Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
10-04-2018, 10:34 AM,
#1
Lightbulb Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
बाप के रंग में रंग गई बेटी

फ्रेंड्स ये कहानी एक ऐसे बाप और बेटी की है जिन्होने समाज की मरियादा को तोड़ कर एक दूसरे को अपने रंग में रंग लिया और किस तरह उनकी ये कहानी आगे बढ़ी यही जानने के मेरे साथ इस सफ़र पर चलने के लिए तैयार हो जाइए .
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#2
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह राजस्थान के बाड़मेर शहर के एक धनवान व्यापारी थे. उनका शेयर ट्रेडिंग का बिज़नस था. जयसिंह दिखने में ठीक-ठाक और थोड़े पक्के रंग के थे लेकिन एक अच्छे धनी परिवार से होने की वजह से उनका विवाह मधु से हो गया था जो कि गोरी-चिट्टी और बेहद खूबसूरत थी. जयसिंह का विवाह हुए २३ साल बीत चुके थे और वे तीन बच्चों के पिता बन चुके थे, जिनमें सबसे बड़ी थी मनिका जो २२ साल की थी और अपने कॉलेज की पढ़ाई पूरी कर चुकी थी, उस से छोटा हितेश था जो अभी कक्षा में था और सबसे छोटी थी कनिका जो में पढ़ती थी. जयसिंह की तीनों संतान रंग-रूप में अपनी माँ पर गईं थी. जिनमें से मनिका को तो कभी-कभी लोग उसकी माँ की छोटी बहन समझ लिया करते थे.

मनिका ने अपना ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद एम.बी.ए. करने का मन बना लिया था और उसके लिए एक एंट्रेंस एग्जाम दिया था जिसमे वह अच्छे अंकों से पास हो गई थी. उसे दिल्ली के एक कॉलेज से एडमिशन के लिए कॉल लैटर मिला था जिसमें उसे इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था. जयसिंह ने भी उसे वहाँ जाने के लिए हाँ कह दिया था. मनिका पहली बार घर से इतनी दूर रहने जा रही थी सो वह काफी उत्साहित थी. मनिका ने दिल्ली जाने की तैयारियाँ शुरू कर दीं. वह कुछ नए कपड़े, जूते और मेक-अप का सामान खरीद लाई थी. जब उसकी माँ ने उसे ज्यादा खर्चा न करने की हिदायत दी तो जयसिंह ने चुपके से उसे अपना ए.टी.एम. कार्ड थमा दिया था. वैसे भी पहली संतान होने के कारण वह जयसिंह की लाड़ली थी. वे हमेशा उसकी हर ख्वाहिश पूरी करते रहे थे.

***

आखिर वह दिन भी आ गया जब उन्हें दिल्ली जाना था, जयसिंह मनिका के साथ जा रहे थे. उन दोनों का ट्रेन में रिजर्वेशन था.

'मणि?' मधु ने मनिका को उसके घर के नाम से पुकारते हुए आवाज़ लगाई.

'जी मम्मी?' मनिका ने चिल्ला कर सवाल किया. उसका कमरा फर्स्ट फ्लोर पर था.

'तुम तैयार हुई कि नहीं? ट्रेन का टाइम हो गया है, जल्दी से नीचे आ कर नाश्ता कर लो.' उसकी माँ ने कहा.

'हाँ-हाँ आ रही हूँ मम्मा.'

कुछ देर बाद मनिका नीचे हॉल में आई तो देखा कि उसके पिता और भाई-बहन पहले से डाइनिंग टेबल पर ब्रेकफास्ट कर रहे थे.

'गुड मोर्निंग पापा. मम्मी कहाँ है?' मनिका ने अभिवादन कर सवाल किया.

'वो कपड़े बदल कर अ...आ रही है.' जयसिंह ने मनिका की ओर देख कर जवाब दिया था. लेकिन मनिका के पहने कपड़ों को देख वे हकला गए थे.

बचपन से ही जयसिंह सिंह के कोई रोक-टोक न रखने की वजह से मनिका नए-नए फैशन के कपड़े ले आया करती थी और जयसिंह भी उसकी बचकानी जिद के आगे हार मान जाया करते थे. लेकिन बड़ी होते-होते उसकी माँ मधु ने उसे टोकना शुरू कर दिया था. आज उसने अपनी नई लाई पोशाकों में से एक चुन कर पहनी थी. उसने लेग्गिंग्स के साथ टी-शर्ट पहन रखी थी. लेग्गिंग्स एक प्रकार की पजामी होती है जो बदन से बिलकुल चिपकी रहती है सो लड़कियां उन्हें लम्बे कुर्तों या टॉप्स के साथ पहना करती हैं, लेकिन मनिका ने उनके ऊपर एक छोटी सी टी-शर्ट पहन रखी थी जो मुश्किल से उसकी नाभी तक आ रही थी. लेग्गिंग्स में ढंके मनिका के जवान बदन के उभार पूरी तरह से नज़र आ रहे थे. उसकी टी-शर्ट भी स्लीवेलेस और गहरे गले की थी. जयसिंह अपनी बेटी को इस रूप में देख झेंप गए और नज़रें झुका ली.

'पापा कैसी लगी मेरी नई ड्रेस?' मनिका उनके बगल वाली कुर्सी पर बैठते हुए बोली.

'अ...अ...अच्छी है, बहुत अच्छी है.' जयसिंह ने सकपका कर कहा.

मनिका बैठ कर नाश्ता करने लगी उतने में उसकी माँ भी आ गई लेकिन उसके कुर्सी पर बैठे होने के कारण मधु को उसके पहने कपड़ों का पता न चला.

'जल्दी से खाना खत्म कर लो, जाना भी है, मैं जरा रसोई संभाल लूँ तब तक...' कह मधु रसोई में चली गई. 'हर वक्त ज्ञान देती रहती है तुम्हारी माँ.' जयसिंह ने दबी आवाज़ में कहा.

तीनो बच्चे खिलखिला दिए.

नाश्ता कर चुकने के बाद मनिका उठ कर वाशबेसिन में हाथ धोने चल दी, जयसिंह भी उठ चुके थे और पीछे-पीछे ही थे. आगे चल रही मनिका की ठुमकती चाल पर न चाहते हुए भी उनकी नज़र चली गई. मनिका ने ऊँचे हील वाली सैंडिल पहन रखी थी जिस से उसकी टांगें और ज्यादा तन गईं थी और उसके नितम्ब उभर आए थे. यह देख जयसिंह का चेहरा गरम हो गया था. उधर मनिका वॉशबेसिन के पास पहुँच थोडा आगे झुकी और हाथ धोने लगी, जयसिंह की धोखेबाज़ नज़रें एक बार फिर ऊपर उठ गईं थी. मनिका के हाथ धोने के साथ-साथ उसकी गोरी कमर और नितम्ब हौले-हौले डोल रहे थे. यह देख जयसिंह को उत्तेजना का एहसास होने लगा था पर अगले ही पल वे ग्लानी और शर्म से भर उठे.

'छि...यह मैं क्या करने लगा. हे भगवान् मुझे माफ़ करना.' पछतावे से भरे जयसिंह ने प्रार्थना की.

मनिका हाथ धो कर हट चुकी थी, उसने एक तरफ हो कर जयसिंह को मुस्का कर देखा और बाहर चल दी. जयसिंह भारी मन से हाथ धोने लगे.
जब तक मधु रसोई का काम निपटा कर बाहर आई तब तक उसके पति और बच्चे कार में बैठ चुके थे. जयसिंह आगे ड्राईवर के बगल में बैठे थे और मनिका और उसके भाई-बहन पीछे, मधु भी पीछे वाली सीट पर बैठ गई और कनिका को अपनी गोद में ले लिया. उसे अभी भी अपनी बड़ी बेटी के पहनावे का कोई अंदाजा न था. कुछ ही देर बाद वे स्टेशन पहुँच गए. वे सब कार पार्किंग में पहुँच गाड़ी से बाहर निकलने लगे. जैसे ही मनिका अपनी साइड से उतर कर मधु के सामने आई मधु का पारा सातवें आसमान पर जा पहुँचा.

'ये क्या वाहियात ड्रेस पहन रखी है मणि?' मधु ने दबी जुबान में आगबबूला होते हुए कहा.

'क्या हुआ मम्मी?' मनिका ने अनजाने में पूछा, उसे समझ नहीं आ रहा था कि उसकी माँ गुस्सा क्यूँ हो रही थी. गलती मनिका की भी नहीं थी, उसे इस बात का एहसास नहीं था कि टी.वी.-फिल्मों में पहने जाने वाले कपड़े आम-तौर पर पहने जाने लायक नहीं होते. उसने तो दिल्ली जाने के लिए नए फैशन के चक्कर में वो ड्रेस पहन ली थी.

'कपड़े पहनने की तमीज नहीं है तुमको? घर की इज्ज़त का कोई ख्याल है तुम्हें?' उसकी माँ का अपने गुस्से पर काबू न रहा और वह थोड़ी ऊँची आवाज़ में बोल गईं थी 'ये क्या नाचनेवालियों जैसे कपड़े ले कर आई हो तुम इतने पैसे खर्च कर के...!'

मनिका अपनी माँ की रोक-टोक पर अक्सर चुप रह कर उनकी बात सुन लेती थी, लेकिन आज दिल्ली जाने के उत्साह और ऐन जाने के वक्त पर उसकी माँ की डांट से उसे भी गुस्सा आ गया.

'क्या मम्मी हर वक्त आप मुझे डांटते रहते हो. कभी आराम से भी बात कर लिया करो.' मनिका ने तमतमाते हुए जवाब दिया, 'क्या हुआ इस ड्रेस में ऐसा, फैशन का आपको कुछ पता है नहीं...और पापा ने कहा की बहुत अच्छी ड्रेस है...’ जयसिंह उन दोनों की ऊँची आवाजें सुन उनकी तरफ ही आ रहे थे सो मनिका ने उनकी बात भी साथ में जोड़ दी थी.

'हाँ एक तुम तो हो ही नालायक ऊपर से तुम्हारे पापा की शह से और बिगड़ती जा रही हो...' उसकी माँ दहक कर बोली.

'क्या बात हुई? क्यूँ झगड़ रही हो माँ बेटी?' तभी जयसिंह पास आते हुए बोले.

'संभालो अपनी लाड़ली को, रंग-ढंग बिगड़ते ही जा रहे हैं मैडम के.' मधु ने अब अपने पति पर बरसते हुए कहा.

जयसिंह ने बीच-बचाव की कोशिश की, 'अरे क्यूँ बेचारी को डांटती रहती हो तुम? ऐसा क्या पहाड़ टूट पड़ा है...’ वे जानते थे कि मधु मनिका के पहने कपड़ों को लेकर उससे बहस कर रही थी पर उन्होंने आदतवश मनिका का ही पक्ष लेते हुए कहा.

'हाँ और सिर चढ़ा लो इसको आप...' मधु का गुस्सा और बढ़ गया था.

लेकिन जयसिंह उन मर्दों में से नहीं थे जो हर काम अपनी बीवी के कहे करते हैं और मधु के इस तरह उनकी बात काटने पर वे चिढ़ गए, 'ज्यादा बोलने की जरूरत नहीं है, जो मैं कह रहा हूँ वो करो.' जयसिंह ने मधु हो आँख दिखाते हुए कहा.
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#3
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
मधु अपने पति के स्वभाव से परिचित थी. उनका गुस्सा देखते ही वह खिसिया कर चुप हो गई. जयसिंह ने घडी नें टाइम देखा और बोले, 'ट्रेन चलने को है और यहाँ तुम हमेशा की तरह फ़ालतू की बहस कर रही हो. चलो अब.'

