंने अपना एक पंजा सीधा साधना की बुर के ऊपर उसकी पैंट के ऊपर से रख दिया और उसको मूठ्ठी में लेकर दबाने लगा। एक साथ सास और बहू की आऽऽऽह निकली। दोनों मेरे इस अचानक हमले के लिए तैयार नहीं थीं।

अब मैं बारी बारी से बुलबुल की चूचि दबा रहा था और साधना की बुर भी मसल रहा था। साधना: आऽऽऽह छोड़िए ना। आज नहीं, आज सिर्फ़ बुलबुल से मज़े लो। आऽऽहहहह मुझे जाने दो।

मैं: क्यों मज़ा ख़राब कर रही हो? देखो तुम्हारी बहु कितने मज़े से चूचियाँ दबवा रही है, तुम भी अपनी पैंट खोल दो अभी के अभी। ये कहते मैंने उसकी पैंट की ज़िपर नीचे कर दी और अंदर हाथ डाल दिया। मेरे हाथ उसकी बिलकुल गीली हो चुकी पैंटी पर थे और मैं बोला: देखो तुम्हारी बुर कितना पानी छोड़ रही है। चलो अब खोलो इसे और पहले मैं तुमको चोदूंग़ा और जब बुलबुल की शर्म निकल जाएगी तब उसे भी चोद दूँगा।

अब मैंने बुलबुल का टॉप खोला और वह हाथ उठाकर मुझे टॉप उतारने में मेरी मदद की। अब मैं ब्रा के ऊपर से उसकी बड़े अनारों के चूम रहा था। मैं: आऽऽहब क्या माल है तेरी बहु, आऽऽज बहुत मज़ा आएगा इसे चोदने में।

उधर साधना बोली: तो चोदो ना उसे पर मुझे जाने दो। मुझे बड़ा अजीब लगेगा इसके सामने चुदवाने में।

बुलबुल: माँ आप ये कैसी भाषा बोल रही हो?
मैं: अरे बेटा, चुदाई को तो चुदाई ही बोलेंगे ना? अब करवाएगी या मज़ा लेगी, इसका कुछ और मतलब भी हो सकता है, पर चुदाई का कुछ और मतलब सम्भव ही नहीं है । अब मेरी दो उँगलियाँ पैंटी के साइड से उसकी बुर में घुस गयीं। साधना हाय्य्यय कहकर उछल गयी। फिर मैंने उँगलियाँ निकाली और बुलबुल को दिखाकर बोला: देखो तुम्हारी सासु माँ की बुर कितनी चुदासि हो रही है। ये कहते हुए मैंने वो दोनों उँगलियाँ चाट लीं। बुलबुल की आँखें अब मेरे द्वारा किए जा रहे चूचि मर्दन से और मेरी बातों से लाल होने लगी थी और वह चूतड़ हिलाकर मेरे लौड़े को अपनी गाँड़ पर महसूस करके मस्त हुई जा रही थी।

अब मैंने साधना का पैंट का बेल्ट खोला और वह मेरे हाथ को हटाकर बोली: आप प्लीज़ मुझे जाने दो ना।
मैं: बुलबुल फ़ैसला करेगी कि तुम जाओगी या नहीं। बोलो बुलबुल क्या तुम चाहती हो कि तुम्हारी सासु माँ प्यासी रहे?

बुलबुल: नहीं मैं ऐसा क्यों चाहूँगी? माँ आप रुक जाओ ना।
साधना: तू भी इनकी तरफ़ हो गई? अभी तो चुदीं नहीं है तब ये हाल है, चुदाई के बाद तो मेरा साइड छोड़ ही देगी। अब हम तीनों हँसने लगे। अब साधना ने भी विरोध छोड़ दिया और अपनी पैंट उतार दी। काली पैंटी में उसका गोरा भरा हुआ बदन बहुत कामुक दिख रहा था। मैंने उसकी मोटी जाँघें सहलायीं और फिर पैंटी नीचे कर दिया। उसने पैंटी भी उतार दी। उसकी मोटी फूली हुई बुर मेरी और बुलबुल की आँखों के सामने थी।

बुलबुल भी इसे पहली बार देख रही थी। उसको आँखें वहीं चिपक गयीं थीं। अब मैंने साधना को अपने पास खिंचा और उसकी बुर पर अपना मुँह रख दिया और उसे चूसने और चाटने लगा। जल्दी ही उसकी आऽऽऽहहहह निकल गयी और वह मेरा सिर अपनी बुर पर दबाके अपनी कमर हिलाने लगी।
मेरे मुँह में उसकी दूसरी चूचि

एक हाथ से अभी भी मैं बुलबुल की चूचि दबा रहा था। अब मैंने अपना मुँह उठाया और फिर मैंने बुलबुल की ब्रा का स्ट्रैप खोला और उसकी नंगी चूचियाँ देखकर मैं जैसे अपने होश खो बैठा और उसकी चूचियाँ चूसने लगा ।अब मेरा हाथ साधना के बुर में ऊँगली कर रहा था और दूसरा हाथ उसकी एक चूचि दबा रहा था और मेरे मुँह में उसकी दूसरी चूचि थी।
अब वो दोनों आऽऽऽहहह कर रही थीं और अब बुलबुल खूल्लम ख़ूल्ला मेरे लौड़े पर अपनी बुर पैंट के ऊपर से रगड़ रही थी और उसकी कमर हिले जा रही थी। अब मैं बोला: चलो बिस्तर पर चलते हैं। वो दोनों मुस्करायीं और साधना बोली: चलो आपने मुझे इतना गरम कर दिया है कि अब बिना चुदवाने मुझे चैन नहीं आने वाला।

हम बेडरूम में पहुँचे और वहाँ साधना मेरे कपड़े उतारने लगी और मैंने उसका टॉप उतार दिया। फिर उसके ब्रा को खोलकर उसकी बड़ी बड़ी चूचियाँ नंगी हो गयी। उसने भी मुझे नंगा किया और मेरी चड्डी उतारकर मेरे लौड़े को पकड़कर बुलबुल को दिखाकर बोली: ये है इनका मस्त लौड़ा जो तुमको माँ बनाएगा। देखो इनके बालस कितने बड़े हैं और मस्त मर्दाना स्पर्म से भरे हुए हैं जो तुमको जल्दी ही क्या पता आज ही माँ बना देंगे।

बुलबुल मेरे लौड़े को और बॉल्ज़ को देखती रही।तब तक साधना नीचे बैठ गयी और मेरा लौड़ा चूसने लगी।और फिर वह बुलबुल को दिखाकर मेरे बालस चूसने लगी। अब मैं भी गरम हो गया था और मैंने बुलबुल की पैंट उतारी और उसकी पैंटी को देखकर मस्त हो गया जो की सामने से पूरी गीली थी। मैं समझ गया कि वह बहुत गरम है और बड़े मज़े से चुदवाएगी । उसकी पैंटी नीचे करके मैंने उसकी बुर को देखा और बिना झाँट के बुर को देखकर मेरे लौड़े ने साधना के मुँह में झटका मारा।

वह अब बहुत गरम थी और मैंने साधना को नीचे लिटाया और उसके ऊपर आकर उसे पागलों की तरह चोदने लगा। वह भी कमर उठकर मज़ा देने लगी। मैंने देखा कि बुलबुल भी बग़ल में आकर लेट गयी और अपनी बुर में ऊँगली डाल रही थी और हमारी चुदाई को ध्यान से देख रही थी। कमरा फ़च फ़च की आवाज़ों से गूँज रहा था और वह ध्यान से मेरे धक्कों को देख रही थी मानो वो भी कोई नया अजूबा देख रही हो।

मैं बोला: क्या बात है बुलबुल, क्या देख रही हो? तुम्हारा पति भी तो ऐसे ही चोदता होगा ना तुमको रोज़ ?

बुलबुल: मेरे पति मुझे बहुत प्यार करते हैं और बड़े आराम से करते हैं। आपके जैसे जंगली की तरह नहीं करते।

तभी साधना हाय्य्य्य्य्य्य्य्य और ज़ोर से चोओओओओओदो चिल्लायी और बुलबुल हैरानी से अपनी सास को देखने लगी। वह अब ज़ोर ज़ोर से अपनी कमर उछालकर हाय्य्यय आऽऽह करके झड़ने लगी। अब उसके झड़ने के बाद मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया और अब बुलबुल के ऊपर आ गया। मेरा लौड़ा अभी भी पूरा खड़ा था और साधना की बुर के रस से गीला होकर चमक रहा था।
अपने लौड़े को बुलबुल की आँखों के सामने लाकर उसको झुलाते हुए मैं बोला: बुलबुल बेटा मर्दाना चुदायी ऐसी होटी है। क्या तुम्हारा पति भी ऐसे ही धमासान चुदाई करता है? देखो तुम्हारी सासु माँ क्या मस्ती से चुदायी। अभी मैं तुमको ऐसे ही चोदूँगा। तुम कभी नहीं भूलोगी और मेरे पास बार बार आओगी चुदवाने जैसे तुम्हारी सास आती है।

बुलबुल: अंकल आपको पता है कि मैं आपके पास सिर्फ़ इस लिए आयी हूँ कि मुझे माँ बनना है । वैसे आपको बता दूँ कि मेरे पति भी मुझे बहुत अच्छी तरह से संतुष्ट करते है और उनका भी आपके जैसे ही बहुत बड़ा है। बस पता नहीं स्पर्म कैसे कम हो गए । इसीलिए आपके पास आयी हूँ। मैं उनसे बहुत प्यार करती हूँ। पर हाँ वो ऐसे ज़ोर ज़ोर से नहीं करते जैसे आप किए थे अभी माँ को!
मैं: अरे उसी जबदरस्त चुदाई में ही तो मज़ा है बेटा। अभी देखना कैसे तुमको मस्त करता हूँ। बेटी लड़की एक से ज़्यादा मर्द से भी तो प्यार कर सकती है। जैसे तुम्हारी सास अब मुझे भी प्यार करने लगी है। वैसे ही तुम भी बहुत जल्दी मुझे भी प्यार करने लगोगी। मैं भी तो अपनी बीवी से भी प्यार करता हूँ।

बुलबुल: आपकी सोच मेरे से अलग है।

मैं: अब तुम दोनों सुनो मेरी सोच तो यह है कि जब तुम्हारे पति का लौड़ा बहुत मस्त है तो साधना को बाहर आकर मुझसे चुदवाने की क्या ज़रूरत है वो तो अपने बेटे से भी चुदवा सकती है ना।

बुलबुल: क्या बकवास कर रहे हैं आप? भला ऐसा भी कहीं होता है? वो माँ बेटा हैं।
मैं: क्यों साधना, तुम्हारे बेटे का लौड़ा मस्त है और अगर बुलबुल को कोई ऐतराज़ ना हो तो क्या तुम अपने बेटे से चुदवा नहीं सकती?

साधना: छी कैसी बातें कर रहे है आप? छोड़िए ये सब बकवास और बुलबुल को चोदिए अब।

बुलबुल: एक बात पूँछुँ अंकल? आपकी बेटी को भी आप चोदना चाहोगे क्या?

मैं: सच बताऊँ, अगर पायल नहीं होती तो सच में मैं अपनी बेटी को चोद देता। बस उसके डर से नहीं चोदा। वरना जब वह जवान हो रही थी तो कई बार मन में आया कि मेरी जवान बेटी किसी दूसरे से क्यों चुदवाए वो भी मेरे जैसे चुदक्कड के होते हुए।
-
Reply
06-12-2017, 10:25 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:28 AM by sexstories.)
#13
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
बुलबुल हैरानी से मुझे देख रही थी और मैंने अब अपने दोनों हाथ उसकी चूचियों पर रखे और उसके होंठ चूसने लगा। अब मैं बुलबुल को चोद्ने की तैयारी करने लगा। मैंने देखा कि साधना बाथरूम से वापस आ गयी थी और हमारी टांगों की तरफ़ आकर बैठ गयी थी। अब वह मेरे बॉल्ज़ का मसाज़ करने लगी। मैं अब बहुत मस्त हो कर उसे चोदने की तैयारी करने लगा।
राज रुका और शशी को अपना लौड़ा चूसते देखकर उसकी चूचि दबाकर बोला: मज़ा आ रहा है चूसने में?

शशी: चूसने में तो आ ही रहा है पर आपकी बात में ज़्यादा मज़ा आ रहा है। आगे क्या हुआ ?

राज आगे बोलता चला गया…

अब बुलबुल की बुर में मैंने दो उँगलियाँ डालकर उसकी बुर और clit रगड़ने लगा और एक चूचि मुँह में और एक हाथ में लेकर उसके निप्पल्स को दबाने लगा। साधना मेरे बॉल्ज़ चाटने लगी। फिर मैं नीचे आया और बुलबुल की मस्त पूरी तरह से पनियाई हुई बुर को देखकर मस्ती से उसे चूम उठा। वह बहुत गरम होकर अपनी बुर को मेरे मुँह में अपने कमर उछालकर दबाने लगी।
अब साधना बोली: क्यों तड़पा रहे हो बच्ची को,

अब डाल भी दो ना। ये कहते हुए वह मेरे अकड़ा हुआ लौड़ा मसल दी। मैंने अब बुलबुल की दोनों टाँगें पूरी तरह से फैलायी और उसके बीच में आकर अपना लौड़ा उसकी बुर के ऊपर सेट करके अपने लौड़े के सुपाडे से उसकी बुर के पूरे छेद और clit को लम्बाई में रगड़ने लगा। वह उइइइइइइइइ माँआऽऽ कर उठी।
मैं: बुलबुल बेटा, बोलो चोदूँ? बोलो ना।

बुलबुल: आऽऽहहह हाँ अंकल हाँ।

मैं : हाँ क्या? बोलो चोदूँ ?

बुलबुल: हाऽऽयय्यय क्यों तड़पा रहे हैं अंकल । चोदिए ना प्लीज़ आऽऽऽऽऽऽऽहहह

मैं: ठीक है तो डाल दूँ ना अब अंदर अपना लौड़ा ?

बुलबुल: हाय्य्य्य्य्य डालिए नाआऽऽऽऽ।

मैं: क्या डालूँ?

बुलबुल: हाऽऽऽऽऽय्यय आऽऽऽऽऽऽपका गरम लौड़ाआऽऽऽऽ आऽऽह और क्या।

साधना: क्यों तड़पा रहे हो चोदो ना अब उसको। देखो कैसी मरी जा रही है ये चुदवाने के लिए ।
मैंने मुस्कुराते हुए अपना लौड़ा उसकी गीली बुर में पेलना शुरू किया और टाइट जवान बुर मुँह खोलकर मेरा लौड़ा गपकते चली गयी। आऽऽहहह क्या ज़बरदस्त अनुभव था । उसकी बुर पूरे तरह से मेरे लौड़े को अपनी ग्रिप में जकड़ ली और मुझे बरसों के बाद बहुत मज़ा आया। अब मैंने चोदना शुरू किया। पहले धीरे धीरे से उसके होंठ और चूचि चूसते हुए और जल्दी ही ज़ोर से पिलाई करने लगा। वह पागलों की तरह चिल्ला कर आऽऽऽहहह हाय्य्यय और उइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽ कहकर अपनी गाँड़ उठाकर चुदवा रही थी।साधना उसके सिर के पास बैठ कर उसकी छाती सहला रही थी।

अचानक मुझे लगा की वह मुझसे बुरी तरह चिपक रही है और चिल्लाई : उओइइइइओओओओ हाऽऽऽऽऽऽय्य। मुझे लगा कि वह झड़ रही है। पर मैं रुका नहीं और चुदाई चालू रखा। अब मैं भी झड़ने वाला था पर मैं रुका और उसके होंठ चूसते हुए उसकी चूतरों को दबाने लगा। और बोला: बुलबुल मज़ा आ रहा है।
बुलबुल: आऽऽऽह बहुत मजाऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽ रहा है। मैं तो एक बार झड़ भी गयी। अब दूसरी बार झड़ूँगी । आऽऽह आप चोदते रहिए। हाय्ययय क्या मस्त चोदते हैं आऽऽप। आऽऽऽहह।

मैं अब ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा। मैंने उसकी टाँगें उठाकर उसकी छाती पर रख दी और पूरी ताक़त से धक्के मारने लगा। पूरा पलंग हिल रहा था और फ़च फ़च के साथ ही हाय्य्य्य्यय मरीइइइइइइइइ की आवाज़ें गूँज रही थीं।

साधना: थोड़ा धीरे से चोदो ना । क्या लड़की की फाड़ ही डालोगे।

बुलबुल: आऽऽऽऽऽह माँ चोदने दो ऐसे है, हाय्य्य्य्य क्या मजाऽऽऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽ रहाऽऽऽऽऽ है माँआऽऽऽऽऽऽ। सच ऐसे मैं कभी भी नहीं चुदीं। हूँ। उइइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽऽ । ये कहकर वो अपनी गाँड़ उठा के मेरे धक्कों का जवाब देने लगी। अब मैंने भी उसके दोनों चूतरों को एक एक हाथ में लिया और ज़बरदस्त धक्के मारने लगा। साधना अब उसके निप्पल्स दबाने लगी

मेरी एक ऊँगली उसकी गाँड़ के छेद को सहलाती हुई कब उसके छेद में घुस गयी मुझे भी पता नहीं चला। वह अब आऽऽऽहहह कर उठी। शायद उसका यह पहला अनुभव था गाँड़ में ऊँगली करवाने का ।

चुदाई अपने पूरे शबाब पर थी और साधना की साँसे फिर से फूलने लगी थी हमारी चुदाई देखकर। वह अब अपनी बुर में दो ऊँगली डालके मज़े ले रही थी। बुलबुल की मस्ती से भरी चीख़ें जैसे रुकने का नाम ही नहीं के रही थी। फिर अचानक वह चिल्लाई: आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह मैं गइइइइइओओइओओओ । अब मैं भी झड़ने लगा। मैंने उसकी बुर के अंदर उसकी बच्चेदानी के मुँह पर ही अपना वीर्य छोड़ना शुरू किया। पता नहीं कितनी देर तक हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए अपने अपने ऑर्गैज़म का आनंद लेते रहे। साधना बोली: अब उठो भी क्या ऐसे ही चिपके पड़े रहोगे?