वे सब स्टेशन के अन्दर चल दिए. जयसिंह ने देखा कि उनका ड्राईवर, जो सामान उठाए पीछे-पीछे आ रहा था, उसकी नज़र मनिका की मटकती कमर पर टिकी थी और उसकी आँखों से वासना टपक रही थी. 'साला हरामी, जिस थाली में खाता है उसी में छेद...' उन्होंने मन ही मन ड्राईवर को कोसते हुए सोचा लेकिन 'छेद' शब्द मन में आते ही उनका दीमाग भी भटक गया और वे एक बार फिर अपनी सोच पर शर्मिंदा हो उठे. वे थोड़ा सा आगे बढ़ मनिका के पीछे चलने लगे ताकि ड्राईवर की नज़रें उनकी बेटी पर न पड़ सके.

उनकी ट्रेन प्लेटफार्म पर लग चुकी थी. जयसिंह ने ड्राईवर को अपनी बर्थ का नंबर बता कर सारा सामान वहाँ रखने भेज दिया और खुद अपने परिवार के साथ रेल के डिब्बे के बाहर खड़े हो बतियाने लगे. मधु और मनिका अभी भी एक दूसरे से तल्खी से पेश आ रही थी. हितेश और कनिका प्लेटफार्म पर इधर-उधर दौड़ लगा रहे थे. तभी ट्रेन की सीटी बज गई, उनका ड्राईवर सामान रख बाहर आ गया था. जयसिंह ने उसे कार के पास जाने को कहा और फिर हितेश और कनिका को बुला कर उन्हें ठीक से रहने की हिदायत देते हुए ट्रेन में चढ़ गए. मनिका ने भी अपने छोटे भाई-बहन को प्यार से गले लगाया और अपनी माँ को जल्दी से अलविदा बोल कर ट्रेन में चढ़ने लगी. जयसिंह ट्रेन के दरवाजे पर ही खड़े थे, उन्होंने मनिका का हाथ थाम कर उसे अन्दर चढ़ा लिया. जब मनिका उनका हाथ थाम कर अन्दर चढ़ रही थी तो एक पल के लिए वह थोड़ा सा आगे झुक गई थी और जयसिंह की नज़रें उसके गहरे गले वाली टी-शर्ट पर चली गई थी, मनिका के झुकने से उन्हें उसके वक्ष के उभार नज़र आ गए थे. २२ साल की मनिका के दूध से सफ़ेद उरोज देख जयसिंह फिर से विचलित हो उठे. उन्होंने जल्दी से नज़र उठा कर बाहर खड़ी मधु की ओर देखा. लेकिन मधु दोनों बच्चों को लेकर जा चुकी थी.

एक हलके से झटके के साथ ट्रेन चल पड़ी और जयसिंह भी अपने-आप को संभाल कर अपनी बर्थ की ओर चल दिए.

***

जयसिंह और मनिका का रिजर्वेशन फर्स्ट-क्लास ए.सी. केबिन में था. जब उन्होंने अपने केबिन का दरवाज़ा खोला तो पाया कि मनिका बर्थ पर बैठी है और खिड़की से बाहर देख रही है. खिड़की से सूरज की तेज़ रौशनी पूरे केबिन में फैली हुई थी, वे मनिका की सामने वाली बर्थ पर बैठ गए. मनिका उनकी ओर देख कर मुस्काई,

'फाइनली हम जा रहे हैं पापा, आई एम सो एक्साइटेड!' उसने चहक के कहा.

'हाहा...हाँ भई.' जयसिंह भी हँस के बोले.

'क्या पापा मम्मी हमेशा मुझे टोकती रहती है...' मनिका ने अपनी माँ से हुई लड़ाई का जिक्र किया.

'अरे छोड़ो न उसे, उसका तो हमेशा से यही काम है. कोई काम सुख-शान्ति से नहीं होता उससे.' जयसिंह ने मनिका को बहलाने के लिए कहा.

'हाहाहा पापा, सच में जब देखो मम्मी चिक-चिक करती ही रहती है, ये करो-ये मत करो और पता नहीं क्या क्या?' मनिका ने भी अपने पिता का साथ पा कर अपनी माँ की बुराई कर दी.

'हाँ भई मुझे तो आज २३ साल हो गए सुनते हुए.' जयसिंह ने बनावटी दुःख प्रकट करते हुए कहा और खिलखिला उठे.
'हाय पापा आप बेचारे...कैसे सहा है आपने इतने साल.' मनिका भी खिलखिलाते हुए बोली और दोनों बाप-बेटी हँस पड़े. 'पर सीरियसली पापा आप ही इतने वफादार हो कोई और होता तो छोड़ के भाग जाता...' मनिका ने हँसते हुए आगे कहा.

'हाहा...भाग तो मैं भी जाता पर फिर मेरी मणि का ख्याल कौन रखता?' जयसिंह ने नहले पर देहला मारते हुए कहा.
'ओह पापा यू आर सो स्वीट!' मनिका उनकी बात से खिल उठी थी. वह खड़ी हुई और उनके बगल में आ कर बैठ गई. जयसिंह ने अपना हाथ मनिका के पीछे ले जा कर उसके कंधे पर रखा और उसे अपने से थोड़ा सटा लिया, मनिका ने भी अपना एक हाथ उनकी कमर में डाल रखा था.

वे दोनों कुछ देर ऐसे ही बैठे रहे. ये पहली बार था जब जवान होने के बाद मनिका ने अपने पिता से इस तरह स्नेह जताया था, आम-तौर पर जयसिंह उसके सिर पर हाथ फेर स्नेह की अभिव्यक्ति कर दिया कर देते थे. सो अचानक बिना सोचे-समझे इस तरह करीब आ जाने पर मनिका कुछ पलों बाद थोड़ी असहज हो गई थी और उससे कुछ कहते नहीं बन रहा था. दूसरी तरफ जयसिंह भी मनिका के इस अनायास ही उठाए कदम से थोड़ा विचलित हो गए थे, मनिका के परफ्यूम की भीनी-भीनी खुशबू ने उन्हें और अधिक असहज कर दिया था. इस तरह दोनों ही बिना कुछ बोले बैठे रहे.
'पता है पापा, मेरे सारी फ्रेंड्स आपसे जलती हैं?' इससे पहले कि उनके बीच की खामोशी और गहरी होती मनिका ने चहक कर माहौल बदलते हुए कहा.

हाहाहा...अरे क्यूँ भई?' जयसिंह भी थोड़े आश्चर्य और थोड़ी राहत की सांस लेते हुए बोले.

'अब आप मेरा इतना ख्याल रखते हो न तो इसलिए...मेरी फ्रेंड्स कहती है कि उनके पापा लोग उन्हें आपकी तरह चीज़ें नहीं दिलाते यू क्नो...वे कहती हैं कि...' इतना कह मनिका सकपका के चुप हो गई.

'क्या?' जयसिंह ने उत्सुकतावश पूछा.

'कुछ नहीं पापा ऐसे ही फ्रेंड्स लोग मजाक करते रहते हैं.' मनिका ने टालने की कोशिश की.

'अरे बताओ ना?' जयसिंह ने अपना हाथ मनिका की पीठ पर ले जाते हुए कहा.

'वो सब कहते हैं कि तेरे पापा...कि तेरे पापा तो तेरे बॉयफ्रेंड जैसे हैं. पागल हैं मेरी फ्रेंड्स भी.' मनिका ने कुछ लजाते हुए बताया.

'हाहाहा...क्या सच में?' जयसिंह ने ठहाका लगाया. साथ ही वे मनिका की पीठ सहला रहे थे.

'नहीं ना पापा वो सब मजाक में कहते हैं...और मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है ओके...' मनिका ने थोड़ा सीरियस होते हुए कहा क्यूंकि उसे लगा की उसके पिता बॉयफ्रेंड की बात सुन कर कहीं नाराज न हो जाएँ.

'हाँ भई मान लिया.' जयसिंह ने मनिका की पीठ पर थपकी दे कर कहा, उन्होंने जाने-अनजाने में अपना दूसरा हाथ मनिका की जांघ पर रख लिया था.

मनिका की जांघें लेग्गिंग्स में से उभर कर बेहद सुडौल और कसी हुई नज़र आ रही थी. जयसिंह की नज़र उन पर कुछ पल से टिकी हुईं थी और उनके अवचेतन मन ने यंत्रवत उनका हाथ उठा कर मनिका की जांघ पर रख दिया था. अपने हाथ से मनिका की जांघ महसूस करते ही वे और अधिक भटक गए, मनिका की जांघ एकदम कसी हुई और माँसल थी. उन्होंने हलके से अपना हाथ उस पर फिराया, उन्हें लगा की बातों में लगी मनिका को इस का एहसास शायद न हो लेकिन उधर मनिका भी उनके हाथ की पोजीशन से अनजान नहीं थी. जयसिंह के उसकी जांघ पर हाथ रखते ही मनिका की नजर उस पर जा टिकी थी, लेकिन उसने अपनी बात जारी रखी और अपने पिता के इस तरह उसे छूने को नज़रन्दाज कर दिया, उसे लगा कि वे बस उससे स्नेह जताने के लिए ऐसा कर रहे हैं.

'चलो पापा अब आप आराम से बैठ जाओ. मैं अपनी बर्थ पे जाती हूँ.' कह मनिका उठने को हुई. जयसिंह ने भी अपने हाथ उसकी पीठ और जांघ से हटा लिए थे. उनका मन कुछ अशांत था.

'क्या मैंने जानबूझकर मणि...मनिका के बदन पर हाथ लगाया? पता नहीं कैसे मेरा हाथ मानो अपने आप ही वहाँ चला गया हो. ये मैं क्या सोचने लगा हूँ...अपनी बेटी के लिए. नहीं-नहीं अब से ऐसा फिर कभी नहीं होगा. हे ईश्वर मुझे क्षमा करना.' जयसिंह ने मन ही मन सोचा और आँखें मूँद प्रार्थना कर वचन लिया. वे अब थोड़ी राहत महसूस कर रहे थे, उन्होंने आँखें खोली और उसी के साथ ही जयसिंह पर मानो बिजली गिर गई.

जयसिंह ने जैसे ही आँखें खोली तो सामने का नज़ारा देख उनका सिर चकरा गया था, मनिका की पीठ उनकी तरफ थी और वह खड़ी-खड़ी ही कमर से झुकी हुई थी. उसके दोनों नितम्ब लेग्गिंग्स के कपड़े में से पूरी तरह उभर कर नज़र आ रहे थे वह उसकी पतली गोरी कमर केबिन में फैली सूरज की रौशनी में चमक रही थी. जयसिंह का चेहरा अपनी बेटी के अधो-भाग के बिलकुल सामने था. जयसिंह ने अपने लिए प्रण के वास्ते से अपनी नज़रें घुमानी चाही पर उनका दीमाग अब उनके काबू से बाहर जा चुका था. अगले ही पल उनकी आँखें फिर से मनिका के मोटे कसे हुए नितम्बों पर जा टिकीं. उन्होंने गौर किया कि मनिका असल में सामने वाली बर्थ के नीचे रखे बैग में कुछ टटोल रही थी. उनसे रहा न गया.

'क्या ढूँढ रही हो मनिका?' उन्होंने पूछा.