मैं धीरे से उसके ऊपर से उठा और उसके बग़ल में लेट गया और बोला: आऽऽहहह आज बहुत दिन बाद असली चुदाई का मज़ा आया। साधना, बुलबुल तो बनी ही है चुदवाने के लिए। तुम इसे कहाँ छुपा कर रखी थी।
बुलबुल मेरे नरम लौड़े से खेलते हुए बोली: मुझे क्यों ऐतराज़ होगा। उनका बेटा पहले है, मेरा पति तो बाद में बना है।

साधना उलझन के साथ बोली: बुलबुल क्या तुम भी यही चाहती हो?

बुलबुल: माँ आज की चुदाई के बाद तो मुझे ऐसी चुदाई की ज़रूरत पड़ेगी ही। अब वो आपका बेटा करे तो ठीक नहीं तो अंकल तो हैं ही मेरे लिए। क्यों अंकल आप मुझे ऐसे ही चोदेंगे ना हमेशा? वो मुझसे चिपकते हुए और मेरी छाती को चूमते हुए बोली। उसका हाथ अभी भी मेरे लौड़े को सहला रहा था।

साधना को सोच में देखकर मैं बोला: साधना, ज़्यादा सोचो मत । तुम दोनों उसको अच्छी तरह से सिखा दो और फिर मज़े लो घर के घर में।

साधना: हाँ लगता है आप ठीक ही कह रहे हो। अब बच्चा होने के बाद बुलबुल आपसे हमेशा तो चुदवा नहीं सकती ना।
बुलबुल: अंकल आपका फिर से खड़ा हो रहा है।
मैं: चलो चूसो इसको। साधना तुम भी आओ और दोनों मिलके चूसो। वह दोनों मिलकर मेरे लौड़े और बॉल्ज़ को चूसने लगीं और मैं आनंद से भर उठा। आऽऽह क्या दृश्य था सास और बहू दोनों मेरे को अद्भुत मज़ा दे रहीं थीं। फिर मैंने साधना को घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी ज़बरदस्त चुदाई की, उसकी लटकी हुई चूचियाँ अब बुलबुल दबा रही थी। साधना उइइइइइइइइ आऽऽऽऽऽहहह उन्ह्ह्ह्ह्ह करके जल्दी ही झड़ गयी। अब मैंने बुलबुल को घोड़ी बनाया और उसकी भूरि गाँड़ के छेद को देखकर वहाँ जीभ डालके उसे चाटने लगा।वह आऽऽऽह कर उठी। फिर मैंने उसकी बुर में लौड़ा पेला और उसकी गाँड़ में दो ऊँगली डालके उसे ज़बरदस्त तरीक़े से चोदने लगा। क़रीब २० मिनट की घिसाई के बाद हम दोनों झड़ गए।

बाद में साधना अपने कपड़े पहनते हुए बोली: मुझे तो लागत है कि बुलबुल को आज ही गर्भ ठहर गया होगा। आप ऐसी चुदाई किए हो आज कि मैं भी हिल गयी।
बुलबुल मुझसे लिपट कर बोली: थैंक यू अंकल । इतना मज़ा दिया और अगर माँ भी बन गयी तो सोने पे सुहागा हो जाएगा।

मैं: अगर का क्या मतलब बेटा, माँ तो बनोगी ही। देखना भगवान ने चाहा तो इस महीने तुम्हारा पिरीयड आएगा ही नहीं।

साधना मेरे लौड़े को पैंट के ऊपर से दबाके बोली: सब इसका कमाल है । आह क्या मस्ताना हथियार है आपका।

हम तीनों हँसने लगे। फिर अगले दिन मिलने का कहकर वो चली गयीं।
शशी ने लौंडे को चूसते हुए पूछा : फिर क्या हुआ ?

मैं: बस इसी तरह चूदाई चलती रही और उसका अगले महीने पिरीयड नहीं आया। फिर दो तीन महीने बाद वह चुदवाना बंद कर दी। बाद में साधना बताई कि वह भी अपने बेटे से ही चुदावाने लगी थी, और अब बुलबुल और वह दोनों उससे ही अपनी बुर की प्यास बुझवाते थे। समय पर उसके एक बेटा हुआ और वो मुझे उसे दिखाने मेरी दुकान पर आयीं। बहुत सुंदर और प्यारा लड़का था । बस इसके बाद कभी कभी वो दुकान पर आतीं हैं तो मुलाक़ात हो जाती है, वरना वह अपने घर ख़ुश और मैं अपने घर ख़ुश ।

यही कहानी है बुलबुल के माँ बनने की, अब तुम्हारी बारी है, तुम भी इसी महीने गर्भ से हो जाओगी, देखना?

फिर मैंने उसका सिर अपने लौंडे से हटाया और उसको लिटाकर उसकी ज़बरदस्त चूदाई की। अपना वीर्य मैंने उसकी बच्चेदानी के मुँह पर ही छोड़ा ताकि वो भी जल्दी से माँ बन जाए।
शशी को चोदने के बाद राज जैसे बाथरूम से बाहर आया उसका फ़ोन बजा। रश्मि थी वो बोली: नमस्ते भाई साब, कैसे हैं?

राज: नमस्ते भाभी जी बढ़िया हूँ। आपको मिस कर रहा हूँ। आप और डॉली बिटिया की बड़ी याद आ रही थी।

रश्मि: मैंने कूरीयर से डॉली की कुंडली भेज दी है। आप पंडित जी से मिलवा लीजिएगा।

राज: अरे अब उन दोनों के दिल मिल गए हैं कुंडली भी मिल ही जाएगी। और शादी के बाद वैसे भी बाक़ी सब का भी मिलन हो ही जाएगा। यह कहते हुए वह कमिनी हँसी हँसा।

रश्मि: भाई सांब आप भी क्या क्या बोलते हैं । सगाई की कोई तारीख़ का सोचा आपने?

राज: अरे आप कल आ जाइए ना फिर हम दोनों पंडित से कुंडली भी मिलवा लेंगे और सगाई की तारीख़ भी तय कर लेंगे। और फिर हम अपनी भी दोस्ती और पक्की कर लेंगे। वह फिर से फूहड़ सी हँसी हँसा। रश्मि को उसके इरादों में गड़बड़ी दिखाई दी पर वह क्या कर सकती थी।
राज भी बाई करके फ़ोन काटा और अपने लौड़े को सहलाते हुए सोचा कि साली क्या माल है, मज़े तो लूँगा ही।

शशी जो उसे ध्यान से देख रही थी बोली: आप समधन को ठोकने का प्लान बना रहे हैं। है ना?

राज: साली मस्त माल है और अपने जेठ से ठुकवा रही है। मैं भी लाइन लगा लिया हूँ। यह कहते हुए वह हँसने लगा।
रात को जय से बात हुई तो वह बोला: आज मेरी डॉली से बात हुई । वह बहुत संस्कारी लड़की है।

राज : हाँ बहुत प्यारी लड़की है। उसकी माँ एक दो दिन में आएगी और हम पंडित से मिलेंगे तुम्हारी सगाई की तारीख़ के लिए।
जय: ठीक है पापा अब मैं सोता हूँ।

राज हँसते हुए: क्या डॉली से रात भर बात करनी है?

जय: नहीं पापा वो ऐसे ही, हाँ उसको गुड नाइट तो करूँगा ही। फिर वह हँसते हुए अपने कमरे में चला गया। उसके जाने के बाद वह भी सो गया । अगले दिन रश्मि का फ़ोन आया : नमस्ते भाई सांब ।

राज: नमस्ते जी। क्या प्लान बनाया है आपने?

रश्मि: जी कल आऊँगी और पंडित जी से सगाई की बात भी कर लेंगे।
राज: कौन कौन आएँगे?

रश्मि: मैं और जेठ जी आएँगे।

राज : चलिए बढ़िया है आइए और कल ही प्लान फ़ाइनल करते हैं। बस एक रिक्वेस्ट है?

रश्मि: कहिए ना, आप आदेश दीजिए। रिक्वेस्ट क्यों कर रहे हैं?

राज: आप गुलाबी साड़ी पहन कर आइएगा। आप पर बहुत जँचेगी।

रश्मि: ओह,आप भी ना, ये कैसी फ़रमाइश है भला? देखती हूँ, मेरे पास है कि नहीं। बाई।

राज भी अपना लौड़ा दबाते हुए सोचा कि क्या मस्त लगेगी वह गुलाबी साड़ी में।

राज सोचने लगा कि ये तो जेठ के साथ आ रही है । उसकी बात कैसे बनेगी? वह बहुत सावधानी से धीरेधीरे आगे बढ़ना चाहता था। उसने सोचा चलो देखा जाएगा।
राज ने जय को बताया कि कल उसकी होने वाली सास आ रही है। जय मुस्कुरा कर दुकान चला गया और शशी राज की खिंचाई करने लगी, रश्मि को लेकर। राज ने उस दिन शशी की ज़बरदस्त चुदाई की उसको रश्मि का सोचकर।
शशी की ज़बरदस्त चुदाई

अगले दिन जय के जाने के बाद अमित और रश्मि आए। राज ने रश्मि को देखा और देखता ही रह गया । वह गुलाबी साड़ी में मस्त क़ातिल माल लग रही थी। अमित भी जींस और शर्ट में काफ़ी स्मार्ट लग रहा था। उसकी और राज की उम्र में कोई ज़्यादा अंतर नहीं था। हाँ रश्मि उनसे छोटी थी करीब ४५ की तो वो भी थी।
साड़ी उसने नाभि दर्शना ही पहनी थी और ब्लाउस भी छोटा सा था और पीछे से पीठ भी करीब पूरी नंगी ही थी। ब्लाउस में से उसके कसे स्तन देखकर राज के लौड़े ने अंगड़ाई लेना शुरू कर दिया था। उससे तेज़ सेण्ट की ख़ुशबू भी आ रही थी।

राज: आप लोग कैसे आए?

अमित: बस से आए। अब सब बैठ गए।

राज ने शशी को आवाज़ दी और वह पानी लाई
-
Reply
06-12-2017, 10:25 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:30 AM by sexstories.)
#14
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज ने देखा कि अमित शशी के ब्लाउस के अंदर झाँकने की कोशिश कर रहा था। वह समझ गया कि ये भी उसके जैसे ही कमीना है। वह मन ही मन मुस्कुराया।

रश्मि: भाई सांब, पंडित जी से बात हुई क्या?

राज: हाँ हुई है ना। अभी चाय पीकर वहाँ जाएँगे।

फिर सब चाय पीने लगे। इधर उधर की बातें भी होने लगी।

अमित: बस से आए। अब सब बैठ गए।

राज ने शशी को आवाज़ दी और वह पानी लाई।

राज ने देखा कि अमित शशी के ब्लाउस के अंदर झाँकने की कोशिश कर रहा था। वह समझ गया कि ये भी उसके जैसे ही कमीना है। वह मन ही मन मुस्कुराया।

रश्मि: भाई सांब, पंडित जी से बात हुई क्या?

राज: हाँ हुई है ना। अभी चाय पीकर वहाँ जाएँगे।

फिर सब चाय पीने लगे। इधर उधर की बातें भी होने लगी।

पंडित को राज ने एक दिन पहले ही सेट किया था। देखना था कि पंडित कितना मेनेज कर पाता है रश्मि को।
कार पंडित के घर के पास रुकी और रश्मि अपना पल्लू ठीक करते हुए कार से उतरी और उसके बड़े दूध राज को मस्त कर गए। पंडित की उम्र क़रीब ६५ साल की थी। उसके घर में बैठने के बाद राज ने कुंडलियाँ देखीं और थोड़ी देर में ही गुँण मिलने की घोषणा कर दिया। अब अमित और राज एक दूसरे को बधाई देने लगे। रश्मि ने भी बधाई दी।

अब राज रश्मि को बोला: भाभी जी, ये बहुत पहुँचे हुए ज्ञानी पंडित जी हैं। आप अपना हाथ इसे दिलाइए। बहुत सटीक भविष्य वाणी करते हैं।

रश्मि बहुत उत्सुकता से अपना हाथ उनको दिखाई।

पंडित ने उसका हाथ देखा और बोला: मैं आपको अकेले में बताऊँगा । आप दोनों थोड़ा बाहर जाइए।
राज और अमित बाहर आ गए।

पंडित उसके मुलायम हाथ को सहला कर बोला: देखो बेटी, मैंने तुम्हारे हाथ को रेखाओं में कुछ अजीब चीज़ देखी है, इसीलिए तुमको बता रहा हूँ।

रश्मि: क्या हुआ पंडितजी ? कुछ गड़बड़ है क्या?

पंडित: अरे नहीं बेटी, अब तुम बिना पति के अपनी बिटिया की शादी करने जा रही हो ना? तो तुम बहुत ख़ुश क़िस्मत हो कि तुमने बहुत अच्छा परिवार मिला है रिश्ते के लिए।

रश्मि ख़ुश होकर: जी पंडित जी, आप सही कह रहे हैं।

पंडित: एक बात और ये रेखा बता रही है कि तुम्हें अब एक नया प्रेमी मिलने वाला है जो तुमको बहुत प्यार करेगा।
रश्मि चौंक कर बोली: छि पंडित जी, ये क्या कह रहे हैं? भला इस उम्र में मुझे ये सब करना शोभा देता है क्या? ये नहीं हो सकता।
पंडित: बेटी, मैं तो वही बताऊँगा जो कि रेखाएँ दर्शा रही है। तुम्हारे जीवन में अब कोई पुरुष आने वाला है जो कि तुम्हें बहुत प्यार करेगा ।

रश्मि: आपने तो मुझे उलझन में डाल दिया। अच्छा सगाई की तारीख़ कब की निकली?
पंडित: अगले महीने की दस को।

रश्मि ने पंडित के पैर छुए और उसे दक्षिणा दी। पंडित मन ही मन मुस्कुराया और सोचा किउसने राज का काम शायद सही तरीक़े से कर दिया है।

रश्मि बाहर आइ और बोली: चलिए सगाई की तारीख़ अगले महीने की १० को निकली है।

अमित: पंडित ने तुमको अकेले में क्या बताया?

राज ने ध्यान से देखा कि उसके गाल शर्म से लाल हो गए थे। वह बोली: बस ऐसे ही कुछ डॉली और जय के बारे में बता रहे थे। कुछ ख़ास बात नहीं है। चलिए अब ।

राज ने देखा किपंडित ने अपना काम ठीक से कर दिया है। अब उसका काम है दाना डालने का। वो कमिनी मुस्कान लाकर सोचा कि अब इसे पटाना है।
मुझे नाम से ही बुलाइए

राज : चलो कहीं कॉफ़ी हाउस में कॉफ़ी पीते हैं।
फिर वो सब एक कॉफ़ी हाउस पहुँचे।
बहुत सही जा रहे हो डिअर…
अपडेट बड़े नहीं ले रहा तो कोई बात नहीं… आप छोटे छोटे अपडेट डालते रहो…’मज़ा आ रहा हँ…
इस वक़्त जब कोई भी लेखक बहे अपडेट नहीं डाल प् रहा होगा तो आपके छोटे छोटे अपडेट सभी पाठकगण
बड़े चाव से पड़ेंगे… यानि मामला टी आर पि का हँ बॉस….
जितने ज्यादा अपडेट उतनी थी ज्यादा व्यूज मिलेगी…
बेस्ट ऑफ़ लक…
कॉफ़ी हाउस में अमित और राज रश्मि के आजु बाजु बैठे। इन्होंने एक कैबिन लिया था ।
राज: भाभी जी क्या लेंगीं?
रश्मि: आप मुझे भाभीजी मत कहिए, मैं तो आपसे छोटी हूँ। आप मुझे नाम से ही बुलाइए।
राज: अच्छा रश्मि क्या लोगी कॉफ़ी के साथ?
रश्मि: मुझे तो सिर्फ़ कॉफ़ी पीनी है।
तभी अमित का फ़ोन बजा और वह बाहर चला गया कहकर कि एक मिनट में आया।
राज : आप कुछ खाती नहीं क्योंकि आपको अपना फिगर बनाए रखना है ना ?
रश्मि: काहे का फ़िगर ? कितनी मोटी तो हूँ मैं?
राज: तुम और मोटी? तुम्हारा फ़िगर तो किसी को भी पागल कर दे रश्मि। सच कहता हूँ कि तुममें जो बात है ना वह मुश्किल से किसी में मिलती है। मैं बताऊँ मुझे तो तुम्हारी जैसी भरी हुई औरतें ही अच्छी लगती हैं । मेरी वाइफ़ का भी फ़िगर बिलकुल तुम्हारे जैसे ही था । मस्त भरा हुआ बदन।
ये सब उसने उसकी चूचि को घूरते हुए कहा।
रश्मि की हालत काफ़ी ख़राब हो रही थी, इस तरह की तारीफ़ सुनकर। आख़िर तो वह भी एक औरत ही थी, जिसे अपने रूप का बखान अच्छा लगता है।
रश्मि: क्या भाई सांब आप तो मेरे पीछे ही पड़ गए।
राज ने हिम्मत की और उसका हाथ अपने हाथ में लेकर बोला: रश्मि सच में तुम्हें देखकर मुझे अपनी स्वर्गीय बीवी की याद आती है । वह भी बिलकुल तुम्हारी जैसी प्यारी थी।
ये कहते हुए उसने अपने आँसू पोछने की ऐक्टिंग की ।
रश्मि भावुक हो गयी और बोली: आप बहुत अच्छे हैं, भाई सांब । कई लोग तो बीवी के जाते ही नयी शादी कर लेते हैं । आपने ऐसा नहीं किया।

राज: अगर तुम जैसी कोई मिल जाती तो मैं वो भी कर लेता।

रश्मि: क्या भाई सांब आप भी कुछ भी बोल देते हैं?

राज : मैं तो दिल की बात कर रहा हूँ। वैसे एक विचार आया है, क्यों ना हम दोनों भी उसी मंडप में शादी कर लें जिसने जय और डॉली की शादी होगी? क्या कहती हो?

उसने रश्मि का हाथ सहलाते हुए कहा।

रश्मि हंस दी: आप भी ना, कोई ऐसा मज़ाक़ भी करता है?

राज: रश्मि, जब तुम हँसती हो तो और भी सेक्सी लगती हो।

रश्मि: छी ये क्या बोल रहे हैं। राज ने देखा कि वह अपना हाथ उसके हाथ से छुड़ाने का कोई प्रयास नहीं कर रही थी ।
रश्मि सोचने लगी किक्या पंडित जी ने राज के बारे में ही कहा था कि उसके ज़िंदगी में प्यार आएगा।

तभी अमित अंदर आया और अपनी कुर्सी ओर बैठ गया। रश्मि ने अपना हाथ राज के हाथ से छुड़ा लिया था। अमित के बैठने के बाद राज ने रश्मि का हाथ टेबल के नीचे से फिर पकड़ लिया था। रश्मि ने भी मना नहीं किया। अब वह उसकी नरम और गुदाज कलाई को सहलाए जा रहा था। तभी राज की नज़र अमित के पीछे रखे आइने पर पड़ी और वह चौक गया। अमित ने भी उसकी एक कलाई को अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया था।

बेचारी रश्मि दो दो मर्दों के हाथों में अपना हाथ दे रखी थी। तभी कोफ़्फ़ी आयी और रश्मि ने बेज़ारगी से राज को देखा और उसने उसका हाथ छोड़ दिया।

राज ने देखा की अमित अब भी उसकी कलाई सहला रहा था ।फिर वो उसकी जाँघ भी सहलाने लगा ।

राज ने भी हिम्मत की और अपना एक हाथ उसके घुटने पर रख दिया। रश्मि चौक कर उसकी ओर देखी। पर कुछ नहीं बोली।

फिर जब अमित का हाथ उसकी जाँघ पर ज़्यादा ही ऊपर की ओर आ गया तब वह अमित से बोली: भाई सांब, आपकी कुर्सी पीछे करिए ना मुझसे टकरा रही है। अमित समझ गया कि वह कुर्सी के बहाने उसे जाँघ से हाथ हटाने को कह रही है। उसने हाथ भी हटा लिया और कुर्सी भी खिसका ली।

राज ने आइने में सब देखा और फिर अपना हाथ धीरे से उसकी जाँघ पर फेरने लगा, रश्मि ने उसकी तरफ़ देखा पर वह चुपचाप उसकी जाँघ सहलाता रहा। अब रश्मि के चुप रहने से उसकी हिम्मत भी बढ़ी और वह जाँघ को हल्के से दबाने भी लगा। रश्मि की बुर में हलचल होने लगी।

अमित तो उसको चोदते ही रहता था पर राज का स्पर्श नया था और पंडित भी बोला था कि नया प्रेमी मिलेगा। तभी राज ने अपना चम्मच नीचे गिरा दिया और उसको उठाने के बहाने रश्मि की साड़ी को भी थोड़ा सा उठा दिया और उसकी पिंडलियां सहलाने लगा। नरम नरम भरी हुई पिंडली और घुटना मस्त लगा उसको।

रश्मि भी उसकी हिम्मत की दाद देने लगी। उसने अपना हाथ राज के हाथ पर रखा और उसे हटाने को इशारा किया। पर राज की तो हिम्मत जैसे और बढ़ गयी। वो उसकी साड़ी को और उठाके उसकी नरम गुदाज जाँघ सहलाने लगा। रश्मि की आह निकल गयी। अमित ने पूछा क्या हुआ?

रश्मि: कुछ नहीं मुँह जल गया थोड़ी ज़्यादा गरम है कोफ़्फ़ी ।

तभी राज का हाथ उसकी जाँघ में और आगे बढ़ता हुआ उसकी पैंटी से थोड़ा ही दूर था । तभी वेटर बिल ले आया और उसने अपना हाथ बाहर निकाल लिया और अपनी उँगलियाँ चाट लिया। रश्मि उसके इशारों को समझ गयी और उसका चेहरा लाल हो चुका था । उसकी बुर पैंटी को गीला करने लगी थी । फिर वो कोफ़्फ़ी हाउस से बाहर आए।
राज बाहर आते हुए बोला: चलिए आपको दुकान दिखाया जाए और जय से भी मिल लेना।
मस्त नरम कमर है तुम्हारी

रश्मि: हाँ हाँ मुझे दामाद से तो मिलना ही है चलिए। कोफ़्फ़ी हाउस बाहर आते आते राज ने उसकी नंगी कमर को हल्के से छुआ और वो सिहर उठी। राज धीरे से उसके पीछे चलते हुए बोला: मस्त नरम कमर है तुम्हारी।
रश्मि: आप अब बच्चों जैसी हरकत बन्द करिए आपको शोभा नहीं देती ।
-
Reply
06-12-2017, 10:25 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:29 AM by sexstories.)
#15
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
अमित आगे चल रहा था अब राज ने उसके चूतड़पर भी हल्के से हाथ फेरा। वह मुड़कर उससे बोली: क्या कर रहे हैं। कोई देख लेगा।

राज: सॉरी । और फिर वो कार में बैठकर दुकान की ओर चल पड़े।

दुकान में जय ने उनका स्वागत किया और उसने अमित और रश्मि के पैर छुए। रश्मि ने उसे आशीर्वाद दिया और प्यार से उसका माथा चूमा। ऐसा करते हुए उसकी बड़ी चूचियाँ जय की ठुड्डी को छू गयीं और राज को जय से जलन होने लगी।

जय उन दोनों को बड़े उत्साह से दुकान दिखा रहा था। और राज की नज़र अपनी समधन के बदन से हट ही नहीं रही थी। फिर अमित जय के साथ men सेक्शन में कपड़े देखने लगा और राज रश्मि को बोला: चलो मैं तुम्हें कुछ ख़ास साड़ियाँ दिखाता हूँ। वह उसे लेकर साड़ी के काउंटर में पहुँचा और उसको कई शानदार साड़ियाँ दिखाकर बोला: ये सब तुमको बहुत अच्छी लगेंगी। अपने ऊपर लपेट कर देखो।

रश्मि उदास होकर बोली: भाई सांब, अभी तो मुझे डॉली के लिए कपड़े लेने है और शादी में बहुत ख़र्च होगा इसलिए मैं अपने लिए तो अभी कुछ नहीं खरिदूँगी।

राज: अरे तुमसे पैसे भला कौन माँग रहा है। तुम बस साड़ी पसंद करो मेरी ओर से गिफ़्ट समझना।
रश्मि: नहीं नहीं मैं आपसे कैसे गिफ़्ट ले सकती हूँ? हम तो लड़की वाले हैं।
राज: अगर डॉली के पापा होते तो तुम्हारी बात सही होती पर अभी इसका कोई मतलब नहीं है। ठीक है? मैं चाहता हूँ कि ये गिफ़्ट तुम मेरी प्रेमिका बन कर लो।
रश्मि हैरानी से बोली: ये आप क्या बोल रहे हैं? मैं कैसे आपकी प्रेमिका हो सकती हूँ भला?
राज: क्यों मर्द और औरत ही तो प्रेम करते हैं । तो हम क्यों नहीं कर सकते?
रश्मि उठकर जाने लगी तब राज बोला: तुम्हें मेरी क़सम है अगर तुम बिना साड़ी लिए गई तो ।
रश्मि फिर से बैठ गयी और बोली; सब पूछेंगे तो मैं क्या बोलूँगी कि गिफ़्ट क्यों ली?
राज ने जेब से ५४००/ निकाले और उसको देकर बोला: कहना कि तुमने साड़ी अपने बचाए हुए पैसों से ख़रीदी है।
वो चुपचाप पैसे रख ली और फिर २ साड़ियाँ ली एक अपने लिए और एक डॉली के लिए।
अपनी साड़ी उसने राज की पसंद की ही ली थी। राज ने उसे साड़ी के ऊपर ही साड़ी पहनने में मदद भी की और इस बहाने उसके गुदाज बदन का भी मज़ा लिया। उसके हाथ एक बार उसकी चूचि पर भी पड़े और दोनों सिहर उठे।
काउंटर पर पैसे देने के समय राज बोला: क्यों जय अपनी सास और बीवी की साड़ियों के पैसे लेगा
जय ने पैसे नहीं लिए और साड़ियाँ पैक करके रश्मि को दे दीं।
रश्मि धीरे से बोली: और वो पैसे जो आपने मुझे दिए उनका क्या?
राज: मेरी तरफ़ से कुछ अच्छी सी झूमके ले लेना। तुम पर बहुत सजेंगे।
रश्मि मुस्कुराती हुए बोली: शादी मेरी नहीं मेरी बेटी की हो रही है।

राज अब ख़ुश था उसको पता चल गया था कि उसे पैसों की ज़रूरत है और वह रश्मि को पटाने में क़रीब क़रीब सफल होने जा रहा था।
समधन को कहाँ छोड़ आए

अमित बोला: अब चलते हैं, आप हमें बस स्टॉप पर छोड़ दो।
राज : खाना खा कर जाना अभी इतनी जल्दी क्या है।
रश्मि: नहीं अभी जाना होगा। अब सगाई की तैयारी भी तो करनी है।
राज उनको बस स्टॉप तक ले गया। जब अमित टिकट लेने गया तब राज ने रश्मि का हाथ पकड़ लिया और बोला: रश्मि मुझे तुमसे प्यार हो गया है। तुम चाहो तो मैं तुमसे शादी करने को तैयार हूँ।
रश्मि: काश आप मुझे पहले मिले होते तो मैं आपसे शादी कर लेती पर अब तो बहुत देर हो चुकी है।
राज: तो क्या हमारा प्यार ऐसे ही दम तोड़ देगा। कमसे कम कुछ समय तो हमें एकांत में आपस में बातें करते हुए बिताना चाहिए।
रश्मि: मैं भी आपसे मिलना चाहती हूँ, पर देखिए भाग्य को क्या मंज़ूर है।
राज: हम चाहें तो हम ज़रूर मिल सकते हैं। मैं तुम्हें फ़ोन करूँगा ठीक है?
रश्मि: फ़ोन नहीं SMS करिएगा।

फिर अमित को आते देख राज ने रश्मि के हाथ को एक बार और दबाया और फिर उसका हाथ छोड़ दिया।

अब अमित बस में चढ़ गया पर साड़ी के कारण रश्मि को चढ़ने में थोड़ी दिक़्क़त हो रही थी। राज ने उसकी कमर और चूतरों को दबाकर उसको ऊपर चढ़ा दिया। वो मुस्कुरा कर पलटी और प्यार से थैंक्स बोलकर गाड़ी में बैठ गयी और बस चली गयी।

राज रश्मि के बारे में सोचते हुए अपने घर को वापस आया। घर पर शशी खाना लगा रही थी।

वो आँख मारकर बोली: समधन को कहाँ छोड़ आए?
राज उसको खींचकर अपनी गोद में बिठाया और बोला: समधन को मारो गोली। यहाँ तू तो है ना मेरे लिए । ये बोलते हुए उसकी छातियाँ दबाते हुए उसके होंठ चूसने लग। शशी ने कोई विरोध नहीं किया। वो भी सुबह से चुदासि थी। उसको अपनी गोद से हटाकर राज खड़ा हुआ और अपनी पैंट और चड्डी निकाल दिया। उसका खड़ा लौड़ा बुरी तरह से अकड़ा हुआ था ।

वह वापस सोफ़े पर बैठा और शशी को ज़मीन में बिठाया और वह उसकी जाँघों के बीच आके उसका मोटा लौड़ा चूसने लगी। थोड़ी देर बाद वह शशी को सोफ़े पर उलटा लिटाया और उसकी साड़ी और पेटिकोट को एक साथ ऊपर चढ़ाया और उसके नंगे चूतरों को दबाकर उसको सोफ़े के किनारे पर लाया और उसकी कमर को पकड़कर उसकी टाँगे फैलाकर उसकी बुर में पीछे से अपना लौड़ा पेल दिया। वो अब उसे चौपाया बनाकर बुरी तरह से चोदने लगा। उसने आँखें बन्द की और रश्मि के चेहरे को याद किया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा।

शशी की चीख़ें निकलने लगी और वह आऽऽऽऽहहह मरीइइइइइइओइ उइइइइइइइ कहकर मज़े से चुदवाने लगी। जल्दी ही शशी झड़ने लगी। अब उसने रस से सना अपना लौड़ा बाहर निकाला और उसने उसपर थूक लगाया और ऊँगली में ढेर सारा थूक लेकर उसकी गाँड़ में दो ऊँगली डाल कर अंदर बाहर करने लगा। शशी चीख़ी :आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह जलन हो रही है।
पर आज तो राज कुछ भी सुनने को जैसे तैयार नहीं था । वह सामने पड़ी क्रीम की शीशी से क्रीम निकाला और शशी की गाँड़ में लगाया और अपने लौड़े पर भी मला और फिर उसकी गाँड़ में अपने लौड़े का सुपाड़ा अंदर करने लगा।
शशी चिल्लाई: आऽऽऽऽंह दर्द हो रहा है।
पर राज आज कुछ अलग ही मूड में था। उसने आधा लौड़ा एक धक्के में ही अंदर कर दिया। और अगले धक्के में पूरा लौड़ा आँड तक पेल दिया।
अब वह शशी की गाँड़ को ज़बरदस्त तरीक़े से चोदने लगा। कमरा ठप ठप की आवाज़ों से और शशी की हाय्य्यय उइइओओइओओ मरीइइइइइइइ गूँजने लगा।
जल्दी ही शशी भी मज़े में आ गयी और अपने चूतरों को पीछे दबाके पूरा मज़ा लेने लगी। अब राज ने अपनी चुदाई की गति बढ़ाई और वह आऽऽहहहह ह्म्म्म्म्म्म करके झड़ने लगा। उसने नीचे हाथ बढ़ाकर शशी की बुर में भी तीन ऊँगली डाली और उसकी clit को भी रगड़ा। शशी भी उइइइइइइइओ माँआऽऽऽऽऽऽ कहकर झड़ गयी। अब राज उसके अंदर से अपना लौड़ा निकाला और बाथरूम में जाकर सफ़ाई करके बाहर आकर नंगा ही सोफ़े पर बैठा। शशी भी बाथरूम से आयी और उसंके पास बैठ गयी।
इतनी बुरी तरह से चोद रहे थे

शशी: आज आपको क्या हो गया था? इतनी बुरी तरह से चोद रहे थे?