'कुछ नहीं पापा मेरे ईयरफोंस नहीं मिल रहे, डाले तो इसी बैग में थे.' मनिका ने झुके-झुके ही पीछे मुड़ कर कहा.
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#4
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
मनिका को इस पोज़ में देख जयसिंह और बेकाबू हो गए थे. मनिका वापस अपने ईयरफोंस ढूँढने में लग गई थी. जयसिंह ने ध्यान दिया की मनिका के इस तरह झुके होने की वजह से उसकी लेग्गिंग्स का महीन कपड़ा खिंच कर थोड़ा पारदर्शी हो गया था और केबिन में इतनी रौशनी थी कि उन्हें उसकी सफ़ेद लेग्गिंग्स में से गुलाबी कलर का अंडरवियर नज़र आ रहा था. उन पर एक बार फिर जैसे बिजली गिर पड़ी. उन्होंने अपनी नज़रें अपनी बेटी मनिका के नितम्बों पर पूरी शिद्दत से गड़ा लीं, वे सोच रहे थे कि पहली बार में उन्हें उसकी अंडरवियर क्यूँ नहीं दिखाई दी थी, और उन्हें एहसास हुआ की मनिका जो अंडरवियर पहने थी वह कोई सीधी-सिम्पल अंडरवियर नहीं थी बल्कि एक थोंग था, जो कि एक प्रकार का मादक (सेक्सी) अंडरवियर होता है जिससे पीछे का अधिकतर भाग ढंका नहीं जाता. जयसिंह पर गाज पर गाज गिरती चली जा रही थी. ट्रेन के हिचकोलों से हिलते मनिका के नितम्बों ने उनके लिए वचन की धज्जियाँ उड़ा दीं थी.

आज तक जयसिंह ने किसी को इस तरह की सेक्सी अंडरवियर पहने नहीं देखा था, अपनी बीवी मधु को भी नहीं. उनके मन में अनेक ख्याल एक साथ जन्म ले रहे थे, 'ये मनिका कब इतनी जवान हो गई? पता ही नहीं चला, आज तक इसकी माँ ने भी कभी ऐसी पैंटी पहन कर नहीं दिखाई जैसी ये पहने घूम रही है...ओह्ह मेरे से पैसे ले जा कर ऐसी कच्छियाँ लाती है ये...’जयसिंह जैसे सुध-बुध खो बैठे थे, 'ओह्ह क्या...क्या कसी हुई गांड है साली की...ये मैं क्या सोच रहा हूँ? सच ही तो है...साली कुतिया कैसे अधनंगी घूम रही है देखो जरा. साली चिनाल के बोबे भी बहुत बड़े हो रहे हैं...म्म्म्म्म्म्म...हे प्रभु...’जयसिंह के दीमाग में बिजलियाँ कौंध रहीं थी.

जयसिंह के कई दोस्त ऐसे थे जिनके शादी के बाद भी अफेयर्स रहे थे लेकिन उन्होंने कभी मधु के साथ दगा नहीं की थी, उम्र बढ़ने के साथ-साथ उनकी कामिच्छा भी मंद पड़ने लगी थी और अब वे कभी-कभार ही मधु के साथ संभोग किया करते थे. लेकिन आज अचानक जैसे उनके अन्दर सोया हुआ मर्द फिर से जाग उठा था उन्होंने पाया की उनकी पेंट में उनका लिंग तन के खड़ा हो गया था. अब तक मनिका को उसके ईयरफोंस मिल चुके थे और वह सामने की बर्थ पर बैठी गाने सुन रही थी, उसने मुस्का कर अपने पिता की ओर देखा, उसे नहीं पता था कि सामने बैठे उसके पापा किस कदर उस के जिस्म के दीवाने हुए जा रहे थे.

जयसिंह ने पाया कि उनका लिंग खड़ा होकर उन्हें तकलीफ दे रहा था क्यूंकि उनके बैठे होने की वजह से लिंग को जगह नहीं मिल पा रही थी, उन्हें ऐसा लग रहा था मानो एक दिल उनके सीने में धड़क रहा था और एक उनके लिंग में, 'साला लौड़ा भी फटने को हो रहा है और ये साली कुतिया मुस्कुरा रही है सामने बैठ कर...ओह क्या मोटे होंठ है साली के, गुलाबी-गुलाबी...मुहं में भर दूँ लंड इसके...आह्ह्ह...’जयसिंह भूल चुके थे कि मनिका उनकी बेटी है. पर सच से भी मुहं नहीं फेरा जा सकता था, थोड़ी देर बाद जब उनका दीमाग कुछ शांत हुआ तो वे फिर सोच में पड़ गए, 'मनिका...मेरी बेटी है...साली कुतिया छोटी-छोटी कच्छियाँ पहनती है...उफ़ पर वो मेरी बेटी...साली का जिस्म ओह्ह...उसकी फ्रेंड्स मुझे उसका बॉयफ्रेंड कहती हैं...ओह मेरी ऐसी किस्मत कहाँ...काश ये मुझसे पट जाए...कयामत आ जाएगी...पर वो मेरी प्यारी बिटिया...रांड है.'

जयसिंह इसी उधेड़बुन में लगे थे जब मनिका ने अपनी सैंडिल खोली और पैर बर्थ पर करके लेट गई, एक बार फिर उनके कुछ शांत होते बदन में करंट दौड़ गया. मनिका उनकी तरफ करवट ले कर लेटी हुई थी और उसकी डीप-नेक टी-शर्ट में से उसका वक्ष उभर कर बाहर निकल आया था, इससे पहले की जयसिंह का दीमाग इस नए झटके से उबर पाता उनकी नज़र मनिका की टांगों के बीच बन रही 'V' आकृति पर जा ठहरी. वे तड़प उठे, 'ओह्ह्ह मनिकाआआ...’और उसी क्षण जयसिंह ने फैसला कर लिया कि ये आग मनिका के जिस्म से ही बुझेगी, जो भी हो उन्हें किसी तरह अपनी बेटी के साथ हमबिस्तर होने का रास्ता खोजना होगा वरना शायद उन्हें ज़िन्दगी भर चैन नहीं मिलेगा.
जयसिंह भी अब अपनी बर्थ पर लेट गए और मनिका पर से नज़रें हटा लीं. वे जानते थे कि अगर वे उसकी तरफ देखते रहे तो उनका दीमाग सोचने-समझने के काबिल नहीं रहेगा और इस वक्त उन्हें दिल से ज्यादा दीमाग की जरूरत थी, 'मैं और मनिका इस ट्रिप पर अकेले जा रहे हैं, इस को पटाने के लिए इससे ज्यादा सुनहरा मौका शायद ही फिर मिले, सो मुझे दीमाग से काम लेना होगा. अगर प्लान में थोड़ी भी गड़बड़ हुई तो मामला बहुत बिगड़ सकता है इसलिए बहुत सोच समझ कर कदम उठाने होंगे ताकि अगर बात न बनती दिखे तो पीछे हटा जा सके.' जयसिंह अब मनिका के स्वाभाव और स्कूल कॉलेज के ज़माने के अपने अनुभव का मेल करने की कोशिश करने लगे, 'हम्म लड़कियों के बारे में मैं क्या जानता हूँ..? हमेशा से ही लड़कियां पैसे वाले लौंडों के चक्करों में जल्दी आती हैं, सो पहली समस्या का हल तो मेरे पास है और दूसरा लड़कियों को पसंद है अपनी तारीफ करवाना, वो भी कोई दिक्कत नहीं है और लड़कियाँ स्वाभाव से सीक्रेटिव भी होतीं है, उन्हें चुपके-चुपके शरारत करना बहुत भाता है, सो साली की इस कमजोरी पर भी ध्यान देना होगा. फिर आती है भरोसे की बात;एक बार अगर लड़की को आपने भरोसे में ले लिया तो उस से कुछ भी करवाया जा सकता है, मनिका मुझ पर भरोसा तो करती है लेकिन अपने पैरेंट के रूप में सो वहाँ दिक्कत आने वाली है और लास्ट स्टेप है मनिका की जवानी, उसमें भी आग लगानी होगी. वैसे इन मामलों में लडकियाँ मर्दों से कम तो नहीं होती बस वे जाहिर नहीं होने देती, लेकिन यहाँ सबसे बड़ी दिक्कत आने वाली है. मनिका के तन में इतनी हवस जगानी होगी कि वह सामाज के नियम तोड़ कर मेरी बात मान लेने पर मजबूर हो जाए. यह आखिरी काम सबसे मुश्किल होगा, लेकिन अब मैं पीछे नहीं हट सकता, या तो आर है या पार है.' जयसिंह ने इसी तरह सोचते हुए दो घंटे बिता दिए, मनिका को लगा कि वे सो रहे हैं.

उनका प्लान बन चुका था, पहले वे अपने पैसे और तारीफों से मनिका को दोस्ती के ऐसे जाल में फँसाने वाले थे ताकि वह उनको अपने पिता के रूप में देखना कुछ हद तक छोड़ दे. फिर वे धीरे-धीरे अपना चँगुल कसने वाले थे और मनिका के साथ बिलकुल किसी अच्छे दोस्त की तरह पेश आ कर उसका भरोसा पूरी तरह जीतने की कोशिश करने वाले थे ताकि उन दोनों के बीच कुछ ऐसे अन्तरंग वाकये हों जो मनिका को उनके और करीब ले आए. उसके इतना फंस जाने के बाद जयसिंह हौले-हौले उसकी कमसिन जवानी की आग को हवा देने का काम करने वाले थे. जयसिंह का मन अब शांत था, वे हमेशा से ही अपने बिज़नस के क्षेत्र में एक मंजे हुए खिलाड़ी माने जाते थे क्यूंकि एक बार जो वे ठान लेते थे उसे पा कर ही दम लेते थे और उसी एकाग्रता के साथ वे अपनी बेटी को अपनी रखैल बनाने के अपने प्लान पर अमल लाने वाले थे.
शाम होते-होते वे लोग दिल्ली पहुँच गए, स्टेशन से बाहर आ कर उन्होंने एक कैब ली और जब ड्राईवर ने पूछा कि वे कहाँ जाना चाहते हैं तो जयसिंह बोले,

'मेरियट गुडगाँव.' और कनखियों से मनिका की तरफ देखा. मनिका के चेहरे पर ख़ुशी साफ़ झलक रही थी.

'वाओ पापा हम मेरियट में रुकेंगे?' मनिका ने खुश हो कर पूछा.

'और नहीं तो क्या? अब तुम साथ आई हो तो किसी अच्छी जगह ही रुकेंगे ना.' जयसिंह उसे हवा देते हुए बोले.

'ओह गॉड पापा आई एम सो हैप्पी.'

'हाहा...थेट्स व्हाट आई वांट फॉर यू मनिका.' जयसिंह ने कहा. मनिका यह सुन और खुश हो गई लेकिन उसने मन ही मन नोटिस किया कि जयसिंह सुबह से उसे उसके निकनेम मणि की बजाय 'मनिका' कह कर पुकार रहे थे जो उसे थोड़ा अटपटा लगा.

कुछ देर के सफ़र के बाद वे हॉटेल पहुँच गए. मेरियट दिल्ली-गुडगाँव बेहद आलिशान हॉटेल है, अन्दर पहुँचने पर मनिका वहाँ के डेकोर को देख बहुत खुश हुई. जयसिंह ने उसे सामान के पास छोड़ा और चेक-इन काउंटर पर पहुंचे. वहाँ बैठे फ्रंट-ऑफिस क्लर्क ने उनका अभिवादन किया,

'वेलकम टू द मेरियट सर. डू यू हैव अ रिजर्वेशन?'
'एक्चुअली नो. आई ऍम लुकिंग फॉर अ स्टे.'

'ओह वैरी वेल सर, आर यू अलोन?'

'नो आई एम हेयर विद माय वाइफ.' जयसिंह ने मुस्कुरा कर कहा.

'वेल सर हाओ लॉन्ग विल यू बी स्टेइंग विद अस?'

'आई डोंट क्नो एक्चुअली सो कैन यू पुट अस डाउन फॉर अ वीक फॉर नाओ?' जयसिंह ने जरा सोच कर कहा.

'वैरी वेल सर. हेयर आर योर की-कार्ड्स सर थैंक यू फॉर चूजिंग द मेरियट. हैव अ प्लीजेंट स्टे.'