राज: बस ऐसे ही, सुबह से रश्मि ने बहुत गरम कर दिया था। वैसे तुम्हारी गाँड़ बहुत मस्त है। दुःख रही होगी ना?
शशी: नहीं दुखेगी? पूरी फाड़ दी है आपने। ख़ून भी आ गया है।

राज: क्या करूँ? इतनी सुंदर दिख रही थी कि रहा नहीं गया और पेल दिया। पर बहुत मज़ा आया । और हाँ मज़ा तो तुमको भी आया क्योंकि चूतड़ दबाकर पूरा लौड़ा निगल रही थी तुम भी।

शशी: जी मज़ा तो आया पर अब दुःख रही है।

राज उठा और एक मलहम लेकर आया और बोला: चलो साड़ी उठाओ मैं ये मलहम लग देता हूँ। जब मैं पायल याने अपनी बीवी की गाँड़ मारता था तब भी ये क्रीम लगा देता था।

शशी उठी और अपनी साड़ी उठायी और अपने चूतरों को उसके सामने करके आगे को झुकी और अपने चूतरों को फैला दी। उसकी बुरी तरह से लाल गाँड़ का छेद उसके सामने था । उसने छेद को फैलाकर उसकी गाँड़ में उँगली से क्रीम डाली और बाद में उसके छेद के ऊपर भी क्रीम लगा दिया। शशी: आह अब आराम मिल रहा है। ये कहकर उसने अपनी साड़ी नीचे गिरा दी।
अब वह बाथरूम जाकर हाथ धोया और फिर जाकर लेट गया और रश्मि के बदन की ख़ुशबू को याद करते हुए सो गया।
शाम को उसने रश्मि को sms किया: हाई, क्या हो रहा है?

रश्मि का जवाब थोड़ी देर से आया: बस सगाई की प्लानिंग।

राज: हम्म और मुझे मिस कर रही हो?

रश्मि: आप मिस कर रहे हैं क्या?

राज: बहुत ज़्यादा मिस कर रहा हूँ।

रश्मि: मैं भी मिस कर रही हूँ।

राज: अच्छा मैं तुमको कैसा लगता हूँ?

रश्मि: अच्छे लगते हैं।

राज: मेरा क्या अच्छा लगता है?

रश्मि: आपकी बातें और आपका अपनापन दिखाना।

राज: बस और कुछ नहीं?

रश्मि: और अभी देखा ही क्या है अभी तक?

राज: तुम मौक़ा तो दो, और सब भी दिखा देंगे।

रश्मि: छी, कैसी बातें कर रहे हैं? कुछ तो उम्र का लिहाज़ कीजिए।

राज: उम्र का क्या हुआ? ना मैं अभी बूढ़ा हुआ हूँ और तुम तो अभी बिलकुल जवान ही धरी हो।

रश्मि: मेरी बेटी जवान हो गयी है और आपका बेटा भी जवान हो गया है और आप मुझे जवान कह रहे हैं?

राज: ज़रा शीशे में देखो क्या मस्त जवान हो तुम। तुम्हारे सामने तो आज की जवान लड़कियाँ भी पानी भरेंगी।

रश्मि: आप भी मुझे शर्मिंदा करने का कोई मौक़ा नहीं छोड़ते।

राज: मैं सही कह रहा हूँ। तुम्हारे सामने तो अब क्या बोलूँ? तुम बुरा मान जाओगी।

रश्मि: नहीं मानूँगी, बोलिए क्या बोलना है?

राज: तुम डॉली से भी ज़्यादा हसीन हो जानेमन। रश्मि इस सम्बोधन से चौंकी और लिखी: अच्छा अब रखती हूँ।
राज: नाराज़ हो गयी क्या? 

रश्मि: अब आप माँ बेटी में तुलना कर रहे हो, तो क्या कहूँ?

राज: अच्छा चलो जाने दो, ये बताओ अब कब मिलना होगा?

रश्मि: अभी तो कुछ पक्का नहीं है। देखिए कब भाग्य मिलाता है हमें।

राज: ठीक है, इंतज़ार रहेगा। बाई ।

रश्मि: बाई।
राज ने सोचा कि गाड़ी सही लाइन पर है।
-
Reply
06-12-2017, 10:26 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:29 AM by sexstories.)
#16
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
अगले कुछ दिन राज ने पूरा दिन सगाई की प्लानिंग में लगाया। वह चाहता था कि पूरा फ़ंक्शन बढ़िया से हो। रश्मि से वह sms के द्वारा बात करते रहता था। तभी अमित का एक दिन फ़ोन आया कि वह राज के शहर आ रहा है ताकि सारी बातें सगाई की अच्छी तरह से हो जाएँ। रश्मि नहीं आ रही है ये जान कर वह काफ़ी निराश हुआ।
अगले दिन अमित आया और दिन भर दोनों सगाई की तैयारीयों का जायज़ा लिया और फिर दोपहर को खाना एक रेस्तराँ में खाया। राज ने बीयर ऑर्डर की तो अमित बोला किमैं तो जिन पियूँगा। राज बीयर और अमित जिन पीने लगा। जल्दी ही अमित को चढ़ गयी। 

राज ने सोचा कि इससे नशे की हालत में रश्मि की कुछ बातें की जाएँ।

राज: अमित भाई ये तो बताओ कि रश्मि इस उम्र में भी इतनी सुंदर कैसे है?

अमित थोड़े से सरूर में आकर: पता नहीं यार, मगर भगवान उसपर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान हैं। देखो ना इस उम्र में भी क्या क़यामत लगती है।

राज: वही तो देखा जाए तो इस उम्र में औरतें मोटी और बेडौल हो जाती हैं, पर वह तो अभी भी मस्त फ़िगर मेंटेंन की है।

अमित: हाँ भाई सच है अभी भी मस्ती से भरी हुई लगती है।

राज: एक बात पूँछुँ बुरा तो नहीं मानोगे?

अमित नशे में : पूछो यार अब तो हम दोस्त हो गए।

राज: वो विधवा है और तुम दोनों एक ही घर में रहते हो। तुम्हारा ईमान नहीं डोलता ?

वह जान बूझकर पूछा हालाँकि उसको तो पता था कि वो रश्मि की चुदाई करता रहता है।

अमित झूमते हुए : अब यार तुमसे क्या छपाऊँ, सच तो ये है जब मेरा भाई इसको ब्याह के लाया था तभी से मैं उसका दीवाना हो गया था।

राज: ओह तो क्या तुम उसकी इसके पति के जीते जी ही पटा चुके थे।

अमित: हाँ यार, मेरी बीवी बीमार रहती थी और जवानी का मज़ा नहीं देती थी। और मेरा छोटा भाई भी इसे ज़्यादा सुख नहीं दे पाता था। सो ये मुझसे जल्दी ही आसानी से पट गयी। सच तो ये है कि डॉली मेरी ही बेटी है।

राज उसका मुँह देखता रह गया।

राज: ओह ये बात है। तो क्या अभी भी तुम उसको चो- मतलब करते हो?
अमित: हाँ यार पर सबसे छुपाकर। मगर मुझे शक है कि घर में सबको पता है और सब चुप रहते हैं। पर हम अभी भी खूल्लम ख़ूल्ला कभी नहीं करते।

राज: यार तुम तो बहुत लकी हो ।

अमित: लगता है कि तुमको भी पसंद है वो। है ना? मैंने तुमको उसे कई बार घूरते देखा है।

राज: हाँ यार सच में बोम्ब है वो, मेरी नींद ही उड़ा दी है उसने।

अमित: तुम चाहो तो उसे पटा सकते हो?

राज: वो कैसे?

अमित: देखो अभी हमें पैसों की बहुत ज़रूरत है अगर तुम इस समय उसकी मदद कर दोगे तो वह तुम्हारे सामने समर्पण कर देगी।

राज: ओह ऐसा क्या?

अमित: वो इस समय ज़ेवरों को लेकर बहुत चिंतित है। तुम इसमे उसकी मदद कर सकते हो।

राज: अरे ये तो बहुत ही सिम्पल सी बात है। मैं अपनी बीवी के ज़ेवर पोलिश करवा के उसे दे दूँगा और वो उसे मेरी बहु को दे देगी। इस तरह घर का माल घर में वापस आ जाएगा। और सबकी इज़्ज़त भी रह जाएगी।

अमित: वाह क्या सुझाव है। वो तो तुम्हारे अहसान तले दब ही जाएगी। तुम उससे मज़े कर लेना।

राज: तुमको बुरा तो नहीं लगेगा।

अमित: यार इसमें बुरा लगने की क्या बात है? यार औरत होती है चुदाई के लिए। तुमसे भी चूद जाएगी तो क्या उसकी बुर घिस जाएगी?

राज: आऽऽह यार तुमने तो मस्त कर दिया। अभी उसे फ़ोन लगाऊँ क्या?

अमित: लगाओ इसमे क्या प्रॉब्लम है।

राज रश्मि को फ़ोन लगाया।

रश्मि: हाय ।

राज: हाय कैसी हो?

रश्मि: ठीक हूँ।

अमित ने इशारा किया कि स्पीकर मोड में डालो और मेरे बारे में यहाँ होने की बात ना करो। ये कहते हुए उसने आँख मारी।

राज: क्या कर रही हो? अमित बोल रहा था कि तुम सगाई की तैयारी में लगी हो।
रश्मि: हाँ बहुत काम है अभी। अमित भाई सांब चले गए क्या वापस?

राज ने आँख मारते हुए कहा: हाँ वो वापस चले गए। वो बता रहे थे कि तुम ज़ेवरों के लिए बहुत परेशान हो?

रश्मि: वो क्या है ना मेरे पास इतने पैसे नहीं है कि बहुत महँगे ज़ेवर ख़रीद सकूँ तो थोड़ी सी परेशान हूँ।

राज: अरे इसमे परेशानी की क्या बात है। तुम ऐसा करो कि कल यहाँ आ जाओ और मेरी बीवी के ज़ेवर पसंद कर लो। तुम उनको ही अपनी बेटी को दे देना। वह आख़िर मेरे घर में वापस आ जाएँगे। मुझे पैसे का कोई लालच नहीं है। मुझे तो बस अपने बेटे की ख़ुशी के लिए डॉली जैसी प्यारी बहु चाहिए।

रश्मि: ये क्या कह रहे हैं आप । क्या आप सच में ऐसा करेंगे? मेरी तो सारी परेशानी ही दूर हो जाएगी।
राज: अरे मैं यही तो चाहता हूँ कि तुम्हारी सारी परेशानी दूर हो जाए। तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो। और तुमको परेशान नहीं देख सकता। 

अमित मुस्कुराया और आँख मारी।

रश्मि: तो मैं कब आऊँ?

राज : अरे कल ही आ जाओ और ज़ेवर पसंद कर लो तो मैं उनको पोलिश करवा दूँगा।

रश्मि: ठीक है मैं कल अमित भाई सांब के साथ आ जाऊँगी।

राज : अरे वो तो अभी वापस गया है क्या फिर से कल वापस आ पाएगा?

रश्मि: ओह हाँ देखिए मैं उनको बोलूँगी आ सके तो बढ़िया वरना अकेली ही आ जाऊँगी।

राज: तुम मुझे बता देना तो मैं तुमको लेने बस अड्डे आ जाऊँगा। बस एक रिक्वेस्ट है।

रश्मि: बोलिए ना ?

राज: कल आप काली साड़ी और स्लीव्लेस ब्लाउस में आओगी।

रश्मि: आप भी ना, मुझे हमेशा हेरोयन की तरह सजने को कहते रहते हैं।
राज: क्या करूँ? दिल से मजबूर हूँ ना। आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो।
रश्मि: भाई सांब आप भी ना ।
राज: एक बात बोलूँ अमित बहुत लकी है जो हमेशा तुम्हारे साथ रहता है। मुझे तो उससे जलन हो रही है।
रश्मि हड़बड़ाकर : उन्होंने ऐसा कुछ कहा क्या?
राज: क्या कहा? किस बारे में पूछ रही हो?
रश्मि: वो कुछ नहीं।
अमित मुस्कुराया और फिर आँख मारी।
राज: एक बात पूछूँ ? बुरा ना मानो तो?
रश्मि: पूछिए।
राज: देखो तुम्हारे पति के जाने के बाद अमित तुम्हारा बहुत ख़याल रखता है । वह तुमको बहुत घूरता भी है। तुम दोनों में कुछ चल रहा है क्या?
रश्मि: क्या भाई सांब, आप भी, ऐसा कुछ नहीं है। वो मेरे जेठ जी हैं।
अमित फिर से मुस्कुराया।
राज: अच्छा चलो छोड़ो ये सब, कल मिलते है। हाँ काली साड़ी याद रखना।
रश्मि हँसते हुए : ठीक है काली साड़ी ही पहनूँगी। बाई।
राज: बाई ड़ीयर । उसने फ़ोन काट दिया।
अमित: अरे अपने मुँह से थोड़े मानेगी। वह बहुत तेज़ औरत है।
राज: चुदाई में मज़ा देती है?
अमित: अरे बहुत मज़ा देती है। वह बहुत प्यासी औरत है। पटा लो और ठोको।
राज: देखो कल क्या होता है? वैसे तुम वापस आओगे क्या उसके साथ?
अमित: अरे नहीं। तुम मज़े लो। मैं आऊँगा तो तुम्हारा काम बिगड़ जाएगा।
राज : थैंक्स यार।
अमित: अब वापस जाता हूँ।
राज: चलो तुमको बस अड्डे छोड़ देता हूँ।
राज उसे छोड़कर घर जाते हुए सोचने लगा कि कल देखो रश्मि का बैंड बजता है कि नहीं।
सुबह शशी के हाथ की चाय पीते हुए राज पूछा: शशी तुम्हारा पिरीयड कब आता है?
शशी: जी अगले चार पाँच दिन में आ जाना चाहिए।
राज मुस्कुराया: इस बार नहीं आएगा। मुझे पक्का विश्वास है कि तुम गर्भ से हो जाओगी।
शशी ख़ुशी से उसकी गोद में बैठ कर उसको चूम ली और बोली: बस राजा आपकी बात सच हो जाए तो मेरा जीवन ही सँवर जाएगा।
राज: उसकी चूचि दबाते हुए बोला: अच्छा अपने पति से भी चुदवाती रहती हो कि नहीं?
शशी मुँह बना कर: हाँ वह भी तीन चार दिन में एक बार कर ही लेता है पर पाँच मिनट में आहह्ह करके साला खलास हो जाता है।
राज: चलो ना मैं तो तुमको एक एक घंटे रगड़ता ही हूँ ना। वो चोदे या ना चोदे क्या फ़र्क़ पड़ता है।
तभी रश्मि का sms आया: अभी बात कर सकती हूँ?
राज ने शशी की बुर को सलवार के ऊपर से दबाकर आँख मारकर कहा: समधन से बात करूँगा।
शशी: हमको भी सुनना है प्लीज़।
राज ने फ़ोन लगाया और स्पीकर मोड में डाल दिया। शशी की सलवार का नाड़ा खोला और उसकी पैंटी में हाथ डालकर उसकी बुर को सहलाते हुए बोला: हाय रश्मि कैसी हो?
रश्मि : मैं ठीक हूँ, आपको ये बताना था कि अमित भाई सांब तो मना कर दिए आने के लिए। अब मैं अकेली ही आऊँगी ।
राज ने शशी की बुर में दो ऊँगली डाली और बोला: कितने बजे तक आ जाओगी?
रश्मि: मैं क़रीब ११ बजे तक तो आ ही जाऊँगी। मैं आपको फ़ोन कर दूँगी बस अड्डे से।
राज: नहीं, तुम मुझे पहले फ़ोन कर देना, ताकि तुम्हें बस अड्डे पर इंतज़ार ना करना पड़े।
फिर राज ने उसके बुर से उँगलियाँ निकाली और उनको चाट लिया। शशी ने उसके हाथ में हाथ मारा और कान में कहा: छी क्या गंदे आदमी हो। 
-
Reply
06-12-2017, 10:26 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:26 AM by sexstories.)
#17
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
रश्मि: ठीक है भाई सांब।