जयसिंह रूम बुक करा कर मनिका के पास लौटे. तभी हेल्पर भी आ गया और उनका रूम नंबर पूछ कर उनका लगेज रखने चल दिया. वे भी एलीवेटर से अपने रूम की तरफ चल पड़े.
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#5
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जब वे अपने रूम में पहुंचे तो पाया की हेल्पर ने उनका सामान वहाँ पहुँचा दिया था और खड़ा उनका वेट कर रहा था. जयसिंह समझ गए कि वह टिप चाहता है. उन्होंने जेब से दो सौ रूपए निकाल उसे थमा दिए और वह ख़ुशी-ख़ुशी वहाँ से चल दिया. मनिका ने जब रूम देखा तो उसकी बांछें खिल उठी, कमरा इतना बड़ा व शानदार था और उसमे ऐशो-आराम की सभी चीजें मौजूद थीं कि वो खुश होकर इधर-उधर जा-जा कर वहाँ रखी चीज़ें उलट-पलट कर देखने लगी.

'पापा क्या रूम है ये...वाओ.' उसने जयसिंह से अपनी ख़ुशी का इज़हार किया.

'हाँ-हाँ. अच्छा है.' जयसिंह ने कुछ ख़ास महत्व न देते हुए कहा.

'बस अच्छा है? पापा! इतना सुपर रूम है ये...’ मनिका ने इंसिस्ट किया.

'हाँ भई बहुत अच्छा है, बस?' जयसिंह ने उसी टोन में कहा, 'तुमने पहली बार देखा है इसीलिए ऐसा लग रहा है तुम्हें.'
'मतलब..? मतलब आप पहले भी आए हो यहाँ पर पापा?' मनिका ने आश्चर्य से पूछा.

'और नहीं तो क्या, बिज़नस मीटिंग्स के सिलसिले में आता तो रहता हूँ मैं दिल्ली, जैसे तुम्हें नहीं पता...' जयसिंह बोले.

'हाँ आई क्नो दैट पापा पर मुझे नहीं पता था कि आप यहाँ रुकते हो.' मनिका बोली, 'पहले पता होता तो मैं भी आपके साथ आ जाती.' जयसिंह उसकी बात पर मन ही मन मुस्कुराए.
'हाहा...अच्छा जी. चलो कोई बात नहीं अब तो तुम यहीं हॉस्टल में रहा करोगी, सो जब मैं दिल्ली आया करूँगा तो तुम यहाँ आ जाया करना मेरे पास हॉटेल में.' जयसिंह का आशय अभी मनिका कैसे समझ सकती थी, सो वह खुश हो गई और बोली,

'वाओ हाँ पापा ये तो मैंने सोचा ही नहीं था. आई विश की मेरा एडमिशन हो जाए यहाँ...और आपकी बिज़नस मीटिंग्स जल्दी-जल्दी हुआ करें.'

'हाहाहा...अरे हो जाएगा, तुम इतनी इंटेलीजेंट हो, डोंट वरी.' जयसिंह मनिका की तारीफ करते हुए बोले, 'चलो अब बताओ की डिनर रूम में मंगवाएं या नीचे रेस्टोरेंट में करना है?'

मनिका के कहने पर वे दोनों हॉटेल के रेस्टोरेंट में खाना खाने गए थे. जयसिंह ने मनिका से ही ऑर्डर करने को कहा और जब मनिका ने मेन्यु में लिखे महंगे रेट्स का जिक्र किया तो उन्होंने उसे पैसों की चिंता न करने को कहा. मनिका उनकी बात सुन खिल उठी और बोली,

'पापा सच मेरी फ्रेंड्स सही कहती हैं. आप सबसे अच्छे पापा हो.'

'हाह...अरे हम डिनर ही तो कर रहे हैं. तुम्हारी फ्रेंड्स के घरवाले क्या उन्हें खाना नहीं खिलाते क्या?' जयसिंह ने मजाकिया लहजे में कहा.

'ओहो पापा...कम से कम फाइव स्टार रेस्टोरेंट्स में तो नहीं खिलाते हैं. आप को तो बस मेरी बात काटनी होती है.' मनिका ने मुहँ बनाते हुए कहा.

'तो मैं कौनसा तुम्हें यहाँ रोज़-रोज़ लाया करता हूँ.' जयसिंह मनिका से ठिठोली करने के अंदाज़ में बोले.

'हा...पापा कितने खराब हो आप.' मनिका ने झूठी नाराजगी दिखाई, 'देख लेना जब मेरा यहाँ एडमिशन हो जाएगा ना और आप डेल्ही आया करोगे तो मैं यहीं पे खाना खाया करूँगी.' मनिका ने आँखें मटकाते हुए हक़ जताया.

'हाहाहा...अरे भई ठीक है अब आज के लिए तो कुछ ऑर्डर कर दो.' जयसिंह हँसते हुए बोले.

जब मनिका ने ऑर्डर कर दिया, वे दोनों वैसे ही बैठे बतियाने लगे. जयसिंह मनिका के साथ हँसी-मजाक कर रहे थे और बात-बात में उसकी टांग खींच रहे थे, मनिका भी हँसते हुए उनका साथ दे रही थी और मन ही मन अपने पिता के इस मजाकिया और खुशनुमा अंदाज़ को देख-देख हैरान भी थी. कुछ देर बाद उनका डिनर आ गया, मनिका ने रीअलाइज़ किया की उसे बहुत जोरों की भूख लगी थी, उन्होंने से सुबह के ब्रेकफास्ट के बाद ट्रेन में थोड़े से स्नैक्स ही खाए थे. दोनों बाप-बेटी खाना खाने में तल्लीन हो गए. मनिका जो पहली बार इतनी महंगी जगह खाना खाने आई थी, को खाना बहुत अच्छा लगा और वह मन में प्रार्थना कर रही थी कि उसका एडमिशन दिल्ली में ही हो जाए.
जब वे खाना खा चुके तो जयसिंह ने आइसक्रीम ऑर्डर कर दी और जब वेटर बिल ले कर आया तो उन्होंने उसे पाँच सौ रुपए की टिप दे डाली, मनिका उनके अंदाज़ से पूरी तरह से इम्प्रेस हो गई थी. वे दोनों अब उठ कर अपने कमरे में लौट आए.

'पापा द फ़ूड हेयर इस ऑसम.' मनिका ने कमरे में आ कर बेड पर गिरते हुए कहा, 'मेरा तो टम्मी (पेट) फुल हो गया है.'

'हम्म...' जयसिंह अपने सूटकेस से पायजामा-कुरता निकाल रहे थे, 'तुम थक गई हो तो सो जाओ, मैं जरा नहा कर आता हूँ.' उन्होंने कहा.

'ओह नहीं पापा...आई मीन थक तो गई हूँ बट मैं भी शावर लेके नाईट-ड्रेस पहनूँगी, यू गो फर्स्ट एनीवे.'
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#6
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह अपने कपड़े ले कर बाथरूम में घुस गए. अंदर पहुँच उन्होंने अपने कपड़े उतारे और अपने कसमसाते लंड को आज़ाद कर राहत की साँस ली, उन्होंने शावर ऑन किया और ठन्डे पानी की फुहार से नहाते हुए मनिका के जवान जिस्म की कल्पना करते हुए अपना लंड सहलाने लगे. 'ओह मनिका...साली कमीनी कुतिया...क्या पटाखा जवानी है साली की, बजाने का मज़ा ही आ जाए जिसको...आह्ह...' जयसिंह सोच-सोच कर उत्तेजित हो रहे थे. उनका लंड उनके हाथ में हिलोरे ले रहा था, उन्हें महसूस हुआ की वे झड़ने वाले हैं, ऐसा होते ही उन्होंने एकदम से अपने लंड को सहलाना बंद कर दिया और शांत होने की कोशिश करने लगे. उनके मन में एक विचार कौंधा था कि अगर अभी वे स्खलित हो जाते हैं तो मनिका को लेकर उनके तन-मन में लगी आग, कुछ पल के लिए ही सही, बुझ जाएगी (जैसा कि आम-तौर पर सेक्स करने और हस्तमैथुन के बाद मर्द महसूस करते हैं) और वे यह नहीं चाहते थे. उन्होंने तय किया की वे अपने प्लान के सफल होने से पहले अपने तन की आग को शांत नहीं करेंगे, 'और अगर प्लान फेल हो गया, तब तो जिंदगी भर हाथ में लेके हिलाना ही पड़ेगा.' फिर उन्होंने नाटकीय अंदाज़ में मन ही मन सोचा और नहाने लगे.
बाहर बेड पर लेटी मनिका अपने पापा के नहा कर आने का वेट कर रही थी. वह बहुत खुश थी, 'ओह गॉड कितना एक्साईटिंग दिन था आज का, पहली बार मेट्रो-सिटी में आई हूँ आज मैं...एंड होपफुली अब यहीं रहूँगी, कितना कुछ है यहाँ घूमने-फिरने को और शौपिंग करने को...वैसे मम्मी ने ठीक ही कहा था सुबह, ऐसे ही पैसे बर्बाद कर डाले मैंने वहाँ शौपिंग करके इस से अच्छा होता कि यहाँ से कर लेती...हम्म कोई बात नहीं पापा से थोड़े और पैसे माँग लूंगी वैसे भी वे कह रहे थे कि मैं पैसों की फ़िक्र न करूँ...हीहाहा...’मनिका मन ही मन सोच खिलखिलाई, 'और पापा कितने अमेजिंग हैं...कितने फनी और स्वीट...और बुरे भी कैसे मेरी लेग-पुलिंग कर रहे थे आज...ओह नहीं-नहीं वे बुरे नहीं है...और गॉड हम मेरियट में रुके हैं...वेट टिल आई टेल माय फ्रेंड्स अबाउट इट...सब जल मरेंगी...हाहाहा...' तभी बाथरूम का दरवाज़ा खुलने की आवाज़ आई, मनिका उठ बैठी, जयसिंह नहा कर बाहर निकल आए थे.

'चलो मनिका तुम भी नहा आओ जल्दी से फिर बिस्तर में घुसते हैं.' जयसिंह बेड के पास आते हुए बोले, 'थक गए आज तो सफ़र करके, आई एम सो स्लीपी.'

'येस पापा.' मनिका उठते हुए बोली. लेकिन जयसिंह की कही 'बिस्तर में घुसने' वाली बात मनिका के अंतर्मन में कहीं बहुत हल्की सी एक आहट कर गई थी पर मनिका का ध्यान इस ओर नहीं गया.

मनिका ने जल्दी से अपने कपड़े लिए और बाथरूम में घुस गई. बाथरूम में घुस मनिका ने अपने कपड़े उतारे व शावर ऑन कर नहाने लगी. नहाते-नहाते उसने अपने अंतवस्त्र भी खोल दिए व धो कर एक तरफ रख दिए थे. उनके रूम की तरह वहाँ का बाथरूम भी बहुत शानदार था, उसमें तरह-तरह के शैम्पू और साबुनें रखीं थी और शावर में पानी आने के लिए भी कई सेटिंग्स थी, मनिका मजे से नहाती रही और फिर एक बार सोचने लगी कि दिल्ली आ कर उसे कितना मजा आ रहा था.

कुछ देर बाद जब मनिका नहा चुकी थी, उसने पास की रैक पर रखे तौलिए की तरफ हाथ बढाया और अपना तरोताजा हुआ जिस्म पोंछने लगी. तौलिया बेहद नरम था और मनिका का बदन वैसे ही नहाने के बाद थोड़ा सेंसिटिव हो गया था सो तौलिये के नर्म रोंओं के स्पर्श से उसके बदन के रोंगटे खड़े हो गए व उसकी जवान छाती के गुलाबी निप्पल तन कर खड़े हो गए. मनिका को वो एहसास बहुत भा रहा था और वह कुछ देर तक वैसे ही उस नर्म तौलिए से अपने बदन को सहलाती खड़ी रही. फिर उसने तौलिया एक ओर रखा और अपने धोए हुए अन्तवस्त्रों की तरफ हाथ बढ़ाया और उस एक पल में उसका सारा मजा फुर्र हो गया. 'ओह गॉड...' उसके मुहँ से खौफ भरी आह निकली.

जयसिंह ने रूम में एक ओर रखे काउच पर बैठ टी.वी. ऑन कर लिया था. परन्तु उनका ध्यान कहीं और ही लगा था. एक बार फिर उनके मन में उनकी अंतर्आत्मा की आवाज़ गूंजने लगी थी, 'ये शायद मैं ठीक नहीं कर रहा...मनिका मेरी बेटी है, मेरा दीमाग ख़राब हो गया है जो मैं उस के बारे में ऐसे गंदे विचार मन में ला रहा हूँ...पर क्या करूँ जब वह सामने आती है तो दिलो-दीमाग काबू से बाहर हो जाते हैं...साली की गांड...ओह मैं फिर वही सोचने लगा हूँ...कुछ समझ नहीं आ रहा, इतने सालों से मनिका घर में मेरी आँखों के सामने ही तो बड़ी हुई है पर अचानक एक दिन में ही मेरी बुद्धि कैसे भ्रष्ट हो गई समझ नहीं आता...पर घर में साली मेरे सामने छोटी-छोटी कच्छियाँ पहन कर भी तो नहीं आई...ओह्ह फिर वही अनर्थ सोच...’जयसिंह बुरी तरह से विचलित हो उठे. तभी बाथरूम का दरवाज़ा खुला, जयसिंह की नज़र उनकी इजाजत के बिना ही उस ओर उठ गईं. इस बार आह निकलने की बारी जयसिंह की थी.

मनिका ने जैसे ही अपने अंतवस्त्र उठाए थे उसे एहसास हुआ कि उसके पास नहाने के बाद पहनने को ब्रा और पैंटी नहीं थी क्यूंकि वह रात में अंतवस्त्र नहीं पहना करती थी और घर पर तो वह अपने रूम में सोया करती थी, इसी के चलते वह सिर्फ अपनी नाईट-ड्रेस निकाल लाई थी. नाईट-ड्रेस का ख्याल आते ही मनिका पर एक और गाज गिरी थी और उसके मुहँ से वह आह निकल गई थी. मनिका नाईट-ड्रेस भी वही निकाल लाई थी जो वह अपने कमरे में पहना करती थी, शॉर्ट्स और टी-शर्ट. ऊपर से उसकी शॉर्ट्स भी कुछ ज्यादा ही छोटी थी (उसने वह एक हॉलीवुड फिल्म में हीरोइन को पहने देख खरीदी थी) और वे उसके नितम्बों को बमुश्किल ढंकती थी और तो और उसकी टी-शर्ट भी टी-शर्ट कम और गंजी ज्यादा थी जिसका कपड़ा भी बिलकुल झीना था. मनिका का दिल जोरों का धड़क रहा था. उसे एक पल के लिए कुछ समझ नहीं आया कि वह कैसे ऐसे कपड़ो में अपने पापा के सामने जाएगी.

कुछ पल इसी तरह जड़वत खड़ी रहने के बाद मनिका ने एक राहत भरी साँस ली, उसे ख्याल आया कि वह अपने पहले वाले कपड़े ही वापस पहन कर बाहर जा सकती है, हालाँकि उसके पास अंदर से पहनने के लिए अंतवस्त्र तो फिर भी नहीं थे. उसका दिल फिर भी कुछ शांत हुआ और वह अपनी लेग्गिंग्स और टी-शर्ट लेने के लिए मुड़ी, एक बार फिर उसका दिल धक् से रह गया. मनिका ने शावर से नहाते वक़्त कपड़े पास में ही टांग दिए थे और नहाते हुए मस्ती में उसने इतनी उछल-कूद मचाई थी कि उसकी लेग्गिंग्स और टी-शर्ट पूरी तरह से भीग चुकी थी. मनिका रुआंसी हो उठी. अब उसके पास कोई चारा नहीं बचा था सिवाय वह छोटी सी नाईट-ड्रेस पहन बाहर जाने के.

मनिका ने धड़कते दिल से अपनी शॉर्ट्स और टी-शर्ट पहनी और बाथरूम में लगे शीशे में देखा. उसकी साँसें और तेज़ चलने लगीं, उसे एहसास हुआ कि उसकी शॉर्ट्स छोटी नहीं बहुत छोटी थीं, उसके दोनों गोल-मटोल नितम्ब शॉर्ट्स के नीचे से बाहर निकले हुए थे, उसने शॉर्ट्स को खींच कर कुछ नीचे कर उन्हें ढंकने का प्रयास किया परन्तु वो कपड़ा ही थोड़ा स्ट्रेचेब्ल था और कुछ ही पल में फिर से खिंच कर ऊपर हो जस का तस हो गया. ऊपर पहनी गन्जी का भी वही हाल था. एक तो वह सिर्फ उसकी नाभी तक आती थी और दूसरा उसके झीने कपड़े में से उसका वक्ष उभर कर साफ़ दिखाई पड़ रहा था जिस पर उसके दोनों निप्पल बटन से प्रतीत हो रहे थे. मनिका का सिर घूम गया, वह अपने आप को ध्यान न रखने के लिए कोस रही थी. विडंबना की बात यह थी की उसकी माँ मधु ने भी उसे सुबह इसी बात के लिए टोका था.

किसी तरह मनिका ने बाहर निकलने की हिम्मत जुटाई और मन ही मन प्रार्थना की के उसके पिता सो चुके हों. लेकिन अभी वह बाहर निकलने को तैयार हुई ही थी कि उसके सामने एक और मुसीबत आ खड़ी हुई. उसने वहाँ धो कर रखे अपने अंतवस्त्र अभी तक नहीं उठाए थे, उनका ख्याल आते ही वह फिर उपह्पोह में फंस गई. अपनी थोंग-पैंटी और उसी से मेल खाती महीन सी ब्रा को सुखाने के लिए बाथरूम के आलावा उसके पास कोई जगह नहीं थी और बाथरूम वह अपने पिता के साथ शेयर कर रही थी, 'अगर पापा यह देख लेंगे तो पता नहीं क्या सोचेंगे...हाय...मैं भी कैसी गधी हूँ...पहले ये सब क्यूँ नहीं सोचा मैंने?' मगर अब क्या हो सकता था मनिका ने अपनी ब्रा-पैंटी वहाँ लगे एक तार पर डाली और उन्हें एक तौलिए से ढँक दिया.
जैसे ही जयसिंह ने अपनी नज़रें उठा कर बाथरूम से बाहर आई मनिका की तरफ देखा उनका कलेजा जैसे मुहँ में आ गया. काउच बाथरूम के गेट के बिलकुल सामने रखा हुआ था, बाहर निकलती मनिका उन्हें सामने बैठा देख ठिठक कर खड़ी हो गई और अपने हाथ अपनी छाती के सामने फोल्ड कर लिए, वह शर्म से मरी जा रही थी, उसने अपने-आप में सिमटते हुए अपना एक पैर दूसरे पैर पर रख लिया था और नज़रें नीची किए खड़ी रही.
Reply
10-04-2018, 10:34 AM,
#7
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह के लिए यह सब मानो स्लो-मोशन में चल रहा था. मनिका को इस तरह अधनंगी देख उनकी अंतर्आत्मा की आवाज़ उड़नछू हो चुकी थी, उन्हें अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा था. मनिका के पहने नाम मात्र के कपड़ों में से झलकते उसके जिस्म ने जयसिंह के दीमाग के फ्यूज उड़ा कर रख दिए थे. अब मनिका ने सकुचा कर अपने सूटकेस की तरफ कदम बढ़ाए, जयसिंह की तन्द्रा भी टूट चुकी थी. असल में यह सब एक पल में ही घट चुका था, जयसिंह को अब मनिका का अधो-भाग नज़र आ रहा था, उसकी शॉर्ट्स में से बाहर झांकते नितम्बों को देख उनके लंड की नसें फटने को हो आईं थी, 'ये मनिका तो साली मेनका निकली..’उन्होंने मन में सोचा. मगर इस सब के बावजूद भी उनका अपनी सोच पर पूरा काबू था, मनिका के हाव-भाव देखते ही वे समझ गए थे कि चाहे जो भी कारण हो मनिका ने ये कपड़े जान-बूझकर तो नहीं पहने थे, 'जिसका मतलब है कि वह अब कपड़े बदलने की कोशिश करेगी...ओह शिट ये मौका मैं हाथ से नहीं जाने दे सकता...’ जयसिंह ये सोचते ही उठ खड़े हुए और बाथरूम में घुसते हुए मनिका से बोले,

'मनिका!'

'जी पापा..?' मनिका उनके संबोधन से उचक गई थी और उसने सहमी सी आवाज़ में पूछा.

'तुम जरा टी.वी ऑफ करके बेड में बैठो. मैं टॉयलेट जा कर आता हूँ.' जयसिंह ने कहा.

'जी...' मनिका ने छोटा सा जवाब दिया.

बाथरूम में जयसिंह का दीमाग तेजी से दौड़ रहा था, 'आखिर क्यूँ मनिका ने ऐसे कपड़े पहन लिए थे?' उनकी समझ में कुछ नहीं आ रहा था पर उनका एक काम बन गया था, 'थैंक गॉड मैंने मनिका को देख चेहरे पर कोई भाव नहीं आने दिए वरना खेल शुरू होने से पहले ही बिगड़ जाता.' उन्होंने अपने फड़फड़ाते लंड को मसल कर शांत करते हुए सोचा. जयसिंह जानते थे कि लड़की उसे देखने वाले की नज़र से ही उसकी नीयत भांपने में माहिर होती है और उन्होंने बड़ी ही चालाकी से मनिका को यह एहसास नहीं होने दिया था. जयसिंह ने जाने-अनजाने में ही बेहद दिमागी चाल चल डाली थी, उन्होंने मनिका को एक पल देखने के बाद ही ऐसा व्यक्त किया था जैसे सब नार्मल हो, अगर उन्होंने अपने चेहरे पर अपनी असली फीलिंग्स जाहिर कर दी होती तो मनिका जो अभी सिर्फ उनके सामने असहज थी, उनसे सतर्क हो जाती.
Reply
10-04-2018, 10:35 AM,
#8
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
उधर बाहर कमरे में मनिका घबराई सी खड़ी थी. उसने सोचा था कि वह जल्दी से दूसरे कपड़े लेकर चेंज कर लेगी लेकिन जयसिंह को इस तरह बिलकुल अपने सामने पा उसकी घिग्गी बंध गई थी और अब उसके पिता बाथरूम में घुस गए थे. मनिका ने जयसिंह के कहे अनुसार टी.वी ऑफ कर दिया था और जा कर बेड के पास खड़ी हो गई थी, सामने उसका सूटकेस खुला हुआ था वह समझ नहीं पा रही थी कि वह क्या करे? एक बार तो उसने सोचा के, 'जब तक पापा बाथरूम में है मैं ड्रेस बदल लेती हूँ.' पर अगले ही पल उसे एहसास हुआ की, 'अगर पापा बीच में बाहर निकल आए तो मैं नंगी पकड़ी जाऊँगी.' मनिका सिहर उठी.