शशी की चूचि दबाते हुए राज बोला: वो काली साड़ी याद है ना और स्लीव्लेस ब्लाउस भी। तुम्हें इस रूप में देखने की बहुत इच्छा है।

रश्मि: अब मैं आपको क्या बोलूँ, साड़ी तो है पर ब्लाउस चार साल पुराना है छोटा हो गया है। उसमें साँस रुक रही है। समझ नहीं आ रहा है कि क्या करूँ।

राज: अरे ये समस्या तो सरिता को भी आती थी, हर दो साल में उसका बदन भर जाता था और ब्लाउस यहाँ तक की ब्रा भी छोटी हो जाती थी। वो इसका दोष मुझे देती थी हा हा कहती थी कि मैंने दबा दबा कर बड़ा कर दिया, हा हा । बहुत मज़ाक़िया थी वो।

बातों बातों में राज कमीनेपन पर उतर आया था।

रश्मि: क्या भाई सांब कैसी बातें कर रहे हैं वह भी स्वर्गीय भाभी जी के बारे में।

राज: अरे वही तो, फिर वह ब्लाउस की सिलाई खोल लेती थी और फिर से सिल लेती थी ढीला करके। पर ब्रा तो नई लाता था मैं बड़े साइज़ की, हा हा।

शशी उसको देखते हुए फुसफुसाई : बहुत कमीने साहब हो आप।

रश्मि: आप भी ना कुछ भी बोले जा रहे हैं। मैं समझ गयी कि मुझे क्या करना है। अच्छा अब रखती हूँ, बाई।
राज : ठीक है मिलते हैं। बाई।
अब फ़ोन काटकर वह शशी को बोला: आज रश्मि आ रही है क़रीब १२ बजे। मैं चाहता हूँ कि तुम अपना काम करके खाना लगा कर ११:३० बजे तक चले जाना।
शशी: तो आज समधन की चुदाई का प्लान है, है ना?
राज: सही सोचा तुमने, कोशिश तो करूँगा ही। अब चुदाई होगी या नहीं यह तो रश्मि पर निर्भर है।
शशी: ठीक है मैं जल्दी चली जाऊँगी आप मज़े करना। वह यह कहकर उसकी गोद से उठी और किचन में जाने लगी।
राज: शशी आज तुमको नहीं चोदूंग़ा । मैं चाहता हूँ कि अपना माल बचा कर रखूँ रश्मि के लिए।

शशी हंस कर बोली: कहीं उसको भी प्रेगनेंट मत कर देना? 
राज: हा हा नहीं अब इस उम्र में क्या होगा उसका?

फिर वह नहाने चला गया। थोड़ी देर बाद जय भी उठकर आया और शशी ने उसे भी चाय दी।
राज: आज तुम्हारी सास आ रही है।

जय: हाँ डॉली का SMS आया है अभी। क्यों आ रहीं हैं?
राज: सगाई के बारे में कुछ बात करनी है उसने।
जय: ओह तो क्या मेरा होना भी ज़रूरी है?
राज: अरे नहीं बेटा तुम उसमें क्या करोगे? वैसे मैं उनको तुमसे मिलवाने दुकान में ले आऊँगा ।
जय: ठीक है पापा अब मैं नहा लेता हूँ।
फिर बाद में दोनों नाश्ता किया और जय दुकान चला गया। शशी भी खाना बनाने लगी।
राज ने अपने बेडरूम का दरवाज़ा बंद किया और तिजोरी से हीरे के तीन सेट निकाले और कुछ सोने के भी निकाले । फिर वह उनको देखकर सोचने लगा कि रश्मि पर कौन सा ear ring अच्छा लगेगा। फिर उसने एक हीरे का कान का झुमका पसंद किया। अब वह तैयार था रश्मि का दिल जीतने के लिए।
राज ने आज एक बढ़िया टी शर्ट और जींस पहनी और सेंट लगाकर स्पोर्ट्स शू पहने। आज वह रश्मि को पटाने का कोई मौक़ा नहीं छोड़ना चाहता था। 

शशी जा चुकी थी और वह अब तैयार था तभी रश्मि का फ़ोन आया : मैं बस अड्डे पहुँचनी वाली हूँ।
राज: बस मैं अभी दस मिनट मे पहुँच रहा हूँ।

राज की कार जब बस अड्डे पहुँची तो बस अभी आइ नहीं थी।

वह इंतज़ार कर रहा था तभी बस आयी और फिर उसमें से रश्मि उतरी काली साड़ी में। आह क्या जँच रही थी। उसका गोरा दूधिया बदन मस्त दिख रहा था काली साड़ी में। कसी साड़ी में छातियों का उभार पहाड़ सा दिख रहा था। जब वह पास आइ तो पारदर्शी साड़ी से उसका गोरा पेट और गहरी नाभि देखकर राज का लौड़ा झटके मार उठा।

तभी एक स्कूटर उसके पास आकर हॉर्न बजाया और वह पलटी उससे दूर होने के लिए और राज की तो जैसे साँस ही रुक गयी। क्या मस्त बड़े बड़े गोल गोल चूतड़ थे। बहुत ही आकर्षक दिख रहे थे।टाइट पहनी साड़ी से पैंटी की लकीरें भी साफ़ दिख रही थीं। अब तो उसको अपना लौड़ा पैंट में अजस्ट करना ही पड़ा।

जब वह पास आइ तो उसने हाथ जोड़कर उसे नमस्ते की और उसने भी उसके हाथ को पकड़कर कहा: नमस्ते। सफ़र में कोई परेशानी तो नहीं हुई?

रश्मि: दो घंटे में क्या परेशानी होगी?

राज: अरे इतनी हॉट दिख रही हो किसी ने रास्ते में तंग तो नहीं किया?

रश्मि: आप भी ना, मेरे साथ एक महिला ही बैठी थी ।
राज : चलो तब ठीक है, अगर कोई आदमी होता तो तुमको तंग कर डालता।
रश्मि: अब चलिए यहाँ से पता नहीं क्या क्या बोले जा रहे हैं।
राज: चलो,कार वहाँ है।
फिर राज ने कार चालू की और बातें करने लगा।

राज: तो काली साड़ी पहन ही ली। थैंक्स मेरी बात रखने के लिए।

रश्मि: अब आप इतनी बार बोले थे तो आपकी बात तो रखनी ही थी।

राज उसकी ब्लाउस को देखते हुए बोला: पर वो ब्लाउस का हल कैसे निकला?
रश्मि हँसकर: वैसे ही जैसे आपने कहा था। साइड से थोड़ा ढीला करी हूँ।
राज: और ब्रा का ? अब तुम काले ब्लाउस के नीचे सफ़ेद ब्रा तो पहन नहीं सकती ना?
रश्मि शर्माकर: आप भी ना, कोई महिला से ऐसा सवाल करता है भला?
राज: फिर भी बताओ ना ?
रश्मि: डॉली के पास काली ब्रा थी वही पहनी हूँ।
राज चौंक कर: डॉली बेटी की? पर उसके तो तुमसे काफ़ी छोटे हैं ना ? उसकी ब्रा तुमको कैसे आएगी?
रश्मि: वह कोई बच्ची नहीं है २२ साल की लड़की है। मेरा और उसके साइज़ में दो नम्बर का ही अंतर है।इसलिए उसकी मुझे थोड़ी टाइट है पर काम चला ली हूँ। राज बेशर्मी से उसकी छाती को देखकर बोला: तुम्हें तो ४० की आती होगी?
रश्मि: आप भी ना, कोई ४० का साइज़ नहीं है।
राज: तो ३८ तो होगा ही, मेरी बीवी का भी यही साइज़ था।
रश्मि: अब आप सही बोल रहे हैं।
राज : इसका मतलब डॉली का भी ३६ के आसपास होगा। हालाँकि लगता नहीं उसका इतना बड़ा । तो डॉली की ब्रा भी तुमको तंग तो होगी ही ना।
रश्मि: पर मेरी पुशशी ३४ वाली से तो बेटर है।
राज: हाँ वो तो है।
रश्मि: आप डॉली की ब्रा का साइज़ भी भाँप रहे थे क्या? ये तो बड़ी ख़राब बात है।
राज: अरे नहीं ऐसा कुछ नहीं है। पर तुम्हारे और उसके साइज़ की तुलना की बात कर रहा था।
रश्मि: चलिए अब इस बात को ख़त्म कीजिए।
राज: मैं तुम्हें घर जाकर सरिता की ब्रा दे दूँगा वो तुमको बिलकुल फ़िट आ जाएगी। हाँ कप साइज़ थोड़ा तुम्हारा बड़ा लगता है। चलो अभी के लिए चला लेना।

और सुनाओ सगाई की तैयारियाँ कैसी चल रही है?

रश्मि: ठीक ही चल रही है। बस अमित भाई सांब काफ़ी मदद कर रहे हैं।

राज: अमित भी तुम्हारी बड़ी तारीफ़ कर रहा था।

रश्मि चौंक कर: कैसी तारीफ़?

राज: अरे ऐसे ही जैसे तुम बहुत समझदार और शांत हो वगेरह वगेरह।

रश्मि : ओह, वो भी तो बहुत अच्छे हैं।

राज: वो तो है। पर बिचारा पत्नी के स्वास्थ्य को लेकर बहुत दुखी रहता है। पता नहीं उसका विवाहित जीवन कैसा होगा? उसकी बीवी को देखकर तो लगता है कि वो पता नहीं बिस्तर पर उसका साथ भी दे पाती होगी कि नहीं?
रश्मि थोड़ी सी परेशान हो गयी, वो बोली: चलिए छोड़िए ना कोई और बात करिए ना।

राज: तुम्हें तो ऐसा नहीं कहना चाहिए, क्योंकि हम तीनों की एक जैसी हालत है। तुम्हारे पति नहीं है, मेरी पत्नी नहीं रही और अमित की पत्नी होकर भी ना होने के बराबर है। सही कह रहा हूँ ना?

रश्मि: हाँ ये तो है।

राज: मुझे तो बहुत परेशानी होती है अकेले रहने में। मुझे तो औरत की कमी बहुत खलती है। पता नहीं तुम्हारा और अमित की क्या हालत है।

रश्मि: देखिए सभी को अकेलापन बुरा लगता है, पर किया क्या जाए?

राज: करने को तो बहुत कुछ किया जा सकता है, पर थोड़ी हिम्मत करनी पड़ती है।क्यों ठीक कहा ना?

रश्मि: मैं क्या कह सकती हूँ।

घर पहुँचकर राज उसे सोफ़े पर बिठाकर उसे पानी पिलाता है। फिर रश्मि: आपकी मेड शशी नहीं दिख रही है?
राज: आज उसे कुछ काम था इसलिए वो खाना बनाके जल्दी चली गयी है।

रश्मि: मैं आपके लिए चाय बना दूँ?

राज : अरे आप क्यूँ बनाएँगी? मैं आपके लिए बना देता हूँ।

रश्मि उठी और किचन की ओर जाते हुए बोली: आप बैठिए मैं बनाती हूँ। वह जब उठ कर जाने लगी तो उसकी चौड़ी मटकती गाँड़ देखकर वह पागल सा हो गया और उसके चूतरों में थोड़ी सी साड़ी भी फँस गयी थी। वह अपना लौड़ा मसलने लगा। 

तभी किचन से आवाज़ आइ: भाई सांब थोड़ा आइए ना।

राज अपना लौड़ा अजस्ट करते हुए किचन में गया।

रश्मि एक चाय के डिब्बे को निकालने की कोशिश कर रही थी जो की काफ़ी ऊपर रखा था। राज उसके पीछे आकर उसके चूतरों में अपना लौड़ा सटाते हुए उस डिब्बे को निकाला और उसके बदन से आ रही मस्त गंध को सूंघकर जैसे मस्त हो गया। रश्मि ने भी उसके डंडे का अहसास किया और काँप उठी।

फिर वह चाय बना कर लाई। राज कमरे में नहीं था।

तभी वह बेडरूम से बाहर आया और उसके हाथ में एक काली ब्रा थी। वो बोला: देखो, ये ट्राई कर लो, इसमें तुम्हें आराम मिलेगा।

रश्मि लाल होकर: ओह आप भी, मुझे बड़ी शर्म आती है। ठीक है बाद में पहन लूँगी।

राज: अरे जाओ अभी बदल लो। इसने शर्म की क्या बात है।

रश्मि उठी और उसके बेडरूम में जाकर ब्रा बदल कर वापस बाहर आइ तो वह बेशर्मी से उसकी छाती को घूरते हुए बोला: हाँ अभी ठीक है। आराम मिला ना? डॉली के इतने बड़े थोड़ी है, इसी लिए उसमें तुम्हारी साँस रूकती होगी। सरिता और तुम्हारा एक साइज़ है तो आराम मिल रहा होगा। हैं ना?

रश्मि सिर झुका कर: हाँ ये ठीक है।

अब दोनों चाय पीने लगे।
रश्मि जय और उसके बिज़नेस का पूछने लगी। वो बातें करते रहे। राज को नज़र बार बार उसके उभरे हुए पेट और नाभि पर जाती थी।

राज: चलो अब तुम्हें गहने दिखाता हूँ।

वह बेडरूम की ओर चला। रश्मि थोड़ा हिचकते हुए उसके पीछे वहाँ पहुँची।
राज ने उसे बेड पर बैठने का इशारा किया और वह सेफ़ खोला और उसमें से ज़ेवर के डिब्बे निकाल कर लाया। फिर उसने सब डिब्बे खोकर बिस्तर पर फैला दिए । रश्मि की आँखें फट गयीं इतने ज़ेवर देख कर।

रश्मि: भाई सांब ये तो एक से एक बढ़िया हैं।

राज : इनमे से कौन सा डॉली बिटिया पर जँचेगा बोलो।

रश्मि: ये बहुत बढ़िया है। देखिए ।

राज: हाँ सच कह रही हो। और ये वाला तुमपर जचेंगा । ये कहते हुए उसने एक सेट उसको दिखाया।
रश्मि: मुझे कुछ नहीं चाहिए। आप मेरे ऊपर बहुत बड़ा अहसान कर रहे हो डॉली को सेट देकर। अब मैं आपसे ये कैसे ले सकती हूँ।

राज: चलो छोड़ो ये ear rings देखो । ये तुम्हारे कान में बहुत जचेंगा।

रश्मि: मैं नहीं ले सकती।

राज: चलो मैं ही पहना देता हूँ।

यह कहकर वो उसके कान के पास आकर उसे ख़ुद पहनाने लगा। वह अब मना नहीं कर रही थी। उसकी साँसे रश्मि की साँस से टकरा रही थीं। उसकी नज़दीकियाँ उसे गरम कर रही थीं। उसका लौड़ा अब कड़ा होने लगा था। रश्मि भी गरम हो रही थी। उसकी छाती भी अब उठने बैठने लगी थी। राज को उसके बदन की मादक गंध जैसे मदहोश कर रही थी।

राज उसे रिंग्स पहना कर बोला: देखो कितनी सुंदर लग रही है तुमपर।
रश्मि ड्रेसिंग टेबल के शीशे में देखकर बोली: सच ने बहुत सुंदर है।
राज उसके पास आकर उसका हाथ पकड़ा और बोला: पर तुमसे ज़्यादा सुंदर नहीं है। यह मेरे तरफ़ से तुमको सगाई का गिफ़्ट है। मना मत करना।

रश्मि: पर ये तो बहुत महँगा होगा।

राज: अरे तुम्हारे सामने इसकी क्या हैसियत है।

यह कहकर उसने रश्मि को अपनी बाँहों में खिंचा और उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए। रश्मि एक मिनट जे लिए चौकी पर फिर चुपचाप उसके चुम्बन को स्वीकार करने लगी। कमरा गरम हो उठा था।
-
Reply
06-12-2017, 10:26 AM, (This post was last modified: 06-12-2017, 10:30 AM by sexstories.)
#18
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज की बाहों में आकर रश्मि जैसे पिघलने लगी। राज उसके होंठों को चूसे जा रहा था। उनका पहला चुम्बन क़रीब पाँच मिनट तक चला, जिसमें राज की जीभ रश्मि के मुँह के अंदर थी और रश्मि भी उसे चूसे जा रही थी। अब राज ने भी अपना मुँह खोला और अनुभवी रश्मि ने भी अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी। अब राज उसकी जीभ चूस रहा था। राज के हाथ रश्मि के गालों पर थे और रश्मि के हाथ उसकी पीठ से चिपके हुए थे ।अब राज और रश्मि हाँफते हुए अलग हुए और राज ने अब उसके गरदन और कंधे को चूमना शुरू किया ।जल्दी ही राज गरम हो गया और उसने रश्मि की साड़ी का पल्लू गिरा दिया। अब उसके तने हुए चूचे जो कि मानो ब्लाउस फाड़ने को बेचैन थे, उसके सामने थे।

वह थोड़ी देर उनको देखा और फिर आगे झुक कर चूचियों के ऊपर के नंगे हिस्से को चूमने लगा। गोरे गोरे मोटे दूध को देखकर वह मस्त हो गया। अब वह दोनों हाथों से उसकी चूचियाँ दबाया और बोला: आऽऽऽह जाऽऽंन क्या चूचियाँ है। मस्त नरम और सख़्त भी।

वह अब उनको थोड़ा ज़ोर से दबाने लगा। रश्मि हाऽऽऽय्य कर उठी और बोली: धीरे से दबाओ ना। वह फिर से आऽऽऽऽऽह कर उठी । और अपने नीचे के हिस्से को मस्ती में आकर राज के नीचे के हिस्से से चिपकाने लगी। तभी उसको अपने पेट पर राज के डंडे का अहसास हुआ, वह सिहर उठी।

राज भी अब उसके नंगे पेट को सहलाया और नाभि में ऊँगली डालने लगा।

राज: रश्मि, साड़ी खोल दूँ?
रश्मि मुस्कुराकर बोली: मैं मना करूँगी तो नहीं खोलेंगे?