जब उसके कुछ देर वेट करने के बावजूद जयसिंह बाथरूम से नहीं निकले तो मनिका, जो अपने अधनंगेपन के एहसास से बहुत विचलित हो रही थी, ने तय किया कि अभी वह बेड में घुस कम्बल ओढ़ कर अपना बदन ढांप लेगी, 'और सुबह पापा के उठने से पहले ही उठ कर जल्दी से कपड़े बदल लूंगी.' उसने अपना सूटकेस बंद कर एक तरफ रखा और बिस्तर में घुस गई, 'पर ये क्या?...ये ब्लैंकेट तो डबल-बेड का है...’मनिका बिस्तर में सिर्फ एक ही कम्बल पा चकरा गई. उसे क्या पता था की जयसिंह ने रूम एक कपल के लिए बुक कराया था.

'पापा!' कुछ देर बाद जब जयसिंह बाथरूम से फाइनली बाहर आए तो मनिका ने कहा, उसके स्वर में कुछ चिंता थी.
'क्या हुआ मनिका? सोई नहीं तुम?' जयसिंह ने बनावटी हैरानी और कंसर्न व्यक्त कर पूछा. मनिका अपने-आप को पूरी तरह कम्बल से ढंके हुए थी.

'पापा यहाँ सिर्फ एक ही ब्लैंकेट है!' मनिका ने थोड़ा पैनिक हुई आवाज़ में कहा.

'हाँ तो डबल बेड का होगा न?' जयसिंह ने बिलकुल आश्चर्य नहीं जताया था.

''जी.' मनिका हौले से बोली.

'हाँ तो फिर क्या दिक्कत है?' जयसिंह ने इस बार बनावटी आश्चर्य दिखा पूछा.

'जी...क...कुछ नहीं मुझे लगा...कि कम से कम दो ब्लैंकेटस मिलते होंगे सो...' मनिका से आगे कुछ कहते नहीं बना था. 'क्या मुझे पापा के साथ ब्लैंकेट शेयर करना पड़ेगा...ओह गॉड.' उसने मन में सोचा और झेंप गई.

'हाहाहा पहली बार जब मैं यहाँ आया था तब मुझे भी लगा था कि ये एक कम्बल देना भूल गए हैं पर फिर पता चला इन रूम्स में यही डबल-बेड वाला एक ब्लैंकेट होता है.' जयसिंह ने हँस कर मनिका का दिल कुछ हल्का करने और उसे सहज करने के इरादे से बताया. 'हद होती है मतलब दस हज़ार रूपए एक दिन का रेंट और उसमे इंसान को सिर्फ एक कम्बल मिलता है...' उन्होंने मुस्कुरा कर आगे कहा.

'हैं!?' मनिका चौंकी, 'पापा इस रूम का रेंट टेन थाउजेंड रुपीस है? मनिका एक पल के लिए अपनी लाज-शर्म और चिंता भूल गई थी.

'अरे भई भूल गई? फाइव स्टार है ये...’जयसिंह फिर से मुस्काए.

'ओह गॉड पापा, फिर भी इतना कॉस्टली?' मनिका बोली.

'मनिका मैंने कहा न तुम खर्चे की चिंता मत करो, जस्ट एन्जॉय.' जयसिंह बिस्तर पर आते हुए बोले.

उन्हें बिस्तर पर आते देख एक पल के लिए मनिका ने कम्बल अपनी ओर खींच लिया था, वे समझ गए की वह अभी भी शरमा रही थी, और करती भी क्या? सो उन्होंने एक बार फिर हँस कर उसका डर कम करने के उद्देश्य से कहा,

'थैंक गॉड आज तुम हो मेरे साथ नहीं पिछली बार तो मीटिंग से यहाँ आते वक्त मेरे बिज़नस पार्टनर का एक रिश्तेदार साथ में टंग आया था. इमैजिन उसके साथ एक कम्बल में सोना पड़ा था, ऊपर से उसने शराब पी रखी थी. सारी रात सो नहीं पाया था मैं.'

इस बार मनिका भी हँस पड़ी, 'ओह शिट पापा...हाहाहा.'

जयसिंह अब मनिका के साथ कम्बल में घुस चुके थे. मनिका भी थोड़ा सहज होने लगी थी क्यूंकि अब उसका बदन ढंका हुआ था और जयसिंह ने भी उसे उसकी अधनंगी स्थिति का एहसास अभी तक नहीं दिलाया था. जयसिंह ने हाथ बढ़ा कर बेड-साइड से रूम की लाइट ऑफ कर दी और पास की टेबल पर रखा नाईट-लैंप जला दिया.

'चलो मनिका थक गईं होगी तुम भी...' जयसिंह मनिका की तरफ पलट कर बोले, 'गुड नाईट.'

'गुड नाईट पापा.' मनिका ने नाईट-लैंप की धीमी रौशनी में मुस्कुरा कर कहा, 'स्वीट ड्रीम्स टू.'

जयसिंह ने अब मनिका की तरफ करवट ली और हाथ बढ़ा कर एक पल के लिए उसके गाल पर रख सहलाते हुए बोले,
'अच्छे से सोना. टुमॉरो इज़ योर बिग डे.'

मनिका एक पल के लिए थोड़ा चौंक गई थी पर जयसिंह की बात सुन वह भी मुस्कुरा दी, वे तो बस उसके इंटरव्यू के लिए उसका हौंसला बढ़ा रहे थे. मनिका ने आँखें बंद कर लीं, अगले सुबह के लिए उसके मन में उत्साह भी था और उसे इंटरव्यू के लिए थोड़ी चिंता भी हो रही थी, यही सोचते-सोचते उसकी आँख लग गई.

उन्हें सोए हुए करीब आधा घंटा हुआ था. जयसिंह ने धीरे से आँखें खोली, मनिका जयसिंह से दूसरी तरफ करवट लिए सो रही थी और उसकी पीठ उनकी तरफ थी. वे उठ बैठे, परन्तु मनिका पहली की भाँती ही सोती रही, उन्होंने हौले से मनिका के तन से कम्बल खींचा, मनिका ने फिर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, अब उन्होंने धीरे-धीरे कम्बल नीचे करते हुए मनिका को पूरी तरह उघाड़ दिया.

नाईट-लैंप की धीमी रौशनी में भी मनिका की पूरी तरह नंगी दूध सी सफ़ेद जांघें चमक रहीं थी, वह अपने पाँव थोड़ा मोड़ कर लेटी हुई थी जिससे उसकी शॉर्ट्स और थोड़ी ऊपर हो कर उसके नितम्बों के बीच की दरार में फँस गई थी. जयसिंह को तो जैसे अलीबाबा का खजाना मिल गया था. वे कुछ देर वैसे ही उसे निहारते रहे पर फिर उनसे रहा न गया. उन्होंने हाथ बढाया और मनिका की शॉर्ट्स हो खींच कर मनिका के गोल-मटोल कूल्हे लघभग पूरे ही बाहर निकल दिए और उसके एक कूल्हे पर हौले से चपत लगा दी. मनिका अभी भी बेखबर सोती रही, जयसिंह भी इस से ज्यादा हिमाकत न कर सके और अपनी बेटी की मोटी नंगी गांड को निहारते-निहारते कब उनकी आँख लग गई उन्हें पता भी न चला.
Reply
10-04-2018, 10:35 AM,
#9
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
किसी के बोलने की आवाजें सुन मनिका की आँख खुली, सुबह हो चुकी थी, वह अभी भी उनींदी सी लेटी थी कि उसे कहीं दरवाज़ा बंद होने की आवाज़ आई. अचानक मनिका को अपने दिल्ली के एक हॉटेल में अपने पिता के साथ होने की बात का एहसास हुआ, अगले ही पल उसे पिछली रात को पहने अपने कपड़े भी याद आ गए और साथ ही उन्हें सुबह जल्दी उठ कर बदलने का फैसला भी. मनिका की नींद एक पल में ही उड़ चुकी थी, उसने हाथ झटक कर रात को ओढ़े अपने कम्बल को टटोलने की कोशिश की, लेकिन कम्बल वहाँ नहीं था. अपने नंगेपन के एहसास ने मनिका को झकझोर के रख दिया, उसके बदन को जैसे लकवा मार गया था. धीरे-धीरे उसे अपने पहने कपड़ों की अस्त-व्यस्त स्थिति का अंदाजा होता चला जा रहा था, उसकी टी-शर्ट लघभग पूरी तरह से ऊपर हो रखी थी, गनीमत थी कि उसकी छाती अभी भी ढंकी हुई थी और उसके शॉर्ट्स उसके बम्स (नितम्ब) के बीच इकठ्ठे हो गए थे और उसके बम्स और थाईज़ (जांघें) पूरी तरह नंगे थे; उसे बेड पर बैठे उसके पिता जयसिंह की मौजूदगी का भी भान हुआ.

मनिका के हाथ झटकने के साथ ही जयसिंह अलर्ट हो गए थे. उसका मुहँ दूसरी तरफ था सो वे बेफिक्र उसका नंगा बदन ताड़ रहे थे, उन्होंने देखा की अचानक मनिका की नंगी टांगों और गांड पर दाने से उभर आए थे. उनका लंड जो पहले ही खड़ा था यह देखने के बाद बेकाबू हो गया, 'आह तो उठ ही गई रंडी.' उनका मन खिल उठा. असल में मनिका के जिस्म के रोंगटे खड़े हो गए थे और वे समझ गए की मनिका को अपने नंगेपन का एहसास हो चुका है. जयसिंह कब से उसके उठने का इंतज़ार कर रहे थे ताकि उसकी बदहवास प्रतिक्रिया देख सकें. उन्होंने देखा कि मनिका ने हौले से अपना हाथ अपनी नंगी गांड पर सरकाया था और वह अपनी शॉर्ट्स को नीचे कर अपने नंगे नितम्बों को ढंकने की कोशिश कर रही थी, इतना तो उनके लिए काफी था,

'उठ गई मनिका?' वे बोल पड़े.

मनिका को जैसे बिजली का झटका लगा था, वह एकदम से उठ बैठी और शर्म भरी नज़रों से एक पल अपने पिता की तरफ देखा.

जयसिंह बेड पर बैठे थे, उनके एक हाथ में चाय का कप था और दूसरे से उन्होंने उस दिन का अखबार खोल रखा था. उनकी नज़रें मिली, जयसिंह के चेहरे पर मुस्कुराहट थी. मनिका एक पल से ज्यादा उनसे नज़रें मिलाए न रख सकी.

'नींद खुल गई या अभी और सोना है?' जयसिंह ने प्यार भरे लहजे में मनिका से फिर पूछा.

'नहीं पापा...' मनिका ने धीमे से कहा.

'अच्छे से नींद आ तो गई थी न? कभी-कभी नई जगह पर नींद नहीं आया करती.' जयसिंह उसी लहजे में बात करते रहे जैसे उन्हें मनिका की बहुत फ़िक्र थी.

'नहीं पापा आ गई थी.' मनिका सकुचाते हुए बोली और एक नज़र उनकी ओर देखा. उसने पाया की उनका ध्यान तो अखबार में लगा था. 'आप अभी किस से बात कर रहे थे?' मनिका ने थोड़ी हिम्मत कर पूछा.

'अरे तुम उठी हुई थीं तब?' जयसिंह ने अनजान बनते हुए कहा, 'रूम-सर्विस से चाय ऑर्डर की थी वही लेकर आया था लड़का. तुम कुछ बोली ही नहीं तो मुझे लगा नींद में हो नहीं तो तुम्हारे लिए भी कुछ जूस-वूस ऑर्डर कर देते साथ के साथ, जस्ट अभी-अभी ही तो गया है वो.' उन्होंने आगे बताया.

मनिका का चेहरा शर्म से लाल टमाटर सा हो चुका था, 'ओह गॉड, ओह गॉड, ओह गॉड...रूम-सर्विस वाले ने भी मुझे इस तरह नंगी पड़े देख लिया...हे भगवान् उसने क्या सोचा होगा..? पर पापा ने रूम बुक कराते हुए बताया तो होगा कि हम बाप-बेटी हैं...लेकिन ये बात रूम-सर्विस वाले को क्या पता होगी...ओह शिट...और मेरा कम्बल भी...’ मनिका ने देखा कि कम्बल उसके पैरों के पास पड़ा था, 'नींद में मैंने कम्बल भी हटा दिया...शिट.' उसने एक बार फिर जयसिंह को नजरें चुरा कर देखा, उनका ध्यान अभी भी अखबार में ही लगा था. मनिका के विचलित मन में एक पल के लिए विचार आया, 'क्या पापा ने मेरा कम्बल...? ओह गॉड नहीं ये मैं क्या सोच रही हूँ पापा ऐसा थोड़े ही करेंगे. मैंने ऐसी गन्दी बात सोच भी कैसे ली...छि.' लेकिन उस विचार के पूरा होने से पहले ही मनिका ने अपने आप को धिक्कार शर्मिंदगी से सिर झुका लिया था.

अब मनिका अपनी इस एम्बैरेसिंग सिचुएशन से निकलने की राह ढूंढने लगी, 'जब तक पापा का ध्यान न्यूज़पेपर में लगा है. मैं जल्दी से उठ कर बाथरूम में घुस सकती हूँ...पर अगर पापा ने मेरी तरफ देख लिया तो..? ये मुयी शॉर्ट्स भी पूरी तरह से ऊपर हो गईं है.' मनिका कुछ देर इसी उधेड़बुन में बैठी रही पर उसे और कोई उपाय नहीं सूझ रहा था. सो आखिर उसने धीरे से जयसिंह को संबोधित किया,

'पापा?'

'हूँ?' जयसिंह ने भी डिसइंट्रेस्टेड सी प्रतिक्रिया दी और मनिका की आँखों में आँखें डाल उसके आगे बोलने का इंतज़ार करने लगे.

'वो मैं...मैं कह रही थी कि मैं एक बार बाथ ले लेती हूँ फिर कुछ ऑर्डर कर देंगे.' मनिका अटकते हुए बोली.

'ओके. जैसी आपकी इच्छा.' जयसिंह ने शरारती मुस्कुराहट के साथ कहा.

'हेहे पापा.' मनिका भी थोड़ा झेंप के हँस दी. जयसिंह फिर से अखबार पढ़ने में तल्लीन हो गए थे.

मनिका धीरे से बिस्तर से उतर कर अपने सामान की ओर बढ़ी. उसका दिल ज़ोरों से धड़क रहा था, 'क्या पापा ने पीछे से मेरी तरफ देखा होगा?' यह सोच उसके बदन में जैसे बुखार सा आ गया और वह थोड़ा लड़खड़ा उठी. उसने अपना सूटकेस खोला और एक जीन्स और टॉप-निकाल लिया, उसने एक जोड़ी ब्रा-पैंटी भी निकाल कर उनके बीच यह सोच रख ली कि 'क्या पता रात वाले अंडरगारमेंट्स सूखे होंगे कि नहीं?' जब वह अपनी सभी चीज़ें ले चुकी थी तो उसने कनखियों से एक बार जयसिंह की तरफ नज़र दौडाई, वे अभी भी अखबार ही पढ़ रहे थे. मनिका तेज़ क़दमों से चलती हुई बाथरूम में जा घुसी.

मनिका के बाथरूम में घुसने तक जयसिंह अपनी पूरी इच्छाशक्ति से अखबार में नज़र गड़ाए बैठे रहे थे. उसके जाते ही उन्होंने अखबार एक ओर फेंका और अपने कसमसाते लंड को, जो की आजकल हर वक्त खड़ा ही रहता था, दबा कर एक बार फिर काबू में लाने की कोशिश करने लगे, 'हे भगवान् जाने कब शांति मिलेगी मेरे इस बेचारे औजार को...’जयसिंह ने तड़प कर आह भरी. 'आज उस रांड का इंटरव्यू भी है और अभी साली नहाने गई है पता नहीं आज क्या रूप धर के बाहर निकलेगी...ओह इंटरव्यू से याद आया साली कुतिया के कॉलेज फ़ोन कर अपॉइंटमेंट भी तो लेनी है.' सो जयसिंह ने पास पड़े अपने मोबाइल से मनिका के कॉलेज का नंबर डायल किया.

'हैल्लो?' जयसिंह ने फोन उठाने की आवाज़ सुन कहा 'एमिटी यूनिवर्सिटी?'

'येस सर, गुड मॉर्निंग.' सामने से आवाज़ आई.

'येस, सो आई वास् कॉलिंग टू मेक एन अपॉइंटमेंट फॉर माय डॉटर फॉर एडमिशन इन द एम्.बी.ए. कोर्स.' जयसिंह ने कहा.

'ओके सर, मे आई क्नॉ हर नेम प्लीज़?'

'येस...अह...मनिका सिंह.'

'थैंक्यू सर. सो व्हेन वुड यॉर डॉटर बी एबल टू कम फॉर द इंटरव्यू?'

जयसिंह कुछ समझे नहीं, इंटरव्यू तो आज ही था न?, 'व्हॉट डू यू मीन?' उन्होंने पूछा.

'वेल सर, इंटरव्यूज नेक्स्ट 15 डेज तक चलेंगें सो योर डॉटर कैन गेट एन अपॉइंटमेंट फॉर एनी ऑफ़ द डेज, जैसा उनको कॉन्वेनिएन्ट लगे.'

'ओह.' जयसिंह का मन यह सुन नाच उठा था. उन्होंने मन ही मन अपनी किस्मत को धन्यवाद दिया और बोले, 'तो आप ऐसा करो हमें लास्ट डे की ही अपॉइंटमेंट दे दो. मेरी डॉटर कह रही है कि उसे अभी थोड़ा और प्रिपरेशन करना है...हेहे.'

'स्युर सर कोई प्रॉब्लम नहीं है.'
Reply
10-04-2018, 10:35 AM,
#10
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
उधर बाथरूम में मनिका के मन में अलग ही उथल-पुथल मची हुई थी, 'ये कैसा अनर्थ हो गया. सोचा था सवेरे जल्दी उठ जाऊँगी पर आँख ही नहीं खुली, ऊपर से पापा और उठे हुए थे...वे तो वैसे भी रोज जल्दी ही उठ जाते हैं...शिट मैं ये जानते हुए भी पता नहीं कैसे भूल गई?..उन्होंने मुझे सोते हुए देखा तो होगा ही, हाय राम...’यह सोचते हुए मनिका की कंपकंपी छूट गई. मनिका ने आज शावर ऑन नहीं किया था और बाथटब में बैठ कर नहा रही थी, 'और तो और वह रूम-सर्विस वाला वेटर भी मुझे इस तरह आधी से ज्यादा नंगी देख गया...हाय...और पापा मेरे पास बैठे थे...क्या सोचा होगा उसने हमारे बारे में..?’मनिका इस से आगे नहीं सोच पाई और अपनी आँखें भींच ली. उसे बहुत बुरा फील हो रहा था. अब वह धीरे-धीरे अपने बदन पर साबुन लगा नहाने लगी. परंतु कुछ क्षणों में ही उसके विचारों की धार एक बार फिर से बहने लगी, 'पर पापा ने मुझे इस तरह देख कर भी रिएक्ट नहीं किया...वो तो बिलकुल नॉर्मली बिहेव कर रहे हैं...पर बेचारे कहें भी तो क्या, मैं उनकी बेटी हूँ, मुझे ऐसे देख कर शायद उन्हें भी शर्म आ रही हो...हाँ तभी तो वे मेरी तरफ न देख अखबार में नज़र गड़ाए बैठे थे...और जब मैंने उनसे बात करी थी तो उन्होंने सिर्फ मेरे चेहरे पर ही अपनी आँखें फोकस कर रखीं थी...हाय...ही इज़ सो नाइस.' मनिका ने मन ही मन जयसिंह की सराहना करते हुए सोचा. 'ये तो पापा हैं जो मुझे कुछ नहीं कहते...अगर मम्मी को पता चल जाए इस बात का तो...तूफ़ान खड़ा कर दें वो तो...थैंक गॉड इट्स ओनली मी एंड पापा...अब से मैं जब तक पापा के साथ हूँ अपने रहने-पहनने का पूरा ख्याल रखूँगी.' मनिका ने सोचा और उठ खड़ी हुई, वह नहा चुकी थी.

जब मनिका नहा कर निकली तो जयसिंह को अभी भी बेड पर ही बैठे पाया, इस बार मनिका पूरे कपड़ों में थी और उसने बाथरूम में से अपने अंतःवस्त्र भी ले लिए थे. उसे देख जयसिंह मुस्कुराए और बेड से उठते हुए बोले,

'नहा ली मनिका?'

'जी पापा.' मनिका ने हौले से मुस्का कर कहा. पूरे कपड़े पहने होने की वजह से उसका आत्मविश्वास लौटने लगा था.

'तो फिर अब मुझे यह बताओ कि तुम्हारे इंटरव्यू के कॉल लैटर में क्या लिखा हुआ था?' जयसिंह ने पूछा.

मनिका उनके सवाल से थोड़ा कंफ्यूज हो गई,

'क्यूँ पापा? उसमें तो बस यही लिखा था कि इंटरव्यूज फॉर एम.बी.ए. कोर्स बिगिन्स फ्रॉम...’ मनिका बोल ही रही थी कि जयसिंह ने उसकी बात बीच में ही काट दी,

'मतलब उसमें लिखा था -बिगिन्स फ्रॉम- ना की -ऑन- दिस डेट? क्यूंकि अभी मैंने तुम्हारे कॉलेज से अपॉइंटमेंट के लिए बात करी थी और उन्होंने कहा है कि इंटरव्यू पन्द्रह दिन चलेंगे और गेस व्हाट? आपका इंटरव्यू लास्ट डे को है.' जयसिंह ने मनिका से नज़र मिलाई.

'ओह शिट.' मनिका ने साँस भरी.

'हाँ वही.' जयसिंह मुस्कुरा कर बोले.

'पापा! आपको मजाक सूझ रहा है, अब मतलब हमें फिफ्टीन डेज के बाद फिर से आना पड़ेगा.' मनिका सीरियस होते हुए बोली 'हमने फ़ालतू इतना खर्चा भी कर दिया है...रुकिए मैं कॉलेज फ़ोन करके पूछती हूँ कि क्या वो मेरा इंटरव्यू पहले अरेंज कर सकते हैं.'

'मैं वो भी पूछ चुका हूँ और उन्होंने कहा है कि इट्स नॉट पॉसिबल.' जयसिंह ने कहा.

'ओह.' मनिका का मूड पूरा ऑफ़ हो गया था 'तो अब हमें वापस ही जाना पड़ेगा मतलब.'

'हाँ वो भी कर सकते हैं.' जयसिंह ने उसे स्माइल दी 'या फिर...' और इतना कह कर बात अधूरी छोड़ दी.

'हैं? क्या बोल रहे हो पापा आप..? मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा.' जयसिंह की गोल-गोल बातों से मनिका की कंफ्यूजन बढ़ गई थी.

'अरे भई या फिर हम यहीं तुम्हारा इंटरव्यू हो जाने तक वेट कर सकते हैं.' जयसिंह ने कहा.

मनिका जयसिंह का सुझाव सुन एक बार तो आश्चर्यचकित रह गई थी उसे विश्वास नहीं हुआ की उसके पापा उसे अगले पंद्रह दिन के लिए वहीँ, मेरियट में, रुके रहने को कह रहे थे, जहाँ के रूम का रेंट सुन कर ही पिछली रात उसके होश उड़ गए थे. जब उसने अपनी दुविधा जयसिंह को बताई तो एक बार फिर जयसिंह बोले,

'अरे भई कितनी बार समझाना पड़ेगा कि पैसे की चिंता न किया करो तुम. हाथ का मैल है पैसा...' जयसिंह डायलाग मार हँस दिए थे.