राज हँसकर उसकी साड़ी को कमर से खोला और एक झटके में साड़ी उसके पैरों पर थी। क्या माल लग रही थी वो ब्लाउस और पेटिकोट में।

राज ने उसको अपने से चिपका लिया और फिर से होंठ चूसने लगा। अब उसके हाथ उसकी पीठ, नंगी कमर और फिर पेटिकोट के ऊपर से उसके मस्त मोटे उठान लिए चूतरों पर पड़े और वह उनको दबाने लगा।
रश्मि की आह निकल गयी।

राज: आऽऽऽऽह जाऽऽऽन क्या मस्त चूतड़ है तुम्हारे।
रश्मि मुस्कुराकर: और क्या क्या मस्त है मेरा?
राज: अरे जाऽऽंन तुम तो ऊपर से नीचे तक मस्ती का पिटारा हो।
रश्मि हंस दी और राज की गरदन चूमने लगी।
राज ने ब्लाउस के हुक खोले और रश्मि ने हाथ उठाकर अपना सहयोग दिया ब्लाउस उतारने में। उसकी चिकनी बग़ल देख कर वह मस्त हुआ और उसके हाथ को उठाकर बग़ल को सूँघने लगा और फिर जीभ से चाटने लगा। दोनों बग़लों को चूमने के बाद वह उसका पेटिकोट का नाड़ा भी खोल दिया और अब रश्मि सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी।
अब वो पीछे हटा और थोड़ी दूर से उसके गोरे बदन को काली ब्रा और काली ही पैंटी में देखकर मस्ती से अपना लौड़ा मसलने लगा। रश्मि की निगाहें भी उसके फूले हुए हथियार पर थी और उसकी पैंटी गीली होने लगी थी।
रश्मि: वाह मेरे कपड़े तो उतारे जा रहे हैं और ख़ुद पूरे कपड़े में खड़े हैं।
राज: लो मैं भी उतार देता हूँ। ये कहते हुए उसने अपनी टी शर्ट उतार दी। उसका चौड़ा सीना रश्मि की बुर को और भी गीला करने लगा।फिर उसने पैंट भी उतारी और अब बालों से भरी पुष्ट जाँघों के बीच फूली हुई चड्डी को देखकर उसकी आँखें चौड़ी हो गयी।
अब रश्मि के पास आकर वह उसको बाहों में ले लिया और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया। उसकी ब्रा निकालकर वह उसकी चूचियों को और उसके खड़े निपल्ज़ को नंगा देख कर वह मस्त हो गया। फिर वह झुक कर घुटने के बल बैठा और उसकी पैंटी भी धीरे से उतार दिया। अब उसके सामने रश्मि की मस्त फूली हुई बुर थी। उसने देखा कि उसके पेड़ू पर बालों को दिल का शेप दिया हुआ था। हालाँकि बुर बिलकुल बाल रहित थी।
राज ने उसके दिल के शेप के बालों को सहलाते हुए बोला: वाह जान क्या शेप बनाई हो? फिर वह आगे होकर उसके उस दिल को चूमने लगा। फिर वह नीचे होकर उसकी बुर को सहलाया और उसे भी चूम लिया। फिर वह उसे घुमाया और और उसके बड़े चूतरों को दबाने लगा और चूमने भी लगा। रश्मि आऽऽहहह कर उठी। फिर वह उठा और उसके दूध दबाकर उनको भी मुँह में लेकर चूसने लगा। उसके निप्पल्स को दबाया और रश्मि हाऽऽऽऽऽय्यय कर उठी। रश्मि भी उससे चिपक रही थी और चड्डी में से उसका लौड़ा उसकी नंगी जाँघों पर रगड़ रहा था। रश्मि ने हाथ बढ़ाकर राज की चड्डी के ऊपर से उसका लौड़ा पकड़ लिया, और बोली: आऽऽऽऽह आपका तो बहुत बड़ा है।
राज उसकी चूचि दबाके बोला: तुम्हारे पति से भी बड़ा है?
रश्मि: आऽऽऽह उनका तो बहुत कमज़ोर था। आऽऽहहह आपके वाले से तो आधा भी नहीं होगा। वह उसके चड्डी में हाथ डालकर उसकी पूरी लम्बाई को फ़ील करते हुए बोली।
राज: तुम्हारे दूध बहुत ही मस्त है। चलो अब बिस्तर में लेटो। राज ने भी चड्डी उतार दी। रश्मि ने उसके लौड़े को देखा और एक बार उसकी लम्बाई और मोटाई को सहला कर और दबाकर बिस्तर पर लेट गयी।
रश्मि के लेटने के बाद राज भी उसकी बग़ल में आकर लेटा और उसको अपनी बाहों में लेकर चूमने लगा। वह भी उससे लिपट कर उसको चूमने लगी।
अब वह उसकी चूचियाँ दबाते हुए चूसने लगा। रश्मि की हाऽऽऽऽऽऽयययय निकलने लगी। अब उसके हाथ उसके पेट से होते हुए उसकी बुर पर घूमने लगे। उसकी दो उँगलियाँ उसकी बुर की गहराई नापने लगी। वह हैरान हो गया कि उसकी उम्र के हिसाब से उसकी बुर भी काफ़ी टाइट थी। फिर वह उठकर उसके ऊपर आया और उसकी टाँगें सहलाकर फैलाया और मस्त गीली बुर देखकर वह झुका और उसको चूमने लगा। जल्दी ही उसकी जीभ उसके बुर के अंदर थी और वहाँ हलचल मचाने लगा। रश्मि चीख़ी: उइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽऽऽऽ।
राज: जाऽऽऽऽंन मज़ा आऽऽऽया ना?
रश्मि: आऽऽऽह वहाँ जीभ डालोगे तो मज़ा नहीं आऽऽऽऽऽऽयेगाआऽऽऽऽ क्याआऽऽऽऽऽ उइइइइइइइ ।
अब वह उसके चूतरों को दबाते हुए उसकी गाँड़ के छेद को देखकर मस्ती से भर गया और उसकी गाँड़ की पूरी दरार को जीभ से चाटने लगा। उसकी जीभ बुर की clit से होकर उसकी बुर को चाटा और नीचे जाकर गाँड़ के छेद को भी चाटा। रश्मि हाऽऽऽऽय्य्य्य्य्य आऽऽऽऽऽऽज माऽऽऽऽर ड़ालोगेएएएएएए क्याआऽऽऽऽऽऽ।
वह बोला: जाऽऽऽंन क्या माल हो तुम? अब मेरा लौड़ा चूसोगी या अभी चोदूँ पहले।
रश्मि: आऽऽऽह चोद दीजिए आऽऽऽह अब नहीं रुक सकती। बाद में आपका चूस दूँगी। हाऽऽय्यय ड़ालिए नाऽऽऽऽऽऽ ।प्लीज़ आऽऽहहह ।
राज ने अब पोजीशन बनाई और रश्मि भी अपनी टाँगे घुटनो से मोड़कर अपनी छाती पर रखी और पूरा खेत उसे जोतने को ऑफ़र कर दिया। राज ने अपने लौड़े पर ढेर सा थूक लगाकर उसकी बुर के मुँह पर रखा और दबाने लगा। जैसे जैसे सुपाड़ा अपनी जगह बुर के अंदर बनाकर उसमें समाने लगा। रश्मि की आऽऽऽऽह्ह्ह्ह्ह निकलने लगी।फिर जब पूरा लौड़ा अंदर समा गया तो वह झुक कर उसके होंठ चुमते हुए उसकी चूचियाँ मसलने लगा और निपल्ज़ को ऐंठने लगा।साथ ही अब उसने धक्के भी लगाने शुरू कर दिए।
रश्मि: हाय्य्य्य्य्य्य। करके अपनी कमर उछालकर मज़े से चुदवाने लगी।
कमरे में फ़च फ़च की आवाज़ें और पलंग की चूँ चूँ की आवाज़ भी गूँजने लगी।
राज: आऽऽऽहब जाऽऽन क्या टाइट बुर है तुम्हारी?एक बात बताओ दो दो बच्चे पैदा करने के बाद भी बुर इतनी टाइट कैसी है?
रश्मि. आऽऽऽह मेरे दोनों बच्चे सिजेरीयन से हुए है।
राज: आऽऽऽहहह तभी तो, पायल की बुर तो काफ़ी ढीली पड़ गयी थी मेरी बड़ी बेटी के जन्म के बाद। और जय के जन्म के बाद और भी ढीली पड़ गयी। तुम्हारी मस्त है जानू।
ये कहते हुए वह और ज़ोर से रश्मि के चूतरों को दबाकर धुआँ धार चुदाई करने लगा। अब रश्मि भी हाऽऽऽऽय्यय मरीइइइइइइइ उईइइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽ कहकर नीचे से अपनी गाँड़ उछालकर बड़बड़ाती हुई चुदवाने लगी।
थोड़ी देर बाद रश्मि और राज दोनों आऽऽऽहहह मेरा होने वाला है, कहते हुए झड़ने लगे।
दोनों पस्त होकर अग़ल बग़ल लेट गए। फिर राज बाथरूम से फ़्रेश होकर आया और बाद ने रश्मि भी फ़्रेश होकर आयी और अपने कपड़े की ओर हाथ बढाइ।
राज: अरे जानू अभी कपड़े कैसे पहनोगी? अभी तो एक राउंड और होगा। तुम्हारे जैसे माल से एक बार में दिल कहाँ भरेगा।
रश्मि हँसकर बोली: मैं सोची कि आप शांत हो गए तो अब बस करें।
राज ने हाथ बढ़ाकर उसको अपने ऊपर खींच लिया और उसके होंठ चूसने लगा। उसके हाथ रश्मि की पीठ और गोल गोल चूतरों पर घूम रहे थे।
राज: एक बात बताओ कि डिलीवरी के समय सिजेरीयन करना किसका सुझाव था? तुम्हारा, तुम्हारे पति का या अमित का?
रश्मि: इसमे अमित भाई सांब कहाँ से आए?
राज उसकी गाँड़ में ऊँगली करते हुए बोला: मुझे पता है कि तुम अपने जेठ अमित से शादी के बाद से ही चुदवा रही हो। और उस समय तुम्हारे पति का ऐक्सिडेंट भी नहीं हुआ था।
रश्मि: आऽऽह ऊँगली निकालिए ना, सूखी ही डाल दिए हैं। जलन होती है ना।ये आप क्या कह रहे है, अमित भाई सांब से मेरा कोई चक्कर नहीं है।
राज : जानू झूठ मत बोलो, जब मैं तुम्हारे घर गया था तभी मैंने तुमको और अमित को लिपट कर चूमा चाटी करते देखा था। जब मैंने कल अमित से पूछा तो शराब के नशे में वह सब बक गया और यह भी की डॉली और उसका भाई अमित के ही बच्चें हैं।
रश्मि का चेहरा सफ़ेद पड़ गया। वह गिड़गिड़ाते हुए बोली: आप ये सब किसी को नहीं बताओगे ना। प्लीज़ प्लीज़।
राज ने अपनी ऊँगली ने थूक लगाया और फिर से उसकी गाँड़ में डालकर बोला: नहीं जानू किसी को नहीं बताऊँगा।
रश्मि: आऽऽह मैं आपसे बहुत प्यार करने लगी हूँ, प्लीज़ मेरा ये राजीवराजीवही रहने दीजिएगा। हाय्य्य्य्य्य।
वह अपनी गाँड़ उठाकर उसकी ऊँगली का मज़ा लेने लगी।
राज उसके होंठ चूसते हुए बोला: बिलकुल निश्चिन्त रहो जानू किसिको नहीं बताऊँगा। पर ये तो बताओ कि क्या डॉली बेटी को तुम्हारे अमित से सम्बन्धों के बारे में पता है?

रश्मि; मुझे लगता है कि उसे शक तो है पर पक्का नहीं कह सकती।

राज उसकी चूचि दबाते हुए बोला: आह क्या बड़ी बड़ी चूचियाँ है तुम्हारी। एक बात बताओ अगर डॉली का साइज़ तुमसे दो नम्बर ही छोटा है इसका मतलब वह भी किसी से चु मतलब उसका भी कोई बोय फ़्रेंड तो होगा, जिसने दबा दबा कर उसकी चूचियाँ इतनी बड़ी कर दी होंगी। ये कहते हुए वह अब दो ऊँगली उसकी गाँड़ में डालकर अंदर बाहर करने लगा।