'ओहो पापा...फिर भी...' मनिका ने असमंजस से कहा.

लेकिन अंत में जीत जयसिंह की ही हुई, आखिर मन में तो मनिका भी रुकना चाहती ही थी और जब जयसिंह ने उस से कहा कि इतने दिन वे दिल्ली में घूम-फिर लेंगे तो मनिका की रही-सही आनाकानी भी जाती रही थी.

'लेकिन पापा! घर पे तो हम दो दिन का ही बोल कर आए हैं ना?' मनिका ने फिर थोड़ा आशंकित हो कर पूछा 'और आपका ऑफिस भी तो है?'

'ओह हाँ! मैं तो भूल ही गया था. तुम अपनी मम्मी से ना कह देना कहीं कि हम यहाँ घूमने के लिए रुक रहे हैं...मरवा दोगी मुझे, वैसे ही वो मुझ पर तुम्हें बिगाड़ने का इलज़ाम लगाती रहती है.' जयसिंह ने मनिका को एक शरारत भरी स्माइल दी.

'ओह पापा हाँ ये तो मैंने सोचा ही नहीं था.' मनिका ने माथे पर हाथ रख कहा. फिर उसने भी शरारती लहजे में जयसिंह को छेड़ते हुए कहा, 'इसका मतलब डरते हो मम्मी से आप, है ना? हाहाहा...'

'हाहा.' जयसिंह भी हँस दिए 'लेकिन ये मत भूलो की यह सब मैं तुम्हारे लिए कर रहा हूँ.' वे बोले.

'ओह पापा आप कितने अच्छे हो.' मनिका ने मुस्कुरा कर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं 'पर आपका ऑफिस?'

'अरे ऑफिस का मालिक तो मैं ही हूँ. फ़ोन कर दूंगा माथुर को, वो संभाल लेगा सब.'

'पापा?' मनिका उनके करीब आते हुए बोली.

'अब क्या?' जयसिंह ने बनते हुए पूछा.

'पापा आई लव यू सो मच. यू आर द बेस्ट.' मनिका ने स्नेह भरी नज़रों से उन्हें देख कर कहा.

जयसिंह पिछली रात की तरह ही एक बार फिर मनिका के गाल पर हाथ रख सहलाने लगे और उसे अपने थोड़ा और करीब ले आए. मनिका उन्हें देख कर मंद-मंद मुस्का रही थी, जयसिंह ने आँखों में चमक ला कर कहा,

'वो तो मैं हूँ ही...हाहाहा.' और ठहाका लगा हँस दिए.

'पापा! यू आर सो नॉटी...’मनिका भी खिलखिला कर हँस दी थी. जयसिंह ने अब उसे अपने बाजू में लेकर अपने से सटा लिया और बोले,

'तो फिर हम कहाँ घूमने चलें बताओ?'

जयसिंह के पास अब पंद्रह दिन की मोहलत थी. अभी तक तो उनकी किस्मत ने उनका काफी साथ दिया था, जाने-अनजाने मनिका ने कुछ ऐसी गलतियाँ कर दीं थी जिनका जयसिंह ने पूरा फायदा उठाया था. मनिका के पिछली रात हुए वार्डरॉब मॉलफंक्शन को देख उन्होंने जो संयम से काम लिया था उससे उन्होंने उसे यह जाता दिया था कि वे एक जेंटलमैन हैं जो उसका हरदम ख्याल रखता है, वे न सिर्फ उसका भरोसा जीतने में कामयाब रहे थे बल्कि उसे यह भी जाता दिया था कि वे बहुत खुले विचारों के भी हैं. मनिका को अपनी माँ से उनके दिल्ली रुकने की असली वजह न बताने को कह उन्होंने अपने प्लान की एक और सोची-समझी साजिश को अंजाम दे दिया था, लेकिन वे ये भी जानते थे कि अभी तक जो हुआ उसमें उनकी चालाकी से ज्यादा मनिका की नासमझी का ज्यादा हाथ था और जयसिंह उन लोगों में से नहीं थे जो थोड़ी सी सफलता पाते ही हवा में उड़ने लगते हैं और इसी वजह से जल्द ही ज़मीन पर भी आ गिरते हैं. उनकी अग्निपरीक्षा की तो बस अभी शुरूआत हुई थी.
जयसिंह ने हॉटेल के रिसेप्शन पर फ़ोन करके एक कैब बुक करवा ली और मनिका से बोले कि,

'मैं भी नहा के रेडी हो जाता हूँ तब तक तुम रूम-सर्विस से कुछ ब्रेकफास्ट ऑर्डर कर दो.' 'जी पापा.' मनिका ख़ुशी-ख़ुशी बोली.

मनिका ने फ़ोन के पास रखा मेन्यु उठाया और ब्रेकफास्ट के लिए लिखे आइटम्स देखने लगी. कुछ देर देखने के बाद उसने अपने लिए एक चोको-चिप्स शेक और जयसिंह से पूछ कर उनके लिए फिर से चाय व साथ में ग्रिल्ड-सैंडविच का ऑर्डर किया, जयसिंह तब तक नहाने चले गए थे. मनिका टी.वी ऑन कर बैठ गई और रूम-सर्विस के आने का इंतज़ार करने लगी.

मनिका ने टी.वी चला तो लिया था लेकिन उसका ध्यान उसमें नहीं था और वह बस बैठी हुई चैनल बदल रही थी, 'ओह कितना एक्साइटिंग है ये सब, हम यहाँ फिफ्टीन डेज और रुकने वाले हैं, फिफ्टीन डेज! और पापा ने घर पर क्या बहाना बनाया था...कि मेरा इंटरव्यू थ्री राउंड्स में होगा सो उसमें टाइम लग जाएगा...कैसे झूठे हैं ना पापा भी...और मम्मी बेफकूफ मान भी गई, हाहाहा...लेकिन बेचारे पापा भी क्या करें मम्मी की बड़-बड़ से बचने के लिए झूठ बोल देते हैं बस. उन्होंने कहा कि वे मुझे यहाँ घुमाने के लिए रुक रहें है...ओह पापा...’सोचते-सोचते मनिका के चेहरे पर मुस्कान तैर गई. तभी दरवाज़े पर दस्तक हुई, उनका ब्रेकफास्ट आ गया था.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स sexstories 88 36,713 8 hours ago
Last Post: sexstories
Bhoot bangla-भूत बंगला sexstories 29 23,375 12-02-2018, 03:28 PM
Last Post: Rousan0512
Lightbulb Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी ने sexstories 48 19,274 11-30-2018, 11:24 PM
Last Post: sexstories
Information Chudai Story ज़िंदगी के रंग sexstories 27 6,469 11-30-2018, 11:17 PM
Last Post: sexstories
Star Hindi Sex Kahani घर के रसीले आम मेरे नाम sexstories 44 46,246 11-30-2018, 12:37 AM
Last Post: sexstories
Star Bollywood Sex Kahani करीना कपूर की पहली ट्रेन (रेल) यात्रा sexstories 60 14,722 11-30-2018, 12:27 AM
Last Post: sexstories
Antarvasna kahani प्यासी जिंदगी sexstories 76 49,528 11-18-2018, 11:55 AM
Last Post: sexstories
Pyaari Mummy Aur Munna Bhai desiaks 2 17,235 11-18-2018, 08:23 AM
Last Post: [email protected]
Heart Kamukta Kahani दामिनी sexstories 65 48,159 11-16-2018, 11:56 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Mastram Kahani प्रीत का रंग गुलाबी sexstories 33 26,066 11-16-2018, 11:42 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


HD prom khandani chudai gar Marne Wale vudeoमनिषा कोईराल कि Xxx फोटो बडेजबर्दस्तमाल की चुदाईనా కొడుకు బాయ్ఫ్రెండ్ కలాసి న పుకు పగాల డేగగారుniveda thomas xxx photokavita kaushik xxx baba pictureBeti Lund chuso gii sexy storesxxx मराठी विधवा कथानयी मदमसत कहानियांचावट कथा आईची गांड़ ಹೆಂಡತಿ ತುಲ್ಲುसेक्सि झवताना फोटोbollywoodfakessexमी आणि पपा दिदीला झवलो कथाBhai ne jabardasti panty soonghi xx stories2 sisters aur uski saheli sex storySwara bhaskar fake porn nude images babasex. Comchachi sexbabaSex baba Katrina kaif nude photo पुच्चीची वासनाchoti ladki ko khelte samay unjaane me garam karke choda/kamukta35 40 sal ki sexy hot auntie ko meri Randi banya bra blouse sex story HindiShruti Hassan sex images in sexbaba.comDiwyanka tripathi imgfy.nerxxx sonarika sex baba nude photoso ya o ya ahhh o ya aaauchलडकी को मिलने बुलाया और फिगर दबाएTollywood actress nude photo collection sex bababudhhe se chudwakar maa bani xossipnayantara all nude sex pichers hdChut ka haal hatana xxxxn videosbiwi ne kaam banayaxxx RajjtngRaj sharama hot kamuk sex story meri chut pasand hai full sex story in hindiNadan ladki ki chut chatkar pani piyaसेकशी औरत के कारनामेMeri maa aur behan logo se ghar bula ke chudwati hai storiesविधवा आईला झवलेपरिवार में चुदाई xxx video sex babasouth actress nude fake sexbaba.comkajol nude sexbaba.netland ka Pani chusanu Indian sexi videosBarehe sall ki bahen ko choda sexy story in hindiWww Regina Cassandra xxxx boobs image मस्ताराम की अनचुदी कहानीKutte se chudwake liye mazelund meri gand ki darar me chubhne laga sex babaAntervasna pariva ma mana MAA Bhan bhu Mani Moshi sabhi ki gand ki chudai ki .commusllim girl big photosmarathi xxx katha ghrgutisex chaehra ajib krna xxx video नादान बेटे ने पूरा लंड अंदर घुस storiesnayantara sexbaba net pixiSHA chawla page 10 sex babaचूतसेhot hindi chuday video maal chatkar rumaal se chut ko saph kiyA bra wali kamadarchod राज शर्मा चुदाई कहानी हिंदी सेक्स babamadarchod राज शर्मा चुदाई कहानी हिंदी sexbabasex.chuta.land.ketaking.khaneyaತುಲ್ಲುsara ali khan nude choot sex babachudaikahanimastramactress aanchal munjal ki chut nake fake Www.indan.pallavi.subhah.2019.sex.xxxहिंदी दीदी आपके निप्पल साइज क्या हैxxx actress sex baba Photos comWww.telugu.move.heroin.pranitha.subash.xxx.hot.move.comSexbaba sasurxnxx com bhabhi ko khana banate huve udhake choda bfamala paul hot adult memes -youtubedidi ki bira k hul lgaya uski nanad ke samneSexy kahani muhn bolay bhai nay nanga kiyaSasur ka beej paungi xossipround stan ke liye konsi bra pehnedesi porn thread pagesnew gandi kahani xxx maa beta hindi sexbaba.comwww.rajshamrastories.combahu nagina sasur kamina page 48Kamapichachi naked image of Sudiptaदामाद की सात ससु के कड़े क्सक्सक्स वीडियोBoobs kesa dabaya to bada banegasexbaba.net दोस्त की गांड मारीHotehindisexमामीला राती झवले चावट कथाkeerthi Suresh xxx sex images sexBaba. netBekabuchudaiWww Indian swara bhaskar nude ass hole images. Com Comshraddha kapoor nude naked pic new sexbaba.comवीर्य तोंडात घेताना विडिओपति पत्नीसेकसिकहानियाತುಲ್ಲಿಗೆ ತುಣ್ಣೆ