रश्मि आऽऽऽऽऽह करके बोली: आप भी उसके बारे में ऐसा कैसे बोल सकते हैं। उसका कोई बोय फ़्रेंड नहीं है। आह वह बहुत सीधी लड़की है।
राज: ओह पर चूचि तो उसकी काफ़ी बड़ी है, हालाँकि पता नहीं चलता पर अब तुमने ही उसका साइज़ बताया है कि ३४ का है।
फिर वह उसके दिल के आकर की झाँट को सहलाकर पूछा: ये कौन बनाया है इस आकर का? तुम ख़ुद तो ऐसे काट नहीं सकती अपनी झाँट को।
रश्मि शर्मा कर बोली: ये अमित भाई सांब का काम है। उनको मेरी झाँटें बनाने में बहुत मज़ा आता है। ये उन्होंने ही बनाया है।
ओह, कहते हुए वह बोला: चलो मेरा लौड़ा चूसो।
रश्मि : पहले ऊँगली तो निकालो बाहर।
राज ने उँगलियाँ बाहर निकाली और उनको सूँघने लगा। रश्मि चिल्लाई: छी छी क्या करते हो? फिर वह उसके लौंडे को सहलाकर बोली: हाय ये तो खड़ा हो गया। फिर उसने अपनी जीभ निकाली और उसके लौड़े के एक एक हिस्से को चाटा और चूमने लगी। फिर उसके बॉल्ज़ को सहलायी और बोली: बाप रे कितने बड़े है ये। फिर वह उनको भी चाटने लगी। फिर वह पूरा लौड़ा मुँह में लेकर डीप थ्रोट देने लगी। अब राज अपनी कमर उछालकर उसके मुँह को चोदने लगा।
राज ने उसे रोका और पेट के बल लिटाया और उसके मस्त चूतरों को दबाकर चूमने लगा। फिर वह उसे अपने चूतरों को उठाने को बोला: जानू क्या मस्त चूतड़ हैं । फिर वह उसकी गाँड़ का छेद चाटने लगा और बोला: जानू तुम्हारा छेद देख कर लगता है कि अमित तुम्हारी गाँड़ भी मारता होगा। दरसल सरिता की भी मैं गाँड़ मारता था और उसका छेद भी ऐसे ही दिखता था। सही कहा ना? फिर वह उसकी गाँड़ में क्रीम डाला और उँगलियाँ डालकर क्रीम को अच्छी तरह से छेद में लगा दिया।
रश्मि: आऽऽह हाँ अमित को मेरी गाँड़ मारना बहुत पसंद है।
राज: और तुम्हें गाँड़ मरवाने में मज़ा आता है ना?
उसकी गाँड़ में अब वो तीन ऊँगलियाँ डाल कर हिला रहा था।
रश्मि: आऽऽह। हाँ बहुत मज़ा आता है । पर आपका बड़ा ही मोटा और लम्बा है शायद दुखेगा।
राज : अरे नहीं मेरी जान नहीं दुखेगा। मैं बहुत धीरे से करूँगा। तो डालूँ अंदर?
रश्मि: आऽऽऽह डालिए ना अब क्यों तड़पा रहे हैं।
राज मुस्कुराया और अपना क्रीम से चुपड़ा हुआ लौड़ा उसकी गाँड़ में डाला और वह चिल्लाने लगी : आऽऽऽह धीइइइइइइइरे से डालो। राज ने अपना दबाव बढ़ाया और उसका लौड़ा उसकी गाँड़ में घुसता चला गया। अब रश्मि की चीख़ें बढ़ गयीं और वह चिल्लाई: उइइइइइइइइ मरीइइइइइइइइइ । आऽऽऽऽह मेरीइइइइइइइ फटीइइइइइइइइइ ।
अब राज ने उसकी गाँड़ मारनी शुरू की और साथ ही अपना एक हाथ उसकी बुर में लेज़ाकर उसकी clit को रगड़कर उसकी बुर में तीन उँगलियाँ डालकर उसकी बुर को गीली करने लगा।
बुर से पानी निकले ही जा रहा था
-
Reply
06-14-2017, 12:15 PM,
#19
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
अब ठप ठप की आवाज़ के साथ वह पूरे ज़ोरों से गाँड़ मारने लगा। अब रश्मि भी बुर में ऊँगली और गाँड़ में मोटे लौड़े की चुदाई से मस्त हो कर अपनी गाँड़ पीछे दबा दबा कर अपनी मस्ती दिखाई और गाँड़ मरवाने लगी।
जल्दी ही उसकी बुर ने पानी छोड़ना शुरू किया और वह आऽऽऽक़्ह्ह्ह्ह मैं गईइइइइइइइइइइ कहकर गाँड़ हिला हिला कर झड़ने लगी। इधर राज के हाथ में जैसे पानी का सैलाब भरने लगा। उसकी बुर से पानी निकले ही जा रहा था तभी वह भी झड़ने लगा और आऽऽह्ह्ह्ह्ह ह्म्म्म्म्म्म्म कहकर उसकी पीठ पर लेट सा गया।
अब वह अपना वज़न उसके ऊपर से हटाकर उसकी बग़ल ने लेट गया। वह आँखें बंद करके उन लमहों को याद करके मस्त होने लगा जब वह उसकी गाँड़ मार रहा था। आह क्या मस्त टाइट गाँड़ और बुर हैं। बहुत दिन बाद वह इतनी मज़ेदार चुदाई का आनंद लिया था।

उधर रश्मि भी लेटे हुए सोच रही थी कि क्या मस्त मर्द है, कितना मज़ा दिया है इन्होंने। अमित से भी ज़्यादा मज़ा दिया है इन्होंने।

वह पलटी और राज को अपनी ओर देखते हुए देख कर बोली: आज बहुत मज़ा आया सच में आपने जो मज़ा दिया है, मैं तो आपकी ग़ुलाम हो गयी हूँ।
राज: इसका मतलब जब चाहूँ तुमको चोद सकता हूँ।
रश्मि हँसकर: ये भी कोई पूछने की बात है।
ये कहते हुए उसने उसके लटके हुए लौड़े को सहलाया और उसे दबा दिया। फिर बोली: ये जब चाहे मेरे अंदर जाकर मज़ा कर सकता है।
राज मस्ती से उसके होंठों को चूम लिया। और वो दोनों एक दूसरे से चिपक गए और चुम्बन में लीन हो गए।
दोनों दो राउंड की चुदाई के बाद थकान महसूस कर रहे थे। रश्मि उठकर बाथरूम से फ़्रेश होकर आइ और ब्रा और पैंटी पहनकर ब्लाउस और पेटिकोट भी पहन ली। फिर वह किचन में जाकर फ्रिज से जूस निकाल कर लाई तब तक राज भी फ़्रेश होकर आ गया था। वह अभी भी नंगा था और फिर दोनों जूस पीने लगे। राज अभी भी नंगा पड़ा था और उसका लंड साँप की तरह उसकी एक जाँघ पर पड़ा था और उसके बॉल्ज़ लटके से थे।
रश्मि उसकी कमर के पास बैठी और उसकी छाती को सहला कर बोली: यहाँ आइ हूँ तो दामाद से भी मिलवा दीजिए ना।
राज: हाँ हाँ क्यों नहीं? अभी खाना खाकर चलते हैं।
रश्मि अब अपना हाथ उसकी छाती से नीचे लाकर उसके पेट से होते हुए उसके लौड़े के पास लाई। अब वो उसकी छोटी कटी झाँटों से खेलने लगी । फिर उसने लौड़े को दबाया और बॉल्ज़ को भी सहला कर बोली: आपके बॉल्ज़ बहुत बड़े हैं।
राज: अरे इसी बॉल्ज़ की सहायता से मैंने कई लड़कियों को माँ बनाया है।
रश्मि चौंक कर: मतलब? मैं समझी नहीं। वह अभी भी उसके बॉल्ज़ को सहलाए जा रही थी।
राज: लम्बी कहानी है । असल में मैंने तीन लड़कियों को माँ बनाया है उनके अनुरोध पर ही।
रश्मि: उनको कैसे पता चला कि आपसे अनुरोध करना है इसके लिए?
राज: देखो हुआ ये कि एक लड़की को मैंने फँसाया और वह एक महीने में ही प्रेगनेंट हो गयी। उसका तो मैंने गर्भपात करवा दिया। जब मैंने ये बात एक और औरत साधना को बताई जो उन दिनो मेरे से फँसी हुई थी तो वह अपनी बहू बुलबुल को मुझसे चुदवाइ और वो भी एक महीने में ही प्रेगनेंट हो गई।
रश्मि: वो अपनी बहू को आपसे चुदवाइ ? क्यों भला?
राज: क्योंकि उसका बेटा बाप नहीं बन सकता था और वो दोनों नहीं चाहतीं थीं कि ये बात लड़के को पता चले क्योंकि उसके डिप्रेशन में जाने का डर था।
रश्मि: ओह तो आप उस लड़की से बाद में मिले जब वह माँ बन गयी थी?
राज: हाँ सास बहू दोनों उसे लेकर मेरे पास आइ थीं। बहुत ही प्यारा बच्चा था। उस दिन मैंने जिभरके बहू का दूध पिया और उन दोनों को भरपूर चोदा । वो तो मेरी अहसान मंद थीं ना। बस उस दिन के बात कभी नहीं मिला।
रश्मि: आपने तीन लड़कियाँ कहीं, दो और कौन थीं?
राज: असल में साधना जो कि तुम्हारी उम्र की थी अपनी बहू बुलबुल को जब मुझे चुदवा कर माँ बना ली तो ये बात उसने एक औरत को बताई जो कि अपनी बेटी के माँ ना बन पाने के कारण परेशान थी। उस औरत का नाम काजल था और उसकी बेटी का नाम आकाक्षा था।

रश्मि: ओह फिर क्या हुआ? वो अब राज के लौड़े को सहलाने लगी थी। राज ने भी उसके ब्लाउस के ऊपर से उसकी चूचि दबायी और बोला: साधना और काजल एक क्लब की मेमबर थीं। वहाँ काजल ने अपना दुखड़ा सुनाया कि उसके बेटी के ससुराल वाले उसको ताने मारते हैं कि वो बाँझ है और उसकी दूसरी शादी की धमकी देते हैं। जबकि उसकी बेटी में कोई कमी नहीं है। वो लोग उसके पति का चेकअप भी नहीं करवा रहे हैं।

रश्मि: ओह फिर ?
राज: काजल की बात सुनकर साधना उसे मेरे बारे में बतायी और काजल अपनी बेटी से बात की और वह मुझसे चुदवा कर मॉ बनने तो तैयार हो गयी। इसी सिलसिले में साधना काजल को लेकर मेरे पास मेरे दोस्त के ख़ाली फ़्लैट में आयी। वहीं मैं उनका इंतज़ार कर रहा था। साधना और काजल अंदर आइ। साधना ने मुझे पहले फ़ोन पर बता दिया था कि वो काजल को बता दी है कि वो भी मुझसे चुदवाती थी। इसलिए मैंने साधना को अपनी बाहों में लेकर चूम लिया। वह। भी मुझसे चिपक गयी। काजल ये सब देखकर शर्मा रही थी।

रश्मि: आप उस औरत के सामने ही साधना से चिपक गए। ये कहकर वह राज के लौड़े को दबाई और वह अब खड़ा होने लगा था। फिर वो पूछी: फिर क्या हुआ?

राज: फिर मैं साधना से अलग हुआ और वो मेरा परिचय काजल से करवाई। काजल एक गोरी दुबली औरत थी और उसने सलवार कुर्ता पहना था। वह चेहरे से सुंदर थी और उसकी छातियाँ भी उसके दुबले शरीर के लिहाज़ से काफ़ी बड़ी थीं जो डुपट्टे के नीचे से झाँक रही थीं।हम सब बैठे और साधना ने काजल के बारे में बताया कि वो एक आर्मी ऑफ़िसर की बीवी है और उसकी बेटी आकाक्षा शादी के ५ साल भी माँ नहीं बन पा रही है और जैसे आपने मेरी बहू को माँ बनाया है वह भी अपनी बेटी आकाक्षा को मुझसे गर्भवती करवाना चाहती है।
रश्मि: वाह आपके तो मज़े ही मज़े हो गए होंगे?

राज: हाँ, मैंने पूछा कि आकाक्षा की उम्र क्या है? वो बोली कि २६ साल की है। मेरा लौड़ा जींस के अंदर खड़ा होने लगा। और मेरी पैंट के ऊपर से उसको दबाया। मैंने देखा कि काजल और साधना की आँखें मेरे लौड़े पर ही थी।
रश्मि: हाय बड़े बेशर्म हो आप? फिर क्या हुआ?

राज: अब तुम मेरा लौड़ा चूसो और बीच में नहीं बोलना तो मैं पूरी कहानी सुनाऊँगा।

रश्मि ख़ुशी से उसका लौड़ा चूसने और चाटने लगी और राज ने बोलना चालू किया |

मैं: आकाक्षा मान गयी है इसके लिए?
काजल : हाँ वो मान गयी है।
मैं: फिर ठीक है, तो आज ही उसे ले आना था? मैंने अपना लौड़ा मसल कर कहा।
काजल: जी मैं पहले आपसे मिलकर ये देखना चाहती थी कि आप कैसे हैं, वगेरह । आख़िर मेरी बेटी का सवाल है ।
मैं अपना लौड़ा दबाते हुए बोला: आपने मुझे देख लिया अब आपका क्या इरादा है?
काजल: जी मैं कल उसे ले आऊँगी।
मैं मुस्कुराकर: पर आपने मेरी असली काम की चीज़ तो देखी नहीं है, जिसकी मदद से आपकी बेटी माँ बनेगी?
काजल झेपकर: उसकी कोई ज़रूरत नहीं है।
मैं: पर मुझे तो आपको दिखाना ही होगा ताकि बाद में आप कोई शिकायत ना करो। ये कहते हुए मैंने अपनी जीन के बटन खोले और ज़िपर नीचे किया और अपनी जीन बैठे बैठे ही नीचे कर दी।अब मेरी चड्डी में खड़ा हुआ लौड़ा उनके सामने था। काजल उसे ग़ौर से देख रही थी। इसके पहले कि वह कुछ और सोच पाती मैंने अपनी चड्डी भी नीचे कर दी और जींस और चड्डी मेरे पैरों पर आ गयी और मेरे नीचे का पूरा हिस्सा नंगा उन दोनों औरतों के सामने था।
काजल की तो जैसे आँखें ही फट गयीं, वो बोली: इतना बड़ा?
मैंने उसे सहलाया और काजल को दिखाकर बोला: अरे ऐसा कोई बड़ा नहीं है, साधना तो बड़े आराम से ले लेती है। क्यों साधना?
साधना: हाऽऽय सच में बहुत मस्त मज़ा देता है। इसको मैं बहुत मिस करती हूँ।
मैंने देखा की काजल सबकी नज़र बचा कर अपनी सलवार से बुर को खुजा रही थी। मैं मन ही मन मुस्कुराया।
मैं: आओ ना साधना एक बार चुदवा लो इसके बाद काजल को भी मज़ा दे देंगे।
साधना: आह नहीं मुझे यूरीनरी इन्फ़ेक्शन हो गया है, अभी मैं नहीं ले सकती आपको भी इन्फ़ेक्शन हो जाएगा।
मैं: ओह फिर इसका क्या होगा? मैंने लौड़ा दबाकर कहा|
साधना: चूस दूँ क्या?
मैं: अरे इसे मुँह से ज़्यादा बुर की ज़रूरत है। काजल तुम ही अपनी बुर से दो ना।
काजल एकदम से चौक गयी और इस तरह की भाषा से भी वह हड़बड़ा गयी।
वह: नहीं नहीं ये कैसे हो सकता है? मैं शादी शूदा हूँ और मैं तो यहाँ अपनी बेटी की मजबूरी के वजह से ही आयी हूँ।
मैं: अरे तो ये तो देख लो कि मैं तुम्हारी बेटी को कैसे चोदूँगा । तुम पर प्रैक्टिकल कर के बता देता हूँ।
काजल: नहीं नहीं इसकी कोई ज़रूरत नहीं है।

तब मैं खड़ा हो गया और अपने पैरों से पैंट और चड्डी निकालकर सोफ़े पर बैठी काजल के पास आकर उसके मुँह के पास अपना लौड़ा लहराकर उसके होंठों से अपना लौड़ा छुआ दिया।
-
Reply
06-14-2017, 12:15 PM,
#20
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
वह एक मिनट के लिए सिहर गई और अपना मुँह पीछे कर लिया। अब मैं झुका और उसकी छातियों को कुर्ते के ऊपर से दबाने लगा और उसके होंठों पर अपना होंठ रखकर उनको चूसने लगा। वह मुझसे अलग होने के लिए छटपटाने लगी। मैंने अब भी उसकी छाती को दबाना जारी रखा। अब मैंने सलवार के ऊपर से उसकी बुर भी दबाने लगा। मैंने देखा कि उसकी सलवार नीचे से गीली थी।

अब उसका विरोध कम होने लगा था। तभी साधना उठकर आयी और बोली: काजल क्यों मना कर रही है, चुदवा ले ना, मैं ठीक होती तो मैं ही इसका मज़ा ले लेती। साधना मेरे लौड़े को सहलाकर बोली।
अब काजल ने मानो सरेंडर कर दिया। वह मेरा विरोध बंद कर दी। अब मैंने उसको अपनी बाँह में उठा लिया किसी बच्चे की तरह और जाकर बेडरूम में बिस्तर पर लिटा दिया। सबसे पहले मैंने अपनी शर्ट उतारी और पूरा नंगा हो गया। मैंने उसकी आँखों में अपने कसरती बदन के लिए प्रशंसा के भाव देखे। तभी मैंने देखा कि साधना भी वहाँ खड़ी थी।
मैंने साधना से कहा: तुम क़ुरती उतारो मैं सलवार उतारता हूँ। वह मुस्कुरा कर मेरा साथ देने लगी। जल्दी ही वह अब ब्रा और पैंटी में थी। पूरी तरह स्वस्थ बदन कोई चरबी नहीं। मज़ा आ गया देखकर। फिर मैं उसके ऊपर आकर उसके होंठ चूसने लगा और वह भी अपना हाथ मेरी कमर पर ले आयी और मेरी पीठ सहलाने लगी ।
अब मैंने उसकी ब्रा के हुक खोले और उसकी ३४ साइज़ की चूचियाँ दबाने और चूसने लगा। वह मस्ती से आहबह्ह्ह्ह्ह्ह कर उठी। फिर मैंने उसके पेट को चूमते हुए उसकी गीली पैंटी उतारी और उसे सूँघने लगा। वह शर्माकर मेरी हरकत देख रही थी।

मैंने उसकी जाँघों को सहलाया और चूमा और फिर उसकी जाँघें फैलाके उसकी ४७ साल की बुर को देखा। पूरी चिकनी बुर थी और साफ़ दिख रहा था कि अच्छेसे चुदीं हुई बुर है। उसमें से गीला पानी निकल रहा था। मैंने झुक कर उसे चूमा और जीभ से कुरेदने लगा। वह उइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽ कर उठी। मैंने समय ख़राब किए बग़ैर अपना लौड़े का सुपाड़ा उसकी बुर के छेद में रखा और वह कांप उठी और बोली: आऽऽऽऽह धीरे से डालिएगा। आपका बहुत बड़ा है, मैंने इतना बड़ा कभी नहीं लिया है।

मैं: सच क्या तुम्हारे पति का छोटा है?
वो: उनका नोर्मल साइज़ का है पर आपका तो ज़्यादा ही बड़ा है और मोटा भी बहुत है ।
मैं: ठीक है मैं धीरे से शुरू करूँगा।
अब मैं धीरे से सुपाड़ा दबाया और वह उसकी बुर में धँसता चला गया। वह हाऽऽऽऽऽऽऽय्य कर उठी।
मैं : अरे तुम तो इसमे से आकाक्षा को भी बाहर निकाली हो इसलिए कोई समस्या नहीं होगी।
वो: आकाक्षा सिजेरीयन से हुई थी।
साधना: अरे मुझे भी पहली बार इनका लेने में थोड़ी तकलीफ़ हुई थी पर बाद में कोई समस्या नहीं थी और मज़ा ही मज़ा किया।
अब काजल के होंठ चूसते हुए और उसकी चूचियाँ दबाते हुए मैंने अपना लौड़ा अंदर करना शुरू किया। आधा लौड़ा अंदर जा चुका था और तभी मैंने ज़ोर से धक्का मारा और पूरा लौड़ा अंदर जड़ तक समा गया। वह अब हाऽऽऽऽऽय्य्य्य्य मरीइइइइइइइइइइइ कहकर थोड़ी सी छटपटाई और फिर शांत हो गयी। मैं भी रुककर उसके होंठ चूसता रहा और चूचियाँ भी चूसने लगा। निपल्ज़ को दबाने से उसकी मस्ती वापस आने लगी और जल्दी ही वह ख़ुद कमर हिलाकर मुझे इशारा कि चलो अब मुझे चोदो।
पर मैं उसके मुँह से सुनना चाहता था सो बोला: शशी मज़ा आ रहा है कि नहीं।
वो: आऽऽऽह हाँ आ रहा है।
मैं: तो चोदूँ अब?
वो : हाऽऽऽऽक्ययय हाँ।
मैं: हाँ क्या करूँ? साफ़ साफ़ बोलो।
वो: उइइइइइइइओ आऽऽऽऽह चोओओओओओओओओदो मैं मुस्कुराकर अब ज़ोर से चुदाई में लग गया और मेरे धक्कों से पलंग बिचारा भी कराह उठा और चूँ चूँ करने लगा। साधना वहाँ पलंग पर बैठ कर चुदाई का मज़ा ले रही थी, और अपनी बुर सहला रही थी।
अब काजल भी अपनी गाँड़ उछालकर चुदाई में मेरा साथ देने लगी। हम दोनों पसीने से भीग गए थे और तभी वो और मैं दोनों एक साथ चिल्लाए : हाऽऽऽऽऽऽय्य मैं झड़ीइइइइइइइइइइइइ और मैं भी ह्म्म्म्म्म्म्म्म कहकर झड़ने लगा। वो चिल्लाई: मेरे अंदर मत गिराना।
मैंने समय रहते उसे निकाला और उसके दूध पर अपना वीर्य गिराने लगा और फिर उसके मुँह की तरफ़ भी अपना लौड़ा किया और उसका मुँह खुला और उसके अंदर मेरे वीर्य की एक पिचकारी चली गयी। वह उसे निगल गयी। अब मैंने अपना लौड़ा उसके मुँह में ठूँस दिया और वह प्यार से उसपर लगा वीर्य चाटने लगी और फिर चूस कर और चाट कर मेरे लौड़े को साफ़ कर दी। उसने अपनी छातियों के ऊपर गिरा वीर्य भी ऊँगली में लिया और चाटने लगी।
साधना: मज़ा आया काजल?
काजल शर्माकर: हाँ बहुत मज़ा आया। सच में आकाक्षा को बहुत मज़ा मिलने वाला है। पहली बार तो उसको लेने में थोड़ा दर्द होगा पर बाद में मज़े करेगी। वैसे इनका जूस भी बहुत गाढ़ा और स्वाद है। वह अपनी ऊँगली चाट कर बोली।
मैं: आकाक्षा के साथ तुम भी आ जाना और मज़े कर लेना माँ बेटी दोनों एक साथ। बिर्य उसके अंदर डालूँगा और चुदाई दोनों की करूँगा। बोलो ठीक है ना ?
काजल: नहीं नहीं आप उसे नहीं बताना कि मैं आपसे करवा चुकी हूँ वरना उसे बुरा लगेगा।
मैं: एक बात बताओ, तुम दोनों क्लब जाती हो माडर्न हो और ज़रूर बाहर भी मुँह मारती होगी।
वो दोनों एक दूसरे के देखने लगीं।
साधना: अब आपसे क्या छिपाना, हाँ हम शादी के बाहर भी मज़े ले रहे हैं। मेरा तो आपको पता ही है।
आजकल घर का घर में ही चल रहा है।मैं और बहू दोनों मेरे बेटे से चुदवा रही हैं। तुम भी बता दो काजल या मैं बोलूँ?इसका पति तो आर्मी में है यहाँ कम ही रहता है।
काजल: मैंने भी घर का घर में ही इंतज़ाम किया हुआ है। मेरा एक २२ साल का नौकर है वही मुझे मज़ा देता है। मैंने उससे बेटी को नहीं चूदवया क्योंकि वह काला है और मुझे गोरा बच्चा चाहिए। साधना मुझे बतायी थी कि आप बहुत गोरे हैं इसीलिए आपके पास आयी हूँ।
मैं: ओह तो तुम दोनों मज़े से चुदवा रही हो। बिलकुल सही है अगर मर्द मज़ा ना दे पाएँ तो क्या किया जाए।
काजल बोली: अब मैं बाथरूम जाती हूँ।
फिर हम सब अपने घर चले गए। आकाक्षा की चुदाई का कार्यक्रम अगले दिन १२ बजे दिन का बना था।
यह कहकर राज बोला: आऽऽऽऽऽऽहहह क्या चूस रही हो। हाऽऽय्य्य्य्य मैं गयाआऽऽऽऽऽऽ । और वह उसके मुँह में झड़ने लगा। रश्मि ने एक बूँद भी बाहर गिरने नहीं दिया और पूरा वीर्य गटक गयी। फिर रश्मि ने उसके लौड़े को बड़े प्यार से चाटकर साफ़ किया।
राज बड़े प्यार से उसके सर पर हाथ फेरा।
राज: चलो खाना खाते हैं उसके बाद हम दुकान चलते हैं।
रश्मि: नीरू की चुदाई का क़िस्सा नहीं सुनाओगे?
राज: फिर कभी, वैसे उसमें कुछ ख़ास नहीं है ।वह मुझसे चुदीं और एक महीने में माँ बन गयी। प्यारी लड़की थी मज़े से चुदवाती थी।
फिर दोनों खाना खाकर जय से मिलने दुकान की ओर चल पड़े।
उधर जय खाना खाकर डॉली को फ़ोन किया।
जय: डॉली, कैसी हो?
डॉली: ठीक हूँ, आप मम्मी से मिले क्या?
जय: नहीं तो वो यहाँ हैं क्या?
डॉली: हाँ आपके पापा से मिलने गयी हैं।
जय: सिर्फ़ मेरे पापा तुम्हारे नहीं?
डॉली: सॉरी मेर भी पापा हैं।
जय : मैं अभी फ़ोन करके पूछता हूँ कहाँ है दोनों?
तभी उसने देखा कि रश्मि और राज अंदर आ रहे हैं।
वो: अरे वो दोनों आ गए हैं। मैं बाद में फ़ोन करता हूँ।
बाई।
डॉली: बाई।
जय ने देखा कि उसकी सास काली साड़ी में बहुत सुंदर लग रही थी। उसे लगा कि पापा का हाथ शायद उनके हिप्स पर थे, पर वह पक्का नहीं था।
जय आगे बढ़ा और अपनी सास के पैर छूये ।रश्मि ने उसे झुक कर उठाया और अपने गले से लगा ली। रश्मि की साड़ी का पल्लू गिरा और जय के सामने उसकी बड़ी बड़ी छातियाँ थीं, गोरी और आधी ब्लाउस के बाहर, मोटे चूचे । उसे अचानक याद आया कि वह उसकी सास है तो वो झेंपकर अपनी आँखें वहाँ से हटाया। सास के गले लगने पर उसके बदन की गंध और उसके बड़े चूचे जो उसकी छाती से थोड़ी देर के लिए ही सटे उसे बेचैन कर दिए।
अब वो सब काउंटर के पीछे बने ऑफ़िस में बैठे और चाय पीने लगे।
जय चाय पीते हुए बोला: मम्मी आप वापस जाओगी क्या आज? या रात रुकोगी?

रश्मि: अरे बेटा बस अभी वापस जाऊँगी। मेरा काम तो हो गया है। मैं तो समधी जी की अहसान मंद हूँ कि उन्होंने मेरी ज़ेवर को लेकर पूरी परेशानी को दूर कर दिया है।

राज: अरे रश्मि जी, सब कुछ इन बच्चों का ही तो है । जय, डॉली और रचना का।

रश्मि: रचना और उसके पति कब तक आएँगे?

जय: पापा, मेरी रचना दीदी से बात हुई है वह अकेली ही आएँगी शादी में । जीजा जी नहीं आ पा रहे हैं।

रश्मि: सगाई में भी वो रहती तो अच्छा होता।

जय: अरे USA से आना कौन सी छोटी बात है।

रश्मि: हाँ ये तो है। वो वहाँ जॉब करती हैं क्या?

राज: हाँ वो और दामाद दोनों बैंक में जॉब करते हैं।
अब दुकान पर आइ हो तो एक साड़ी अपने लिए और एक बहू के लिए पसंद करिए।

रश्मि: नहीं नहीं आप पैसे नहीं लोगे और मुझे बड़ा अजीब लगता है।

जय: मम्मी अपनी ही दुकान है, आप ऐसा मत बोलिए।

फिर जय रश्मि को साड़ी के काउंटर पर ले गया और रश्मि साड़ी का सिलेक्शन करके अपने ऊपर रख कर देखने लगी। जय ने देखा कि इस दौरान उसका पल्लू बार बार गिर जाता था। और जय के सामने उसकी भारी छातियाँ आ जाती थीं। वह थोड़ा बेचेंन होकर दूसरी तरफ़ देखने लगता। तभी रश्मि ने शीशे के सामने एक साड़ी लपेट कर अपने पिछवाड़े को देखा कि कैसी लगती है साड़ी। क्या दृश्य था जय का लौड़ा कड़ा होने लगा। क्या उभार था गाँड़ का आऽऽऽऽह। वो सोचा कि मम्मी इस उम्र में भी मस्त माल है।
फिर वह अपने को कोसने लगा कि छि कितनी गंदी बात है। डॉली को कितना ख़राब लगेगा अगर उसे भनक भी मिल गयी उसके विचारों की।

रश्मि: ठीक है बेटा ये ही रख लूँ ना? तुम्हें कैसी लगी?

जय हकलाकर: जी जी अच्छी है। आप ये भी रख लीजिए। यह कहकर उसने एक पैकेट रश्मि को दिया।

रश्मि: ये क्या है?

जय: डॉली की साड़ी, मैंने पसंद की है।आप उसे दे दीजिएगा।
रश्मि: अभी सगाई भी नहीं हुई और ये सब शुरू हो गया?

जय झेंप कर: क्या मम्मी जी आप भी मेरी टाँग खींच रही हैं।
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Kamukta Story बिन बुलाया मेहमान sexstories 32 5,868 11 hours ago
Last Post: sexstories
Shocked Indian Sex Story आरती की वासना sexstories 17 2,086 11 hours ago
Last Post: sexstories
Star Chodan Kahani घुड़दौड़ ( कायाकल्प ) sexstories 112 15,733 12-17-2018, 01:27 AM
Last Post: sexstories
Information Hindi Porn Story मेरा रंगीला जेठ और भाई sexstories 20 20,304 12-15-2018, 11:44 PM
Last Post: sexstories
Star Porn Hindi Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 144 22,177 12-15-2018, 12:44 AM
Last Post: sexstories
Star Maa ki Chudai मा बेटा और बहन sexstories 25 23,499 12-13-2018, 12:44 PM
Last Post: sexstories
Question Incest Porn Kahani रिश्तारिश्ते अनजाने sexstories 19 12,955 12-13-2018, 12:39 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Antarvasna kahani माया की कामुकता sexstories 165 31,903 12-13-2018, 01:42 AM
Last Post: sexstories
Star Porn Hindi Kahani रश्मि एक सेक्स मशीन sexstories 122 37,766 12-10-2018, 01:43 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Desi Sex Kahani मुहब्बत और जंग में सब जायज़ है sexstories 28 15,281 12-10-2018, 12:51 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 4 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


www sexbaba net Thread hindi sex kahani E0 A4 96 E0 A4 BE E0 A4 B2 E0 A4 BE E0 A4 95 E0 A5 87 E0 A4Sexy videos gand phad de jo admiWife Ko chudaane ke liye sex in India mobile phone number bata do pls ತುಲ್ಲಿಗೆ ತುಣ್ಣೆ Tamil actress nude fuck fake in sex babaajeeb.riste.rajshrma.sex.khanimami ko mutate dekha chudai ki kahaniSayesha signal xxx porn pics gdपरिवार ही मे चुदाई कहानीस्तन कोन पितातActor anjali ki apne boyfriend ko kisingaunty ko god mein bithayablouse bra panty utar k roj chadh k choddte nandoiMatherchod ney chut main pepsi ki Bottle ghusa di chudai storyxxx karina ki phali tern yatr khani hindiwww.baba ji ne bhabhi ki puja ki sex kahaniyan.comsex story gandu shohar cuckoldNaukarabi ki hot hindi chudiaurat ki kali raat aur sex ki kahanimumelnd chusne ka sex vidiewo hindiharami kirayedar raj sharma kamuk sex kahaninayi Naveli romantic fuckead India desi girlmadarchod राज शर्मा चुदाई कहानी हिंदी सेक्स babamadarchod राज शर्मा चुदाई कहानी हिंदी sexbabaमहिलाये के पनटी मे मूठ मार कर रख देने Www.video sex boysex boy.baba.compapa ki beraham chudai sex kahaniyasPeriod yani roju ki sex cheyalliaadmi marahuwa ka xxxxBewi ne dya dokha hot sex stories 2018bhenkei.cudaichod chod. ka lalkardeदेसी बिमार गर्ल क्सक्सक्सwww.sexbaba.net/Thread-Ausharia Rai-nude-showing-her-boobs-n-pussy?page=4 adult forums indianmemsaheb boob mastimaa ko gale lagate hi mai maa ki gand me lund satakar usse gale laga chodaLambi shemale sex kahaniyaanoshaka sharma ki beti ki xxx picsबहिणीला झवलेलवड़ा कैसे उगंली कैसे घुसायbeta chal tere land kuch to dum hain jara dikha sex storyseksee.phleebarआई बनली Wife marathi sex storydesi vaileg bahan ne 15 sal ke bacche se chudwaiXXX SEX WITH PAD IS NO LADKI HINDIMeri baji ne mujhe apna peshab pilaya aur chudaiमामि क्या गाँड मरवाति हौAnkl ne mammi ka petikot niche kr liyaತುಲ್ಲುshjarchi didiXxx mum me lnd dalke datu chodnashad lgakar boobs p dood pilya khaniyaमम्मी की प्यास कोठे पर बुझाये सेक्स स्टोरीgandu hindi sexbabaNadan ladki ki chut chatkar pani piyawww. kannadda sexstorycombaratna deshi scool thichar 2018 sex video ,cobhushi vidawa lund ki peyasi full aur sexi full kahani ihndi meinmaa ki chudai mehman ne ki sex storychut ko rang se rang aate xxx videomalish kambal night bra bahanबचा ईमोशन कैशे करते bank wali bhabhi ne ghar bulakar chudai karai or paise diye sexy story.inholi ie din choda porn video hindisexbaba bhayanak lundJibh nikalake chusi and chudai ki kahanisouth actress sexbabaSanarika naked photo sexbaba.netNenu amma chellai part 1sex storyMaa ki phooly kasi gaand me ras daalaPariwar lambi kahani sexbaba.funny fakes sexbabaChut Me dhakke lagaoचुत को चौद ते देखा विडीयोमाँ के अनार का जूस सेक्स बाबा नेट पर हिंदी मेंShurathi hasan sex images in sex baba.com Jija muje bhi chodo kam ke plzbhai ne chut fara papa ne gand